विपत्ति में ही

07 अप्रैल 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (304 बार पढ़ा जा चुका है)

विपत्ति में ही

विजय कुमार तिवारी

प्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित है,वह उतना ही परेशान है।दुनिया पर राज करने का मनसुबा पाले अनेक देशों ने तबाही के बहुत से हथियार बनाये हैं।आज उनके हथियार काम नहीं आ रहे हैं।आज पूरी दुनिया ठहर सी गयी है।

विपत्ति के इस दौर में बहुत चीजें स्पष्ट हो रही हैं और आज का आदमी सोचने पर मजबूर हुआ है।अपने-पराये की पहचान तो हो ही रही है,उससे भी अधिक स्पष्ट पहचान अच्छे-बुरे की हो रही है।

हमारे यहाँ समुद्र-मन्थन की अवधारणा है।उसी में से विष भी निकलता है और अमृत भी।यह प्रकृति द्वारा थोड़ा हटकर आलोड़न है।इस मन्थन की जरुरत क्यों आ पड़ी?शायद हम सही उत्तर न दे पायें।सरल भाषा में कह सकते हैं कि धरती का बोझ बढ़ गया है,बेतरतीब दोहन से उसका सन्तुलन बिगड़ गया है।इससे भी बड़ा हमारा वैचारिक पतन है जिससे हवा,पानी, वनस्पति,जीव-जन्तु और हमारा आपसी सम्बन्ध सबकुछ गहरे तौर पर प्रभावित हुआ है।हमारे सारे वैज्ञानिक शोध धरती,समुद्र और आकाश को आन्दोलित करते हैं।सम्पूर्ण सृष्टि में उथल-पुथल मच जाती है।कोई रोकने-टोकने वाला नहीं है।सबको आगे निकल जाने की होड़ है।

कोई यह क्यों नहीं मानता कि इस सम्पूर्ण सृष्टि का सृजन अकस्मात नहीं हुआ है।विधाता ने बहुत सोच-समझकर इसकी रचना की है।मनुष्य को उसका सिरमौर बनाया।उसमें बुद्धि-विवेक भर दिया ताकि वह इसका संचालन करे,खुद भी सुख-भोग करे और सबको सुखी रखे।

दुर्भाग्य से मनुष्य ने दुर्गुणों को प्रश्रय देते हुए विनाश का मार्ग अपना लिया।हमारी आवश्यकता बहुत कम है और हमें मिल-जुलकर रहना चाहिए।ऐसा नहीं हुआ।हमने अपनी विभाजनकारी नीतियों से सबको बांट दिया और लड़ने लगे।हमने हर किसी का शोषण किया और जाति-धर्म के नाम पर मनुष्यता को कलंकित करते हुए आपस में ही एक-दूसरे के प्रति जघन्य अपराध करने लगे।षडयन्त्र के तहत विनाश के खेल खेले जा रहे हैं और ऐसे बहुत लोग हैं जो केवल विरोध करना जानते हैं।उनके चेहरे पहचाने जा रहे हैं,फिर भी उन्हें लज्जा नहीं आती।आश्चर्य और दुखद है कि उनका बड़ा वर्ग इसे हथियार के रुप में उपयोग कर रहा है।अवश्य ही इससे बड़ी क्षति होनेवाली है।ऐसे लोग विनाशक बम के रुप में समाज में घुसकर बड़ी तबाही का मंजर खड़ा कर रहे हैं।

पूरी दुनिया जहाँ इस विपदा से जुझ रही है,भारत को वहीं विपदा और ऐसे मानवता-विरोधी,राष्ट्र-विरोधी ताकतों से भी लड़ना पड़ रहा है।बहुत सालों से इनका छिपा खेल चल रहा था,अब रहस्य उजागर हो गया है।इनको लोग पहचान रहे हैं।समस्या की पहचान ही असके सफाये की शुरुआत होती है।निश्चित मानिये कि इस संसार-मन्थन से ही ये बाहर निकल आये हैं।समाज के भीतर जड़ जमाये ऐसे तत्व बिलबिला उठे हैं और इनका घिनौना खेल सतह पर उभर आया है।इनका विभत्स खेल इसलिए चल पा रहा है कि आम आदमी जागरुक नहीं है,इनके आवरण की छद्मता को पहचान नहीं पाया है।इतना तो करना ही चाहिए कि हम सावधान रहें,अपने आसपास की गतिविधियों पर नजर रखें और वैसे लोगों के बहकावे में न आवें।

विश्वास करें,जो हो रहा है,उसमें से ही मानवता कुछ अधिक समझदार,मजबूत,सशक्त और जागरुक होकर निकलेगी।लोग बता रहे हैं कि दिल्ली में यमुना का जल बहुत साफ हुआ है।गंगा नदी का जल भी निर्मल और स्वच्छ हुआ है।दिल्ली सहित अनेक शहरों में प्रदूषण का स्तर कम हुआ है।विपत्ति से हम भी बाहर निकल ही आयेंगे।सम्पूर्ण विश्व और मानवता की जीत होगी।बस,धैर्य से,पूरी तरह जागरुक रहना है।अपना भी मनोबल बढ़ाना है और आसपास सबके उत्साह को जगाये रखना है।हमेशा याद रखना चाहिए कि हर विपत्ति हमें कुछ सिखाकर जाती है और हमें संघर्ष के लिए प्रेरित करती है।


अगला लेख: मेरे आनंद की बाते



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2020
को
करोना और स्त्रीविजय कुमार तिवारीकल प्रधानमन्त्री ने देश मेंं कोरोना के चलते ईक्कीस दिनों के"लाॅकडाउन"की घोषणा की है।सभी को अपने-अपने घरों में रहना है।बाहर जाने का सवाल ही नहीं उठता।घर मेंं चौबिसों घण्टे पत्नी के साथ रह पाना,सोचकर ही मन भारी हो जाता है।किसी साधु-सन्त के पास इससे बचाव का उपाय नहीं है।
25 मार्च 2020
08 अप्रैल 2020
कविताहमउम्र बूढ़ोंं का परिवारविजय कुमार तिवारीमैंने सजा लिया है सारे हमउम्र बूढ़ों को अपने फ्रेम में,बना लिया है मित्रों का बड़ा सा समूह। रोज देखता रहता हूँ उनके आज के चेहरे,चमक उठती है पुतलियाँजीवन्त हो उठते हैं उनसे जुडे नाना प्रसंग। मुरझाये गालों और मद्धिम रोशनी लिये आँखें,आज भी कौंंध जाता है उनक
08 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
05 अप्रैल 2020
5
5 अप्रैल 2020,रात 9 बजे,9 मिनट का प्रकाश-पर्वविजय कुमार तिवारीविश्वास करें,यह कोई सामान्य घटना घटित होने नहीं जा रही है और ना ही आज का प्रकाश-पर्व एक सामान्य प्रकाश-पर्व है।ब्रह्माण्ड की ब्रह्म-शक्ति का आह्वान हम सम्पूर्ण देशवासी प्रकाश-पर्व मनाकर करने जा रहे हैं।हमारे भीतर स्थित वह दिव्य-चेतना जागृ
05 अप्रैल 2020
09 अप्रैल 2020
समय के बारे में सुनते रहते हैं कि समय बड़ा कीमती है. ये भी सुनते हैं कि समय पलट कर वापिस नहीं आता है. मतलब हम गुज़रे समय में वापिस नहीं जा सकते और आने वाले समय का भी पता नहीं भी केवल इन्तेज़ार ही कर सकते हैं. तो क्या केवल वर्तमान ही हमें समय उपलब्ध है ?प्राचीन समय से ही ऋषि,
09 अप्रैल 2020
15 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-6विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू दोनो महिलाओं और मोहन चन्द्र जी की भाव-भंगिमा देख दंग रह गये।सुबह दूध वाले की बातें सत्य होती प्रतीत होने लगी।उन्होंने मौन रहना ही उचित समझा।अन्दर से पत्नी भी आ गयी।मोहन चन्द्र बाबू उन दोनो महिलाओं से कुछ पूछते-बतियाते रहे।थोड़ी देर में पत्नी
15 अप्रैल 2020
15 अप्रैल 2020
बैंक की छुट्टी कब होती है भारत विविधताओं से भरा देश है और उसी तरह यहाँ बैंकों की विविधता भी कम नहीं है. केन्द्रीय बैंक - रिज़र्व बैंक और भारतीय स्टेट बैंक के अलावा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, ग्रामीण बैंक, प्राइवेट बैंक, लोकल एरिया बैंक, स्माल फाइनेंस बैंक, पेमेंट बैंक और स
15 अप्रैल 2020
02 अप्रैल 2020
मे
मेरे आनन्द की बातेंविजय कुमार तिवारीकभी-कभी सोचता हूँं कि मैं क्योंं लिखता हूँ?क्योंं दुनिया को लिखकर बताना चाहता हूँ कि मुझे क्या अच्छा लगता है?मेरी समझ से जो भी गलत दिखता है या देश-समाज के लिए हानिप्रद लगता है,क्यों लोगों को उसके बारे में आगाह करना चाहता हूँ?क्यों दुनिया को सजग,सचेत करता फिरता हूँ
02 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
05 अप्रैल 2020
5
5 अप्रैल 2020,रात 9 बजे,9 मिनट का प्रकाश-पर्वविजय कुमार तिवारीविश्वास करें,यह कोई सामान्य घटना घटित होने नहीं जा रही है और ना ही आज का प्रकाश-पर्व एक सामान्य प्रकाश-पर्व है।ब्रह्माण्ड की ब्रह्म-शक्ति का आह्वान हम सम्पूर्ण देशवासी प्रकाश-पर्व मनाकर करने जा रहे हैं।हमारे भीतर स्थित वह दिव्य-चेतना जागृ
05 अप्रैल 2020
30 मार्च 2020
*बस! सिर्फ पन्द्रह दिन और !!**डॉ दिनेश शर्मा*मुझे लगता है कि कोरोना के खिलाफ इस महायुद्ध में कुछ अपवादों कोछोड़कर जिस तरह देश की बड़ी जनता ने पिछले आठ दिनों में धैर्य, संकल्प और साहस का परिचय दिया है - वो पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बननेवाला है । जिस कठोर व्यवस्था और लॉक डाउन को मात्र एक प्रोविन्स में
30 मार्च 2020
13 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-3विजय कुमार तिवारी"मैं किसी से नहीं डरता,"मोहन चन्द्र पूरी बेहयायी पर उतर आये।प्रमोद बाबू ने अपने आपको रोका।सुबह की ताजी हवा में भी गर्माहट की अनुभूति हुई और दुख हुआ।हिम्मत करके उन्होंने कहा,"मोहन चन्द्र जी,दूसरों की जिन्दगी में टांग अड़ाना ठीक नहीं है।आपकी बात सही हो तब
13 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x