सनातन को गले लगाओ-कोरोना को दूर भगाओ

19 मई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन को गले लगाओ-कोरोना को दूर भगाओ

सामयिक साहित्य____🖊

महामारी / पैंडेमिक से बचने के लिये हमारे शास्त्रों में कतिपय (करणीय) निर्देशन उपलब्ध हैं:---

मेरे सद् गुरु नियम दिए "सोड्ष विधि", जिसके अंतरगत् 'व्यापक सौच'★ और 'सौच मंजुषा'★★सर्वोपरी हैं।

【1】
लवणं व्यञ्जनं चैव घृतं तैलं तथैव च।
लेह्यं पेयं च विविधं हस्तदत्तं न भक्षयेत्।।
धर्मसिन्धू ३पू. आह्निक

लवण, धृत्, तैल, अन्नादि खाद्य हेतु परोसने के लिए हाथों का प्रयोग वर्जित है, चम्मच वा कलछुल का व्यवहार करें।

【2】
अनातुरः स्वानि खानि न स्पृशेदनिमित्ततः।।
मनुस्मृति ४/१४४

अनावश्यक अपनी इंद्रियों का स्पर्श न करें।

【3】
अपमृज्यान्न च स्न्नातो गात्राण्यम्बरपाणिभिः।।
मार्कण्डेय पुराण ३४/५२

पहने वस्र सें स्नानोपरांत देह पोंछ कर न सुखाएं, स्वतः सूखने दें। हाथ धो कर भी यही करना है, अलग रखें जब तक लगा जल हवा से स्वतः सूख न जाए।

【4】
हस्तपादे मुखे चैव पञ्चाद्रे भोजनं चरेत्।।
पद्म०सृष्टि.५१/८८
नाप्रक्षालितपाणिपादो भुञ्जीत।।
सुश्रुतसंहिता चिकित्सा २४/९८

भोजन के पूर्व व्यापक सौच अपरिहार्य है।

【5】
स्न्नानाचारविहीनस्य सर्वाः स्युः निष्फलाः क्रियाः।।
वाघलस्मृति ६९

बगैर स्नान और शुद्धि किए कर्म निष्फल हो जाते हैं।

【6】
न धारयेत् परस्यैवं स्न्नानवस्त्रं कदाचन।।
पद्म० सृष्टि.५१/८६

अन्य द्वारा व्यवहृत रुमाल, गमछा, तौलिया या वस्त्र स्नानोपरांत भींगे देह को सुखाने के लिए वर्जित है।
(कंधी, स्लीपर आदि भी अपना हो)

【7】
अन्यदेव भवद्वासः शयनीये नरोत्तम।
अन्यद् रथ्यासु देवानाम् अर्चायाम् अन्यदेव हि।।
महाभारत अनु १०४/८६

बिछा्वन पर बिछाने या ओढ़ने, यात्रा में, पूजा, पठन-पाठन व कार्यालय आदि में अपने अलग वस्त्र हीं व्यवहार में लावें।

【8】
तथा न अन्यधृतं (वस्त्रं) धार्यम्।।
महाभारत अनु १०४/८६

दुसरे के पहने वस्त्र न पहनें और फिटिंग के लिये मॉल में पैक बस्रादि हीं चेक कर खरीदें, खुले वस्त्र बदन पर लगा कर न देखें साइज परिक्षण हेतु। नए वस्त्र धो कर हीं व्यवहार में लाएं, कोरा कभी नहीं।

【9】
न अप्रक्षालितं पूर्वधृतं वसनं बिभृयाद्।।
विष्णुस्मृति ६४

एक बार पहने वस्त्र दुबारा न पहनें।

【10】
न आद्रं परिदधीत।।
गोभिसगृह्यसूत्र ३/५/२४

भींगे वस्त्र न पहनें या ओढें।

【11】
चिताधूमसेवने सर्वे वर्णाः स्न्नानम् आचरेयुः।
वमने श्मश्रुकर्मणि कृते च।।
विष्णुस्मृति २२

श्मशान से लौट कर स्नान कर हीं घर में प्रवेश करें या कुछ छुएं। हजामत (नाई या पार्लर) के बाद स्नान करें यथाशिध्र।

यह आदिकाल से गुरुकुल में सिखाया जाता है। ज्ञातव्य हो कि उस युग में माइक्रोस्कोप नहीं थे।

आज जब कोरोना ताण्डव से हाहाकार मचा तो वैज्ञानिक उपरोक्त वैदिक नियमों को मान कर चलने का (सामयिक वाध्यता) सुझाव दे रहे हैं।

अपने बच्चों और वृद्धजनों (बुजुर्गों ) का विषेश ख्याल रखें।
🙏🙏🙏
★स्वच्छ जल से (आर्म पिट तक) हाथ, गर्दन और सर तथा पैर ऊपर तक धोना।
★★मुत्र त्याग के समय साथ स्वच्छ जल रखें और शेषांश के पूर्व जल धार शिश्न मुण्ड♂ / वाह्य प्रजनांग♀) पर अच्छी तरह से डाले। हाईजिन के अलावा ऐसा करने से मूत्राशय में अवशेष लगभग शुन्य मुत्र रह जाता है और यह इंफेक्शन (यथेष्ट उत्सर्जन) वा पथरी (संकुचन व ट्रांजिएंट शैथिल्यताजनीत क्रायो-विखंडन) का इलाज भी है।

डॉ. कवि कुमार निर्मल

एम. बी. बी. एस. (1978)


अगला लेख: माँ-१



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 मई 2020
सं
"संबंधों" की महिमा- न्यारीबात मगर लगेगी यह खारीमहाभारत में देखी पटिदारीभारत में भी छाई पटिदारीपटिदारी मानवता की परम शत्रु,उजड़ी बागीचे की हर सुन्दर क्यारीसीमाओं का यह व्यर्थ जाल बहुत दुखदाईमानवीय मुल्यों की अब कैसे होगी भरपाईयुग पुरुष का अवतरण हो तो पट पाए खाईमानो बँधु- सबका मालिक वही है एक साईं
17 मई 2020
10 मई 2020
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏माँ तो सबकी एक जैसी हीं होती है।दोनों हाथों से सदा- देती रहती है॥🌻🌷🌻🌷🌻🌻🌷🌻🌷🌻खून-पसीना-दूध-हुनर-संचित देती सारा।कहती रहती है मेरा बच्चा- प्यारा दुलारा॥🌹 🌹🌹 🌹🌹🌹 🌹🌹 🌹माँ तो ममता की साक्षात मूरत होती है।भ्रूण का १०माह सिंचन- जीवन देती है॥🌸 🌸🌸🌸🌸🌸🌸 🌸बच्चे को माँ,
10 मई 2020
05 मई 2020
वा
वासना,गद्दारों और नशेड़ियों से भरा देशविजय कुमार तिवारीवासना,गद्दारी या नशे में डूबे रहना यह सब मनुष्य के अधःपतन का द्योतक है और आज की स्थिति देखकर लगता है कि हमारे देश में बहुतायत ऐसे ही लोग हैं।मैं मानता हूँ कि हमे निराश नहीं होना चाहिए परन्तु ये परिदृश्य कोई दूसरी कहानी तो नहीं कह रहे।कल देश में
05 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
21 मई 2020
सिप्पी में मोतीकुछ भी समझोबँधु प्रिय मेरे,गीत त्राहिमाम्!कह गुनगुनाता हूँ।सिप्पी के मोती बटोर सारे- सागर से,आलोकित पथ पर चलता जाता हूँ।।धरा-धाम पर आतंकी कोरोना है फैल रहा,मास्क लगा, ग्लब्स पहन हीं कहीं भी मैं जाता हूँ।घोर तमसा फैल रही है चहुदिशी इस धरातल पर,सात्विकता का आह्वान कर- मृदंग बजाता हूँ।।
21 मई 2020
30 मई 2020
✳️🌺🌹।।🕉️।।🌹🌺✳️कोरोना महासंक्रमण से राष्ट्रसीमाओं और टिड्डी दल तक!रुष्ट प्रकृति, तमसा छाई-आहत शोणित गृहि-साधु तक!!सनातन से विमुख हुए सभी-तमसा छाई है क्षितिज तक!चहुदिशी ताण्डव नृत्य महाकाल का-शनि-दृष्टि हुई वक्र!!🙏🏻 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏🏻
30 मई 2020
12 मई 2020
🌺🌹 🌼🌻🌻🌼 🌹🌺चलिए हम दो काफी हैं आग लगाने के लिए।कुछ अपना, कुछ औरों का दर्द बताने के लिए।।🎶 🎶🎶🎶🎶🎶🎶🎶अगन जब लगी, कह दिया, समन्दर में जा नहा लो।बात जब चली, कहा हमें अपने करीब तो बुलालो।।〽 〽 〽 〽〽 〽 〽करीबी बन कर, रक़ीब क्यूँ (?) बन गए!दूर थे वो मगर, हबीब अजीज बन गए!!🎸 🎸🎸🎸 🎸🎸 🎸नशा जब
12 मई 2020
16 मई 2020
"कहानी हमारे देश की"🌺महाराणा प्रताप के नाम,🌺 "इण्डिया रिजर्व बटालियन"ताजमहल अगर प्रेम की कहानी है!चित्तोड़ एक सूरमा की कहानी है!!मुगल चढ़े चित्तोड़ ६०००० सैलानी ले कर!मात न खाए मात्र थे ८००० शत्रुओं से टकरा कर!!चालीस हजार के उपरलाशों का ढ़ेर वीर बिछाया!राणा का वीजय ध्वज "गुंबज" पर ऊंचा लहराया!!व
16 मई 2020
14 मई 2020
डा
डा0 नन्द किशोर नवल जी की यादेंविजय कुमार तिवारीपरमादरणीय मित्र,प्रख्यात आलोचक और साहित्यकार डा.नन्द किशोर नवल जी नहीं रहे।मेरा तबादला धनबाद से पटना हुआ था।9अप्रैल 1984 की शाम में बी,एम.दास रोड स्थित मैत्री-शान्ति भवन में प्रगतिशील लेखक संघ की ओर से"राहुल सांकृत्यायन-जयन्ती"का आयोजन था।भाई अरुण कमल,ड
14 मई 2020
15 मई 2020
★★★★★देवाधिदेव ★★★★★"परम पुरुष" के बाहर कुछ भी नहीं।वे हीं देव हैं जो ब्रह्माण्डीय कार्यकीके कारण हैं। ब्रह्म रंध्र वा विश्व नाभिसे उत्सर्जित अभिव्यक्त महापँचभूत तरंगें हीं देवता हैं जो देव स्वरूपपरम पुरुष की सृष्टि नियंत्रित करते हैं।यहीं महाशक्ति ब्रह्माण्ड के अनवरतताण्डव का कारण है जिसक
15 मई 2020
17 मई 2020
कोरोना के कीटाणु तूने कहाँ लाके मारा रे!उधर लॉकडाउन की घोषणा हुई इधर हमारी सोसाइटी का मेन गेट भी बंद हो गया. आप बाहर नहीं जाओगे और फलां-फलां अंदर नहीं आएगा. फलां-फलां की लिस्ट में से काम वाली को तो बिलकुल नहीं आने दी जाएगी. इस पर पैंसठ जन्मदिन पार कर चुकी श्रीमती को क्रोध
17 मई 2020
08 मई 2020
कथा गणपति बप्पा मोरिया की🕉️ 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️गणपति-बप्पा-मोरिया की प्रतिमायें सुशोभित हैं।गणेश कथा सुन, भक्त आह्लादित प्रफुल्लित हैं।।आएं आज- 'पंद्रह हजार वर्ष' पुर्व हम चलते हैं।पर्वतों पर बसे ऋषियों की चर्चा आज करते हैं।।"ऋषि कुल" को ऋग्वेद में "गोष्ठी" कहा करते थे।'"गोष्ठी" के श्रेष्टतम्
08 मई 2020
30 मई 2020
आज पुनः ध्यान के अभ्यास परवापस लौटते हैं | ध्यान केलिए अनुकूल आसनों पर हम बात कर रहे थे | आज बात करते हैंध्यान के अभ्यास के लिए उचित समय की | ये बात सत्य है कि ध्यान के साधक कोब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर छोड़ देना चाहिए और दैनिक कृत्यों के बाद योग और ध्यानके अभ्यास आरम्भ कर देने चाहियें | 24 घंटे में 1
30 मई 2020
16 मई 2020
"कवि हताश"अजीब बात है!हैरतअंगेज माहौल है!!सांसत आई विकराल, अजीबोगरीब हालात है!!!जब भयंकर दमघोंटू प्रदुषण था!ठेलमठेल- उमस भरी- दम घुटता था!!खुले में दुषित वायु फेफड़ों को भरता था!आज जब अजुबा भाइरस आया!सड़कों पर हटात् सन्नाटा छाया!!दिल्ली महानगर तक सुधर सँवर गया!आज सभी छुटभइये- युवा व वृद्ध घर में द
16 मई 2020
16 मई 2020
"कवि हताश"अजीब बात है!हैरतअंगेज माहौल है!!सांसत आई विकराल, अजीबोगरीब हालात है!!!जब भयंकर दमघोंटू प्रदुषण था!ठेलमठेल- उमस भरी- दम घुटता था!!खुले में दुषित वायु फेफड़ों को भरता था!आज जब अजुबा भाइरस आया!सड़कों पर हटात् सन्नाटा छाया!!दिल्ली महानगर तक सुधर सँवर गया!आज सभी छुटभइये- युवा व वृद्ध घर में द
16 मई 2020
15 मई 2020
★★★★कोरोना★★★★"आंकड़े" देख शोहबत को'नजायज' करार दी"क्वारेंटाइन" के बाद हीं आना घर!ये आस दीदिल है कि सात समन्दर पाररह कर भी प्यार बरकरार है'मोबाइल' में तश्वीर देख-आँसुओं की बह रही धार हैप्यार को महज़ जिस्मानी रिस्ता कहा!यह रुहानी बात हैकोरोना की सुन्दरता जरा देख लेना,लाल! क्या? बात हैडॉक्टर कवि कुम
15 मई 2020
14 मई 2020
💐💐💐आह्वान💐💐💐मैं सबका आह्वान करता हूँ,सभी मेरे प्राणों के प्राण हैं।सभों के संग मिल - जुल कर,आलोक स्नान का मैंने मन बनाया है।💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐कोई भी पीछे न छुटने पाये।समाज में कोई भी नीच नहीं।सभी एक हीं तरंग में समाहृत हो,जीवन का गीत गाते रहें।💐💐💐💐💐💐मानव - मानव के बीच,कोई भेद - भाव न र
14 मई 2020
28 मई 2020
लॉक डाउन के दौरान टाइम मैनेजमेंटहम आज बात कर रहे हैं टाइम मैनेजमेंट की | आज प्रायः लोगों को कहतेसुना जाता है कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, लेकिन क्याकरें – हमारे पास समय ही नहीं है | कार्य की सफलता और लक्ष्य प्राप्ति की यदि बातकरते हैं तो हमें आज की समस्याओं को भी समझना होगा | आज केसमय में जो लोग
28 मई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x