बहुमूल्य हैं प्राण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (314 बार पढ़ा जा चुका है)

बहुमूल्य हैं प्राण :--  आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बहुत ही कठिन हो सकता है परंतु यदि सकारात्मकता के साथ विचार किया जाय तो यह बिल्कुल भी कठिन नहीं है | इस सृष्टि में सबसे बहुमूल्य है मनुष्य का प्राण ! क्योंकि जब प्राण ही नहीं रहेंगे तो संसार में कितने भी बहुमूल्य पदार्थ भरे हों सब व्यर्थ हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने प्राणों की रक्षा करने के लिए सतत् प्रयत्नशील रहना चाहिए इतिहास / पुराण साक्षी हैं कि इस प्राण को बचाने के लिए मनुष्य तो क्या देवता , बलवान दैत्य भी भयाक्रान्त होकर इसे सुरक्षित रखने के लिए अनेक प्रकार के उपाय करते हुए देखे गये हैं | मृत्यु के भय से देवराज इन्द्र कमल की नाल में छुप गये थे , भोजराज कंस को जब पता चला कि देवकी की आठवीं संतान उसका वध कर देगी तब अपने प्राणों की रक्षा के लिए उसने देवकी के पुत्रों का वध करना प्रारम्भ कर दिया | अपने प्राणों की रक्षा के लिए कालिय नाग यमुना के दह में छुपकर बैठा था | दस हजार हाथियों का बल स्वयं में समाहित करने वाला दुर्योधन भी मृत्यु के भय से अपने अन्तिम प्रयास में सरोवर में छुप गया था ! पाण्डवों के बीर बार ललकारने पर दुर्योधन ललकार को सहन न कर पाया और लक्ष्मी जी के लाख मना करने पर भी वह बाहर निकल आया और मृत्यु को प्राप्त हुआ | यदि दुर्योधन उस रात्रि दुश्मन की ललकार को अनसुना करके सरेवर में छुपा रहता तो शायद उसकी मृत्यु न होती | यह सब इतिहास पढ़कर यह संदेश प्राप्त होता है कि प्रत्येक मनुष्य को अपने प्राणों की रक्षा प्राथमिकता से तो करना ही चाहिए साथ ही बलवान दुशमन की ललकार सुनने के बाद भी विपरीत समय देखकर चुपचाप छुपे रहना चाहिए अन्यथा दुर्योधन की ही भाँति दुर्गति निश्चित है |*


*आज का समय समस्त मानव जाति के विपरीत ही चल रहा है | चीन से निकला हुआ "कोरोना संक्रमण" एक बलवान दुश्मन की भाँति समस्त मानव जाति के लिए काल बना हुआ है | अब तक इस संक्रमण ने लाखों मनुष्यों को अपना शिकार कर लिया है | आज का मनुष्य सांसारिकता में इतना व्यस्त हो गया है कि उसे अपना भला - बुरा सोंचने की फुर्सत ही नहीं रह गयी है | प्राणें का मूल्य क्या है यह भी शायद आज लोग सोंचना ही नहीं चाहते है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूँ कि आज विश्व के समस्त देशों में कोरोना नामक बलवान. दुशमन मनुष्यों को ललकार रहा है | जो बुद्धिमान वे तो कुसमय जानकर दुशमन की ललकार को अनसुना करके अपने घरों में छुपकर बैठे हैं वे सुरक्षित हैं परंतु कुछ अधिक बुद्धिमान ( जिन्हें यदि जाहिल एवं गंवार कहा जाय तो भी अतिशयोक्ति न होगी ) अपने दुशमन (कोरोना) को कमजोर एवं भ्रम या यह समझकर कि यह कोरोना मेरा क्या कर लेगा बाहर निकलकर घूम रहे हैं दुशमन (कोरोना) उनका शिकार कर रहा है | समस्त मानव जाति के लिए यह चिन्तन का समय है कि किस प्रकार अपने प्राणों की रक्षा की जाय | कुछ लोगों का अतिउत्साह एवं गंवारपन एक पूरे समाज को संक्रमित करता चला जा रहा है | ऐसे समय में मनुष्य को इतिहास से शिक्षा लेते हुए अपने प्राणों का मूल्य समझते हुए इसकी रक्षा करने का प्रयास करते रहना चाहिए इसके चाहे छुपना पड़े या भागना पड़े तो भी करना चाहिए | जब प्राण ही नहीं रह जायेंगे तो इस संसार की बहुमूल्य से बहुमूल्य वस्तु अर्थहीन ही है |*


*संसार में सबसे बहुमूल्य है मनुष्य का प्राण , इन प्राणों की रक्षा करना प्रत्येक प्राणी का परम कर्तव्य है |*

अगला लेख: लक्ष्मण चरित्र भाग - १ :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मार्च 2020
*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है
30 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
10 अप्रैल 2020
*इस संसार का नाम है मृत्युलोक , यहां जो भी आया है उसे एक दिन इस संसार का त्याग करके जाना ही है अर्थात जो भी आया है उसकी मृत्यु भी निश्चित है | मृत्यु कों आज तक कोई भी टाल नहीं पाया है इसका अर्थ यह नहीं हुआ कि जानबूझकर मृत्यु को गले लगाया जाय | मृत्यु को गले लगाना भी दो प्रकार का होता है :- एक तो लोक
10 अप्रैल 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
10 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*सनातन धर्म में रामायण महाभारत दो महान ग्रंथ है , जहां महाभारत कुछ पाने के लिए युद्ध की घोषणा करता है वही रामायण त्याग का आदर्श प्रस्तुत करती है | मनुष्य का आदर्श क्या होता है ? मर
10 अप्रैल 2020
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
28 मार्च 2020
*इस धराधाम पर मनुष्य सभी प्राणियों पर आधिपत्य करने वाला महाराजा है , और मनुष्य पर आधिपत्य करता है उसका मन क्योंकि मन हमारी इंद्रियों का राजा है | उसी के आदेश को इंद्रियां मानती हैं , आंखें रूप-अरूप को देखती हैं | वे मन को बताती हैं और मनुष्य उसी के अनुसार आचरण करने लगता है | कहने का आशय यह है कि समस
28 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x