हमारा शरीर एवं ब्रह्मांड :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (440 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारा शरीर एवं ब्रह्मांड :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के सद्ग्रन्थों एवं ऋषि - महर्षियों के विचारों में एक तथ्य एवं दिशा निर्देश प्रमुखता से प्राप्त होता रहा है कि मनुष्य जीवन पाकर के सबसे पहले मनुष्य को स्वयं के विषय में जानने का प्रयास करना चाहिए | क्योंकि जब तक मनुष्य स्वयं को नहीं जान पाएगा तब तक वह ब्रह्मांड को जानने का कितना भी प्रयास कर ले उसे सफलता नहीं मिल सकती | प्राचीन काल से हमारी मान्यता रही है कि हमारे शरीर की रचना तथा ब्रह्मांड की रचना समान रूप से की गई है | इसी तथ्य को सिद्ध करते हुए विनय पत्रिका में गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं :---- "वपुष ब्रह्मांड सुप्रवृत्ति लंका दुर्ग , रचित मय दनुज मय रूप धारी " इन शब्दों में उन्होंने शरीर की तुलना ब्रह्मांड से की है | इसका सीधा का अभिप्राय है कि जो ब्रह्मांड में बाहर है वही व्यक्ति के भीतर शरीर में भी है | स्वर्ग - नरक , लोक - परलोक , ग्रह - नक्षत्र यह जितने भी ब्रह्मांड में व्यक्ति को बाहर दिखाई देते हैं उन्हीं का लघु प्रतिरूप मनुष्य का शरीर भी है | यदि व्यक्ति ध्यान से शरीर की ओर देखे तो उसे ब्रह्मांड का ही प्रतिरूप दिखाई पड़ेगा | जिस प्रकार सूर्य के प्रकाश में मनुष्य को संसार तथा संसार की वस्तुएं दिखाई देती है उसी प्रकार मनुष्य के शरीर में भी सूर्य है और वह सूर्य है मनुष्य के नेत्र | जो भूमिका सूर्य की ब्रह्मांड में है वही भूमिका नेत्रों की मनुष्य के शरीर में है | सूर्यास्त के बाद जिस प्रकार कुछ भी नहीं दिखाई पड़ता है उसी प्रकार शरीर रूपी सूर्य अर्थात नेत्रों के बंद हो जाने पर भी अंधकार हो जाता है | इससे यह सिद्ध हो जाता है कि ब्रह्मांड एवं शरीर की रचना समान रूप से ब्रह्मा जी ने की है आवश्यकता है इसे समझने की एवं इसके विषय में जिज्ञासु बनने की |*


*आज वैज्ञानिक युग में हम जीवन यापन कर रहे हैं | नित्य प्रति नए-नए चमत्कार देखने को मिल रहे हैं जिससे कि मानव हृदय में सहज जिज्ञासा उत्पन्न हो जाती है | संसार के विषय में जानने के लिए आज मनुष्य प्रतिपल जिज्ञासु बना रहता है परंतु ब्रह्मांड के जटिल रहस्यों को खोजने के लिए प्रत्येक मनुष्य न तो उद्योग हीं कर पाता है और न ही उतना साधन जुटा पाता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि भले ही प्रत्येक व्यक्ति ब्रह्मांड के रहस्यों को जानने में सफल ना हो परंतु यदि प्रयास करें तो वह अपने शरीर के विषय में अवश्य जान सकता है | परंतु यह दुर्भाग्य है कि आज की शिक्षा एवं भौतिकता ने मनुष्य के अंतर्चक्षुओं को बंद कर दिया है , जिसके कारण मनुष्य वाह्य पदार्थों के विषय में तो प्रतिदिन जानता रहता है परंतु अपने एवं अपने शरीर के विषय में ना तो जानने का प्रयास करता है और ना ही जान पाता है | प्रत्येक मनुष्य को सर्वप्रथम अपने शरीर के विषय में ध्यान देकर अपने अंगों की तुलना ब्रह्मांड में उपस्थित अवयवों से करनी चाहिए | ऐसा करने पर मनुष्य को एक नवीन ज्ञान प्राप्त होगा | यही हमारे पूर्वजों ने किया है और यही कारण था कि हमारे देश को विश्व गुरु कहा जाता था , परंतु आज हम अपने इतिहास को भूल कर के दूसरों की ओर आशा भरी दृष्टि से देख रहे हैं तो इसमें कमी हमारी ही है क्योंकि हमने अपने पूर्वजों से प्राप्त हुए उदाहरणों पर ध्यान देना बंद कर दिया है |*


*हमारा सनातन ज्ञान विज्ञान आधुनिक विज्ञान से कहीं आगे था और आज भी है आवश्यकता है उसे जानने एवं समझने की जो कि हम नहीं कर पा रहे हैं |*

अगला लेख: महाभारत :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



suresh dubey
18 मई 2020

जय सियाराम आचार्य जी सादर प्रणाम 👣🙏

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*माया , ज्ञान एवं भक्ति की व्याख्या करने के बाद मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्
13 मई 2020
03 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ एवं जटिलताओं से भरा हुआ है , इस जीवन को पाकर जो भी मनुष्य अपने जीवन में सूझबूझ के साथ अपने कार्य संपन्न करता है वह तो सफल होता चला जाता है और जो बिना व
03 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x