काश : दिनेश डाक्टर

11 अप्रैल 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (293 बार पढ़ा जा चुका है)

काश : दिनेश डाक्टर

काश

दिनेश डॉक्टर


सत्रह लाख पीड़ित ! एक लाख से ऊपर मौतें !! सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका परेशान हैरान !!! हम सब पूछ रहे है खुद से ही कि क्या होगा ? क्या दुनिया वापस पहले जैसी हो पाएगी ? क्या हम पहले की तरह मर्जी से जब चाहे और जहां चाहें आ जा सकेंगे ? क्या पहले की तरह 'दुनिया मेरी मुट्ठी में' जैसी सोच हम पाल सकेंगे ? क्या हम अपने मित्रों और प्रियजनों से उन्मुक्त भाव से बिना मास्क पहने गले मिल सकेंगे ? क्या पहले की तरह प्रेमी जोड़े निःसंकोच भाव से एक दूसरे को चूम सकेंगे -प्यार कर सकेंगे ? क्या किसी प्रियजन की मृत्यु पर हम बिना किसी भय के उदार भाव से शिरकत कर सकेंगे ? हमारी आर्थिक स्थितियां कैसी होंगी ? जो लोग बैंकों में बुढ़ापे के लिए पैसा जमा कर ब्याज से होनी वाली आय में अपनी आर्थिक सुरक्षा ढूंढते थे - घटती या शून्य ब्याज दर हो जाने पर उनका क्या होगा ? कई बार सोचता हूँ कि काश यह सब एक दुःस्वप्न हो !! आंख खुले और लगे कि अरे यार कुछ नही बदला !! सब वैसा ही तो है !!!

काश !!!

काश : दिनेश डाक्टर

अगला लेख: धर्म का मर्म- असग़र वज़ाहत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x