संकटकाल में विवेकपूर्ण कृत्य करें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (322 बार पढ़ा जा चुका है)

संकटकाल में विवेकपूर्ण कृत्य करें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है | संकटकाल में मनुष्य को विवेक नहीं खोना चाहिए | जब समक्ष शक्तिशाली शत्रु हो तो मनुष्य को विवेक का प्रयोग करते हुए उसके सामने न आकरके छुपकर पहले शक्ति संचय करके ही उसके समक्ष जाना चाहिए | हमारे देश में ही नहीं वरन् सम्पूर्ण विश्व में श्री राम एवं श्री कृष्ण को भगवान मानकर पूजा जाता है परंतु जन्म लेते ही भगवान श्री कृष्ण अपने शक्तिशाली मामा कंस से स्वयं को बचाने के लिए गोकुल चले गये क्योंकि उनको शक्ति संचय करना था | वहीं इसका उदाहरण हमें भगवान श्रीराम के चरित्रों में भी देखने को मिलता है | रामायण के पात्र बालि की यह विशेषता थी कि वह अपने शत्रु से कभी भी पराजित नहीं होता था क्योंकि जो भी उससे लड़ने आता था उसका आधा बल बालि में आ जाता था | ऐसे विचित्र बलवान का वध करने के लिए श्री राम ने विवेक का प्रयोग करते हुए स्वयं को छुपा करके वृक्ष की ओट से बालि का वध किया एवं सुग्रीव को किष्किन्धा का राजा बनाया | श्री राम सर्वशक्तिमान भगवान थे यदि चाहते तो बालि का वध सामने से भी कर सकते थे परंतु उन्होंने मानवमात्र को संदेश दिया कि यदि शत्रु शक्तिशाली हो तो उससे छुपकर ही लड़ना विवेकपूर्ण कार्य है | प्रत्येक मनुष्य को पूर्व के आदर्शों से शिक्षा अवश्य लेनी चाहिए | मनुष्य शक्तिमान तो हो सकता है परंतु सर्वसमर्थ एवं सर्वशक्तिमान कभी नहीं हो सकता , तो सर्वशक्तिमान ईश्वर के चरित्रों का अनुगमन करते हुए शक्तिशाली शत्रु से छुपकर ही लड़ना विवेकपूर्ण कार्य है !*


*आज मनुष्य ने बहुत विकास कर लिया है अपने विकास क्रम में मनुष्य ने अनेक प्रकार की भौतिक शक्तियां भी एकत्र की हैं अपनी इन्हीं शक्तियों के बल पर विश्व के शक्तिशाली देशों ने अपने शत्रुओं को परास्त भी किया है | ऐसा करके मनुष्य स्वयं को सर्वशक्तिमान मरने लगा | परंतु विचार करना चाहिए कि एक विषधर सर्प को पकड़ने वाला सपेरा भी कुछ दिन एकांत में बैठकर उस सर्प को पकड़ने के लिए मंत्र शक्ति का संचय करता है | सिंह जैसे हिंसक जीव को पकड़ने के लिए भी मनुष्य पिंजरा लगाकर छुप जाता है | पृथ्वी पर उत्पन्न सभी प्रकार की जीवो पर शासन करने वाला मनुष्य आज एक अदृश्य एवं शक्तिशाली शत्रु (कोरोना संक्रमण) से युद्ध कर रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यही कहना चाहूँगा कि जब हमारे महापुरुषों ने (जिन्हें भगवान कहा गया है) शक्तिशाली शत्रुओं से छुप जाने की शिक्षा दी है तो आज हम स्वयं को अपने घरों में क्यों नहीं छुपा पा रहे हैं ? कुछ अधिक बुद्धिमान खुले में टहलकर शत्रु (कोरोना) के शिकार हो रहे हैं | इन मूर्खों को विचार करना चाहिए कि जब सभी प्रकार की सुविधाओं को ग्रहण करके , बचाव के अनेक साधनों का उपयोग करने वाले चिकित्सक भी नहीं बच पा रहे हैं तो साधारण मनुष्यों की क्या बिसात है ? कुछ लोग स्वयं को ईश्वर का परम भक्त एवं अल्लाह का नेक बन्दा मानकर खुले में घूम रहे हैं ये न तो ईश्वर के भक्त हैं और न ही नेक बन्दे , ईश्वर भक्त शायद भूल गये कि उनके ईश्वर श्री राम भी बालि से छुप गये थे , अल्लाह के बन्दों को भी शायद यह याद नहीं रह गया है कि अपने शत्रु से बचने के लिए अपने एक साथी के साथ "हजरत मुहम्मद साहब" भी मकड़ी के जाले के पीछे छुपे हुए थे | जो अपने आदर्शो से शक्षा न ग्रहण करे वह बुद्धिमान होते हुए भी महामूर्ख है | इन्हीं मूर्खों के कारण आज देश के देश तबाह और बरबाद होते चले जा रहे हैं | जिस प्रकार एक मछली पूरे तालाब को दुर्गन्धित कर देती है उसी प्रकार सड़ी एवं नकारात्मक मानसिकता के कुछ चन्द जाहिल लोग पूरे मानव समाज के लिए दुर्गन्ध सदृश बनते जा रहे हैं | अभी भी समय है अपने आदर्शों को आत्मसात करते हुए छुपकर ही शक्तिशाली शत्रु (कोरोना) से युद्ध किया जाय , अन्यथा यह प्रबल शत्रु विध्वंस मचाकर पृथ्वी को पूर्ण श्मशान बना देगा |*


*प्रबल शत्रु के सम्मुख युद्ध में जब जीतने की सम्भावना न हो तो उससे छुप जाना चाहिए ! आज हमें अपने जीवन को सुरक्षित रखने के लिए घरों में छुपे रहने का ही समय है ! यही बुद्धिमत्ता है |*

अगला लेख: किसी को छोटा न समझें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
08 अप्रैल 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना | मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने कई साधन बताए हैं | कोई भक्ति करके मोक्ष प्राप्त करना चाहता है तो कोई ज्ञानवान बन करके सत्संग के माध्यम से इस मार्ग को चुनता है , और कई मनुष्य बैराग्य धारण करके मोक्ष की कामना कर
08 अप्रैल 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
*इस पृथ्वी पर अनेकों छोटे बड़े जीव हैं सबका अपना - अपना महत्त्व है | इन जीवों के अतिरिक्त अनेक जीवाणु एवं विषाणु भी पृथ्वीमण्डल में भ्रमण किया करते हैं जो कि मवुष्य जैसे बलवान प्राणी के लिए घातक सिद्ध होते रहे हैं | हाथी से लेकर चींटी तक कोई भी महत्वहीन नहीं है , पृथ्वी का सबसे विशलकाय प्राणी हाथी ज
11 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x