Sketches from Life: हवा हवाई

06 मई 2020   |  हर्ष वर्धन जोग   (317 बार पढ़ा जा चुका है)

Sketches from Life: हवा हवाई

गोयल साब ने मुंडी घुमाकर केबिन के शीशे से बैंकिंग हाल में नज़र मारी. तीनों कैशियर बिज़ी थे. बाकी सीटों पर भी दो चार लोग खड़े थे. एक सम्मानित ग्राहक ऑफिसर से गुथमगुत्था हो रहा था पर अभी बीच बचाव का समय नहीं आया था. कुल मिला कर चहल पहल थी अर्थात ब्रांच नार्मल थी. इन्क्वायरी सीट पर देखा तो कोई सुन्दरी खड़ी कुछ पूछ रही थी. बढ़िया सी साड़ी, मंहगा सा पर्स और अंदाज़े-बयाँ देख कर लग रहा था की अंग्रेजी बोल रही होगी.

गोयल साब बैठे बैठे कसमसाए और बुदबुदाने लगे,
- हूँ! ये शर्मा कमबख्त ठीक से जवाब नहीं देगा. टरका देगा या उल्टा पुल्टा बोल देगा. फिर मुझे बीच बचाव करना पड़ेगा. ल्लो भेज दिया सुन्दरी को लोन सेक्शन में. अबे मेरे पास भेजता सुसरे.

गोयल साब का हाथ स्वत: ही पिछली जेब में चला गया और धीरे से उसमें से कंघी निकाली. सर पर फेर कर वापिस रख दी. वैसे तो सर पर बाल बचे ही नहीं थे पर एक कान से कालर तक और कालर से दूसरे कान तक छोटे छोटे बालों की एक झालर बची थी जिस पर काला रंग किया हुआ था. टाई की नॉट को भी दुरुस्त किया. देखने में तो स्मार्ट लगना ही चाहिए. तब तक सुन्दरी को लोन इंचार्ज वर्मा जी ने बिठा लिया. गोयल साब बुदबुदाए,
- शर्मा के बाद वर्मा! नहले पे दहला. बतियाता रहेगा पर काम ये भी नहीं करेगा. देखना अभी अंदर भेज देगा. कहाँ कहाँ से भरती हो गए बैंक में? देखा, इधर को इशारा कर दिया. आ जाओ आ जाओ सुन्दरी हम आपके हर सवाल का जवाब देंगे अच्छी तरह से. घंटी बजाई और कैंटीन बॉय को बोले - अरे दो गिलास पानी ले आ ताड़ा ताड़ी बाद में दो कप चाय भी ले आना! पानी और सुन्दरी दोनों एक साथ ही आ गए केबिन में.
- पहले मेमसाब को पानी दो भई लेडीज फर्स्ट!
- जी शुक्रिया, सुंदरी स्वीट सी मुस्कराहट लाकर बोली.
- हें हें हें! साब गदगद हो गए बोले,

- आदेश करें.
- लोन के बारे में पूछना था.
- क्यों नहीं. हम बैठे किसलिए हैं? पर पहले आप अपने बारे में बताइये.
- जी मैं उड़नखटोला एयरलाइन्स में काम .....
- ओहो मैं तो कई बार गया हूँ आपकी एयरलाइन्स से. कभी आपसे मुलाकात नहीं हुई? साब बीच में ही कूद पड़े.
- जी जनवरी में इस्तीफा दे दिया था.
- मैनेजमेंट ने आपको छोड़ दिया! कमाल है आपकी लुक्स आपकी पर्सनालिटी देखकर लगता है एयरलाइन्स घाटे में रहेगी. खैर और बताएं.
- अब प्लान बनाया है की लेदर गारमेंट्स एक्सपोर्ट करेंगे. सात लाख का किया भी है.
- वाह अच्छा प्लान है हमारा भरपूर सपोर्ट मिलेगा आपको? आप करेंट अकाउंट खोल दें और कल आपकी शॉप या वर्कशॉप जो भी है देख लेता हूँ फिर आगे की कारवाई कर लेंगे. लीजिये चाय लीजिये.
- मैं चाय बहुत कम पीती हूँ.
- हें हें हें! यूँ समझ लीजिये कि आज बहुत कम वाला दिन है! लीजिये लीजिये. मैं आपके ऑफिस आउंगा तो आप क्या पिलाएंगी?
- जो आप कहेंगे. एयरलाइन्स की तरह पूरा इंतज़ाम है पर छोटे स्केल पे.
- हें हें हें! गोयल साब ने मन ही मन कहा हवाई सुन्दरी का काम तो करना ही पड़ेगा. बोले, कल शाम की विज़िट ठीक रहेगी?

- जी मैं गाड़ी भेज दूंगी.

शाम की विज़िट भी बढ़िया रही. कुछ सामान तैयार हो रहा था, पैकिंग हो रही थी और आर्डर बुक में आर्डर भी थे. हवाई सुन्दरी गजब की होस्टेस थी. हर चीज़ तरीके से दिखाई गई, बात भी बड़े सलीके से की गई और हाई टी भी शानदार रही. वापस रवाना हुए तो पिछली सीट पर दो स्कॉच की बोतलें, भुने काजू का पैकेट और एक लेदर की जैकेट भी पैक पड़ी थी. साब मुस्कुराए,

- हें हें हें! चलो ड्राईवर.

अगले दिन वर्मा जी को बुलाया,

- वर्मा जी कल हवाई सुन्दरी का सेट-अप देख कर आया था सब ठीक है. कागज़ पूरे आ जाएँ तो लोन प्रपोज़ल बना देना. मैं ओके कर दूंगा.

- पर सर हवाई सुन्दरी को एक्सपोर्ट का अनुभव तो है नहीं?

- अरे वर्मा जी आपको लोन का अनुभव था जब बैंक में आए? काम तो आते आते ही आता है. दो चार बन्दे रख लेगी और क्या. एक बार हो आओ देख लो फिर अच्छी सी लिमिट बना देना. और महिला उद्यमी वाली स्टेटमेंट निल बटा निल जा रही है उस में रिपोर्ट कर देना. सुसरा हेड ऑफिस भी खुश हो जाएगा समझे. एक हमारी बीवी है जो ज़बान ही चला सकती है कोई बिज़नस नहीं चला सकती.

- सर अभी तो काम शुरू किया है हवाई सुन्दरी ने छोटा लोन कर देते हैं.

- यहीं तो हिन्दुस्तान मात खा रहा है वर्मा. ज़रा ब्रॉड विज़न रखो, दूर की सोचो ये हवाई सुन्दरी कल को करोड़ों में खेलेगी. देश को डॉलर कमा के देगी. हम और आप तो कलम घिसते रहेंगे.

- सर आप तो रिटायर हो जाओगे जनवरी में मेरी तो अभी सर्विस काफी है इसलिए ख़तरा लगता है.

- वर्मा आप बहुत तरक्की करोगे. बस अपना दिल बड़ा कर लो. फार्मूला बता रहा हूँ लिख लो. हवा का रुख पहचानने की कोशिश किया करो. एक जेब में चार्जशीट लेकर डालते रहो और दूसरी में प्रमोशन लैटर.

- अरे सर!

- अरे वरे छोड़ो और हवाई सुन्दरी को मिलकर आओ. फिर बात करेंगे.

पंद्रह दिन बाद लोन हो गया. जब तक साब रिटायर नहीं हुए खाता सही चलता रहा. पर रिटायरमेंट के कुछ समय बाद खाता लड़खड़ाने लगा और फिर बैठ गया. याने एन पी ए. वसूली की कारवाई जारी है हालांकि रफ़्तार ढीलम ढाल है.

विश्वस्त सूत्रों से पता लगा है गोयल साब और हवाई सुन्दरी हवा हवाई हो गए हैं और कुछ दिनों पहले लन्दन में देखे गए हैं.

Sketches from Life: हवा हवाई

http://jogharshwardhan.blogspot.com/2020/05/blog-post_4.html

Sketches from Life: हवा हवाई

अगला लेख: Sketches from Life: माचिस



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 मई 2020
कोरोना के कीटाणु तूने कहाँ लाके मारा रे!उधर लॉकडाउन की घोषणा हुई इधर हमारी सोसाइटी का मेन गेट भी बंद हो गया. आप बाहर नहीं जाओगे और फलां-फलां अंदर नहीं आएगा. फलां-फलां की लिस्ट में से काम वाली को तो बिलकुल नहीं आने दी जाएगी. इस पर पैंसठ जन्मदिन पार कर चुकी श्रीमती को क्रोध
17 मई 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
30 अप्रैल 2020
प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हाल
30 अप्रैल 2020
29 अप्रैल 2020
घंटी बजी तो फोन उठाया. उधर से आवाज़ आई, - शेट्टी बोलता ए.- बोलो शेट्टी. - चार दिन का छुट्टी आ रा भाई. दिल्ली जाएगा?- नो नो.- बोमडीला तवांग जाएगा ? सब अरेंज करेगा मैं. - जाएगा.- मेरे को मालूम. जितना वूलेन है पैक करो. सुबह 6 बजे निकलेगा. शेट्टी विजया बैंक तेज़पुर( असम ) का मै
29 अप्रैल 2020
26 अप्रैल 2020
चंद्रा साब ने ताला खोला और बेडरूम में आ गए. टॉवेल उठाया और इत्मीनान से नहा लिए. चिपचिपे मौसम से कुछ तो राहत मिली. दाल गरम की, एक प्याज काटा और प्लेट में चावल डाल कर डाइनिंग टेबल पर आ गए. एक व्हिस्की का पेग बना कर टेबल पर रख लिया. पर बंद घर में अलग सी महक आ रही थी तो उठकर
26 अप्रैल 2020
22 अप्रैल 2020
चन्द्रोलोअर बाज़ार एक संकरी सी सड़क पर था और उस सड़क के दोनों तरफ छोटी छोटी दुकानों की दो कतारें थी. सौ मीटर चलें तो दाहिनी ओर एक पक्का मकान था जिसमें आप का अपना बैंक था. आगे चलते चलें तो परचून की, जूतों की, मिर्च मसालों की वगैरा वगैरा दुकानें मिलती जाएँगी. ज्यादा एक्टिव बाज़
22 अप्रैल 2020
13 मई 2020
शेक्सपियर अंकल कह गए हैं कि नाम में क्या रखा है! गुलाब को चाहे किसी भी नाम से पुकारो पर खुशबू तो वही आएगी. लेकिन गुलाबी फूल का नाम तो कुछ रखना ही पड़ेगा इसलिए गुलाब ही ठीक है अब क्या बदलना. वैसे तो गुलाब के खुबसूरत फूल पर इंसानों के नाम भी हैं जैसे - गुलाब चन्द, गुलाब सिंह
13 मई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x