Sketches from Life: भत्ता

24 मई 2020   |  हर्ष वर्धन जोग   (524 बार पढ़ा जा चुका है)

Sketches from Life: भत्ता

पति पत्नी दोनों जॉब करते हों तो अर्थ शास्त्र आसान हो जाता है. दोनों के खातों में पैसा दो पैसे जमा होते रहते हैं और जमा होते होते रुपए भी बन जाते हैं. पर इन सिक्कों की पिक्चर का दूसरा पक्ष भी है जिसमें बच्चे और मम्मी पापा भागते दौड़ते ही नज़र आते हैं. ऐसे में डबल इनकम ग्रुप वाले मम्मी पापा चाहते हैं की बालक जल्दी से बड़े हो जाएं और अपना रास्ता खोजने लग जाएं.

पर इन बालकों को मैनेज करने का कोई एक फार्मूला तो है नहीं बल्कि इस विषय पर नए नए मन्त्र निकलते रहते हैं. छोटे बच्चों के लिए जब नए नए क्रेच खुले थे तो अजीब लगते थे पर अब नार्मल हो गए हैं. इनसे उन लोगों को काफी राहत मिली जिन्हें नौकरी पर जाना होता था. हमारे दोनों साहबजादे जब तक पांचवी और दूसरी क्लास में थे तब तक पड़ोस के क्रेच में जाते थे. पर छठी और तीसरी क्लास में पहुंचते ही बड़े ने विद्रोह कर दिया की अब क्रेच में नहीं जाना है. अब वो आता भी एक घंटा लेट था. क्या किया जाए?

तीन चाबियों वाले ताले लिए गए. एक चाबी मम्मी के पास दूसरी पापा के पास तीसरी बड़े के बस्ते में. छोटा पहले आएगा, क्रेच में चला जाएगा. फिर बड़ा आएगा उसे क्रेच से ले आएगा.

अगले साल सातवीं और चौथी कक्षा आ गई. अब छोटे ने क्रेच जाने से मना कर दिया नतीजतन अब चाबी छोटे के बस्ते में आ गई. उससे अगले साल स्कूल से दोनों की वापसी एक साथ होने लगी तो चाबी दोनों बस्तों के बीच में लटक गई.

आम तौर पर चाबी रात को बड़े के बस्ते में पैक कर दी जाती थी ताकि सुबह हड़बड़ाहट में रह ना जाए वरना हम चारों को परेशानी हो सकती थी. पर स्कूल में लंच टाइम में बड़ा कई बार छोटे के बस्ते में चाबी डाल जाता. बड़ा तो बड़ा ठहरा. कभी प्यार से, कभी फुसला के और कभी धमका के चाबी ट्रान्सफर हो जाती थी. इस ट्रान्सफर से छोटे का इंटरवल खराब हो जाता था. वो बार बार अपने बस्ते को चेक करता रहता कि चाबी है या नहीं. किसी शरारती तत्व ने निकाल तो नहीं ली? छोटे के रंग में भंग होने लगा.

पहले तो दोनों में तू-तू मैं-मैं हुई पर आपस तक सिमित रही. धीरे धीरे झगड़ा बढ़ने लगा और फिर एक दिन विस्फोट हो गया.

- मैं नहीं रखूँगा चाबी मेरी एक्स्ट्रा क्लास लगती है.

- चाबी तो मैं भी नहीं रखूँगा मेरी स्पोर्ट्स की क्लास लगती है.

गंभीर समस्या और तनाव. रोज़ शाम बहस शुरू हो जाती पर कोई नतीजा नहीं निकल रहा था.

तब ध्यान गया बैंक में मिलने वाले भत्ते या allowance पर. क्यूँ ना यही नुस्खा इस्तेमाल किया जाए? अब पंचायत बुलाई गई और मम्मी ने शुरुआत की,

- हमारे बैंक में ना कई तरह के अलाउंस या भत्ते होते हैं.

- क्या होते हैं?

- भत्ते याने पैसे मिलते हैं. जैसे की हेड केशियर छुट्टी पर गया तो उसकी जगह छोटा केशियर काम करेगा और छोटे को कुछ पैसे या भत्ता मिलेगा. इसी तरह मान लो कि आज मैनेजर नहीं आया तो जो उसकी जगह काम करेगा तो उसको भत्ता मिलेगा. अब तुम्हें भी key allowance या चाबी भत्ता मिला करेगा. तीस रूपए महीना.

- ये तो गुड है!

- सही!

- चाबी रखने के तीस रुपए मिलेंगे. तुम आपस में हिसाब कर लेना. जितने दिन चाबी बड़े के पास रहेगी उतने रूपए बड़े को मिलेंगे और ....

- बस बस समझ गया! और पॉकेट मनी?

- जेब खर्ची तो मिलती ही रहेगी ये चाबी भत्ता तो अलग है.

- ओके है ओके!

प्रस्ताव बड़ी जल्दी पास हो गया.

- रुको रुको. एक बात और भी है, मम्मी बोली. हमारे घर दो अखबार आते हैं अगले दिन रद्दी में फेंक दिए जाते हैं. जब रद्दी वाला आता है तो पुराने अखबार, पुराना प्लास्टिक का सामान रद्दी वाला ले जाता है और बदले में कुछ पैसे दे जाता है. अब से कबाड़ी के पैसे भी तुम्हारे - रद्दी भत्ता!

- वाह वैरी गुड!

- सही है!

- देख लो सारी रद्दी और कबाड़ इकट्ठी करके एक जगह रखना, कबाड़ी को बुलाना और बेचना अब से तुम्हारा काम है. ठीक है ना? जो कुछ मिलेगा वो तुम दोनों का - फिफ्टी फिफ्टी.

- गुड है!

- सही है!

तीर निशाने पर बैठा. मीटिंग बर्खास्त.

Sketches from Life: भत्ता

http://jogharshwardhan.blogspot.com/2020/05/blog-post_24.html

Sketches from Life: भत्ता

अगला लेख: Sketches from Life: 1857 और मेरठ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मई 2020
परिवार बड़ा था - हम सात भाई बहन, मम्मी, दादी और पिताजी. परिवार की आर्थिक साइकिल खींचने वाले अकेले पिताजी ही थे. बचपन में तो पता नहीं लगा की तनखा क्या होती है और 'पर कैपिटा' खर्च क्या होता है. उस समय के अनुसार ठीक ठाक ही रहा होगा. पर कभी कभी महसूस जरूर हो जाता था. मसलन सात
20 मई 2020
19 मई 2020
सामयिक साहित्य____🖊महामारी / पैंडेमिक से बचने के लिये हमारे शास्त्रों में कतिपय (करणीय) निर्देशन उपलब्ध हैं:---मेरे सद् गुरु नियम दिए "सोड्ष विधि", जिसके अंतरगत् 'व्यापक सौच'★ और 'सौच मंजुषा'★★सर्वोपरी हैं।【1】 लवणं व्यञ्जनं चैव घृतं तैलं तथैव च।लेह्यं पेयं च विविधं हस्तदत्तं न भक्षयेत्।।धर्मसिन्ध
19 मई 2020
30 मई 2020
आज पुनः ध्यान के अभ्यास परवापस लौटते हैं | ध्यान केलिए अनुकूल आसनों पर हम बात कर रहे थे | आज बात करते हैंध्यान के अभ्यास के लिए उचित समय की | ये बात सत्य है कि ध्यान के साधक कोब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर छोड़ देना चाहिए और दैनिक कृत्यों के बाद योग और ध्यानके अभ्यास आरम्भ कर देने चाहियें | 24 घंटे में 1
30 मई 2020
28 मई 2020
लॉक डाउन के दौरान टाइम मैनेजमेंटहम आज बात कर रहे हैं टाइम मैनेजमेंट की | आज प्रायः लोगों को कहतेसुना जाता है कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, लेकिन क्याकरें – हमारे पास समय ही नहीं है | कार्य की सफलता और लक्ष्य प्राप्ति की यदि बातकरते हैं तो हमें आज की समस्याओं को भी समझना होगा | आज केसमय में जो लोग
28 मई 2020
24 मई 2020
जीवन में हर कार्य महत्त्वपूर्ण होता है | कोई भी कार्य छोटा या बड़ानहीं होता | किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिए योग्यता केसाथ साथ आत्म विश्वास भी अत्यन्त आवश्यक है | और आत्मविश्वासकहीं बाहर से नहीं प्राप्त किया जा सकता | इसे स्वयं ही केप्रयास से अपने भीतर विकसित करना पड़ता है |सफलता प्राप्ति के लिए क
24 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x