लक्ष्मण चरित्र भाग ३६:-- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (469 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग ३६:-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ३६* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*

*लक्ष्मण जी* मेघनाथ के सम्मुख जाकर अपने धनुष की टंकार से युद्ध की घोषणा करते हैं | मेघनाथ ने कहा :- *लक्ष्मण !* मैं तुम्हारी ही प्रतीक्षा कर रहा था | आज मैं तेरा वध करके अपने भाइयों की हत्या का बदला लूंगा | *लक्ष्मण जी* ने कहा :- मूर्ख ! वीर युद्ध क्षेत्र में कभी प्रलाप करते है ! युद्ध करते हैं !! ऐसा करके *लक्ष्मण जी* ने अपने तीखे बाणों से मेघनाथ पर प्रहार कर दिया |


*लछिमन मेघनाद द्वौ जोधा !*

*भिरहिं परस्पर करि अति क्रोधा !!*

*एकहि एक सकहिं नहिं जीती !*

*निसचर छल बल करइ अनीती !!*


*लक्ष्मण* एवं मेघनाथ दोनों ही अतुलनीय बलशाली है क्रोधित होकर एक दूसरे पर वाणों की वर्षा तो कर रहे हैं परंतु एक दूसरे को जीत नहीं पा रहे हैं | मेघनाथ ने जब देखा कि *लक्ष्मण* को सामने से जीतना संभव नहीं है तो वह छिपकर कर मायायुद्ध करने लगा |


*छिपइ कबहुँ खल युद्ध करइ ,*

*कबहुँक प्रगटत है सम्मुख आई !*

*कबहूँ रथ पर देखराइ परइ ,*

*कबहुँक आकाश मां परइ देखाई !!*

*माया करि माया युद्ध करइ ,*

*बोलइ दसकंधर केर दुहाई !*

*"अर्जुन" शेषवतार लखन ,*

*पल महँ सब माया दूरि पराई !!*


मेघनाद के माया युद्ध को देखकर *लक्ष्मण जी* ने श्री राम से कहा कि :- हे भैया ! इसके माया युद्ध को काटने के लिए मुझे *ब्रह्मास्त्र* चलाने का आदेश दीजिए | श्रीराम ने कहा :- *लक्ष्मण !* ब्रह्मास्त्र चलाना नीति के विरुद्ध है | *लक्ष्मण* ने कहा :- भैया ! यह राक्षस किसी भी नीति को नहीं मानते हैं तो मैं क्यों मानूं ? मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम कहते हैं कि :--


*अयुध्यमानं प्रच्छन्नं प्राञ्जलिम् शरणागतम् !*

*पलायमानम् मत्तं व न हन्तुं त्वमेहादृशा !!*


अर्थात *हे लक्ष्मण !* जो सम्मुख युद्ध न करके छिपकर मायायुद्घ कर रहा हो , शरणागत हो गया हो , युद्ध से भाग रहा हो या पागल हो गया वह उस पर ब्रह्मास्त्र जैसे महाअस्त्र का प्रयोग वर्जित है | *लक्ष्मण जी* ने कहा परंतु भैया उसके माया युद्ध का उत्तर यही है | श्रीराम ने कहा नहीं *लक्ष्मण !* अधर्म के द्वारा प्राप्त विजय कभी कल्याणकारी नहीं होती है ! अतः तुम वीरों की भांति धर्म युद्ध करो | जो आज्ञा कहकर *लक्ष्मण जी* ने क्रोध में भरकर मेघनाथ पर प्रहार किया | *श्री लक्ष्मण जी* ने मेघनाद के मायायद्ध को एक ही वाण से काट दिया | इस महासंग्राम को देवता देख रहे हैं | *लक्ष्मण जी* ने अनेकों बाणों से मेघनाथ के रथ एवं सारथी को को नष्ट कर दिया | मेघनाद जैसा बलशाली , देवराज इन्द्र को भी परास्त करके इंद्रजीत की उपाधि पाने वाला आज *लक्ष्मण जी* के बाणों से आहत होकर भय भीत दिखने लगा |


*नाना विधि प्रहार कर शेषा !* *राच्छस भयऊ प्रान अवशेषा !!*

*रावन सुत निज मन अनुमाना !*

*संकठ भयउ हरिहिं मम प्राना !!*


शेष जी *(लक्ष्मण जी)* मेघनाथ पर अनेक प्रकार के प्रहार करने लगे | *लक्ष्मण जी* के प्रहारों से व्याकुल होकर मेघनाद को ऐसा प्रतीत हुआ कि अब प्राणों पर संकट आ गया है | जब उसे लगा कि लक्ष्मण उसका प्राणान्त कर देंगे तब :----


*जीत न पायो लखन को , विफल भये सब बान !*

*इंद्रजीत ने शक्ति को , तब तीनों आह्वान !!*


मेघनाद के जब सारे अस्त्र-शस्त्र विफल हो गये तब उसने शक्ति का आवाहन किया | *वीरघातिनी* नामक शक्ति उसने छल से *लक्ष्मण जी* के ऊपर चला दी , जिसके प्रभाव से *लक्ष्मण जी* युद्ध भूमि में मूर्छित होकर गिर पड़े | जिस समय *लक्ष्मण जी* शक्ति बाण के लगने से गिरे उस समय राक्षस वीर किलकारी मारने लगे , रामादल में हाहाकार मच गया | मेघनाद ने विचार किया कि *लक्ष्मण* को उठाकर ले चलें पिता जी प्रसन्न हो जाएंगे | उसने सैनिकों को आज्ञा दी कि *लक्ष्मण* के शरीर को लंका ले चलो , परंतु शेषावतार *लक्ष्मण जी* के शरीर को कोई भी राक्षस वीर हिला नहीं सका | यहां तक कि मेघनाद ने भी अपनी सारी शक्ति लगा दी | *भगवत्प्रेमी सज्जनों !*:----


*दानव मानव गंधर्व यक्ष ,*

*पूजा करइं जिनको नित ध्यावैं !*

*जिन क्रोधानल में जरिके ,*

*चौदह भुवन पल मांहिं नसावैं !!*

*जगत आधार परे भुंइ पर ,*

*लीला प्रभु की कोउ जात न पावैं !*

*"अर्जुन" रावनसुत तेहि कहँ ,*

*बहु जोर लगाइ उठाइ न पावैं !!*


मेघनाथ अपनी पूरी शक्ति लगाकर भी जगत आधार *लक्ष्मण जी* को नहीं उठा पाया | इतने में हनुमान जी ने आकर मेघनाद को एक लात मार कर धराशायी कर दिया और *लक्ष्मण जी* को लेकर श्री राम की ओर चल पड़े | *लक्ष्मण* को अचेत अवस्था में हनुमानजी लेकर आ गये | श्री राम ने *लक्ष्मण* को अचेत देखा तो उनका सिर अपनी गोद में रखकर विलाप करने लगे |


*भगवत्प्रेमी सज्जनों !* थोड़ा समझने का प्रयास करें | *लक्ष्मण जी* जीव है और श्री रामजी ब्रम्ह | जीव ब्रह्म की गोद में पहुंचा कैसे ?? हनुमान जी के माध्यम से | हनुमान जी क्या हैं ?? हनुमान जी संत हैं | *मित्रों !* इस मायामय संसार में जीव काम , क्रोध , मोह , लोभ , अहंकार , मात्सर्य आदि अवगुणों के चक्रव्यूह में फंसकर इस संसार में आने का उद्देश्य भूल जाता है , और वह भौतिकवादी सांसारिकता में अचेत हो जाता है | यहाँ आकर ब्रह्म को जानते हुए भी ब्रह्म की ओर उन्मुख नहीं हो पाता | जीव को ब्रह्म की ओर उन्मुख कराने में संतों की मुख्य भूमिका होती है | सन्त का स्वयं का कोई उद्देश्य न होकर एक ही उद्देश्य होता है लोक कल्याण | जिस प्रकार अचेत *लक्ष्मण जी* को उठाकर हनुमान जी ने श्रीराम की गोदी तक पहुंचा दिया उसी प्रकार यदि जीव स्वयं को संतो के चरणों में समर्पित कर दें तो सन्त उसको परमात्मा तक पहुंचाने में मुख्य भूमिका निभाते हैं , परंतु स्वयं का समर्पण किसी भी संत चरणों में करने के पहले यह अवश्य परख लेना चाहिए कि वह सन्त है या कि कपट वेषधारी झूठा संत | *लक्ष्मण* को देखकर श्री राम जी विलाप करने लगे | पूरा वानरदल शोकसागर में डूबने लगा |



*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण चरित्र भाग २८ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*समुद्र के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए नल नील को अगुवा बनाकर समुद्र पर विशाल एवं अकल्पनीय सेतु का निर्माण करके वानर सेना के
22 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* भगवान श्री राम की सेवा करते हुए पंचवटी में भगवान श्री के चरण शरण में दिव्य ज्ञान प्राप्त करते हुए समय व्यतीत कर
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगव
13 मई 2020
22 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य का जीवन कैसा होगा ? उसके क्रियाकलाप कैसे होंगे ? यह उसकी विचारधारा पर आधारित होता है | साहित्य जगत में दो प्रकार की विचारधारा कहीं गई है | प्रथम उत्कृष्ट विचारधारा एवं द
22 मई 2020
22 मई 2020
*मानव जीवन में अनेक प्रकार के क्रियाकलाप ऐसे होते हैं जिसके कारण मनुष्य के चारों ओर उसके जाने अनजाने अनेकों समर्थक एवं विरोधी तथा पैदा हो जाते हैं | कभी-कभी तो मनुष्य जान भी नहीं पाता है कि आखिर मेरा विरोध क्यों हो रहा है , और वह व्यक्ति अनजाने में विरोधियों के कुचक्र का शिकार हो जाता है | मनुष्य का
22 मई 2020
17 मई 2020
*मानव जीवन में स्वाध्याय का बहुत बड़ा महत्व है | स्वाध्याय अर्थात स्वयं का अध्ययन करना | हम कौन हैं ?;कहां से आये ?? हमको क्या करना चाहिए ? और हम क्या कर रहे हैं ?? इसका ज्ञान हो जाना ही स्वाध्याय है | सनातन धर्म में स्वाध्याय एक वृहद संकल्पना है | जहां स्वाध्याय का अर्थ स्वयं का अध्ययन करना बताया
17 मई 2020
22 मई 2020
*इस सम्पूर्ण सृष्टि में ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है मनुष्य | सर्वश्रेष्ठ रचना होने के बाद भी मनुष्य सुखी नहीं है , दुखों का पहाड़ उठाये मनुष्य जीवन जीता रहता है | मनुष्य के दुख का कारण उसकी सुखी रहने की असीमित कामना ही मुख्य है | मानवीय सत्ता की सदा सुखी रहने की कामना नैसर्गिक होती है और यही कामनाय
22 मई 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
13 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य विवेकवान प्राणी है कोई भी क्रिया कलाप सम्पादित करने के पहले मनुष्य को विवेक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए | आज की आधुनिकता की अंधी दौड़ में प्रतिक्षण सावधान रहने की आवश्यकत
13 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*समुद्र के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए नल नील को अगुवा बनाकर समुद्र पर विशाल एवं अकल्पनीय सेतु का निर्माण करके वानर सेना के
22 मई 2020
13 मई 2020
*ईश्वर ने मनुष्य को सुन्दर शरीर दिया साथ प्रत्येक अंग - उपांगों को इतना सुंदर एवं उपयोगी बना दिया कि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ हो गया | यद्यपि आँख , नाक , कान , मुख एवं वाणी ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को प्रदान किया है परंतु मनुष्य को विवेक - बुद्धि के साथ अपने मनोभावों को अभिव्यक्ति करने की स्वतंत्रता भी प्
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में भगवान श्रीराम ने *लक्ष्मण जी* को जो दिव्य उपदेश दिया उसे *अध्यात्म रामायण* में *रामगीता* कहा गया है | *लक्ष्मण जी*
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*माया , ज्ञान एवं भक्ति की व्याख्या करने के बाद मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम *लक्ष्मण* को *वैराग्
13 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x