लक्ष्मण भाग - ६ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 अप्रैल 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (364 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण भाग - ६ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ६* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


*श्री लक्ष्मण जी ने जो आधारशिला रखी उसी पर चलकर श्री राम ने विशाल शिव धनुष का खंडन करके सीता जी द्वारा जयमाला ग्रहण की | जनकपुर वासियों में अपार प्रसन्नता फैल गई , महाराज जनक एवं महारानी सुनैना का जीवन धन्य हो गया | दुष्ट राजाओं को छोड़कर शेष सभी प्रसन्न होकर पुष्प वर्षा कर रहे थे | परंतु अभी प्रसन्नता भी ढंग से प्रसन्न नहीं हो पाई थी कि धनुषभंग की कर्कश आवाज सुनकर महेन्द्र पर्वत से नारायण के आवेशावतार भगवान श्री परशुराम जी जनक सभा में आकर खण्डित शिव धनुष को देखा और क्रोधित होकर अपराधी को खोजने लगे |*


*भगवान श्रीराम ने मीठे वचनों में उनसे कहा कि :-- हे भगवन ! शिव धनुष को भंग करने का दुष्कर कार्य करने वाला कोई आपका दास ही होगा , क्योंकि किसी दूसरे में इतना सामर्थ्य हो ही नहीं सकता | क्रोध में भरे हुये भगवान परशुराम राम को डांटते हुए कहा कि :-;हे राम ! इस भरी सभा में मेरे प्रश्न का उत्तर तुम ही दे रहे हो इसका अर्थ यह हुआ कि तुम्हीं अपराधी हो और तुमने ही शिव धनुष को भंग करने का अपराध किया है | अतः तुम सावधान हो जाओ |*


*अभी तक तो लक्ष्मण जी चुप रहे परंतु जैसे ही परशुराम जी मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के ऊपर आक्रामक हुए उसी समय लक्ष्मण जी का भगवान श्री राम के प्रति सेवा भाव जागृत हो गया | सेवक का अपने स्वामी (आराध्य) के प्रति कैसा भाव होना चाहिए यह गोस्वामी बाबा बताते हुए मानस में लिखते हैं कि अपने आराध्य की निंदा कभी नहीं सुनी चाहिए |*


*हरि हर निंदा सुनइ जो काना !*

*होइ पाप गोघात समाना !!*

*काटिअ तासु जीभ जो वसाई !*

*कान मूंदि न त चलइ पराई !!*


*अर्थात :-- अपने आराध्य , श्री हरि नारायण विष्णु एवं भगवान शंकर की निंदा सुन कर के भी जो विरोध नहीं करता है उसे गौ हत्या के समान पाप लगता है | गोस्वामी बाबा ने तो यहां तक लिख दिया है कि यदि अपना बस चले तो निंदा करने वाली की जिह्वा काट लेनी चाहिए और यदि निंदा करने वाला बलवान है और स्वयं मैं उसका विरोध करने की शक्ति ना हो तो अपने कानों को बंद करके वहां से हट जाना चाहिए |*


*जनक जी की सभा में लक्ष्मण जी अपने भैया राम को चोर कहे जाने पर क्रोधित हो गए क्योंकि अपने स्वामी की निंदा सुनना गौ हत्या के बराबर पाप है यही भाव मन में जागृत होते ही लक्ष्मण जी परशुराम जी से कहने लगे !: हे ब्राह्मण देवता ! आपका नियम तो बड़ा अच्छा है ! हमारे भैया ने मीठे मीठे वचनों में आपसे कुछ कह दिया तो आपने उनको चोर ठहरा दिया ? एक पुराने शिव धनुष को खंडित देख कर के आपको इतना क्रोध क्यों हो रहा है ? जबकि आप तो जानते हैं कि मैंने आपके ही समक्ष बचपन में बहुत ही धनुहियां तोड़ डाली थी तब तो आपने इतना क्रोध कभी नहीं किया ? इस धनुष में विशेष क्या है ?*


*विचार करने लायक बात है कि जब से लक्ष्मण जी का जन्म हुआ तब से लेकर जनकपुर तक कहीं कोई ऐसी घटना ऐसा विवरण नहीं मिलता जहां परशुराम जी से और लक्ष्मण जी से संपर्क हुआ हो | तो लक्ष्मण जी परशुराम जी से ऐसा क्यों कहते हैं कि बचपन में आपके समक्ष बहुत धनुहिया तोड़ी है | इस विषय पर अनेकानेक ग्रंथों का अध्ययन करने के बाद एक कथानक प्राप्त होता है कि :--*


*जिस समय परशुराम जी क्षत्रियों का वध कर रहे थे तो उनके अस्त्र-शस्त्र खड्ग , गदा , तलवार , धनुष -;बाण इत्यादि अपने आश्रम में इकट्ठा करते जाते थे | अस्त्र शस्त्रों का भार पृथ्वी मैया को असह्य होने लगा ! तब उन्होंने एक ब्राह्मणी का वेश बनाया और शेषनाग जी को पांच वर्षीय पुत्र बनाकर के परशुराम जी के आश्रम में आश्रय लेने के लिए पहुंच गईं | ब्राह्मणी को निराश्रित देखकर के आश्रम की सेवा में परशुराम जी ने उसको आश्रम में आश्रय दे दिया | पाँच वर्षीय बालक बने शेषनाग जी ने उसी आश्रम में रहते हुए एक-एक करके सभी अस्त्र शस्त्रों को नष्ट किया | परशुराम जी को जब इसका पता लगा तो उन्होंने कहा कि तुम कौन हो ? क्योंकि पांच वर्षीय साधारण बालक इतने विशाल अस्त्र शस्त्रों का विनाश नहीं कर सकता | तब पृथ्वी मैया एवं शेषनाग जी अपनी स्वरूप में आकर उनको दर्शन देते हैं | परशुराम जी ने पृथ्वी मैया को प्रणाम करके उनके ऊपर भार बढ़ाने के लिए क्षमा मांगी और शेषनाथ जी को इन अस्त्र शस्त्रों को नष्ट करने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया |*


*आज शेषनाग जी लक्ष्मण जी के अवतार में परशुराम जी के समक्ष खड़े होकर उसी घटना की याद दिलाते हुए इशारा करते हैं कि हे परशुराम जी पहचानो मैं कौन हूं ? परंतु परशुराम जी लक्ष्मण को पहचान नहीं पाते क्योंकि उस समय वह अपार क्रोध में थे | क्रोध मनुष्य को अंधा कर देता है , जिस समय मनुष्य क्रोध के वशीभूत होता है उसकी सोचने समझने की शक्ति विलुप्त हो जाती है |*


*आज जनक की सभा में उसी क्रोध के वशीभूत होकर के परशुराम जी नारायणावतार भगवान श्री राम एवं शेषावतार लक्ष्मण जी को नहीं पहचान पा रहे इसीलिए क्रोध को घातक कहां गया है |*


*शेष अगले भाग में*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण भाग - ९ :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १०* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को गोस्वामी तुलसीदास जी ने *चातक* कहा है और गोस्वामी जी का यह चतुर *चातक* देखना हो को *दोहावली* में देखा जा सक
20 अप्रैल 2020
20 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १०* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को गोस्वामी तुलसीदास जी ने *चातक* कहा है और गोस्वामी जी का यह चतुर *चातक* देखना हो को *दोहावली* में देखा जा सक
20 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण की जन्म से ही भगवान श्रीराम से बहुत प्रेम करते थे | लक्ष्मण जी के माता , पिता , गु
11 अप्रैल 2020
10 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*सनातन धर्म में रामायण महाभारत दो महान ग्रंथ है , जहां महाभारत कुछ पाने के लिए युद्ध की घोषणा करता है वही रामायण त्याग का आदर्श प्रस्तुत करती है | मनुष्य का आदर्श क्या होता है ? मर
10 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
*इस पृथ्वी पर अनेकों छोटे बड़े जीव हैं सबका अपना - अपना महत्त्व है | इन जीवों के अतिरिक्त अनेक जीवाणु एवं विषाणु भी पृथ्वीमण्डल में भ्रमण किया करते हैं जो कि मवुष्य जैसे बलवान प्राणी के लिए घातक सिद्ध होते रहे हैं | हाथी से लेकर चींटी तक कोई भी महत्वहीन नहीं है , पृथ्वी का सबसे विशलकाय प्राणी हाथी ज
11 अप्रैल 2020
13 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी के बिना श्री राम जी का चरित्र अधूरा है | भगवान श्रीराम यदि पूर्ण परमात्मा है तो उनको पूर्णत्व प्रदान करते ही श्र
13 अप्रैल 2020
12 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**हम लक्ष्मण जी के जीवन के रहस्यों को उजागर करने का प्रयास करते हुए उनकी विशेषताओं पर चर्चा कर रहे हैं :---**लक्ष्मण जी बचपन
12 अप्रैल 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
24 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* अपनी मैया सुमित्रा के सामने खड़े होकर उनके अमृतमयी वचनों को सुन रहे हैं | त्याग की प्रत्यक्ष मूर्ति मैया सुमित्
24 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
*परमपिता परमात्मा द्वारा बनाई गई इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियाँ भ्रमण करती हैं , इन चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ कही गई है मानवयोनि | अनेक जन्मों की संचित पुण्य जब उदय होते हैं तो जीव को मनुष्य का जीवन मिलता है | गोस्वामी तुलसीदास जी मनुष्य जीवन को दुर्लभ बताते हुए अपने मानस में लिखते हैं :-
16 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**महाराज जनक की सभा में लक्ष्मण जी एवं परशुराम जी का घनघोर वाकयुद्ध हुआ | परशुराम जी इतने ज्यादा क्रोध में थे कि लक्ष्मण जी क
16 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**महाराज जनक की सभा में लक्ष्मण जी एवं परशुराम जी का घनघोर वाकयुद्ध हुआ | परशुराम जी इतने ज्यादा क्रोध में थे कि लक्ष्मण जी क
16 अप्रैल 2020
24 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* अपनी माता सुमित्रा से विदा लेकर प्रभु श्रीराम के पास प्रमुदित मन से पहुंच गये | *गये लखन जहं जानकिनाथू !**भे मन
24 अप्रैल 2020
08 अप्रैल 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना | मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने कई साधन बताए हैं | कोई भक्ति करके मोक्ष प्राप्त करना चाहता है तो कोई ज्ञानवान बन करके सत्संग के माध्यम से इस मार्ग को चुनता है , और कई मनुष्य बैराग्य धारण करके मोक्ष की कामना कर
08 अप्रैल 2020
16 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**महाराज जनक की सभा में लक्ष्मण जी एवं परशुराम जी का घनघोर वाकयुद्ध हुआ | परशुराम जी इतने ज्यादा क्रोध में थे कि लक्ष्मण जी क
16 अप्रैल 2020
13 अप्रैल 2020
*इस धरा धाम पर मानव समाज का एक दिव्य इतिहास रहा है | मनुष्य ने संगठित होकर ऐसे ऐसे कार्य किए हैं जिसकी जितनी बड़ाई की जाए उतना ही कम है | मनुष्य का सबसे बड़ा बल होता है इसका आपस में संगठित होना , संगठित होकर के मनुष्य ने बड़े से बड़े संकटों का सामना भी बड़ी सरलता से किया है | आज तक का इतिहास देखा जा
13 अप्रैल 2020
14 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी भगवान श्री राम को पूर्णता प्रदान करते हैं , यदि लक्ष्मण ना होते तो शायद भगवान श्री राम एवं भगवती सीता का मि
14 अप्रैल 2020
21 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ११* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को यदि गोस्वामी जी *चातक* कहकर यह प्रतिपादित करते हैं कि लक्ष्मण कि ऐसे *चातक* हैं जो श्री राम रूपी स्वाति नक्
21 अप्रैल 2020
14 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**श्री लक्ष्मण जी भगवान श्री राम को पूर्णता प्रदान करते हैं , यदि लक्ष्मण ना होते तो शायद भगवान श्री राम एवं भगवती सीता का मि
14 अप्रैल 2020
18 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*रामायण में *लक्ष्मण जी* का चरित्र बहुत ही सूक्ष्म दर्शाया गया है | यह भी सच है कि जितना महत
18 अप्रैल 2020
18 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*रामायण में *लक्ष्मण जी* का चरित्र बहुत ही सूक्ष्म दर्शाया गया है | यह भी सच है कि जितना महत
18 अप्रैल 2020
11 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण की जन्म से ही भगवान श्रीराम से बहुत प्रेम करते थे | लक्ष्मण जी के माता , पिता , गु
11 अप्रैल 2020
08 अप्रैल 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है मोक्ष प्राप्त करना | मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने कई साधन बताए हैं | कोई भक्ति करके मोक्ष प्राप्त करना चाहता है तो कोई ज्ञानवान बन करके सत्संग के माध्यम से इस मार्ग को चुनता है , और कई मनुष्य बैराग्य धारण करके मोक्ष की कामना कर
08 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x