लक्ष्मण चरित्र भाग - ३३ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (434 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग - ३३ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ३३* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*




मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम विशाल बानर सेना के साथ दुर्गम रास्तों को पार करते ही समुद्र तट पर पहुंचे | उस विशाल सेना में *लक्ष्मण जी* की महिमा का वर्णन करते हुए तुलसीदास जी ने *बरवै रामायण* में लिखा है :----


*विविध बाहनी विलसत सहित अनंत !*

*जलधि सरिस को कहै राम भगवंत !!*


*श्री लक्ष्मण जी* के साथ (वानर और भालओं की ) नाना प्रकार की सेना शोभा पा रही है | श्री राम की सेना विशालता समुद्र को भी लज्जित कर रही है , क्योंकि समुद्र की भी एक सीमा होती है | एक सीमा के बाद उसका भी क्षेत्र समाप्त हो जाता है परंतु जिस सेना में *लक्ष्मण जी* के रूप में साक्षात भगवान अनन्त (शेष जी ) विराजमान थे और जो स्वयं श्री राम ( नारायण ) की सेना थी उसे प्राकृतिक समुद्र के समान नहीं कहा जा सकता , क्योंकि समुद्र तो ससीम है परंतु श्री राम जी की सीमा सेना में अनन्त ,असीम *लक्ष्मण जी* स्वयं हैं | इस प्रकार से सेना जब समुद्र तट पर पहुंच गई तो वहीं शिविर बन गये | एक दिन श्रीराम अपने शिविर में बैठे हुए थे तभी गुप्तचरों ने आकर सूचना दी कि रावण का अनुज भ्राता *विभीषण* अपने निजी सचिवों के साथ श्री राम के दर्शन को आया है | भगवान श्रीराम ने सुग्रीव से उनकी राय पूछी तो सुग्रीव ने कहा :- हे भगवन ! राक्षसों की माया बड़ी विचित्र है | हो सकता है कि वह हमारा भेद लेने आया हो इसलिए उसे बांधकर रखा जाए | भगवान श्री राम ने कहा:- मित्र ! वह हमारी शरण में आया है और मेरी और मेरे रघुकुल की मर्यादा शरणागत वत्सल की है | भगवान कहते हैं :---;


*रघुकुल की रीति रही शरणागत वत्सल की ,*

*शरण में जो आया उसे हृदय से लगाएंगे !*

*क्रूर हो कुचाली चाहे वधिक पातकी भारी ,*

*शरणागत होय तो सब पातक भुलाएंगे !!*

*मन में दुर्भावना समेटे हुए पापी जीव ,*

*सम्मुख हुआ तो सब दोष मिट जाएंगे !*

*"अर्जुन" विभीषण की स्थिति हो जैसी भी ,*

*उनको सम्मान सहित अपना बनाएंगे !!*


श्री राम कहते हैं कि हे सुग्रीव ! हमारे रकुल रीति है कि यदि कोई पाती , हत्यारा , क्रूर भी शरण में आ जाता है तो वह अभयदान पा जाता है | और हे मित्र ! विचार करो कि कोई दुष्ट हृदय का व्यक्ति क्या मेरे सामने आ सकता है ?? यदि मान लिया आ भी जाता है तथा उसके हृदय में कोई दुर्भावना भी हुई तो आप शायद हमारे अनुज भ्राता *लक्ष्मण* को भूल रहे हो | सुग्रीव को बड़ा आश्चर्य हुआ कि भगवान आखिर क्या कहना चाहते हैं | भगवान कहते हैं:---


*जग महुँ सखा निशाचर जेते !*

*लछिमन हनहिं निमिष महुँ तेते !!*


हे सुग्रीव ! यहां तो एक विभीषण अपने कुछ सचिवों के साथ आ रहा है तो आप भयभीत हो रहे हैं कि वह भेद लेने आ रहा है | मित्र ! एक रहस्य की बात सुन लो ! मात्र लंका एवं रावण ही नहीं अपितु इस सृष्टि में जितने भी निशाचर एवं आततायी हैं उन सबका वध हमारा *लक्ष्मण* एक क्षण में कर सकता है | श्री राम के श्रीमुख से *लक्ष्मण जी* के बलाबल की महिमा सुनकर बांदर मंडल हतप्रभ रह गया | विभीषण को श्रीराम ने अपनी शरण देकर उसका राज्याभिषेक कर दिया | बिना रावण का वध किये ही राघव ने विभीषण को लंका पति की उपाधि दे दी | सुग्रीव ने कहा :- हे प्रभु ! आप ने विभीषण को लंका का राजा तो बना दिया परंतु यदि हम रावण को हम ना जीत पाए तो क्या आपका वचन झूठा नहीं हो जाएगा ???? भगवान श्रीराम कहते हैं :- हे सुग्रीव !


*मारि दशानन राज विभीषण कहँ देइहौं यह आन हमारी !*

*जौं न मरा दशकण्ठ तबहुँ नहिं असत् होय यह आन विचारी !!*

*छाँड़ि अयोध्या रहब वन महँ भाइन्ह संग महँ सगरौ महतारी !*

*"अर्जुन" लंक को छाँड़ि विभीषण का करि देइहौं अवधविहारी !!*


भगवान श्री राम की इस बात को सुनकर रघुनंदन की जय जयकार होने लगी | भगवान श्रीराम ने अपने सखा सुग्रीव के साथ-साथ विभीषण जी से भी पूछा कि हे मित्रों ! लंका के तट तक तो हम आ गए हैं परंतु इसे समुद्ररूपी विशाल बाधा को कैसे पार किया जाय ? कृपा कर आप सभी उचित सलाह बताइए जिससे कि इस विशाल सागर को पार करके हम अपनी सेना के साथ लंका तक पहुंच सके | समुद्र को पार करने का उपाय सभी लोग अपने-अपने विवेकानुसार बताने लगे |



*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: महाभारत :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



जय जय सियाराम
आचार्य श्री

Abhishek Mishra
17 मई 2020

दिब्य प्रस्तुति 🙏🌹🚩

जय हो बहुत सुन्दर लक्ष्मण चरित्र जय जय सीताराम

जय श्री राम
जय लखन लाल

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ एवं जटिलताओं से भरा हुआ है , इस जीवन को पाकर जो भी मनुष्य अपने जीवन में सूझबूझ के साथ अपने कार्य संपन्न करता है वह तो सफल होता चला जाता है और जो बिना व
03 मई 2020
04 मई 2020
*भारतीय दर्शन में जिस प्रकार अनेक कर्मकाण्डों का महत्व बताया गया है उसी प्रकार उपदेश का भी अपना एक विशेष महत्व है | उपदेश मनुष्य के जीवन की दिशा परिवर्तित कर देते हैं | विराट भगवान के सार्थक उपदेश सुनकर ब्रह्मा जी ने सृ्ष्टि की रचना प्रारम्भ की | सनातन धर्म के धर्मग्रन्थ महापुरुषों के उपदेशों से भरे
04 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* भगवान श्री राम की सेवा करते हुए पंचवटी में भगवान श्री के चरण शरण में दिव्य ज्ञान प्राप्त करते हुए समय व्यतीत कर
13 मई 2020
22 मई 2020
*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल
22 मई 2020
13 मई 2020
*धरती पर मनुष्य ने जहाँ एक ओर विकास की गंगा बहाई है वहीं दूसरी ओर विनाश का तांडव भी किया है | आदिकाल से ही समय समय पर अपनी प्रभुता सिद्ध करने के लिए यहाँ युद्ध भी होते रहे हैं | हमारे देश भारत के इतिहास में वैसे तो अनेक युद्ध हुए हैं परंतु "महाभारत" (प्रथम विश्व युद्ध) जैसा दूसरा युद्ध न तो हुआ है औ
13 मई 2020
06 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी की चरण पादुका लेकर भरत जी अयोध्या लौटे और कुछ दिन चित्रकूट में रहकर श्री राम ने वह निवास स्थान त्याग दिया क्यों
06 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पुत्र मेघनाद एवं पुत्रवधू सुलोचना की सद्गति के बाद रावण स्वयं युद्ध क्षेत्र में आ गया और श्रीराम से उसका घनघोर युद्ध हुआ | अ
28 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x