प्रगति का सोपान सकारात्मकता

27 मई 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रगति का सोपान सकारात्मकता

प्रगति का सोपान सकारात्मकता

व्यक्ति के लिए हर दिन - हर पल एक चुनौती का समय होता है | और आजकल के समय में जब सब कुछ बड़ी तेज़ी से बदल रहा है - यहाँ तक कि प्रकृति के परिवर्तन भी बहुत तेज़ी से ही रहे हैं - इस सारे बदलाव और जीवन की भागम भाग के चलते मनुष्य के मन में बहुत सी शंकाएँ अपने वर्तमान और भविष्य को लेकर घर करती जा रही हैं | इन्हीं शंकाओं के कारण हम सब अनेक प्रकार की नकारात्मकताओं के शिकार भी होते जा रहे हैं |

किन्तु इस सबसे घबराकर निष्कर्मण्य होकर बैठ रहना, किसी तनाव का शिकार होकर बैठ रहना या अपने आप पर से विश्वास उठा लेना - कि नहीं, हमसे ये नहीं होगा - ये सब स्वस्थ मानसिकता के लक्षण नहीं हैं | हमें साहस और समझदारी के साथ हर चुनौती का सामना करते हुए आगे बढ़ते रहने का प्रयास करना चाहिए - क्योंकि जीवन गतिशीलता का ही नाम है | और इसका एक ही उपाय है - आशावान बने रहकर हर परिस्थिति में से कुछ सकारात्मक खोजने का प्रयास किया जाए | सकारात्मकता का एक सिरा भी यदि हाथ में आ गया तो उसके सहारे आगे बढ़ने का और उस परिस्थिति या व्यक्ति के अन्य सकारात्मक पक्षों को ढूंढ निकालने का कार्य किया जा सकता है | और यदि अधिक सकारात्मकता नहीं भी दीख पड़ती है - क्योंकि हम स्वयं बहुत सी शंकाओं से घिरे हुए हैं - तो जो सिरा हाथ आया है उसे ही मजबूत बनाने का प्रयास करेंगे तो अन्य नकारात्मकताएँ सकारात्मकता में परिणत होती जाएँगी |

इसका अर्थ यह नहीं हुआ कि परिस्थिति की नकारात्मकताओं के साथ समझौता किया जाए | नहीं, बल्कि उन्हें सकारात्मक बनाने का प्रयास करना है | क्योंकि जीवन में कभी भी सब कुछ सकारात्मक या मनोनुकूल नहीं उपलब्ध होता है | और नकारात्मकताओं के धागे इतने एक दूसरे से बँधे हुए होते हैं कि एक धागे को खींचेंगे तो सारा का सारा आवरण उधड़ता चला जाएगा और तब सारे तार ऐसे उलझ जाएँगे कि उन्हें सुलझाना असम्भव हो जाएगा |

इसीलिए हमारे मनीषियों ने कहा है कि सुख और दुःख, सफलता और असफलता सबमें समभाव रहते हुए कर्तव्य कर्म करते रहना चाहिए | मन को शान्त करने का अभ्यास करते रहना चाहिए | अच्छा बुरा सब पानी के बुलबुले के समान है जो नष्ट होना ही है | हम सबका ध्येय वो बुलबुला नहीं है, उसके पीछे का वो गहरा और अथाह समुद्र है जिसकी हलचल इस सबका कारण है - जिसकी सतह पर ये बुलबुले दीख पड़ते हैं |

सकारात्मकता और नकारात्मकता के फेर में पड़कर हमारी खोज प्रायः उन वस्तुओं या परिस्थितियों पर केन्द्रित होकर रह जाती है जो वास्तविक नहीं हैं और इसी कारण असंतुष्टि का भाव बना रहता है - जो मानसिक तनाव का सबसे बड़ा कारण है |

वास्तव में जिन्हें हम सकारात्मक और नकारात्मक कहते हैं, सफलता और असफलता कहते हैं - उनमें से कुछ भी वास्तविक नहीं है | केवल मात्र हमारे स्वयं के "अहं" - जिसे ईगो कहा जाता है - की सन्तुष्टि और असन्तुष्टि की उपज होती है | या फिर हमारे परिवार, गुरुजनों, समाज आदि ने हमारे मन में कहीं बहुत गहराई में इसे आरोपित कर दिया होता है | जिस दिन हम इस यथार्थ को समझ गए उस दिन न केवल हमारा मन शान्त हो जाएगा, बल्कि हम हर वस्तु, हर व्यक्ति और हर परिस्थिति में समभाव रहकर केवलमात्र सकारात्मक विचारों और भावों के साथ जीना सीख जाएँगे | यह कार्य कठिन हो सकता है, किन्तु अभ्यास करेंगे तो असम्भव भी नहीं होगा...

हम सभी हर परिस्थिति में सकारात्मकता बनाए रखें यही कामना है... क्योंकि जीवन में प्रगति का एक सोपान यही है...

प्रगति का सोपान सकारात्मकता

अगला लेख: Acupressure



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
21 मई 2020
“कम्मो...अरी क्या हुआ...? कुछ बोल तो सही... कम्मो... देख हमारेपिरान निकले जा रहे हैं... बोल कुछ... का कहत रहे साम...? महेसकब लौं आ जावेगा...? कुछ बता ना...” कम्मो का हाल देख घुटनोंके दर्द की मारी बूढ़ी सास ने पास में रखा चश्मा चढ़ाया, लट्ठीउठाई और चारपाई से उतरकर लट्ठी टेकती कम्मो तक पहुँच उसे झकझोरने
21 मई 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
26 मई 2020
प्रस्तुत है एक रचना - अनन्त की यात्रा | योग और ध्यान के अभ्यास में हम बात करते हैं सात चक्रों की... कोषो की...उन्हीं सबसे प्रेरित होकर कुछ लिखा गया, जो प्रस्तुत है सुधीश्रोताओं और पाठकों के लिए...https://youtu.be/Am8VnQlAElM
26 मई 2020
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
30 मई 2020
आज पुनः ध्यान के अभ्यास परवापस लौटते हैं | ध्यान केलिए अनुकूल आसनों पर हम बात कर रहे थे | आज बात करते हैंध्यान के अभ्यास के लिए उचित समय की | ये बात सत्य है कि ध्यान के साधक कोब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर छोड़ देना चाहिए और दैनिक कृत्यों के बाद योग और ध्यानके अभ्यास आरम्भ कर देने चाहियें | 24 घंटे में 1
30 मई 2020
28 मई 2020
लॉक डाउन के दौरान टाइम मैनेजमेंटहम आज बात कर रहे हैं टाइम मैनेजमेंट की | आज प्रायः लोगों को कहतेसुना जाता है कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, लेकिन क्याकरें – हमारे पास समय ही नहीं है | कार्य की सफलता और लक्ष्य प्राप्ति की यदि बातकरते हैं तो हमें आज की समस्याओं को भी समझना होगा | आज केसमय में जो लोग
28 मई 2020
07 जून 2020
हीरों के हारोंसी चमकें फुहारें, और वीणा के तारों सी झनकें फुहारें |धवल मोतियों सी जो झरती हैं बूँदें, तो पाँवों में पायल सी खनकें फुहारें ||कोयल की पंचम में मस्ती लुटातीं, तो पपिहे की पीहू में देतीं पुकारें |कली अनछुई को रिझाने को देखो षडज में येभँवरे की देतीं गुंजारें ||(पूरा सुनने केलिए नीचे दिए ल
07 जून 2020
28 मई 2020
लॉक डाउन के दौरान टाइम मैनेजमेंटहम आज बात कर रहे हैं टाइम मैनेजमेंट की | आज प्रायः लोगों को कहतेसुना जाता है कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, लेकिन क्याकरें – हमारे पास समय ही नहीं है | कार्य की सफलता और लक्ष्य प्राप्ति की यदि बातकरते हैं तो हमें आज की समस्याओं को भी समझना होगा | आज केसमय में जो लोग
28 मई 2020
14 मई 2020
डा
डा0 नन्द किशोर नवल जी की यादेंविजय कुमार तिवारीपरमादरणीय मित्र,प्रख्यात आलोचक और साहित्यकार डा.नन्द किशोर नवल जी नहीं रहे।मेरा तबादला धनबाद से पटना हुआ था।9अप्रैल 1984 की शाम में बी,एम.दास रोड स्थित मैत्री-शान्ति भवन में प्रगतिशील लेखक संघ की ओर से"राहुल सांकृत्यायन-जयन्ती"का आयोजन था।भाई अरुण कमल,ड
14 मई 2020
16 मई 2020
श्
श्यामा नाम था उसका, ठीक उसके श्वेत रंग केविपरीत, हर दिन हमारे घर के सामने आ खड़ी होती। ऐसा उसने करीब 10 दिन तक किया,हमने कहा ये तो अब पराए घर जा चुकी है फिर यहां क्यों आती है तो घर वालों ने कहाकि ये गाय है इंसान नहीं जो किसी को इतनी जल्दी भूल जाए, भूलना तो इंसानी फ़ितरतहै
16 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x