लक्ष्मण चरित्र भाग ३४:-- आचार्य अर्जुन तिवारी

18 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग ३४:--  आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ३४* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


श्री राम जी के वचनों को सुनकर विभीषण ने कहा कि :- ;हे प्रभो ! आप सर्वज्ञ हैं , आप सब जानते हैं मात्र भक्तों को मान देने के लिए ही आप ने प्रश्न किया है तो हे भगवम ! मेरा तो विचार यही है कि यद्यपि आप चाहें तो एक ही बाण से अगाध समुद्र को सुखा सकते हैं परंतु यह मर्यादा के विपरीत होगा | भगवन ! नीति यही कहती है कि आप सागर से मार्ग देने के लिए प्रार्थना करें , क्योंकि समुद्र आपके ही पूर्वज एवं कुलश्रेष्ठ थे वह आपकी बिनती सुन कर के कोई न कोई मार्ग अवश्य बताएंगे | श्रीराम को विभीषण की सलाह उचित लगी परंतु *लक्ष्मण जी* के विभीषण की इस सलाह पर क्रोध आ गया | जब *लक्ष्मण जी* ने देखा कि भैया भी विभीषण की बात का समर्थन कर रहे हैं उनको अपार दुख हुआ और अपने क्रोध को दबाते हुए विनीत भाव से *लक्ष्मण जी* कहते हैं :----


*नाथ दैव कर कवन भरोसा !*

*सोषिअ सिंधु करिअ मन रोषा !!*


*लक्ष्मण जी* कहते हैं कि हे भगवन ! आप धीर वीर होकर भी दैव के भरोसे बैठने जा रहे हैं ? क्या भरोसा है कि दैव आपकी सहायता करने आ ही जाएंगे ?? हे भैया ! वहां लंका में तो माता जानकी का एक-एक क्षण वर्षो की भांति व्यतीत हो रहा है और आप यहां बैठकर समुद्र से मार्ग सुझाने हेतु प्रार्थना करने जा रहे हैं ? श्रीराम ने कहा :- *लक्ष्मण !* यही नीति है | *लक्ष्मण जी* ने कहा भैया ! मैं इस नीति को नहीं मानता | यद्यपि आप मर्यादा पुरुषोत्तम हैं परंतु भैया ! हमें बताया गया है कि *"आपत्ति काले मर्यादा नास्ति"* अतः यह समय मर्यादा के पालन का नहीं है | आप क्रोध करके धनुष उठाइए तथा अपने तीखे बाणों से इस समुद्र को सुखा दीजिए | *लक्ष्मण जी* कहते हैं कि हे भैया ! :----


*दैव के रहकर भरोसे बैठ जाना ,*

*कर्मवीरों कि नहीं यह रीत है !*

*जो भरोसे भाग्य के बैठा रहे ,*

*आलसी कायर महा भयभीत हैं !!*

*भाग्य भी है साथ देता उसी का ,*

*कर्म करने में ही जिसकी प्रीत है !*

*इसलिए "अर्जुन" उठाओ यह धनुष ,*

*इस समय भगवन यह रणनीत है !!*


*लक्ष्मण जी* का क्रोध एवं सीता जी के प्रति चिंता देखकर भगवान श्रीराम ने बड़े प्रेम से कहा :- *हे भैया लक्ष्मण !* मैं यद्यपि जानता हूं कि कर्मवीर भाग्य के भरोसे नहीं रहते परंतु फिर भी मैं समुद्र से मार्ग देने की विनती करूंगा क्योंकि वह हमारे कुलपूज्य है | *लक्ष्मण* युद्ध सदैव घातक होता है जब कोई मार्ग न बचे तो ही युद्ध करना चाहिए | *लक्ष्मण !* तुम चिंता ना करो , धैर्य धारण करो क्योंकि संकट में मनुष्य का सच्चा मित्र उसका स्वयं का धैर्य ही होता है | ऐसा कहकर भगवान् श्रीराम समुद्र के किनारे कुशासन पर बैठ गए |


विभीषण के पीछे रावण ने दो गुप्तचर भेजे थे , शुक एवं सारण नाम के गुप्तचर वानरों का वेश बनाकर रामा दल में भ्रमण करते हुए पकड़े गए | वानर वीरों ने उन्हें प्रताड़ित करना प्रारंभ कर दिया | सुग्रीव ने कहा इनको अंग भंग करके तब भेजो | शुक एवं सारण ने जब देखा कि वो से घिर गए हैं तो श्रीराम की दुहाई देने लगे | यहां पर एक चौपाई कुछ लोगों को भ्रम में डाल देती है | तुलसीदासजी लिखते हैं :---


*सुनि लछिमन सब निकट बोलाये !*

*दया लागि हँसि तुरत छोड़ाये !!*


जब *लक्ष्मण जी* ने देखा कि बानरवीर रावण के गुप्तचरों को दंडित कर रहे हैं तो उनको दया आ गयी और उन्होंने हंसकर दोनों को छुड़ा दिया | कुछ लोग कहते हैं कि *लक्ष्मण जी* यहां अपने स्वभाव के विपरीत कुछ भी हो सकता है लोग *लक्ष्मण जी* को क्रोधी ओम उतावला समझते हैं | परंतु *भगवत्प्रेमी सज्जनों !* *लक्ष्मण जी* क्या है ?? यह जानने के लिए हमें तुलसीदास जी के द्वारा कहे गये उनके वचनों पर ध्यान देना होगा | तुलसीदास जी *लक्ष्मण जी* को अपना गुप्तधन मानते हैं | जो गुप्तधन है , जिसको गोस्वामी जी ने छुपा कर रखा है वह क्रोधी एवं उतावला कैसे हो सकता है | जो लोग ऐसा समझते हैं उनको ध्यान देना चाहिए कि गोस्वामी जी ने बहुत स्पष्ट शब्दों में लिखा है :--


*वन्दउँ लछिमन पद जलजाता !*

*सीतल सुभग भगत सुखदाता !!*


*लक्ष्मण जी* उग्र होते हुए भी *शीतल* है | इस शीतलता का रहस्य यह है कि *लक्ष्मण जी* "शेषावतार हैं | शीतलता सर्प का सहज गुण है | विषधर होने पर भी उसका शरीर सदैव शीतल बना रहता है | परंतु यह शीतलता तब तक ही रहती है जब तक कि सर्पको कोई छेड़े ना | यदि भूल से भी किसी ने सर्प को छेड़ दिया तो यही शीतलता विष बनकर प्राणघातक हो जाती है | उसी प्रकार से *लक्ष्मण जी* का स्वभाव बहुत ही सरल एवं शीतल है , परंतु शत्रुओॉ के लिए यही शीतल स्वभाव वाले *लक्ष्मण जी* अपनी विषैले वाणों के साथ घातक हो जाते हैं | *सुभग* अर्थात सुंदर | *लक्ष्मण जी* शरीर से तो सुंदर थे ही साथ ही मन के भी बहुत ही निश्चल एवं सुंदर थे | यदि ऐसा न होता तो अयोध्या का राजसी जीवन त्याग कर श्री राम की सेवा मात्र के लिए बनवासी ना होते | *लक्ष्मण जी* का ऐसा करना उनके मन की सुंदरता को दर्शाता है | *भगत सुखदाता* अपने एवं श्री राम के भक्तों को असीम सुख प्रदान करने वाले हैं *लक्ष्मण जी* | इसका उदाहरण गंगा के तट पर देखने को मिलता है जब उन्होंने श्रीराम की दशा देखकर दुखी हुए निषादराज को *कर्ममीमांसा* का ज्ञान प्रदान करके उसके सारे दुखों का हरण करके सुख प्रदान किया | इस प्रकार *लक्ष्मण जी* शीतलता एवं दयालुता की मूर्ति थी | ऐसे *लक्ष्मण जी* ने जब देखा कि रावण के गुप्तचरो को दंड मिल रहा है तो उनके हृदय में दया उमड़ पड़ी | उन्होंने प्रेम से दोनों को बुलाया और उनको एक पत्र देते हुए कहा :- हे गुप्तचरो ! तुम निर्भय होकर जाओ और अपने अहंकारी राजा को यह पत्र देकर मेरा संदेश कह देना | *लक्ष्मण जी* कहते हैं :---


*कहेहु मुखागर मूढ़ सन मम संदेश उदार !*

*सीता देइ मिलहुँ न त आवा कात तुम्हार !!*


*लक्ष्मण जी* कहते हैं कि यह पत्र देने के बाद भी तुम रावण से मेरा उदार ( कृपा से भरा हुआ ) संदेश मुंहजबानी भी कह देना कि :- यदि जीवित रहने की इच्छा है तो माता सीता को लाकर श्रीराम को सौंप दे और उनकी शरण में आ जाय अन्यथा उसका काल उसके सिर पर नाच रहा है | शुक एवं सारण *लक्ष्मण जी* का पत्र लेकर उनका एवं श्री राम का गुणगान करते हुए आकाश मार्ग से लंका की ओर चल पड़े |


*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण चरित्र भाग २८ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



आचार्य जी उत्तम प्रयास

जय जय सियाराम
प्रणाम आचार्य श्री

अति उत्तम चरित्र चित्रण

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*माया , ज्ञान एवं भक्ति की व्याख्या करने के बाद मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्
13 मई 2020
22 मई 2020
*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल
22 मई 2020
06 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी की चरण पादुका लेकर भरत जी अयोध्या लौटे और कुछ दिन चित्रकूट में रहकर श्री राम ने वह निवास स्थान त्याग दिया क्यों
06 मई 2020
13 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य विवेकवान प्राणी है कोई भी क्रिया कलाप सम्पादित करने के पहले मनुष्य को विवेक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए | आज की आधुनिकता की अंधी दौड़ में प्रतिक्षण सावधान रहने की आवश्यकत
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*माया , ज्ञान एवं भक्ति की व्याख्या करने के बाद मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्
13 मई 2020
17 मई 2020
*मानव जीवन में स्वाध्याय का बहुत बड़ा महत्व है | स्वाध्याय अर्थात स्वयं का अध्ययन करना | हम कौन हैं ?;कहां से आये ?? हमको क्या करना चाहिए ? और हम क्या कर रहे हैं ?? इसका ज्ञान हो जाना ही स्वाध्याय है | सनातन धर्म में स्वाध्याय एक वृहद संकल्पना है | जहां स्वाध्याय का अर्थ स्वयं का अध्ययन करना बताया
17 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
22 मई 2020
*इस सम्पूर्ण सृष्टि में ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है मनुष्य | सर्वश्रेष्ठ रचना होने के बाद भी मनुष्य सुखी नहीं है , दुखों का पहाड़ उठाये मनुष्य जीवन जीता रहता है | मनुष्य के दुख का कारण उसकी सुखी रहने की असीमित कामना ही मुख्य है | मानवीय सत्ता की सदा सुखी रहने की कामना नैसर्गिक होती है और यही कामनाय
22 मई 2020
22 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य का जीवन कैसा होगा ? उसके क्रियाकलाप कैसे होंगे ? यह उसकी विचारधारा पर आधारित होता है | साहित्य जगत में दो प्रकार की विचारधारा कहीं गई है | प्रथम उत्कृष्ट विचारधारा एवं द
22 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*समुद्र के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए नल नील को अगुवा बनाकर समुद्र पर विशाल एवं अकल्पनीय सेतु का निर्माण करके वानर सेना के
22 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगव
13 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x