कामना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

कामना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस सम्पूर्ण सृष्टि में ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है मनुष्य | सर्वश्रेष्ठ रचना होने के बाद भी मनुष्य सुखी नहीं है , दुखों का पहाड़ उठाये मनुष्य जीवन जीता रहता है | मनुष्य के दुख का कारण उसकी सुखी रहने की असीमित कामना ही मुख्य है | मानवीय सत्ता की सदा सुखी रहने की कामना नैसर्गिक होती है और यही कामनायें जब नहीं पूर्ण होती हैं तो मनुष्य दुखी हो जाता है | कामना का अर्थ :- इच्छा , तृष्णा एवं अभिलाषा आदि कहा गया है | कामना भी दो प्रकार की होती है :- स्वहित की कामना एवं लोकहित की कामना | स्वहित कामना अपने लिए होती है और लोकहित कामना संसार के लिए | ह्रदय में जब तक त्याग की भावभूमि नहीं तैयार होगी तब तक लोकहित की कामना का प्रादुर्भाव नहीं होता | इस क्षणभंगुर संसार में प्रत्येक पदार्थ क्षण - क्षण क्षीण हो रहे हैं इसीलिए स्वहित की कामना करने वाले मनुष्यों का सुख भी क्षणिक ही होता है | जबकि लोकहित की कामना स्वयं को छोड़कर सर्वकल्याण एवं सद्भावना से जुड़ी होने के कारण इससे प्राप्त होने वाला सुख स्थाई होता है | जब मनुष्य के हृदय में स्वाभाविक स्वहित (अपना हित) की कामना प्रकट होती है तो मनुष्य की इच्छायें अनन्त हो जाती हैं इन्हीं इच्छाओं - कामनीओं के न पूर्ण होने पर मनुष्य चिंताग्रस्त , तनावयुक्त और असंतुलित एवं दुखी हो जाता है | मनुष्य के दुखों का कारण उसकी असीम स्वहित की कामनायें ही हैं जिसमें फंसकर मनुष्य लोकहित के विषय में विचार भी नहीं कर पाता | कामनायुक्त दुखों से बचने का उपाय हमारे महापुरुषों ने बताते हुए कहा है कि :------ इससे बचने का एकमात्र उपाय है ‼️ भगवत्कृपा ‼️ और मनुष्य को यह अकल्पनीय ‼️ भगवत्कृपा ‼️ तभी प्राप्त हो पाती है जब मनुष्य ईश्वर के प्रति समर्पित हो जाता है | सांसारिक कामनाओं से मुक्ति एवं ‼️ भगवत्कृपा ‼️ प्राप्त करने के लिए मनुष्य को सकारात्मकता एवं पूर्ण समर्पण के साथ ईश्वर की उपासना करना ही एकमात्र मार्ग है | ईश्वर की उपासना तभी हो सकती है जब मनुष्य कामनाओं का त्याग कर दे | जब तक कामनाओं का त्याग नहीं होता है तब तक मनुष्य उपासना के साथ अनेकानेक करने के बाद भी उपासना का फल नहीं प्राप्त कर पाता क्योंकि मनुष्य की कामनायें बाधक बनकर सामने खड़ी हो जाती हैं |*


*आज संसार में लोकहित की कामना करने वाले मनुष्य बहुत ही कम दिखाई पड़ते हैं , प्रत्येक व्यक्ति अपना ही हित साधता हुआ दिखाई पड़ रहा है | आज मनुष्य की कामनाएं पहले की अपेक्षा और ज्यादा विस्तृत हो गई है | मनुष्य ‼️भगवत्कृपा‼️तो प्राप्त करना चाहता है परंतु ‼️भगवत्कृपा‼️ प्राप्त करने के लिए बताए गए उपायों को बिल्कुल ही नहीं करना चाहता | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज मनुष्य एक के बाद एक कामनाओं से ग्रसित होकर के दुख के अथाह सागर में डूबता रहता है | आज ज्ञान , भक्ति एवं बैराग्य की बात करने वाले लोगों का लक्ष्य किसी कामना की पूर्ति करना ही होता है | हमारे पूर्वजों ने लोकहित की कामना से जो कार्य किए थे उसी के कारण आज भी उनका नाम श्रद्धा के साथ लिया जाता है , परंतु आज का मनुष्य अपना हित साधने के लिए दूसरों का अहित भी करने से नहीं चूक रहा है | मनुष्य के दुख का सबसे बड़ा कारण यही है | अपना हित साधना यद्यपि आवश्यक भी है परंतु इसके साथ ही लोकहित की कामना भी हृदय में होनी चाहिए क्योंकि जब तक लोकहित की कामना नहीं होगी तब तक मनुष्य सुखी नहीं हो सकता है और ना ही ‼️भगवत्कृपा‼️प्राप्त कर सकता है | इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने हित के साथ-साथ संसार के हित के विषय में भी विचार करते रहना चाहिए | मनुष्य की कामनाएं अनंत होती हैं अनंत कामनाओं को पूर्ण करने में मनुष्य का सारा जीवन व्यतीत हो जाता है और हाथ कुछ भी नहीं आता है | वही लोकहित के लिए किए गए एक भी कार्य से मनुष्य युग युगांतर तक अमर हो जाता है |*


*अपनी कामनाओं को पूर्ण करने का अधिकार सबको है परंतु अपना हित साधने से संसार का हित न प्रभावित हो यह भी ध्यान रखना चाहिए |*

अगला लेख: महाभारत :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मई 2020
*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल
22 मई 2020
03 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ एवं जटिलताओं से भरा हुआ है , इस जीवन को पाकर जो भी मनुष्य अपने जीवन में सूझबूझ के साथ अपने कार्य संपन्न करता है वह तो सफल होता चला जाता है और जो बिना व
03 मई 2020
04 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *इस संसार में सबसे कठिन धर्म सेवक एवं शिष्य का कहा गया है | सेवक का धर्म क्या होना चाहिए ? इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में विस्तृत रूप से देखने को मिलता है , परंतु आज समाज में स
04 मई 2020
22 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य का जीवन कैसा होगा ? उसके क्रियाकलाप कैसे होंगे ? यह उसकी विचारधारा पर आधारित होता है | साहित्य जगत में दो प्रकार की विचारधारा कहीं गई है | प्रथम उत्कृष्ट विचारधारा एवं द
22 मई 2020
06 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी की चरण पादुका लेकर भरत जी अयोध्या लौटे और कुछ दिन चित्रकूट में रहकर श्री राम ने वह निवास स्थान त्याग दिया क्यों
06 मई 2020
13 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य विवेकवान प्राणी है कोई भी क्रिया कलाप सम्पादित करने के पहले मनुष्य को विवेक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए | आज की आधुनिकता की अंधी दौड़ में प्रतिक्षण सावधान रहने की आवश्यकत
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगव
13 मई 2020
13 मई 2020
*धरती पर मनुष्य ने जहाँ एक ओर विकास की गंगा बहाई है वहीं दूसरी ओर विनाश का तांडव भी किया है | आदिकाल से ही समय समय पर अपनी प्रभुता सिद्ध करने के लिए यहाँ युद्ध भी होते रहे हैं | हमारे देश भारत के इतिहास में वैसे तो अनेक युद्ध हुए हैं परंतु "महाभारत" (प्रथम विश्व युद्ध) जैसा दूसरा युद्ध न तो हुआ है औ
13 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
28 मई 2020
*इस धरा धाम पर चौरासी लाख योनियों में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ कहा गया है | मानव जीवन बहुत ही दिव्य है इस जीवन को प्राप्त करके आदिकाल से लेकर आज तक मनुष्य ने अनेक उपलब्धियां प्राप्त की हैं | मनुष्य के जीवन में संगठन का बहुत बड़ा महत्व है | मनुष्य अकेले जो कार्य नहीं कर सकता है उसे दस लोगों का समूह अर्थात
28 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*माया , ज्ञान एवं भक्ति की व्याख्या करने के बाद मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्
13 मई 2020
28 मई 2020
*इस मानव जीवन को प्राप्त करके प्रत्येक मनुष्य की कामना होती है पुत्र प्राप्त करने की क्योंकि हमारे धर्म ग्रंथों में बताया गया है कि बिना पुत्र के सद्गति नहीं मिलती | यदि माता-पिता का अपने पुत्र के प्रति कर्तव्य बताया गया है तो पुत्र का भी अपने माता-पिता के प्रति कर्तव्यों का उल्लेख हमारे सनातन साहित
28 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x