हनुमान जयंती :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (9367 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान जयंती :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना | मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने कई साधन बताए हैं | कोई भक्ति करके मोक्ष प्राप्त करना चाहता है तो कोई ज्ञानवान बन करके सत्संग के माध्यम से इस मार्ग को चुनता है , और कई मनुष्य बैराग्य धारण करके मोक्ष की कामना करते हैं | यह कामना अनेक मार्ग अपनाने के बाद भी यदि मनुष्य की नहीं सफल होती है तो उसका एक ही कारण है कि मनुष्य के भीतर का अहंकार | जब तक मनुष्य के भीतर का अहंकार नहीं जाएगा तब तक कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है | थोड़ा सा ज्ञान प्राप्त कर लेने पर मनुष्य स्वयं को विज्ञानी समझने लगता है यह उसका अहंकार ही है | जबकि अहंकार रहित जीवन एवं ज्ञान , भक्ति , वैराग्य इन तीनों का समन्वय देखना है तो हमें अनंत बलवंत हनुमंत लाल जी का चरित्र देखना चाहिए | अतुलनीय बल का स्रोत होने के बाद भी , बज्र जैसा शरीर , ज्ञानियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञानी एवं भक्ति में अग्रगण्य तथा अद्भुत बैरागी जीवन होने पर भी लेश मात्र भी अहंकार हनुमान जी के जीवन में देखने को नहीं मिलता है | सेवाभाव , दास्यभाव , भक्तिभाव का जैसा अनुपम उदाहरण हमें हनुमान जी के चरित्र से देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दृष्टिगत नहीं होता | अपने भक्तों को अभय प्रदान करने वाले हनुमान जी की महिमा चारों युगों में बतलाई गई है | मनुष्य अपने जीवन में अनेकानेक मार्ग अपनाने के स्थान पर यदि हनुमान जी के चरित्रों का अवलोकन करके उनका अनुसरण करके अपना जीवन व्यतीत करें तो जीवन का अंतिम लक्ष्य मोक्ष उसे अवश्य प्राप्त हो सकता है | सनातन धर्म में अनेक देवी देवताओं को मान्यता दी गई है परंतु हनुमान जी को कलयुग का प्रत्यक्ष देवता माना गया है | जहां भी भगवान श्री राम का कीर्तन होता है वहां हनुमान जी अपना आसन लगाकर बैठ जाते हैं , अपने भक्तों की रक्षा करने में अग्रणी हनुमान जी का चरित्र अविश्वसनीय एवं अविस्मरणीय है | प्रत्येक मनुष्य को हनुमान जी के जीवन से शिक्षा लेते हुए उनकी भक्ति करके अपने जीवन को धन्य बनाने का प्रयास करना चाहिए |*


*आज हमारे देश में हनुमान जी की जयंती बड़ी धूमधाम से मनाई जा रही है | जयंती का अर्थ होता है जिस दिन जन्म हुआ हो | तो क्या चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जी का जन्म हुआ था ?? चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जी की जयंती क्यों मनाई जाती है इसका कारण जान लेना परम आवश्यक है | वैसे तो हमारे देश में हनुमान जी की जयंती चार बार बनाई जाती है जहां संपूर्ण भारत में चैत्र पूर्णिमा एवं कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को हनुमान जी का जन्म दिवस धूमधाम से मनाया जाता है वहीं हमारे ही देश के तमिलनाडु एवं केरल में हनुमान जी की जयंती मार्गशीर्ष माह की अमावस्या को तथा उड़ीसा में वैशाख मास के प्रथम दिन मनाई जाती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि आदिकवि वाल्मीकि जी ने अपनी रामायण में हनुमान जी का जन्म कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को , मंगलवार के दिन , स्वाति नक्षत्र और मेष लग्न में बताया है | चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाने का कारण यह है कि आज के दिन सूर्य को निगलने का उद्योग करते हुए हनुमान जी इंद्र के द्वारा वज्र से आहत होकर के अचेतावस्था में पृथ्वी पर गिर पड़े थे , तब वायुदेवता के कोप से बचने के लिए हनुमान जी सभी देवताओं ने अपनी शक्तियां प्रदान की थीं | आज के ही दिन हनुमान जी ने सभी देवताओं की कृपा से पुनर्जीवन प्राप्त किया था | एक अन्य कथा के अनुसार "कालकारमुख" नामक ग्यारहमुखी दैत्य का वध करने के लिए हनुमान जी ने चैत्र पूर्णिमा को ही ग्यारहमुखी स्वरूप धारण किया था | इसलिए आज के दिन को हमारे शास्त्रों में हनुमान जयंती ना कहकरके "विजय अभिनंदन दिवस" कहा गया है | हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाने के कारणों पर दृष्टि अवश्य डालनी चाहिए , परंतु आज हम अपने शास्त्रों का अवलोकन नहीं करना चाहते हैं इसीलिये कभी-कभी लोग हमारी मान्यताओं पर उंगली उठाया करते हैं | आज हनुमान जी का "विजय अभिनंदन दिवस" जयंती के रूप में मनाया जा रहा है |*


*प्रत्येक संकट से छुटकारा पाने के लिए तथा भगवान की भक्ति अहंकार रहित होकर कैसे की जाती है यह देखने के लिए हमें हनुमान जी के चरित्रों का अनुसरण करते हुए अपने जीवन को वैसा ही बनाने का प्रयास करना चाहिए |*

हनुमान जयंती :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: लक्ष्मण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*सनातन धर्म में रामायण महाभारत दो महान ग्रंथ है , जहां महाभारत कुछ पाने के लिए युद्ध की घोषणा करता है वही रामायण त्याग का आदर्श प्रस्तुत करती है | मनुष्य का आदर्श क्या होता है ? मर
10 अप्रैल 2020
07 अप्रैल 2020
*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है |
07 अप्रैल 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
14 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी भगवान श्री राम को पूर्णता प्रदान करते हैं , यदि लक्ष्मण ना होते तो शायद भगवान श्री राम एवं भगवती सीता का मि
14 अप्रैल 2020
12 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**हम लक्ष्मण जी के जीवन के रहस्यों को उजागर करने का प्रयास करते हुए उनकी विशेषताओं पर चर्चा कर रहे हैं :---**लक्ष्मण जी बचपन
12 अप्रैल 2020
13 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी के बिना श्री राम जी का चरित्र अधूरा है | भगवान श्रीराम यदि पूर्ण परमात्मा है तो उनको पूर्णत्व प्रदान करते ही श्र
13 अप्रैल 2020
30 मार्च 2020
*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है
30 मार्च 2020
20 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १०* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को गोस्वामी तुलसीदास जी ने *चातक* कहा है और गोस्वामी जी का यह चतुर *चातक* देखना हो को *दोहावली* में देखा जा सक
20 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण की जन्म से ही भगवान श्रीराम से बहुत प्रेम करते थे | लक्ष्मण जी के माता , पिता , गु
11 अप्रैल 2020
18 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*रामायण में *लक्ष्मण जी* का चरित्र बहुत ही सूक्ष्म दर्शाया गया है | यह भी सच है कि जितना महत
18 अप्रैल 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
28 मार्च 2020
*इस धराधाम पर मनुष्य सभी प्राणियों पर आधिपत्य करने वाला महाराजा है , और मनुष्य पर आधिपत्य करता है उसका मन क्योंकि मन हमारी इंद्रियों का राजा है | उसी के आदेश को इंद्रियां मानती हैं , आंखें रूप-अरूप को देखती हैं | वे मन को बताती हैं और मनुष्य उसी के अनुसार आचरण करने लगता है | कहने का आशय यह है कि समस
28 मार्च 2020
20 अप्रैल 2020
*इस संसार की रचना परमपिता परमात्मा की इच्छा मात्र से हुई है ! ब्रह्मादि देवताओं के आधारभूत पारब्रह्म को जगतनियन्ता , जगत्पिता आदि की उपाधियों से विभूषित किया जाता है | उसी दिव्य शक्ति को विराट पुरुष , श्रीहरि विष्णु ईश्वर , परमेश्वर , भगवान आदि कहा जाता है ! ईश्वर को किसी ने देखा नहीं है वह तो मात्
20 अप्रैल 2020
01 अप्रैल 2020
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति को धर्म का पालन करने का निर्देश बार - बार दिया गया है | धर्म को चार पैरों वाला वृषभ रूप में माना जाता है जिसके तीन पैरों की अपेक्षा चौथे पैर की मान्यता कलियुग में अधिक बताया गया है , धर्म के चौथे पैर को "दान" कहा गया है | तुलसीदास जी मामस में लिखते हैं :-- "प्रगट चार
01 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण की जन्म से ही भगवान श्रीराम से बहुत प्रेम करते थे | लक्ष्मण जी के माता , पिता , गु
11 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x