पुराने खंडहर का सच

03 मई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (2584 बार पढ़ा जा चुका है)

पुराने खंडहर का सच

माधव और अजीत नाम के दो भाई अर्जुननगर नाम के गांव में रहते थे। दोनों भाईयों में काफी प्यार था वो दोनों गेंहू का व्यापार किया करते थे, उनके खेतों में उगाया गया गेंहू दूर दूर तक मशहूर था लेकिन अभी भी वो दोनों मध्यवर्गीय स्थिती में ही थे और सोचा करते थे कि खेतों में दिन रात पसीना बहाने के बावजूद भी उनको वो परिणाम नहीं मिल पा रहा जो कि वो चाहते है, माधव की दो बेटियां थी और अजीत के तीन बेटे थे, उन्हें रात और दिन अपने बेटों की उच्चशिक्षा और बेटियों के शादी में होने वाले खर्चे की चिंता सताने लगी। एक दिन उन्होंने इस बारे में चर्चा भी की, तब माधव ने अजीत को अचानक याद दिलाया कि उनके पिता ने मरने से पहले शहर के दूरदराज इलाके में 5 एकड़ संतरे का बगीचा ले रखा था। तब अजीत ने कहा उनके पैसे लगभग डूबे हुए से ही थे क्योंकि वहां पर एक खंडहर था, लोग कहते थे कि वहां पर करीब 50 साल पहले एक प्रेमी जोड़ी की किसी ने हत्या कर दी थी और लोगों को लगता है कि वहां आज भी उनकी रुह भटकती है। तो वहां कोई भी मजदूर जाने को तैयार ना था जिससे की संतरे का बगीचा लगाया जा सके। तब माधव ने भी उसकी बातों पर विश्वास कर लिया क्योंकि अजीत ही उसके पिता के साथ वो ज़मीन खरीदने गया था। इस बात को पूरे 30 साल हो चुके थे।

तब मामला शांत हो गया लेकिन जैसे ही आर्थिक दिक्कतें बढ़ने लगी तब माधव को लगा कि किसी तरह अगर वो संतरे के बगीचे वाली ज़मीन बेच दी जाए तो कुछ समाधान मिल सकता है लेकिन फिर से अजीत ने माधव को अपनी बातों से विश्वास में ले लिया कि अब उस जगह के बारे में सोच कर कोई फ़ायदा नहीं है।

अजीत के तीनों बेटे महानगर में काफी मंहगे कॉलेज में पढ़ रहे थे, ऐसे में मधाव के मन में यह सवाल आया कि अजीत ने इसकी जुगाड़ कैसे लगा ली तब माधव ने कहा कि तीनों स्कॉलरशिप पर पढ़ रहे है, माधव के मन में बात थोड़ी खटकी ज़रुर पर उसने सोचा कि अपने भाई की बातों पर अविश्वास करना तो पाप समान है।

एक दिन माधव का कुछ ज़रुरी काम से अपने ससुराल जाना हुआ इसके लिए उसने गांव से बस और फिर एक शहर से दूसरे शहर के लिए ट्रेन पकड़ी तब देखा कि सामने वाली बर्थ पर कुछ लड़के बैठे हुए थे, तब उनसे माधव का परिचय हुआ माधव ने अपने खेत के आम निकालकर उन्हें खाने के लिए दिए, वो लड़के माधव से कुछ देर में घुल मिल गए तब पता चला कि वो तो अजीत के बच्चों के साथ पढ़ते है, तब उसने कहा क्या तुम भी स्कॉलरशिप पर पढ़ रहे हो तब उन्होंने जब दिया कि उस कॉलज में ऐसी कोई भी व्यवस्था नहीं है और फ़ीस भी काफी ज्यादा है, बातों ही बातों में उन लड़को ने अजीत के पिता की तारीफ़ कर डाली कहा कि आप दोनों ने कितना त्याग किया है ख़ासकर आपने अपने पिता की शहर की महंगी ज़मीन बेचकर उनके तीनों बेटों की पढ़ाई में लगा दी वो तीनों लड़के अपने पिता और आपकी काफी तारीफ़ करते है तब माधव को काफी ठगा हुआ सा महसूस हुआ और वो सोचने लगा कि क्या तारीफ़ ही काफी है? क्या वो खंडहर में प्रेमी जोड़ें की भटकती आत्मा और स्कॉलरशिप वाली बात झूठ है? मुझसे तो किसी ने सलाह मशविरा तक नहीं किया मेरा अपना कोई स्वार्थ नहीं लेकिन मुझे भी तो अपनी बेटियों की शादी के धन जुटाना है, लटके हुए मुंह के साथ माधव अपने ससुराल पहुंचा और अपने साले को सारी बात बता दी, तब उनके साले ने अजीत से कहा कि आप भी अपने भाई के प्रेम में अंधे हो बैठे कभी सच जानने की कोशिश तो की होती लेकिन अब पछताने से क्या होगा अगर आप लड़ाई झगड़ा करेंगे तो बचा खुचा सम्मान भी खो बैठेंगे। हो सकता है कि उसने धोखे से आपके पिता से ज़मीन अपने नाम करवा ली हो और कोर्ट कचहरी के चक्कर में आपका पैसा खर्च होगा वो अलग। तब माधव सोचने लगा सच ही तो है अब पछाताने से क्या फ़ायदा जब चिड़िया चुग गई खेत।

शिल्पा रोंघे


आप इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर जाकर भी पढ़ सकते हैं सर्वाधिकार सुरक्षित

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post_2.html

पुराने खंडहर का सच

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post_2.html

पुराने खंडहर का सच

अगला लेख: प्रेम का आखिरी पड़ाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मई 2020
डा
डा0 नन्द किशोर नवल जी की यादेंविजय कुमार तिवारीपरमादरणीय मित्र,प्रख्यात आलोचक और साहित्यकार डा.नन्द किशोर नवल जी नहीं रहे।मेरा तबादला धनबाद से पटना हुआ था।9अप्रैल 1984 की शाम में बी,एम.दास रोड स्थित मैत्री-शान्ति भवन में प्रगतिशील लेखक संघ की ओर से"राहुल सांकृत्यायन-जयन्ती"का आयोजन था।भाई अरुण कमल,ड
14 मई 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
17 मई 2020
अपने स्टील के डब्बेमें रखे कुछ गुलाब जामुन में से एक को निकालकर प्रीति ने अनिमेष के हाथ मेंजबर्दस्ती थमा दिया। उसके बाद अपने दो साल के बच्चें को खिलाने के बाद अपने पति केजबरन मुंह में ठूंस दिया। ऐसी मिठाई खाकर भी ख़ुश नहीं महसूस कर रहा था अ
17 मई 2020
27 अप्रैल 2020
हमारी शादी की सैंतीसवीं वर्षगांठविजय कुमार तिवारीआज 27 अप्रैल को हम अपनी शादी की सैंतीसवीं वर्षगांठ मना रहे हैं और सम्पूर्ण मानवता को बताना चाहते हैं कि परमात्मा के आशीर्वाद से,विगत सैंतीस वर्षों से चला आ रहा हमारा अटूट सम्बन्ध पूर्णतः उर्जावान और मधुर प्रेम से भरा हुआ है।आप सभी सुहृदजनों,सखा-सम्बन
27 अप्रैल 2020
02 मई 2020
डा
शाम कोविद्यालय से घर वापिस आते ही श्रीमती जी का आदेश हुआ की कुछ जरुरी सामान लानाहै...भागते हुए बाजार गया...वापिस आते-आते रात्रि के आठ बज चुके थे...आते ही भोजनपर टूट पड़ा....अभी प्रथम निवाला ही मुंह को गया था की फोन घनघना उठा...निवालागटकते-गटकते जेब में हाथ डाला और मोबा
02 मई 2020
05 मई 2020
“खाओ मेरी कसम ना शराब को हाथ लगाओगे ना किसी लड़की के चक्कर में पड़ोगे जब तक तुम्हारी पढ़ाई पूरी ना होगी और मुझसे कुछ भी ना छिपाओगे” अपूर्व को बार बार अपनी मां की सौगंध याद आ रही थी, जब वो नाशिक से पुणे पहुंचा था इकोनॉमिक्स की पढ़ाई करने, ग
05 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
08 मई 2020
संगीता के विवाह को 6 साल हो चुके थे उसकी 4 साल की एकबेटी थी, वो फिर एक बार मां बनने वाली थी।उसने ये खबर सबसे पहले अपने पति को सुनाई फिर अपनी सासको, जैसे ही उसकी सास ने ये खबर फोन पर सुनी वो बेहद ख़ुश हुई, संगीता गर्मियों कीछुट्टियों में अपनी बेटी को लेकर अपने मायके जबलपुर
08 मई 2020
17 मई 2020
अपने स्टील के डब्बेमें रखे कुछ गुलाब जामुन में से एक को निकालकर प्रीति ने अनिमेष के हाथ मेंजबर्दस्ती थमा दिया। उसके बाद अपने दो साल के बच्चें को खिलाने के बाद अपने पति केजबरन मुंह में ठूंस दिया। ऐसी मिठाई खाकर भी ख़ुश नहीं महसूस कर रहा था अ
17 मई 2020
02 मई 2020
शीला देखने में काफी सुंदर है, बड़ी बड़ी आंखे,घुंघराले बाल और दूध सी दमकती त्वचा और साथ गुणवंती भी थी, उसके ससुर को वो देखतेही भा गई तो उसने अपनी बेटे मनोज का रिश्ता उसके साथ तय कर दिया, मनोज टॉप केकॉलेज से पढ़ा लिखा था और सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करना पसंद करता था, तो वहीशीला संस्कृत में एम ए पास थ
02 मई 2020
06 मई 2020
गोयल साब ने मुंडी घुमाकर केबिन के शीशे से बैंकिंग हाल में नज़र मारी. तीनों कैशियर बिज़ी थे. बाकी सीटों पर भी दो चार लोग खड़े थे. एक सम्मानित ग्राहक ऑफिसर से गुथमगुत्था हो रहा था पर अभी बीच बचाव का समय नहीं आया था. कुल मिला कर चहल पहल थी अर्थात ब्रांच नार्मल थी. इन्क्वायरी सी
06 मई 2020
30 अप्रैल 2020
प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हाल
30 अप्रैल 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
15 मई 2020
★★★★★देवाधिदेव ★★★★★"परम पुरुष" के बाहर कुछ भी नहीं।वे हीं देव हैं जो ब्रह्माण्डीय कार्यकीके कारण हैं। ब्रह्म रंध्र वा विश्व नाभिसे उत्सर्जित अभिव्यक्त महापँचभूत तरंगें हीं देवता हैं जो देव स्वरूपपरम पुरुष की सृष्टि नियंत्रित करते हैं।यहीं महाशक्ति ब्रह्माण्ड के अनवरतताण्डव का कारण है जिसक
15 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
12 मई 2020
संजीवनी का आज कॉलेजमें प्रथम वर्ष का फायनल एग्ज़ाम है, उसकापेपर सुबह 8 बजे है, लेकिन ये क्या वो तो 6.30 बजने के बाद भी उठी ही नहीं। उसकीमां ने आवाज़ देकर उसे जगाया कहा “बेटा तुम्हारा आज इम्तिहान है और तुम सो हीरही हो, रोज तो सुबह 4 बजे उठ
12 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x