विपत्ति में ही

07 अप्रैल 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (299 बार पढ़ा जा चुका है)

विपत्ति में ही

विजय कुमार तिवारी

प्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित है,वह उतना ही परेशान है।दुनिया पर राज करने का मनसुबा पाले अनेक देशों ने तबाही के बहुत से हथियार बनाये हैं।आज उनके हथियार काम नहीं आ रहे हैं।आज पूरी दुनिया ठहर सी गयी है।

विपत्ति के इस दौर में बहुत चीजें स्पष्ट हो रही हैं और आज का आदमी सोचने पर मजबूर हुआ है।अपने-पराये की पहचान तो हो ही रही है,उससे भी अधिक स्पष्ट पहचान अच्छे-बुरे की हो रही है।

हमारे यहाँ समुद्र-मन्थन की अवधारणा है।उसी में से विष भी निकलता है और अमृत भी।यह प्रकृति द्वारा थोड़ा हटकर आलोड़न है।इस मन्थन की जरुरत क्यों आ पड़ी?शायद हम सही उत्तर न दे पायें।सरल भाषा में कह सकते हैं कि धरती का बोझ बढ़ गया है,बेतरतीब दोहन से उसका सन्तुलन बिगड़ गया है।इससे भी बड़ा हमारा वैचारिक पतन है जिससे हवा,पानी, वनस्पति,जीव-जन्तु और हमारा आपसी सम्बन्ध सबकुछ गहरे तौर पर प्रभावित हुआ है।हमारे सारे वैज्ञानिक शोध धरती,समुद्र और आकाश को आन्दोलित करते हैं।सम्पूर्ण सृष्टि में उथल-पुथल मच जाती है।कोई रोकने-टोकने वाला नहीं है।सबको आगे निकल जाने की होड़ है।

कोई यह क्यों नहीं मानता कि इस सम्पूर्ण सृष्टि का सृजन अकस्मात नहीं हुआ है।विधाता ने बहुत सोच-समझकर इसकी रचना की है।मनुष्य को उसका सिरमौर बनाया।उसमें बुद्धि-विवेक भर दिया ताकि वह इसका संचालन करे,खुद भी सुख-भोग करे और सबको सुखी रखे।

दुर्भाग्य से मनुष्य ने दुर्गुणों को प्रश्रय देते हुए विनाश का मार्ग अपना लिया।हमारी आवश्यकता बहुत कम है और हमें मिल-जुलकर रहना चाहिए।ऐसा नहीं हुआ।हमने अपनी विभाजनकारी नीतियों से सबको बांट दिया और लड़ने लगे।हमने हर किसी का शोषण किया और जाति-धर्म के नाम पर मनुष्यता को कलंकित करते हुए आपस में ही एक-दूसरे के प्रति जघन्य अपराध करने लगे।षडयन्त्र के तहत विनाश के खेल खेले जा रहे हैं और ऐसे बहुत लोग हैं जो केवल विरोध करना जानते हैं।उनके चेहरे पहचाने जा रहे हैं,फिर भी उन्हें लज्जा नहीं आती।आश्चर्य और दुखद है कि उनका बड़ा वर्ग इसे हथियार के रुप में उपयोग कर रहा है।अवश्य ही इससे बड़ी क्षति होनेवाली है।ऐसे लोग विनाशक बम के रुप में समाज में घुसकर बड़ी तबाही का मंजर खड़ा कर रहे हैं।

पूरी दुनिया जहाँ इस विपदा से जुझ रही है,भारत को वहीं विपदा और ऐसे मानवता-विरोधी,राष्ट्र-विरोधी ताकतों से भी लड़ना पड़ रहा है।बहुत सालों से इनका छिपा खेल चल रहा था,अब रहस्य उजागर हो गया है।इनको लोग पहचान रहे हैं।समस्या की पहचान ही असके सफाये की शुरुआत होती है।निश्चित मानिये कि इस संसार-मन्थन से ही ये बाहर निकल आये हैं।समाज के भीतर जड़ जमाये ऐसे तत्व बिलबिला उठे हैं और इनका घिनौना खेल सतह पर उभर आया है।इनका विभत्स खेल इसलिए चल पा रहा है कि आम आदमी जागरुक नहीं है,इनके आवरण की छद्मता को पहचान नहीं पाया है।इतना तो करना ही चाहिए कि हम सावधान रहें,अपने आसपास की गतिविधियों पर नजर रखें और वैसे लोगों के बहकावे में न आवें।

विश्वास करें,जो हो रहा है,उसमें से ही मानवता कुछ अधिक समझदार,मजबूत,सशक्त और जागरुक होकर निकलेगी।लोग बता रहे हैं कि दिल्ली में यमुना का जल बहुत साफ हुआ है।गंगा नदी का जल भी निर्मल और स्वच्छ हुआ है।दिल्ली सहित अनेक शहरों में प्रदूषण का स्तर कम हुआ है।विपत्ति से हम भी बाहर निकल ही आयेंगे।सम्पूर्ण विश्व और मानवता की जीत होगी।बस,धैर्य से,पूरी तरह जागरुक रहना है।अपना भी मनोबल बढ़ाना है और आसपास सबके उत्साह को जगाये रखना है।हमेशा याद रखना चाहिए कि हर विपत्ति हमें कुछ सिखाकर जाती है और हमें संघर्ष के लिए प्रेरित करती है।


अगला लेख: मेरे आनंद की बाते



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-3विजय कुमार तिवारी"मैं किसी से नहीं डरता,"मोहन चन्द्र पूरी बेहयायी पर उतर आये।प्रमोद बाबू ने अपने आपको रोका।सुबह की ताजी हवा में भी गर्माहट की अनुभूति हुई और दुख हुआ।हिम्मत करके उन्होंने कहा,"मोहन चन्द्र जी,दूसरों की जिन्दगी में टांग अड़ाना ठीक नहीं है।आपकी बात सही हो तब
13 अप्रैल 2020
15 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-6विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू दोनो महिलाओं और मोहन चन्द्र जी की भाव-भंगिमा देख दंग रह गये।सुबह दूध वाले की बातें सत्य होती प्रतीत होने लगी।उन्होंने मौन रहना ही उचित समझा।अन्दर से पत्नी भी आ गयी।मोहन चन्द्र बाबू उन दोनो महिलाओं से कुछ पूछते-बतियाते रहे।थोड़ी देर में पत्नी
15 अप्रैल 2020
03 अप्रैल 2020
कविताहर युग मेंं आते हैं भगवानविजय कुमार तिवारीद्रष्टा ऋषियों ने संवारा,सजाया है यह भू-खण्ड,संजोये हैं वेद की ऋचाओं में जीवन-सूत्र,उपनिषदों ने खोलें हैं परब्रह्म तक पहुँचने के द्वार,कण-कण में चेतन है वह विराट् सत्ता।सनातन खो नहीं सकता अपना ध्येय,तिरोहित नहीं होगें हमारे पुरुषोत्तम के आदर्श,महाभारत स
03 अप्रैल 2020
27 मार्च 2020
जि
कहानीजिन्दगी सुखद संयोगों का खेल है।विजय कुमार तिवारीरमणी बाबू को भगवान में बहुत श्रद्धा है।उसके मन मेंं यह बात गहरे उतर गयी है कि अच्छे दिन अवश्य आयेंगे।अक्सर वे सुहाने दिनों की कल्पना में खो जाते हैं और वर्तमान की छोटी-छोटी जरुरतों की लिस्ट बनाते रहते हैं।गाँव के लड़के स्कूल साईकिल पर जाते थे तो व
27 मार्च 2020
25 मार्च 2020
आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडीपर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ...कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है - एक ऐसा शत्रु जिसे हमदेख नहीं सकते, छू नहीं सकते - पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभीभी किसी पर भी
25 मार्च 2020
05 अप्रैल 2020
5
5 अप्रैल 2020,रात 9 बजे,9 मिनट का प्रकाश-पर्वविजय कुमार तिवारीविश्वास करें,यह कोई सामान्य घटना घटित होने नहीं जा रही है और ना ही आज का प्रकाश-पर्व एक सामान्य प्रकाश-पर्व है।ब्रह्माण्ड की ब्रह्म-शक्ति का आह्वान हम सम्पूर्ण देशवासी प्रकाश-पर्व मनाकर करने जा रहे हैं।हमारे भीतर स्थित वह दिव्य-चेतना जागृ
05 अप्रैल 2020
04 अप्रैल 2020
आओ मिलकर दिया जलाएँकोरोना के संकट की इस घड़ी में प्रधानमंत्री जी ने कल समस्त जनता का आह्वाहनकिया कि सभी 5 अप्रेल को रात्रि 9 बजे 9 मिनट के लिए आइए अपने घरों की लाइट्स बन्द करके घरों के दरवाजों या बाल्कनीमें मोमबत्ती, दिया या टॉर्च जलाकर देश के हर नागरिक के जीवनमें आशा का प्रकाश प्रसारित करने का प्रया
04 अप्रैल 2020
31 मार्च 2020
धि
धिक्कार है ऐसे लोगोंं परविजय कुमार तिवारीमन दहल उठता है।लाॅकडाउन में भी लाखों की भीड़ सड़कों पर है।भारत का प्रधानमन्त्री हाथ जोड़कर विनती करता है,आगाह करता है कि खतरा पूरी मानवजाति पर है।विकसित और सम्पन्न देश त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।विकास और ऐश्वर्य के बावजूद वे अपनी जनता को बचा नहीं पा रहे हैं।आज
31 मार्च 2020
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
02 अप्रैल 2020
मे
मेरे आनन्द की बातेंविजय कुमार तिवारीकभी-कभी सोचता हूँं कि मैं क्योंं लिखता हूँ?क्योंं दुनिया को लिखकर बताना चाहता हूँ कि मुझे क्या अच्छा लगता है?मेरी समझ से जो भी गलत दिखता है या देश-समाज के लिए हानिप्रद लगता है,क्यों लोगों को उसके बारे में आगाह करना चाहता हूँ?क्यों दुनिया को सजग,सचेत करता फिरता हूँ
02 अप्रैल 2020
12 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-2विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू भी इस माहौल से अछूते नहीं रहे।उनका मिलना-जुलना शुरु हो गया।कार्यालय में बहुत लोगों के काम होते जिसे बड़े ही सहृदय भाव से निबटाते और कोशिश करते कि किसी को कोई शिकायत ना हो।स्थानीय लोगों से उनकी अच्छी जान-पहचान हो गयी है।सुरक्षा बल के लोगों के
12 अप्रैल 2020
01 अप्रैल 2020
कविताशहर प्रयोगशाला हो गया हैविजय कुमार तिवारीछद्मवेष में सभी बाहर निकल आये हैंं,लिख रहे हैं इतिहास में दर्ज होनेवाली कवितायें,सुननी पड़ेगी उनकी बातेंं,देखना पड़ेगा बार-बार भोला सा चेहरा।तुमने ही उसे सिंहासन दिया है,और अपने उपर राज करने का अधिकार।दिन में वह ओढ़ता-बिछाता है तुम्हारी सभ्यता-संस्कृति,उ
01 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x