मेरे आनंद की बाते

02 अप्रैल 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (299 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरे आनन्द की बातें

विजय कुमार तिवारी

कभी-कभी सोचता हूँं कि मैं क्योंं लिखता हूँ?क्योंं दुनिया को लिखकर बताना चाहता हूँ कि मुझे क्या अच्छा लगता है?मेरी समझ से जो भी गलत दिखता है या देश-समाज के लिए हानिप्रद लगता है,क्यों लोगों को उसके बारे में आगाह करना चाहता हूँ?क्यों दुनिया को सजग,सचेत करता फिरता हूँ?लोग देखते भी हैं या नहीं?कोई पढ़़ता भी है या नहीं?मैं यह सब क्यों सोचने लगा?मैं तो स्वान्तःसुखाय लिखता हूँ और बहुत खुश होता हूँ।कोई एक व्यक्ति भी मेरे साथ सुखी और आनन्दित होता है तो वही मेरा आनन्द है।

चिड़ियों का कलरव,भौंरों की गूँज,रंग-बिरंगी तितलियों की मनोहारी उड़ान,मन्द-मन्द प्रवाहित शीतल बयार,फूलों की खुशबू,नित्य-नयी विकासशील कोपलें और न जाने प्रकृति के कितने नूतन संदेश हम में से विरले ही सुन पाते हैं,या देख पाते हैं।भीतर ताजगी आयेगी कहाँ से?हमने तो अपनी आदतें ही बदल ली हैं।चलो,हम अपनी कुछ आदतें फिर से बदलें,फिर से प्रकृति के पास जायें और उसके साथ आनन्द मनायें।

नदी के तीर पर बैठें और उसका संदेश सुनें।उसका कलकल निनाद हमारे भीतर संगीत भरता है और उसका लयबद्ध प्रवाह गतिशील होने की चेतना जगाता है।नदी के उपरी सतह को स्पर्श करती हवा हमारे फेफड़़ोंं में प्राणवायु भर देती है।सामने फैला सम्पूर्ण परिदृश्य हमारी चेतना में सौन्दर्यानुभूति का संचरण करता है और ईश्वरानुभूति की अलौकिक आभा का विस्तार होता है।

नदी ना हो तो गाँव के जलाशय के किनारे अपनी शामें बितायें।जहाँं जल है,वहीं जीवन है।अपने पूजा के स्थलों पर कुछ समय व्यतीत करना भी जीने के लिए उसी तरह आवश्यक है जैसे भोजन और पानी।अकेले ना जायें,हो सके तो पूरे परिवार के साथ जायें।

आसाम में कामाख्या मन्दिर से कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित गोधूलीबाजार नामक स्थान पर रहने का सुअवसर अपने विद्यार्थी जीवन में मिला।उन दिनों की यादेंं आज भी मुझमें अद्भूत चेतना का संचार करती रहती हैं।प्रकृति का सौन्दर्य बिखरा पड़ा था चारो ओर,और लोग उत्साहित,निश्छल,अद्भूत प्रेम से भरे थे।सड़क एक ओर गौहाटी को जाती थी और दूसरी ओर एयरपोर्ट को।इसके दोनों तरफ बने घरों का विन्यास कम आकर्षक नहीं था।कटहल,केला,आम,सुपारी और अन्य बहुतायत सघन हरे-भरे पेड़ों की छाया और आसपास खिले हुए फूलों ने पूरी दृश्यावली को मनोरम बना दिया था।शाम होते ही युवक-युवतियाँं,बालक-वृद्ध सभी अपने समवयस्क झुण्डों में घर से बाहर निकल पड़ते थे।विशेष परिधान मेखला से सुसज्जित बहुएं और लड़कियाँ मृदुल मुस्कान से पूरे वातावरण में अद्भूत जोश भरती थीं।बहुतेरी औरतें सुपारी और पान खाते-खिलाते हुए अपने देवालयों अथवा झील की ओर निकल जाती थीं।जिस घर में रहता था,वहाँ की बहू की दिनचर्या देखकर मुझे प्रसन्नता के साथ आश्चर्य भी होता था।उसकी गोद में नन्हा सा बच्चा था।गाय के लिए चारा काटना,खिलाना,दूध निकालना,करघे पर कपड़ा बुनना,सबके लिए चाय,नाश्ता और भोजन बनाना,अपने बच्चे को सम्हालना सबकुछ करती रहती थी।मैंने कभी उसे उदास या थका हुआ नहीं देखा।मुझे भी कई बार उन लोगों के साथ झील पर जाने का अवसर मिला।उनके सौन्दर्य और पवित्र भावों को देखकर लगा कि इन्होंने प्रकृति से आवश्यक गुणोंं को सीखा और आत्मसात किया है।

कहीं किसी विदेशी डाक्टर के बारे में पढ़ा हुआ एक प्रसंग याद आ रहा है।उसके पास बहुत समय से एक सम्भ्रान्त रोगी आया करता था।उसने पहले भी बहुत से डाक्टरों से अपना उपचार करवाया था और बहुत सी दवाईयाँ खायी थीं।कोई लाभ नहीं हो रहा था।बीमारी के सारे लक्षणों के अनुसार इस डाक्टर ने भी उपचार किया।निराशा ही हाथ लगी।एक दिन अपने रोगी के बारे में सोचता हुआ डाक्टर हँस पड़ा।आसपास के लोगोंं ने आश्चर्य से उसे देखा।उसने अपनी गाड़ी निकाली और रोगी के घर पहुँच गया।

वह रोगी अपने आलीशान भवन में उदास सोया हुआ था।अचानक डाक्टर को आया देखकर उसे सुखद आश्चर्य हुआ।उसने महसूस किया कि जो डाक्टर उससे बात करते हुए हमेशा चिंतित रहता था,आज खुश दिख रहा है और चलकर मेरे पास आया है।स्मित प्रसन्नता उसे भी हुई और उसने उत्साह से स्वागत किया।डाक्टर ने आनन्द में कहा,"आज से आपकी सारी दवाईयाँ बन्द।अब आपको कोई दवा लेने की जरुरत नहीं है।"

रोगी ने उसकी ओर चिन्तातुर होकर देखा।

"आप मेरे कुछ प्रश्नों का उत्तर दीजिए,"डाक्टर ने कहा।

रोगी पूरी सजगता के साथ उठ बैठा।

"नहीं,कोई कठिन प्रश्न नहींं है,"डाक्टर ने उल्लास और सहृदयता से कहा,"आप कभी किसी बगीचे में गये हैं?फूलों की क्यारियों को देखा है?बगीचे में उड़ते,फुदकते,चोंच से चोंच मिलाते पक्षियों को देखा है?"

उसने बताया कि उसका अपना विस्तृत फार्महाउस है,बड़े-बड़े बाग-बगीचे हैं परन्तु उसे याद नहीं कि कभी गया है।

"तो,अब जाईये।चिड़ियों को देखिये।उन्हें दूर से देखिये।उनका उड़ना देखिये,उनका फुदकना देखिये और देखिये कैसे घण्टों वे एक ही धून में रहते हैं।उनका दाना चुगना देखिये और यह भी देखिये कि वे कैसे अपना भोजन,कीट-पतंगों को खोज निकालते हैं।उनका एक-दूसरे से प्रेम-सहकार देखिये और भौंरों को देखिये।फूलों पर मडराती मधुमख्खियों को देखिये।फूलों की पंखुडी को देखिये।खिल रही कलियों को देखिये।उनके पास पूरी श्रद्धा से बैठकर उनके हर क्षण के विकास और बदलाव को महसूस कीजिये।घर में पलंग पर पड़े रहने के बजाय जितना समय अपने बाग-बगीचे में बितायेगें,उतना ही आप स्वास्थ्य-लाभ करेगें।

ऐसा ही हुआ।उसने अपने को बदला।नित्य बगीचे में जाने लगा।बहुत से पक्षियों को पहचानना शुरु कर दिया।अनाज के दाने बिखेरा।उनके संगीत से प्रेम करने लगा,उनके प्रेम-सहयोग को देखा और महसूस किया,इनका प्रेम अद्भूत है।

उसने फूलों के पौधे लगाये,सिचाई-गुड़ाई की,खाद-पानी दिया।मौसम के साईकिल-चक्र को समझा।हवा में शीतलता,उमस,नमी और उष्मा के अन्तर को समझा।तालाब में पाली हुई रंग-बिरंगी मछलियों को बैठकर घण्टों निहाराऔर आनन्दित हुआ।रोगी नहीं,प्रकृति-प्रेमी बन गया।उसके मन में उत्साह था और उसने ईश्वर को,उनके प्रकाश को चतुर्दिक महसूस किया।

अगला लेख: शहर प्रयोगशाला हो गया है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 मार्च 2020
धि
धिक्कार है ऐसे लोगोंं परविजय कुमार तिवारीमन दहल उठता है।लाॅकडाउन में भी लाखों की भीड़ सड़कों पर है।भारत का प्रधानमन्त्री हाथ जोड़कर विनती करता है,आगाह करता है कि खतरा पूरी मानवजाति पर है।विकसित और सम्पन्न देश त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।विकास और ऐश्वर्य के बावजूद वे अपनी जनता को बचा नहीं पा रहे हैं।आज
31 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
वि
विपत्ति में हीविजय कुमार तिवारीप्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित ह
07 अप्रैल 2020
15 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-6विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू दोनो महिलाओं और मोहन चन्द्र जी की भाव-भंगिमा देख दंग रह गये।सुबह दूध वाले की बातें सत्य होती प्रतीत होने लगी।उन्होंने मौन रहना ही उचित समझा।अन्दर से पत्नी भी आ गयी।मोहन चन्द्र बाबू उन दोनो महिलाओं से कुछ पूछते-बतियाते रहे।थोड़ी देर में पत्नी
15 अप्रैल 2020
07 अप्रैल 2020
वि
विपत्ति में हीविजय कुमार तिवारीप्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित ह
07 अप्रैल 2020
08 अप्रैल 2020
कविताहमउम्र बूढ़ोंं का परिवारविजय कुमार तिवारीमैंने सजा लिया है सारे हमउम्र बूढ़ों को अपने फ्रेम में,बना लिया है मित्रों का बड़ा सा समूह। रोज देखता रहता हूँ उनके आज के चेहरे,चमक उठती है पुतलियाँजीवन्त हो उठते हैं उनसे जुडे नाना प्रसंग। मुरझाये गालों और मद्धिम रोशनी लिये आँखें,आज भी कौंंध जाता है उनक
08 अप्रैल 2020
04 अप्रैल 2020
आओ मिलकर दिया जलाएँकोरोना के संकट की इस घड़ी में प्रधानमंत्री जी ने कल समस्त जनता का आह्वाहनकिया कि सभी 5 अप्रेल को रात्रि 9 बजे 9 मिनट के लिए आइए अपने घरों की लाइट्स बन्द करके घरों के दरवाजों या बाल्कनीमें मोमबत्ती, दिया या टॉर्च जलाकर देश के हर नागरिक के जीवनमें आशा का प्रकाश प्रसारित करने का प्रया
04 अप्रैल 2020
31 मार्च 2020
धि
धिक्कार है ऐसे लोगोंं परविजय कुमार तिवारीमन दहल उठता है।लाॅकडाउन में भी लाखों की भीड़ सड़कों पर है।भारत का प्रधानमन्त्री हाथ जोड़कर विनती करता है,आगाह करता है कि खतरा पूरी मानवजाति पर है।विकसित और सम्पन्न देश त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।विकास और ऐश्वर्य के बावजूद वे अपनी जनता को बचा नहीं पा रहे हैं।आज
31 मार्च 2020
27 मार्च 2020
जि
कहानीजिन्दगी सुखद संयोगों का खेल है।विजय कुमार तिवारीरमणी बाबू को भगवान में बहुत श्रद्धा है।उसके मन मेंं यह बात गहरे उतर गयी है कि अच्छे दिन अवश्य आयेंगे।अक्सर वे सुहाने दिनों की कल्पना में खो जाते हैं और वर्तमान की छोटी-छोटी जरुरतों की लिस्ट बनाते रहते हैं।गाँव के लड़के स्कूल साईकिल पर जाते थे तो व
27 मार्च 2020
03 अप्रैल 2020
कविताहर युग मेंं आते हैं भगवानविजय कुमार तिवारीद्रष्टा ऋषियों ने संवारा,सजाया है यह भू-खण्ड,संजोये हैं वेद की ऋचाओं में जीवन-सूत्र,उपनिषदों ने खोलें हैं परब्रह्म तक पहुँचने के द्वार,कण-कण में चेतन है वह विराट् सत्ता।सनातन खो नहीं सकता अपना ध्येय,तिरोहित नहीं होगें हमारे पुरुषोत्तम के आदर्श,महाभारत स
03 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
09 अप्रैल 2020
समय के बारे में सुनते रहते हैं कि समय बड़ा कीमती है. ये भी सुनते हैं कि समय पलट कर वापिस नहीं आता है. मतलब हम गुज़रे समय में वापिस नहीं जा सकते और आने वाले समय का भी पता नहीं भी केवल इन्तेज़ार ही कर सकते हैं. तो क्या केवल वर्तमान ही हमें समय उपलब्ध है ?प्राचीन समय से ही ऋषि,
09 अप्रैल 2020
12 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-2विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू भी इस माहौल से अछूते नहीं रहे।उनका मिलना-जुलना शुरु हो गया।कार्यालय में बहुत लोगों के काम होते जिसे बड़े ही सहृदय भाव से निबटाते और कोशिश करते कि किसी को कोई शिकायत ना हो।स्थानीय लोगों से उनकी अच्छी जान-पहचान हो गयी है।सुरक्षा बल के लोगों के
12 अप्रैल 2020
14 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-4विजय कुमार तिवारी"ऐसा नहीं कहते,"प्रमोद बाबू भावुक हो उठे,"इतना ही कह सकता हूँ कि तुम अपनी उर्जा इन सब चीजों में मत लगाओ।"थोड़ा रुककर उन्होंने कहा,"दुनिया ऐसी ही है,लोग कहेंगे ही।तुम्हें तय करना है कि स्वयं को इन वाहियात चीजों में उलझाती हो और अपने को बरबाद करती हो या ब
14 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x