दान का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (305 बार पढ़ा जा चुका है)

दान का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति को धर्म का पालन करने का निर्देश बार - बार दिया गया है | धर्म को चार पैरों वाला वृषभ रूप में माना जाता है जिसके तीन पैरों की अपेक्षा चौथे पैर की मान्यता कलियुग में अधिक बताया गया है , धर्म के चौथे पैर को "दान" कहा गया है | तुलसीदास जी मामस में लिखते हैं :-- "प्रगट चारि पद धर्म के कलि महुँ एक प्रधान ! येन केन विधि दीन्हे दान विविध कल्यान !! अर्थात कलियुग में यदि धर्म का पालन करना है तो दान करते रहना चाहिए | जब भी दान की बात आती है तो राजा हरिचंद्र , कर्ण का दान आदि का नाम सबसे पहले लिया जाता है | शास्त्रों में दान देने के बारे में विस्तार से बताया गया है | दान सदैव नि:स्वार्थ भाव से देना चाहिए , नि:स्वार्थ दान का उदाहरण हमें प्रकृति से सीखना चाहिए, जिस तरह वृक्ष परोपकार के लिए फल देते हैं , नदियां परोपकार के लिए जल देती हैं वायु हमें प्राण प्रदान करते हैं , अग्नि हमें ताप देती है , सूर्य एवं चन्द्रमा हमें प्रकाश देते हैं उसी प्रकार मनुष्य को भी दान करना चाहिए | दूसरों की सहायता करके जो शांति मिलती है उसका कोई मूल्य नहीं होता है | संसार के प्रत्येक धर्म में दान का विशेष महत्व होता है | दान करने से मनुष्य के भीतर त्याग और बलिदान की भावना आती है | दान करने से व्यक्ति को संतुष्टि तो मिलती ही है साथ ही दान के समान पुण्य का कोई काम माना ही नहीं जाता है | शास्त्रों में भी दान का बहुत महत्व बताते हुए कहा गया है कि है कि दान करने से अक्षय पुण्य मिलता है , इतना ही नहीं दान करने से हमारे द्वारा किए गई जाने-अनजाने पापों में मिलने वाले फल नष्ट हो जाते हैं | दान करने के लिए मनुष्य के हृदय में प्रेम , करुणा एवं दया का भाव होना आवश्यक है क्योंकि जिस व्यक्ति के हृदय में दया नहीं होती है वह कभी दान नहीं कर सकता है |*


*आज समस्त विश्व एक संक्रमणीय महामारी से लड़ रहा है हमारे देश में तालाबंदी की घोषणा के बाद कुछ लोगों के समक्ष भोजन जुटाने की भी समस्या बन रही है ! यद्यपि दिश की सरकार प्रत्येक देशवासी के लिए भोजन की व्यवस्था करने की घोषणा भी कर रही है परंतु यह भोजन प्रत्येक व्यक्ति के पास तक नहीं पहुँच पा रहा है | ऐसे में दानदाताओं को आगे आकर जरूरतमंदों की सहायता करते हुए दान का पुण्य अर्जित करना चाहिए | और लोग कर भी रहे हैं | देश इस समय संकटकाल में है , संकट की इस घड़ी में किया गया दान अक्षय फल प्रदान करने वाला होगा | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" गर्व कर सकता हूँ कि मैं सनातन धर्म में उत्पन्न हुआ हूँ गर्व इसलिए क्योंकि संकट की इस घड़ी में आज अन्य धर्मों की अपेक्षा सनातन धर्मी अपनी योग्यता के अनुसार बढ़ चढ़कर दान कर रहे हैं | देश में धन कुबेरों की कमी नहीं है परंतु दुख का विषय है कि अभी तक कुछ लोग यह विचार कर रहे हैं कि दान करें या नहीं | धन कुबेरों के पास जो भी धन है वह गरीब मजदूरों की मेहनत का ही परिणाम हा तो आज जब गरीब मजदूर संकट में है तो अपने धन का कुछ अंश इनको वापस करने में कोई गहन विचार नहीं होना चाहिए क्योंकि जहाँ दान करने से किसी की सहायता हो जाती है वहीं दान करने के कई मनोवैज्ञानिक लाभ भी मिलते हैं | दान करने से मन और विचारों में खुलापन आता है , दान करने वाले व्यक्ति के अहम और मोह का त्याग होता है | दान करने से मन की कई ग्रंथियां खुलती हैं एवं हृदय को अपार संतुष्टि मिलती है | कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि दान करने से कई प्रकार के दोष मिट जाते हैं | अत: पात्रता का अवलोकन करके प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान करते रहना चाहिए |*


*वैसे तो व्यक्ति समय समय पर दान आदि किया करता है परंतु संकट के समय किसी की सहायता करते हुए उसे दान स्वरूप कुछ सामग्री भेंट करने का जो फल प्राप्त होता है वह सामान्य दिनों में किये दान से कहीं अधिक पुण्य का कारक बनता है |*

अगला लेख: संकटकाल में विवेकपूर्ण कृत्य करें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 मार्च 2020
*संपूर्ण विश्व में हमारा देश भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां अनेक धर्म , संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं | धर्म , भाषा एवं जीवनशैली भिन्न होने के बाद भी हम सभी भारतवासी हैं | किसी भी संकट के समय अनेकता में एकता का जो प्रदर्शन हमारे देश में देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दर्शनीय नहीं है | हमें
23 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
22 मार्च 2020
*मनुष्य जिस स्थान / भूमि में जन्म लेता है वह उसकी जन्म भूमि कही जाती है | जन्मभूमि का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में भली-भांति किया गया है | प्रत्येक मनुष्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना चाहता है क्योंकि लोगों का मानना है कि स्वर्ग में जो सुख है वह और कहीं नहीं है परंतु हमारे शास्
22 मार्च 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
21 मार्च 2020
*सनातन धर्म शास्वत तो है ही साथ ही दिव्य एवं अलौकिक भी है | सनातन धर्म में ऐसे - ऐसे ऋषि - महर्षि हुए हैं जिनको भूत , भविष्य , वर्तमान तीनों का ज्ञान था | इसका छोटा सा उदाहरण हैं कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी | बाबा तुलसीदास जीने मानस के अन्तर्गत उत्तरकाण्ड में कलियुग के विषय में ज
21 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है |
07 अप्रैल 2020
22 मार्च 2020
*मनुष्य जिस स्थान / भूमि में जन्म लेता है वह उसकी जन्म भूमि कही जाती है | जन्मभूमि का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में भली-भांति किया गया है | प्रत्येक मनुष्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना चाहता है क्योंकि लोगों का मानना है कि स्वर्ग में जो सुख है वह और कहीं नहीं है परंतु हमारे शास्
22 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x