मायानगरी के सपनें

20 मई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (462 बार पढ़ा जा चुका है)

सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वो कहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”

सचिन ने कहाअरे क्या हुआ ऐसा

नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर के एक अखबार में”

सचिन ने कहा ओह उसकी बात कर रहा है तू

हेडलाईन छपी शहर की प्रतिभा ने मायानगरी में बनाई पहचान, मिला एक फ़िल्म में काम

सचिन उसकी बात से कुछ खास खुश नहीं हुआ क्योंकि 3 साल के स्ट्रगल के बाद भी उसे ऐसा रोल मिला जिसकी अवधि मुश्किल से 5 मिनिट रही होगी। इससे पहले वो दो तीन एड फ़िल्म में ही काम कर चुका था, इतने सालों में उसने एक दो लाख से ज्यादा नहीं कमाए थे।

फ़ोन पर बातचीत ख़त्म होते ही वो फ़्लैशबैक में चला गया कि कैसे मुंबई के एक पॉश इलाके में वो बड़े- बड़े सपने लेकर आया था, स्कूल और कॉलेज में वो कई डॉसिंग और मॉडलिंग कॉम्पीटिशन जीत चुका था, देखने में भी खूबसूरत था और कद काठी भी अच्छी थी, बीकॉम पूरा करने के बाद सीए के लिए भी ट्राय किया लेकिन इंटरमिडियट लेवल पूरा करने के बाद भी आगे उसका पढ़ाई में मननहीं लगा और वो मायानगरी में हीरो बनने का ख़्वाब अपनी आंखों में बसाकर चला आया।

एक स्टूडियो से दूसरे स्टूडियो के चक्कर काटना बस यही उसकी ज़िंदगी हो गई थी अब तक करीब 300 ऑडिशन दे चुका था लेकिन वो कामयाबी नहीं मिली जो वो चाहता था।

यहां आकार देखा कि उसके जैसे हजारों खूबसूरत नौजवान स्ट्रगल कर रहे है, जैसे कि उसका कोई अस्तित्व ही ना हो।

उसके पिता प्राईवेट कंपनी में इंजिनियर थे उसकी तीन बहनें थी, दो की शादी हो चुकी थी और एक पढ़ाई कर रही थी, सचिन के पिता पहले उसके इस फ़ैसले के लिए तैयार नहीं थे लेकिन वो जिद पर अड़ा रहा, कुछ एक्टिंग के कोर्स भी किए जहां उसका काफी पैसा खर्च हुआ उसकी एक्टिंग में तो निखार आ गया लेकिन फिर उसके पास काम का अकाल था।

उसके पिता हर महीने उसके अकाउंट में करीब 10-15 हजार डाल देते थे जिससे उसका खर्चा- पानी निकल जाए लेकिन मायानगरी में सिर्फ खर्चा पानी से कहां काम चलता है लाइफ़स्टाइल भी तो मेन्टेन करना पड़ता है।

महंगे- महंगे कपड़ें और उसके दोस्तों की पार्टियों के बीच उसकी स्थिती आमदनी अठन्नी और खर्चा रुप्पया वाली हो गई थी।

उपर से तो वो खुद को बेहद खुश दिखाता लेकिन अंदर ही अंदर घुट रहा था, उसके पिता भी फ़ोन पर उसे वापस आने की ज़िद करते थे और एक दिन फ़ोन करके कहा तुम पढ़ाई में इतने अच्छे हो तो क्यों नहीं अपने सीए का फ़ायनल राउंड भी कंपलीट करने के लिए प्रयास करो। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद फिर मुंबई चले जाना मैं तुमको रोकूंगा नहीं

लेकिन सचिन का मन नहीं कर रहा था कि वो वापस आए लेकिन एक दिन उसे ख़बर आई कि उसके पिता का हार्ट अटैक से निधन हो गया।

अब मां और बहन की जिम्मेदारी सचिन पर ही थी तब उसके मन में ख़्याल आया कि इतना स्वार्थी होना भी ठीक नहीं है अपने पिता को अग्नी देने के बाद वो जबलपुर से मुंबई लौटा ही नहीं और अपनी पढ़ाई पूरा करने में जी जान से जुट गया और कुछ साल मेहनत करने के बाद सीए का एक्ज़ाम पूरी तरह क्लीयर कर लिया। अपने आप को बदनसीब समझने वाला सचिन अब खुद को भाग्यशाली समझने लगा।

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति

से कोई संबंध नहीं है।


मायानगरी के सपनें

अगला लेख: प्रेम का आखिरी पड़ाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 मई 2020
आज मनोहर घरआया तो उसकी मां उसे देखकर हक्की बक्की रह गई, चेहरे की हवाईयां उड़ी हुई और कपड़ों पर मिट्टीऔर धूल के धब्बे ऐसे प्रतीत हो रहे थे किमानो मिट्टी में लोट कर आया हो।तब उसकी मांने पूछा बेटा “ये क्या हाल
18 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
26 मई 2020
उसने उसके भिगोए हुएदो बादाम खा लिए, ये अब उसकी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। वो हमेशाअस्वस्थ रहती थी, वो भी सिर्फ 23 साल की उम्र में जब उसका यौवन और सौंदर्य किसी कोभी प्रभावित कर सकता था लेकिन चांद में दाग की तरह कमजोरी के निशान उसके चेहरे परभी दिखाई देने लगे।उसके
26 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
17 मई 2020
अपने स्टील के डब्बेमें रखे कुछ गुलाब जामुन में से एक को निकालकर प्रीति ने अनिमेष के हाथ मेंजबर्दस्ती थमा दिया। उसके बाद अपने दो साल के बच्चें को खिलाने के बाद अपने पति केजबरन मुंह में ठूंस दिया। ऐसी मिठाई खाकर भी ख़ुश नहीं महसूस कर रहा था अ
17 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
17 मई 2020
अपने स्टील के डब्बेमें रखे कुछ गुलाब जामुन में से एक को निकालकर प्रीति ने अनिमेष के हाथ मेंजबर्दस्ती थमा दिया। उसके बाद अपने दो साल के बच्चें को खिलाने के बाद अपने पति केजबरन मुंह में ठूंस दिया। ऐसी मिठाई खाकर भी ख़ुश नहीं महसूस कर रहा था अ
17 मई 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x