दो बादाम एक- एक अनोखी प्रेम कहानी

26 मई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (465 बार पढ़ा जा चुका है)

दो बादाम एक- एक अनोखी प्रेम कहानी

उसने उसके भिगोए हुए दो बादाम खा लिए, ये अब उसकी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। वो हमेशा अस्वस्थ रहती थी, वो भी सिर्फ 23 साल की उम्र में जब उसका यौवन और सौंदर्य किसी को भी प्रभावित कर सकता था लेकिन चांद में दाग की तरह कमजोरी के निशान उसके चेहरे पर भी दिखाई देने लगे।

उसके माता पिता की मौत हो चुकी थी केवल 16 वर्ष की आयु में, तो उसके चाचा और चाची ने उसे पाला पोसा लेकिन कोई कितना भी कर ले असली माता पिता के आगे पराए लोगों का प्रेम फ़ीका ही पड़ जाता कोई हक से कुछ मांग भी नहीं सकता है, हमेशा बचे -खुचे खाने और 4 जोड़ी घिस पिट चुके कपड़ों से अपना काम चला लेती थी। हां घर के कामों में ज़रुर बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया करती थी, एक अनाथ को पालने पोसने का उपकार जो चुकाना था उसे, पर उसे क्या पता था कि वो इन उपकारों के बदले अपना जीवनसाथी चुनने का अधिकार भी खो देगी। उसके लिए कई धनवान घरों के बेमेल रिश्ते आए, कोई उम्र में दुगना तो कोई अत्यंत ही कुरुप।

जब वो बीए की पास कर ली तब ये जताया जाने लगा कि अब उसका ज्यादा दिन खर्चा उठाया जाना संभव नहीं है, घर के एक विवाह समारोह में उसकी मुलाकात नंदन से हुई जो कि एक किराए के कमरे में महानगर में रह रहा था, उसकी मां उसके बड़े भाई के साथ गांव में रह रही थी जो कि थोड़ी बहुत खेती से अपना गुजर बसर कर रहा था। नंदन शार्ट टर्म तकनीकी कोर्स कर चुका था, वो बड़े शहर में बस अभी पैर जमाने के लिए प्रयासरत था, महिने के कुल 15 हजार कमाता और 5 हज़ार अपनी मां को भेज देता।

नंदन 25 साल का करीब 5 फीट 8 इंच का गेहुंए रंग का मनोहर लड़का था लेकिन पढ़ी लिखी, नौकरी पेशा लड़कियां उसकी संघर्ष पूर्ण जिंदगी की वजह शादी के प्रस्ताव निरस्त कर दिया करती थी। तभी नंदन की मां की निगाह निहारिका पर पड़ी तो उसके चाचा-चाची को विवाह का प्रस्ताव दे डाला, वो ना नुकूर करने लगे।

उनके जाने के बाद उन्होंने ये बात निहारिका को बताई, हम नहीं चाहते कि अब तुम्हारे जिंदगी में कोई दुख आए तो हमने नंदन की मां को ये कहकर टाल दिया कि वो अभी शादी नहीं करना चाहती है तुम्हारें माता पिता कुछ संपत्ति भी नहीं छोड़ गए तुम्हारे लिए, छोड़ते भी कैसे? खुद जो आभाव में जी रहे थे, अब तुम्हारे लिए ऐसा घर ढूंढेगे कि रानी बनकर रहो तुमउसकी चाची ने मुस्कुराते हुए कहा।

निहारिका को नंदन पसंद आ चुका था वो बोली मुझे लगता है कि वो मेरे लिए ठीक रहेगा अभी उम्र ही क्या है उसकी मकान भी आज ना कल बन ही जाएगा।

उसे लगा अब उसकी सुनने वाला कोई नहीं, क्या पता धनवान के नाम पर कैसा लड़का उसके पल्ले बांध दे ये लोग।

उसके चाचा ने कहा हमें क्या अगर तुम ख़ुश तो ये ही सही

एक महीने के भीतर नंदन और निहारिका की शादी हो गई, नंदन की मां निहारिका को बेटी की तरह प्यार करती उससे जो बन पड़ता उसके लिए करती। निहारिका भी उसे अपनी मां की तरह मानती थी और सोचती शायद धनवान घर में भी उसे वो प्रेम नहीं मिलता जो यहां मिलता है।

15 दिन गांव में रहने के बाद नंदन की छुट्टियां खत्म हो गई और वो नंदिनी को लेकर महानगर में अपने कमरे पर पहुंचा।

एक छोटा सा कमरा और उससे सटा हुआ लगभग बाथरुम के आकार का किचन देखकर निहारिका हैरान हुई कि शहर में 5- 4 हजार किराया देकर भी कितनी छोटी सी जगह मिलती है कि इंसान ठीक तरह से पैर भी ना फैलाकर सो पाए ना ही थोड़ा बहुत टहल पाए।

शादी के एक दो महीने सब ठीक चला, उसका जीवन चंपा-चमेली सा हो गया लेकिन एक दिन उसे भयंकर टायफाइड हुआ तो नंदन के थोड़े बहुत जमा किए हुए पैसे निहारिका के अस्पताल के बिल में ही खत्म हो गए।

वो पहले से ही एनिमिया की शिकार थी और टायफाइड से और भी ज्यादा पतली हो गई, उसकी ज़र्जर काया जैसे ही बिस्तर से उठने का प्रयास करती चक्कर खाकर जमीन पर गिर पड़ती।

अब नंदन की जिम्मेदारी दोहरी हो गई उसे घर का काम करके अपने दफ़्तर जाना पड़ता ऐसा तीन महीने तक चलता रहा। तब उसने सोचा कि शायद बादाम खाने के बाद निहारिका मजबूत हो जाए, तो वो दफ़्तर जाने से पहले दो बादाम भिगोकर रख जाता जिसे बड़े ही विश्वास के साथ निहारिका खा लेती, एक बार ऑफिस से आते वक्त नंदन के पैर में फ्रैक्चर आ गया और उसके ऑफिस वालों ने उसका प्लॉस्टर करके उसे घर पहुंचाया उसके हाथों में भी सूजन थी।

उसे ऐसी हालत में देखकर निहारिका घबरा गई और अपने बिस्तर से धीरे से उठकर उसके हाथ में पानी का गिलास दिया। नंदन अभी भी निहारिका के लिए ही फ़िक्रमंद था कि वो उसका ध्यान कैसे रखेगा। धीरे- धीरे निहारिका ने अपनी हिम्मत बढ़ाई और शाम का खाना जमीन पर बैठकर बनाया वो धीरे- धीरे रोटी बेलकर एक थाली में रखने लगी और फिर उन्हें सेंकने लगी। थोड़ी देर दाल छौंक कर कूकर पर चढ़ा दी, वो काफी दिनों से बिस्तर पर थी तो उसे काफी थकान महसूस हो रही थी लेकिन उसे विश्वास था की बादाम खाने के बाद वो अब स्वस्थ हो रही है, उसने अपने हाथों से नंदन को खाना खिलाया क्योंकि नंदन के हाथों में पट्टियां बंधी थी, धीरे धीरे वो घर के पड़ोस की दुकान से सब्जियां और किराना भी खरीदकर लाने लगी, सूरज किरणें मानों उसके कमजोर शरीर में नई उर्जा भर रही हो, धीरे धीरे निहारिका पूरी तरह स्वस्थ हो गई और नंदन की चोट भी ठीक हो गई और दोनों की ज़िंदगी फिर पटरी पर आ गई।

दो बादाम सिर्फ पोषण का साधन नहीं थे अपितु त्याग, विश्वास और समपर्ण की कहानी भी कहते थे जो नंदन और निहारिका ने मिलकर लिखी।

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति

से कोई संबंध नहीं है।

आप मेरी इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर जाकर भी पढ़ सकते हैं।

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post_26.html

दो बादाम एक- एक अनोखी प्रेम कहानी

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/05/blog-post_26.html

दो बादाम एक- एक अनोखी प्रेम कहानी

अगला लेख: प्रेम का आखिरी पड़ाव



thanks

अच्छा और एक सकारात्मक संदेश देने वाली कहानी ---

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
17 मई 2020
अपने स्टील के डब्बेमें रखे कुछ गुलाब जामुन में से एक को निकालकर प्रीति ने अनिमेष के हाथ मेंजबर्दस्ती थमा दिया। उसके बाद अपने दो साल के बच्चें को खिलाने के बाद अपने पति केजबरन मुंह में ठूंस दिया। ऐसी मिठाई खाकर भी ख़ुश नहीं महसूस कर रहा था अ
17 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
22 मई 2020
सुरेश की उम्र करीब तीस साल और कद 5 फीट 4 इंचथा, सामने से सिर पर बाल थोड़े कम हो रखे थे, एक लंबा कुर्ता और खादी का झोला,हमेशा यही लुक था उसका। ज्यादातर उन विषयों पर लिखना पसंद करता था जिस पर लोगध्यान ही नहीं द
22 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
09 जून 2020
पक्षियों की एक बड़ी दुकान के बाहर लगे बोर्ड पे लिखा था- “100 रूपये में 100 देसी पक्षी खरीदने का सुनहरा अवसर।”लेकिन जब रोहन ने ऐसा सुनहरा अवसर देखा तब उसने पक्षियों को खरीदने का फैसला किया। जब उसने दुक
09 जून 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
16 मई 2020
शशांक ने कहा “हैलो स्मिता मैं बैंगलुरु पहुंच गयाहूं। यहां की एक फ़ार्मा कपंनी में मैनेज़र के तौर पर मेरा प्रमोशन हो गया है,30 साल का हो गया हूं। कोई अच्छी सी लड़की बताओं ना बिल्कुल तुम्हारीतरह”। “मैं क्या को
16 मई 2020
21 मई 2020
“कम्मो...अरी क्या हुआ...? कुछ बोल तो सही... कम्मो... देख हमारेपिरान निकले जा रहे हैं... बोल कुछ... का कहत रहे साम...? महेसकब लौं आ जावेगा...? कुछ बता ना...” कम्मो का हाल देख घुटनोंके दर्द की मारी बूढ़ी सास ने पास में रखा चश्मा चढ़ाया, लट्ठीउठाई और चारपाई से उतरकर लट्ठी टेकती कम्मो तक पहुँच उसे झकझोरने
21 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
08 जून 2020
मे
पुराने समय की बात हैनगर में सेठ ध्यानचंद रहते थे। वो अपने एक बेटे और पत्नी के साथ सुखमय जीवन व्यतीतकर रहे थे। उनकी दो बेटियां भी थी जिनका विवाह हो चुका था। उनके पुत्र का विवाह भीपड़ोसी शहर में रहने वाले कुलीन घर की कन्या से हुआ था। उनकी बेटे के भी दो छोटे –छोटे पुत्र थे।
08 जून 2020
18 मई 2020
आज मनोहर घरआया तो उसकी मां उसे देखकर हक्की बक्की रह गई, चेहरे की हवाईयां उड़ी हुई और कपड़ों पर मिट्टीऔर धूल के धब्बे ऐसे प्रतीत हो रहे थे किमानो मिट्टी में लोट कर आया हो।तब उसकी मांने पूछा बेटा “ये क्या हाल
18 मई 2020
18 मई 2020
आज मनोहर घरआया तो उसकी मां उसे देखकर हक्की बक्की रह गई, चेहरे की हवाईयां उड़ी हुई और कपड़ों पर मिट्टीऔर धूल के धब्बे ऐसे प्रतीत हो रहे थे किमानो मिट्टी में लोट कर आया हो।तब उसकी मांने पूछा बेटा “ये क्या हाल
18 मई 2020
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x