लक्ष्मण चरित्र भाग - २५ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (294 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग - २५ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - २५* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय में बताते हुए कहते हैं | *हे लक्ष्मण !*


*ग्यान मान जहँ एकउ नाहीं !*

*देख ब्रह्म समान सब मांहीं !!*

*कहिउ तात सो परम विरागी !*

*तृन सम सिद्धि तीनि गुन त्यागी !!*


भगवान कहते हैं :- *हे लक्ष्मण !* वैसे तो स्वयं को ज्ञानी कहाने वाले संसार में बहुत हैं , ज्ञान क्या है शायद वे जानते भा नहीं | ज्ञान क्या है ? ज्ञान वह है जहाँ मान आदि एक भी दोष न हो , संसार के सभी प्राणियों में ब्रह्म का दर्शन करता हो , वही ज्ञान है | जो समस्त सिद्धियों एवं तीनों गुणों (रज , सत , तम)को तिनके की भाँति त्याग चुका हो वही ज्ञानी एवं वैरागी है | ज्ञान की शिक्षा मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को दे रहे हैं , यही ज्ञान की परिभाषा की व्याख्या का ज्ञान *अर्जुन* को देते हुए भगवान श्रीकृष्ण गीता में कहते हैं :---


*अमानित्वम् दम्भित्वम् हिंसा क्षान्ति रार्जवम् !*

*आचार्योपासनं शौचं स्थैर्यमात्म विनिग्रह: !!*

*इन्द्रियार्थेषु वैराग्यमनहंकार एव च !*

*जन्म मृत्यु जरा व्याधि दु:ख दोषादि दर्शनम् !!*

*असक्तिरन भिष्वंग: पुत्र दार गृहादिषु !*

*नित्यं च समचित्तत्व मिष्टानिष्टोपपात्तिषु !!*

*मयि चानन्य योगेन् भक्तिरव्यभिचारिणी !*

*विविक्त देश सेवित्व मरविर्जन संसदि !!*

*अध्यात्म ज्ञान नित्यत्वं तत्व ज्ञानार्थ दर्शनम् !!*

*एतज्ज्ञानमिति प्रोक्तं ज्ञानं यदतोन्यथा !!*


अर्थात :- भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं :- *हे अर्जुन !* जिसमें मान , दम्भ , हिंसा , क्षमाराहित्य , टेढ़ापन , आचार्य (गुरु) सेवा का अभाव , अपवित्रता , अस्थिरता , मन का निगृहीत न होना , इन्द्रियों के विषयों में आसक्ति तथा ममता , इष्ट और अनिष्ट की प्राप्ति में हर्ष एवं शोक , भक्ति का अभाव , एकान्त में मन न लगना , विषयी मनुष्यों के संग प्रेम आदि ! ये अठारह अवगुण न हों और नित्य अध्यात्म (आत्मा) में स्थिति तथा तत्वज्ञान के अर्थ (तत्वज्ञान के जानने योग्य) परमात्मा का नित्य दर्शन हो , वही ज्ञान है |


भगवान श्रीराम कहते हैं :- *हे लक्ष्मण !* ज्ञान भी दो प्रकार के होते हैं जिन्हें भौतिक एवं आत्मिक ज्ञान कहा जाता है | आत्मिक ज्ञान को ही आध्यात्मिक ज्ञान कहा गया है | प्राय: लोग ज्ञान का तात्पर्य भौतिक शिक्षा से लगाते हैं | भगवत्प्रेमी सज्जनों ! आज के युग में लोगों ने भौतिक ज्ञान तो बहुत प्राप्त कर लिया है परंतु उनको आत्मिक ज्ञान बिल्कुल नहीं है | मानव जीवन में ज्ञानी वही हो सकता है जिसे आध्यात्मिक ज्ञान हो | भगवान श्रीराम कहते हैं :-- *हे लक्ष्मण !* ज्ञान तो दोनों (भौतिक एवं आध्यात्मिक) ही हैं परंतु दोनों में बहुत अन्तर है | भौतिक ज्ञान लौकिक साधनों का आधार तो बन सकता है किन्तु उन साधनों के उद्देश्य , सुख शान्ति के संवाहक नहीं बन पाते | भौतिक ज्ञान होने पर यह आवश्यक नहीं है कि मनुष्य सुखी होकर शानिति प्राप्त कर ले | सुख एवं शान्ति प्राप्त प्राप्त करने के लिए आध्यात्मिक ज्ञान ही एकमात्र आधार है | यद्यपि भौतिक ज्ञान की भी आवश्यकता जीवन में होती है परंतु जीवन को उन्नत बनाने के लिए आध्यात्मिक ज्ञान की परम आवश्यकता भी होती है | क्योंकि :--


*दुर्लभ शरीर पाके इसको संवारा नही ,*

*विषयों में फंसके यह जीवन गंवाता है !*

*शिक्षा व विद्या को खूबै महत्व दियो ,*

*अंधकार हिरदय के क्यों मिटाता है !!*

*उंजियारा करने को बाहर प्रकाश कीन्हों ,*

*आत्मा की ज्योती को क्यों न जलाता है !*

*"अर्जुन" बनि ज्ञानी खूब सबको उपदेश देत ,*

*अपने को मिथ्या ही ज्ञानी कहाता है !!*


आज कलियुग के तथाकथित ज्ञानियों का हाल यही है :---


*रूप संवारि पहिन नव वस्त्र , फिरे जग में बनिके बहु ज्ञानी !*

*नित उपदेश करें जग को , पर वह उपदेश स्वयं नहिं मानी !!*

*चारि किताब का पढ़ि करके , दुसरे का बतावत हैं अज्ञानी !*

*"अर्जुन" ज्ञान कै अर्थ यही , कलियुग मां दिखइ सबकी मनमानी !!*


भगवान कहते है :- *हे लक्ष्मण !* यह गान कदापि नहीं हो सकता जो दूसरों को तो बताया जाय परंतु स्वयं उसका पालन न किया जाय | मनुष्य को स्वयं का ज्ञैन अर्जित करना चाहिए | जिस दिस मनुष्य को यह ज्ञान हो जाता है कि :- मैं कौन हूँ ? कहाँ से और क्यों इस संसार में आया हूँ ? उसी दिन के बाद उसे किसी और ज्ञान की आवश्यकता ही नहीं रह जाती है | *लक्ष्मण* यही वास्तविक ज्ञान है | *लक्ष्मण* ने कहा भैया ! माया एवं ज्ञान के विषय में जान लेने के बाद भक्ति के विषय में जानने की मेरी प्रबल इच्छा हो रही है | भगवान ने *लक्ष्मण* तुम्हारी भावना देखकर हम बहुत ही प्रसन्न हैं | अब हम तुम्हें भक्ति एवं भक्त के बिषय में बता रहा हूँ |


*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: अर्जुन के तीर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी *लक्ष्मण* को गोद में लेकर विलाप कर रहे हैं ! नर लीला करते हुए श्री राम कहते हैं हे *भैया लक्ष्मण !* उठ जाओ क्यों
22 मई 2020
30 अप्रैल 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *इस संसार में वैसे तो एक से बढ़कर एक बलधारी हैं परंतु सबसे बलवान यदि कोई है तो वह है समय ! समय इतना बलवान है कि जब वह अपने पर आता है तो अच्छे - अच्छे बलधारी धूल चाटने लगते हैं
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*केवट की नाव से गंगा पार करके श्री राम *लक्ष्मण* एवं सीता जी वन पथ पर आगे बढ़े | यहां पर तुलसीदास जी ने लक्ष्मण जी को बहुत सुं
30 अप्रैल 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
13 मई 2020
*धरती पर मनुष्य ने जहाँ एक ओर विकास की गंगा बहाई है वहीं दूसरी ओर विनाश का तांडव भी किया है | आदिकाल से ही समय समय पर अपनी प्रभुता सिद्ध करने के लिए यहाँ युद्ध भी होते रहे हैं | हमारे देश भारत के इतिहास में वैसे तो अनेक युद्ध हुए हैं परंतु "महाभारत" (प्रथम विश्व युद्ध) जैसा दूसरा युद्ध न तो हुआ है औ
13 मई 2020
30 अप्रैल 2020
*इस अद्भुत सृष्टि का आधार परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है | हमारे देश भारत के ऋषि महर्षिओ ने अपनी त्यागमयी पवित्र , कठिन साधना के बल पर उस परात्पर परमतत्त्व का साक्षात्कार किया था , जो एकमात्र नित्य सत्य है | उन्होंने अपने उसी दिव्य अनुभव के आधार पर यह निश्चित रूप से जाना था और जानकर इसके सिद्धा
30 अप्रैल 2020
04 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *इस संसार में सबसे कठिन धर्म सेवक एवं शिष्य का कहा गया है | सेवक का धर्म क्या होना चाहिए ? इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में विस्तृत रूप से देखने को मिलता है , परंतु आज समाज में स
04 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*समुद्र के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए नल नील को अगुवा बनाकर समुद्र पर विशाल एवं अकल्पनीय सेतु का निर्माण करके वानर सेना के
22 मई 2020
03 मई 2020
*चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने के बाद पूर्व जन्म के कर्मानुसार जीव को यह दुर्लभ मानव शरीर प्राप्त होता है | मानव शरीर चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ इसलिए कहा गया है क्योंकि यह शरीर देवताओं के लिए भी दुर्लभ है | मानव शरीर की महत्ता को प्रतिपादित करते हुए गोस्
03 मई 2020
04 मई 2020
*भारतीय दर्शन में जिस प्रकार अनेक कर्मकाण्डों का महत्व बताया गया है उसी प्रकार उपदेश का भी अपना एक विशेष महत्व है | उपदेश मनुष्य के जीवन की दिशा परिवर्तित कर देते हैं | विराट भगवान के सार्थक उपदेश सुनकर ब्रह्मा जी ने सृ्ष्टि की रचना प्रारम्भ की | सनातन धर्म के धर्मग्रन्थ महापुरुषों के उपदेशों से भरे
04 मई 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*वनवास काल में श्री राम अपने अनुज *लक्ष्मण* एवं भार्या सीता के साथ चित्रकूट पहुंचे , चित्रकूट में मंदाकिनी नदी के किनारे सुंदर
30 अप्रैल 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* मेघनाथ के सम्मुख जाकर अपने धनुष की टंकार से युद्ध की घोषणा करते हैं | मेघनाथ ने कहा :- *लक्ष्मण !* मैं तुम्हारी
22 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x