लक्ष्मण चरित्र भाग २६ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (273 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग २६ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - २६* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगवान श्रीराम के द्वारा दिये जा रहे दिव्य ज्ञान को श्रवण कर रहे हैं | भगवान श्रीराम कहते हैं :----


*माया ईस न आपु कहुँ जान कहिअ सो जीव !*

*बंध मोक्षप्रद सर्वपर माया प्रेरक सीव !!*


*हे लक्ष्मण !* जो माया , ईश्वर एवं स्वयं के स्वरूप को नहीं जानता उसे ही जीव कहा गया है | जो बन्धन (कर्मानुसार) और मोक्ष देने वाला सबसे परे एवं माया का प्रेरक है वही ईश्वर है | भगवान कहते हैं :- *हे लक्ष्मण !* मुझे प्राप्त करने के लिए अनेकानेक उपाय हैं परंतु इम सभी उपा़यों की जड़ (मूल) है मेरी भक्ति | भक्ति के बिना कोई भी साधन नहीं साधा जा सकता है | भगवान कहते हैं :----


*जा तें वेगि द्रवउँ मैं भाई !*

*सो मम भगति भगत सुखदाई !!*

*जो सुतंत्र अवलम्ब न आना !*

*तेहि आधीन ग्यान विग्याना !!*


*हे लक्ष्मण !* जिससे मैं शीघ्र ही प्रसन्न होता हूँ वह मेरी भक्ति है ! यही भक्तों को सुख देने वाली है | *हे लक्षमण* मेरी भक्ति स्वतंत्र है , भक्ति करने के लिए ज्ञानी - विज्ञानी होना आवश्यक नहीं है | इस भक्ति के सोपानों का वर्णन करते हुए भगवान कहते हैं :- *लक्ष्मण !* भक्ति के कई अंगों में मुख्यत: :----


*श्रवणं कीर्तनं विष्णो: स्मरणं पादसेवनम् !*

*अर्चनं वन्दनं दास्यं साख्यमात्म निवेदनम् !!*


भक्ति के नौ भेद कहे गये हैं | भगवान के नाम , रूप , लीला , धाम आदि का श्रवण , जहाँ भी अवसर मिले सतसंग का हिस्सा बनते हुए भगवान की लोलाओं को सुनते रहना चाहिए यही *पहली भक्ति* है | सतसंग में सुने हुए का कीर्तन करना *दूसरी भक्ति* है | कीर्तन करते - करते भगवान के स्वरूप एवं उनकी लालाओं को याद करना ही *तीसरी भक्ति* है | जब मनुष्य भगवान के स्वरूप का ध्यान करता है तो भगवान का स्वरूप उसके हृदय में स्थापित हो जाता है , उसी स्वरूप के चरणों की मानसिक सेवा करना ही *चौथी भक्ति* है | चरणों की सेवा करते हुए पूजा एवं अर्चना करना *पाँचवी भक्ति* तथा पूजा करने के बाद वन्दना करना *छठीं भक्ति* कही गयी है | मनुष्य जब किसी की वन्दना करता है तो उसका भाव दास का होता है , जब मनुष्य भगवान को स्वामी एवं स्वयं को दास मानने लगे तो यह उसकी *सातवीं भक्ति* होती है | इस प्रकार भक्ति करते - करते एक स्थिति ऐसी भी आती है कि मनुष्य को अपना ईष्ट ( ईश्वर ) भी सखा की भाँति लगने लगता है यही साख्यभाव ही *आठवीं भक्ति* कही गयी है | स्वयं को ही समर्पित कर देना भक्ति की पराकाष्ठा है इसे ही आत्मनिवेदन अर्थात *नवीं भक्ति* कहा गया है | इस प्रकार की भक्ति करने वाला मनुष्य मेरा परमप्रिय होता है | भगवत्प्रेमी सज्जनों ! आज समाज में भक्तों की कमी नहीं है परंतु यह भी सत्य है कि आज के भक्त दिखावे के ज्यादा ही हैं | आज के युग में जब किसी को सतसंग में चलने को कहो , भक्ति करने को कहो तो आज का मनु्ष्य जबाब देता है :---


*घर बनवाय लेई लड़की बियाहि लेई ,*

*लरिका कै गवन लाइ तब भक्ति करबै !*

*सतसंग भक्ति हित कवन हड़बड़ी बाटै ,*

*सुंदर जवानी पाइ सुख - भोग सरबै !!*

*अबहीं तौ थोड़ी सी उमर मोरी बीती बाय ,*

*वृद्ध होय जाब तौ ज्ञान - भक्ति करबै !*

*"अर्जुन" ऐसे माया के भुलावा मांहिं भूलि जीव ,*

*यह नहिं जानइ आज काल्हि बीच मरबै !!*


इस प्रकार मनुष्य भक्ति करना ही नहीं चाहता | *लक्ष्मण जी* ने कहा :- हे भगवन ! यह भक्ति मिलती कैसे है ? भगवान कहते है :--


*भगति तात अनुपम सुखमूला !*

*मिलइ जो संत होंइं अनुकूला !!*


*हे लक्ष्मण !* भक्ति अनुपम एवं सुखों की मूल है और यह तभी मिल सकती है जब संत अनुकूल एवं प्रसन्न हों | *लक्षमण* ने कहा :- भगवन ! भक्ति का सबसे सरल मार्ग क्या है ?? भगवान कहते हैं :- *हे लक्ष्मण !* भक्ति के सबसे सरल साधन को सुनो ! मुझे प्राप्त करने का सबसे सरल साधन भक्ति का प्रथम चरण है कि मनुष्य ब्राह्मणों से प्रेम करते हुए वेदों के अनुसार अपने अपने वर्णाश्रम के कर्मों का पालन करे | जो ब्राह्मणों का द्रोही है वह मुझे कभी नहीं प्राप्त कर सकता क्योंकि :---


*जग में यह अद्भुत प्रसंग है !*

*द्विज मम एक विशेष अंग है !!*


*हे लक्ष्मण !* जब मनुष्य इस प्रकार भक्तिपथ का पथिक बनता है तो वह विषयों से विमुख होने लगता है , हृदय में उत्पन्न वैराग्य से मनुष्य के हृदय में मेरे प्रति प्रेम उत्पन्न होता है | जब मनुष्य मेरा प्रेमी हो जाता है तो वह श्रवण आदि नौ भक्ति के माध्यम से मेरे प्रति आकर्षित होता है | जब मनुष्य संतों के चरणों में प्रेम करते हुए मुझे ही अपना सबकुछ मानते हुए मन , वचन एवं कर्म से मेरा भजन नियमपूर्वक करते हुए मेरा गुणगान करते हुए रोमांचित होकर गदगद वाणी से मुझे भजता है तो सहज ही उसके वश में हो जाता हूँ | *लक्ष्मण* केवल परमात्मा (मेरे) के पूजन , ध्यान , स्मरण में लगे रहना ही मेरी भक्ति नहीं है | *हे लक्ष्मण !* मेरा प्रिय भक्त वह है द्वेषरहित हो , दयालु हो , सुख दु:ख में विचलित न हो , बाहर एवं भीतर से शुद्ध हो , सर्वारंभ परित्यागी हो , चिंता व शोक से मुक्त हो , जिसे कोई कामना न हो , शत्रु - मित्र , मान -अपमान , स्तुति - निंदा एवं सफलता - असफलता में समभाव रखने वाला हो ! संक्षेप में यदि कहा जाय तो भक्त को अपने ईष्टदेव में अपने मन को लगाने के साथ साथ तन मन की पवित्रता , स्थिरता , सौम्यता , सहजता एवं उदारता विकसित करने का प्रयास करते रहना चाहिए | गीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं :- *हे अर्जुन !*


*अद्वेष्टा सर्वभूतानां मैत्र: करुण एव च !*

*निर्ममो निरंहंकार: सम दु:ख सुख: क्षमी !!*

*संतुष्ट: सततं योगी यतात्मा दृढ़ निश्चय: !*

*मय्यर्पित मनो बुद्धिर्योमद्भक्त: स में प्रिय: !!*


जो द्वेषभाव से रहित , स्वार्थरहित होकर सबको प्रेम करने वाला , सब पर समान रूप से दया भाव रखने वाला , ममता - अहंकार से दूर , सुख दु:ख में समान हो , योगी एवं संतुष्ट रहते हुए दृढ़ श्रद्धा एवं विश्वास के साथ निरंतर मुझमें मन लगाये रहता है वह मेरा परमप्रिय भक्त है | तुलसीदास जी लिखते हैं :---


*भगति जोग सुनि अति सुख पावा !*

*लछिमन प्रभु चरनन्हिं सिर नावा !!*


भगवान श्रीराम के द्वारा *भक्तियोग* की व्याख्या सुनकर *लक्ष्मण जी* भगवान को प्रणाम करते हुए कहते हैं :- हे प्रभो ! अब हमें *वैराग्य* के विषय में बताने की कृपा करें | श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्य* के विषय में बताना प्रारम्भ करते हैं |



*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: अर्जुन के तीर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अप्रैल 2020
*इस अद्भुत सृष्टि का आधार परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है | हमारे देश भारत के ऋषि महर्षिओ ने अपनी त्यागमयी पवित्र , कठिन साधना के बल पर उस परात्पर परमतत्त्व का साक्षात्कार किया था , जो एकमात्र नित्य सत्य है | उन्होंने अपने उसी दिव्य अनुभव के आधार पर यह निश्चित रूप से जाना था और जानकर इसके सिद्धा
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य की पहचान उसके संस्कार से होती हैं ! मनुष्य को जैसे संस्कार मिले होते हैं उसकी वैसी ही मानसिकता भी हो जाती है | जहाँ सकारात्म मानसिकता मनुष्य को सच्चरित्रवान बनाती है वह
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *इस संसार में वैसे तो एक से बढ़कर एक बलधारी हैं परंतु सबसे बलवान यदि कोई है तो वह है समय ! समय इतना बलवान है कि जब वह अपने पर आता है तो अच्छे - अच्छे बलधारी धूल चाटने लगते हैं
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*गंगा के किनारे निषादराज गुह से वार्ता के क्रम में कर्म की व्याख्या करते हुए *लक्ष्मण जी* कहते हैं | हे निषादराज ! कर्मों का ब
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*गंगा के किनारे निषादराज गुह से वार्ता के क्रम में कर्म की व्याख्या करते हुए *लक्ष्मण जी* कहते हैं | हे निषादराज ! कर्मों का ब
30 अप्रैल 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*वनवास काल में श्री राम अपने अनुज *लक्ष्मण* एवं भार्या सीता के साथ चित्रकूट पहुंचे , चित्रकूट में मंदाकिनी नदी के किनारे सुंदर
30 अप्रैल 2020
30 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - १८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*केवट की नाव से गंगा पार करके श्री राम *लक्ष्मण* एवं सीता जी वन पथ पर आगे बढ़े | यहां पर तुलसीदास जी ने लक्ष्मण जी को बहुत सुं
30 अप्रैल 2020
03 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ एवं जटिलताओं से भरा हुआ है , इस जीवन को पाकर जो भी मनुष्य अपने जीवन में सूझबूझ के साथ अपने कार्य संपन्न करता है वह तो सफल होता चला जाता है और जो बिना व
03 मई 2020
03 मई 2020
*इस सृष्टि की रचना परमपिता परमात्मा ने बहुत ही आनंदित होकर किया है | अनेक बार सृष्टि करने के बाद नर नारी के जोड़े को उत्पन्न करके ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि की आधारशिला रखी | इस समस्त सृष्टि का मूल नारी को कहा गया है ऐसा इसलिए क्योंकि नर नारी के जोड़े को उत्पन्न करने के पहले ब्रह्मा जी ने कई बार मा
03 मई 2020
06 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी की चरण पादुका लेकर भरत जी अयोध्या लौटे और कुछ दिन चित्रकूट में रहकर श्री राम ने वह निवास स्थान त्याग दिया क्यों
06 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
04 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *इस संसार में सबसे कठिन धर्म सेवक एवं शिष्य का कहा गया है | सेवक का धर्म क्या होना चाहिए ? इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में विस्तृत रूप से देखने को मिलता है , परंतु आज समाज में स
04 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x