लक्ष्मण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (372 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ३* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


*हम लक्ष्मण जी के जीवन के रहस्यों को उजागर करने का प्रयास करते हुए उनकी विशेषताओं पर चर्चा कर रहे हैं :---*


*लक्ष्मण जी बचपन से ही अदम्य साहसी एवं अतुलनीय बलशाली थे | एक बार बाल्यकाल में ही रावण के बलशाली पुत्र इंद्रजीत , मेघनाद को बंदी बना कर वध करने की तैयारी कर ली थी , परंतु मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी ने इन्हें रोक दिया था | क्योंकि लक्ष्मण जी के जीवन का एक ही उद्देश्य था राम जी की आज्ञा का पालन करना इसलिए उन्होंने मेघनाद का वध नहीं किया |*


*लक्ष्मण जी मेघनाथ को क्यों मारना चाहते थे ??*


*कथा इस प्रकार है :--*


*एक बार रावण समुद्र के किनारे बैठ कर भगवान शंकर की आराधना कर रहा था तभी उसकी दृष्टि समुद्र में एक कमल पुष्प पर पड़ी | रावण उस पुष्प को देखकर मंत्रमुग्ध हो गया और अपनी सुधि बुधि खो करती वहीं बैठा रहा | रावण जब महल नहीं लौटता है तो मंदोदरी मेघनाद को पता लगाने के लिए भेजती है | मेघनाद समुद्र तट पर पहुंचकर रावण की मनोदशा भांपकर कमल पुष्प के स्रोत को खोजने के लिए वेष बदल कर चल पड़ता है | आकाश , पाताल एवं पृथ्वी लोक में खोज कर जब थक गया तो उसने देखा कि सरयू जी की धारा में वैसे ही कमलपुष्प बहते हुए चले आ रहे हैं | जिधर से पुष्प आ रहे थे मेघनाद उस दिशा में बढ़ते - बढ़ते दशरथ जी की वाटिका में स्थित एक सरोवर अर्थात कमल पुष्प के स्रोत तक पहुंच जाता है | वहां वह पुष्प लेने के लिए वह जैसे ही सरोवर में उतरता है अयोध्या के सैनिक उसे देख लेते हैं और युद्ध प्रारंभ हो जाता है | सैनिकों को मेघनाद परास्त कर देता है | परास्त होकर सैनिक इसकी सूचना बालकों के साथ खेल रहे लक्ष्मण जी एवं श्री राम को देते हैं | छोटे-छोटे लक्ष्मण एवं श्री राम तत्काल वहां पहुंचकर मेघनाथ को परास्त करके बांध लेते हैं , और लक्ष्मण मेघनाथ को मृत्युदंड देना चाहते हैं |*


*तभी श्रीराम ने कहा कि :- हे भैया लक्ष्मण ! दंड देने का अधिकार राजा को होता है अतः इसे पिताश्री के पास ले चलो वहीं इसका निर्णय करेंगे | बंधन में बंधे मेघनाद को राम लक्ष्मण राज्यसभा में ले जाते है |*

*दशरथ जी ने सारा वृत्तांत सुनकर कहा कि :-- हे राम ! हे लक्ष्मण !! यद्यपि इसने चोरी करने का प्रयास तो किया है परंतु इसका उद्देश्य अपने पिता को संतुष्ट करना था अतः पितृभक्त बालक को मुक्त कर देना ही न्याय संगत है इसलिए इसे बंधन मुक्त करके जाने दो |श्रीराम ने मेघनाद को बन्धनमुक्त करने का वचन अपने पिता महाराज दशरथ को दे दिया |*


*लक्ष्मण मेघनाथ को छोड़ना नहीं चाहते थे परंतु श्री राम की आज्ञा पाकर लक्ष्मण जी ने मेघनाथ को मुक्त कर दिया क्योंकि लक्ष्मण जी का मुख्य उद्देश्य श्री राम की आज्ञा का पालन करना था |*


*जब मेघनाद ने लक्ष्मण जी को शक्तिवाण से मूर्छित कर दिया तो इसी वचन को याद करके श्रीराम विलाप करते हैं कि :---*


*जौ जनतेऊं वन बन्धु विछोहू !*

*पिता वचन मनतेऊं नहिं ओहू !!*


*अर्थात :- जब मैं यह जानता कि इसी मेघनाद के द्वारा हमें लक्ष्मण का विछोह सहना पड़ेगा तो मैं बाल्यकाल में लक्ष्मण द्वारा बाँधे गये मेघनाद को मुक्त कर देने का पिता जी का आदेश कदापि न मानता |*


*इस प्रकार लक्ष्मण जी बाल्यकाल से ही इतने बली एवं साहसी थे कि इन्द्र को भी परास्त कर देने वाले इन्द्रजीत को बाल्यकाल में ही परास्त कर दिया था |*


*शेष अगले भाग में*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण भाग - ६ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अप्रैल 2020
मरकज़ की घटना पर जनाब असग़र वज़ाहत साहेब के विचारधर्म का मर्म- असग़र वज़ाहतदिल्ली में निजामुद्दीन इलाके के मरकज़ में जो घटना घटी उसने बहुत से सवाल खड़े कर दिए हैं। सबसे पहली बात यह की बिना प्रशासन को विश्वास में लिए इतने लोगों का जमा करना और वह भी इस माहौल में जमा करना कितना उचित है और कितना नहीं । दूसरी
01 अप्रैल 2020
20 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १०* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को गोस्वामी तुलसीदास जी ने *चातक* कहा है और गोस्वामी जी का यह चतुर *चातक* देखना हो को *दोहावली* में देखा जा सक
20 अप्रैल 2020
07 अप्रैल 2020
*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है |
07 अप्रैल 2020
30 मार्च 2020
*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है
30 मार्च 2020
18 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*रामायण में *लक्ष्मण जी* का चरित्र बहुत ही सूक्ष्म दर्शाया गया है | यह भी सच है कि जितना महत
18 अप्रैल 2020
14 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी भगवान श्री राम को पूर्णता प्रदान करते हैं , यदि लक्ष्मण ना होते तो शायद भगवान श्री राम एवं भगवती सीता का मि
14 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी ने जो आधारशिला रखी उसी पर चलकर श्री राम ने विशाल शिव धनुष का खंडन करके सीता जी द्वारा जयमाला ग्रहण की | जन
16 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी ने जो आधारशिला रखी उसी पर चलकर श्री राम ने विशाल शिव धनुष का खंडन करके सीता जी द्वारा जयमाला ग्रहण की | जन
16 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
*परमपिता परमात्मा द्वारा बनाई गई इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियाँ भ्रमण करती हैं , इन चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ कही गई है मानवयोनि | अनेक जन्मों की संचित पुण्य जब उदय होते हैं तो जीव को मनुष्य का जीवन मिलता है | गोस्वामी तुलसीदास जी मनुष्य जीवन को दुर्लभ बताते हुए अपने मानस में लिखते हैं :-
16 अप्रैल 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
08 अप्रैल 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना | मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने कई साधन बताए हैं | कोई भक्ति करके मोक्ष प्राप्त करना चाहता है तो कोई ज्ञानवान बन करके सत्संग के माध्यम से इस मार्ग को चुनता है , और कई मनुष्य बैराग्य धारण करके मोक्ष की कामना कर
08 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**महाराज जनक की सभा में लक्ष्मण जी एवं परशुराम जी का घनघोर वाकयुद्ध हुआ | परशुराम जी इतने ज्यादा क्रोध में थे कि लक्ष्मण जी क
16 अप्रैल 2020
13 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी के बिना श्री राम जी का चरित्र अधूरा है | भगवान श्रीराम यदि पूर्ण परमात्मा है तो उनको पूर्णत्व प्रदान करते ही श्र
13 अप्रैल 2020
10 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*सनातन धर्म में रामायण महाभारत दो महान ग्रंथ है , जहां महाभारत कुछ पाने के लिए युद्ध की घोषणा करता है वही रामायण त्याग का आदर्श प्रस्तुत करती है | मनुष्य का आदर्श क्या होता है ? मर
10 अप्रैल 2020
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x