करारा जवाब

02 मई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (335 बार पढ़ा जा चुका है)

करारा जवाब


शीला देखने में काफी सुंदर है, बड़ी बड़ी आंखे, घुंघराले बाल और दूध सी दमकती त्वचा और साथ गुणवंती भी थी, उसके ससुर को वो देखते ही भा गई तो उसने अपनी बेटे मनोज का रिश्ता उसके साथ तय कर दिया, मनोज टॉप के कॉलेज से पढ़ा लिखा था और सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करना पसंद करता था, तो वही शीला संस्कृत में एम ए पास थी वो भी अपने कॉलेज में टॉप की थी। चाहे तो किसी कॉलेज या स्कूल में पढ़ा सकती थी लेकिन शादी के एक साल बाद ही वो दो जुड़वा बच्चों की मां बन गई, हालांकी उसे जो देखता देखता ही रह जाता लेकिन जब भी मनोज के दोस्त उसे अपनी पत्नी से मिलवाने को कहते तो वो टाल जाता उसे लगता यदि उन्होंने उसकी बीवी से हाउ आर यू भी पूछ लिया तो वो ठीक से उस बात जवाब दे पाएगी या नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं थी। यहां तक की सोशल मीडिया पर भी वो उसकी तस्वीर नहीं डालता था सिर्फ अपने बच्चों की तस्वीर लगा रखी थी, शीला को भी ताने मारने से बाज नहीं आता कि वो उसके सर्कल में उठने बैठने लायक नहीं है। वो बेचारी चुपचाप सुनती जाती सुबह 5 बजे उठकर टिफ़िन बनाने से रात 10 बजे तक वो काफी व्यस्त रहती थी।

मनोज की शादी को 15 साल हो चुके थे वो 45 साल का था, मनोज भी सांवले रंग का आकर्षक व्यक्ति था उसके बाल थोड़े थोड़े सफ़ेद होने लगे थे जिन्हें वो डाय से काला किया करता था साथ ही सुबह उठकर जिम भी जाया करता था वो बमुश्किल 35 साल का लगता था। जैसे जैसे उसका पद बढ़ता गया गुरूर भी बढ़ा साथ ही मिज़ाज भी रंगीन हो चला था, उसके इसी रवैये से परेशान लड़कियों ने कभी बुखार का बहाना बनाकर तो कभी किसी और शहर में शिफ्ट होने का बहाना बनाकर उसकी कंपनी से किनारा कर लिया, तो कुछ लड़कियां जिनकी जीवन में कोई ना कोई मजबूरी रहती थी वो उन्हें अपनी मीठी मीठी बातों के जाल में फंसा लेता तो कभी प्रमोशन का लालच दिखाता, इस तरह से दोहरी ज़िंदगी जीने लगा। एक घर में और एक बाहर कई लड़कियां उसकी ज़िंदगी में आई और गई। ऑफिस के अन्य कर्मचारियों को भी उसका ये रवैया खलता था वो सोचते थे कोई तो इसे आईना दिखाए, लेकिन डर की वजह से चुप रहते थे।

एक दिन एक लड़की ऑफिस में आई, उम्र करीब 22 साल छरहरी काया गेहुंआ रंग, किसी ब्यूटी क्वीन से कम नहीं थी वो, मनोज उस पर भी डोरे डालने से बाज नहीं आया। क्योंकि वो काफी मार्डन विचारों वाली और बिंदास लड़की थी तो उसे मनोज की फ़ितरत का पता नहीं लगा, मनोज से उसे कॉफी पीने का ऑफर दिया जो उसने स्वीकार कर लिया लेकिन महज एक दोस्त की तरह, अगले दिन उस लड़की ने ऑफिस के वाट्स अप ग्रुप में तस्वीर डाली, कैप्शन दिया सर के साथ कॉफी का आनंद लिया हालांकि इस बार मनोज ने कोई गलत कदम नहीं उठाया था लेकिन ऑफिस के कुछ लोगों को मौका मिल गया उन्होंने मनोज की पत्नी को ढूंढ निकाला और उसकी वो तस्वीर फेसबुक मैसेंजर में डाल दी, फिर क्या था मनोज की पत्नी आग बबूला होकर ऑफिस पहुंची और मनोज को कोने में बुलाकर झगड़ा करने लगी। हालांकि इस बार उसने कुछ गलत नहीं किया लेकिन वो शक के दायरे में आ गया, उसने सोचा कि उस लड़की को बुलाकर बात क्लीयर कर ली जाए जैसे ही वो बॉस के केबिन में पहुंचा तो पता चला कि वो उनके बड़े भाई की बेटी जो कुछ दिन काम सीखने आई थी और चली गई, मनोज के पैरो के नीचे की ज़मीन खिसक गई और उसने चुप रहना ही मुनासिब समझा। ताकि बात का बतगंड ना बनें और उसकी पुरानी हरकतों की पोल ना खुल जाए।

मनोज की बीवी जा चुकी थी, अगले दिन जब मनोज ऑफिस के लिए निकला तो उसकी बीवी जो हमेशा ताजा खाना पैक करके दिया करती थी ने कहा आज मेरी तबीयत खराब है इसलिए कल की पनीर की सब्जी और रोटी गर्म करके टिफिन में रख दी है, आज उसके अंदर की देवी जागृत हो चुकी गई इसलिए मनोज उसका बहाना समझ गया और चुपचाप ऑफिस की तरफ चल दिया जब लंच के वक्त उसने टिफ़िन खोला तब सब कहने लगे आपकी पत्नी कितनी अच्छी है जो रोज पनीर की सब्जी देती है कल भी दी और आज भी फिर वहीं बनाई है हम भी खाएंगे।

मनोज के पास झूठी मुस्कान देने के सिवाए कोई चारा नहीं था, आज उसे वो करारा जवाब मिला जो उसे वैवाहिक जीवन में एक बार भी नहीं मिला था।


नोट- यह कथा पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति व्यक्ति, घटना या स्थान से कोई संबध नहीं है। सर्वाधिकार सुरक्षित


इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके भी पढ़ सकते है

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post.html

करारा जवाब



https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post.html

करारा जवाब

अगला लेख: प्रेम का आखिरी पड़ाव



पढ़िए नया आर्टिकल "तीन राज्यों में कोरोना की कमान संभाल रहा एक परिवार "
इसको लेकर अपनी प्रतिक्रिया दे और अच्छा लगे तो अपने व्हाट्सप और फेसबुक ग्रुप में शेयर अवश्य करे
फ़कीर मोहम्मद फालना, 9414191786
https://hindiskosh.blogspot.com/2020/05/Corona-Warriors.html

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
05 मई 2020
“खाओ मेरी कसम ना शराब को हाथ लगाओगे ना किसी लड़की के चक्कर में पड़ोगे जब तक तुम्हारी पढ़ाई पूरी ना होगी और मुझसे कुछ भी ना छिपाओगे” अपूर्व को बार बार अपनी मां की सौगंध याद आ रही थी, जब वो नाशिक से पुणे पहुंचा था इकोनॉमिक्स की पढ़ाई करने, ग
05 मई 2020
06 मई 2020
गोयल साब ने मुंडी घुमाकर केबिन के शीशे से बैंकिंग हाल में नज़र मारी. तीनों कैशियर बिज़ी थे. बाकी सीटों पर भी दो चार लोग खड़े थे. एक सम्मानित ग्राहक ऑफिसर से गुथमगुत्था हो रहा था पर अभी बीच बचाव का समय नहीं आया था. कुल मिला कर चहल पहल थी अर्थात ब्रांच नार्मल थी. इन्क्वायरी सी
06 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
05 मई 2020
“खाओ मेरी कसम ना शराब को हाथ लगाओगे ना किसी लड़की के चक्कर में पड़ोगे जब तक तुम्हारी पढ़ाई पूरी ना होगी और मुझसे कुछ भी ना छिपाओगे” अपूर्व को बार बार अपनी मां की सौगंध याद आ रही थी, जब वो नाशिक से पुणे पहुंचा था इकोनॉमिक्स की पढ़ाई करने, ग
05 मई 2020
03 मई 2020
माधव और अजीत नाम केदो भाई अर्जुननगर नाम के गांव में रहते थे। दोनों भाईयों में काफी प्यार था वोदोनों गेंहू का व्यापार किया करते थे, उनके खेतों में उगाया गया गेंहू दूर दूर तकमशहूर था लेकिन अभी भी वो दोनों मध्यवर्गीय स्थिती में ही थे और सोचा करते थे किखेतों में दिन रात पसीना
03 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
30 अप्रैल 2020
प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हाल
30 अप्रैल 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
02 मई 2020
डा
शाम कोविद्यालय से घर वापिस आते ही श्रीमती जी का आदेश हुआ की कुछ जरुरी सामान लानाहै...भागते हुए बाजार गया...वापिस आते-आते रात्रि के आठ बज चुके थे...आते ही भोजनपर टूट पड़ा....अभी प्रथम निवाला ही मुंह को गया था की फोन घनघना उठा...निवालागटकते-गटकते जेब में हाथ डाला और मोबा
02 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
30 अप्रैल 2020
प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हाल
30 अप्रैल 2020
03 मई 2020
माधव और अजीत नाम केदो भाई अर्जुननगर नाम के गांव में रहते थे। दोनों भाईयों में काफी प्यार था वोदोनों गेंहू का व्यापार किया करते थे, उनके खेतों में उगाया गया गेंहू दूर दूर तकमशहूर था लेकिन अभी भी वो दोनों मध्यवर्गीय स्थिती में ही थे और सोचा करते थे किखेतों में दिन रात पसीना
03 मई 2020
14 मई 2020
डा
डा0 नन्द किशोर नवल जी की यादेंविजय कुमार तिवारीपरमादरणीय मित्र,प्रख्यात आलोचक और साहित्यकार डा.नन्द किशोर नवल जी नहीं रहे।मेरा तबादला धनबाद से पटना हुआ था।9अप्रैल 1984 की शाम में बी,एम.दास रोड स्थित मैत्री-शान्ति भवन में प्रगतिशील लेखक संघ की ओर से"राहुल सांकृत्यायन-जयन्ती"का आयोजन था।भाई अरुण कमल,ड
14 मई 2020
15 मई 2020
★★★★★देवाधिदेव ★★★★★"परम पुरुष" के बाहर कुछ भी नहीं।वे हीं देव हैं जो ब्रह्माण्डीय कार्यकीके कारण हैं। ब्रह्म रंध्र वा विश्व नाभिसे उत्सर्जित अभिव्यक्त महापँचभूत तरंगें हीं देवता हैं जो देव स्वरूपपरम पुरुष की सृष्टि नियंत्रित करते हैं।यहीं महाशक्ति ब्रह्माण्ड के अनवरतताण्डव का कारण है जिसक
15 मई 2020
27 अप्रैल 2020
हमारी शादी की सैंतीसवीं वर्षगांठविजय कुमार तिवारीआज 27 अप्रैल को हम अपनी शादी की सैंतीसवीं वर्षगांठ मना रहे हैं और सम्पूर्ण मानवता को बताना चाहते हैं कि परमात्मा के आशीर्वाद से,विगत सैंतीस वर्षों से चला आ रहा हमारा अटूट सम्बन्ध पूर्णतः उर्जावान और मधुर प्रेम से भरा हुआ है।आप सभी सुहृदजनों,सखा-सम्बन
27 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x