लक्ष्मण शक्ति भाग -३९ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (403 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण शक्ति भाग -३९ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ३९* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


मेघनाद ने जब सुना कि राम *लक्ष्मण* नागपाश से मुक्त हो गये तो उसे क्रोध के साथ-साथ आश्चर्य भी हुआ | उसने मन में दृढ़ निश्चय किया और लंका के गुप्त स्थान पर स्थित देवी निकुंभला के मंदिर में बैठकर शत्रुंजय यज्ञ करने लगा | दूसरे दिन लंका की ओर से कोई भी बीर लड़ने नहीं आया तो श्रीराम को आश्चर्य हुआ | श्रीराम ने कहा विभीषण ! क्या रावण ने पराजय स्वीकार कर ली है ? क्योंकि आज कोई भी वीर युद्ध क्षेत्र में दिखाई नहीं पड़ रहा है | विभीषण ने कहा :- प्रभो ! रावण एवं मेघनाद पराजय स्वीकार करने वाले नहीं हैं , वह अवश्य कुछ नई रणनीति बना रहे होंगे | अचानक विभीषण की दृष्टि आसमान में धुंएं के बादलों पर गई | विचार मग्न होते हुए विभीषण श्रीराम से कहते हैं :- राघव ! आप पूछ रहे थे कि आज कोई वीर क्यों नहीं आया तो हे श्री राम ! यह धुंएं का समूह आप देख रहे हैं ? *लक्ष्मण* ने कहा यह कैसा धुआँ है ? विभीषण ने कहा ;- हे *लक्ष्मण !* हे राघव !!


*मेघनाद मख करइ अपावन !*

*खल मायावी देव सतावन !!*

*जौ प्रभु सिद्धि होइ सो पाइहि !*

*नाथ वेगि पुनि जीति न जाइहि !!*


विभीषण कहते हैं कि देवताओं को भयाक्रान्त करने वाला मेघनाद लंका की कुलदेवी भवानी निकुंभला का बहुत बड़ा भक्त है | वह गुप्त स्थान पर बैठकर एक अपवित्र तामसिक यज्ञ कर रहा है , उसका यह यज्ञ पूर्ण एवं सफल हो गया तो मेघनाद अजेय हो जाएगा फिर उसे कोई भी जीत नहीं सकता | विभीषण की बात सुनकर श्री राम ने हनुमान , अंगद एवं जामवंत आदिक वीरों को बुलाकर कहा :--


*लछिमन संग जाहुं सब भाई !*

*करहुं विधंस जग्य कर जाई !!*


श्रीराम ने वानर वीरों से कहा :- हे भाई आप लोग *लक्ष्मण* के साथ जाकर मेघनाद के द्वारा किए जा रहे यज्ञ को विध्वंस कर दो | हाथ में धनुष लेकर *लक्ष्मण* जब श्रीराम के सामने आये तो श्रीराम ने *लक्ष्मण* से कहा :--


*तुम्ह लछिमन रन मारेहु ओही !*

*देखि सभय सुर दुख अति मोही !!*

*मारेहु तेहि बल बुद्धि उपाई !*

*जेहि छीजै निसिचर सुन भाई !!*


भगवान श्री राम ने *लक्ष्मण* से कहा :-- *हे लक्ष्मण !* देवताओं को मेघनाद के भय से भयभीत देखकर मुझे बहुत दुख हो रहा है इसलिए आज तुम अपने बल एवं बुद्धि से इंद्रजीत का वध कर दो | श्री राम के मुखारविंद से मेघनाद के वध का आदेश सुनकर देवता पुष्प बरसाने लगे |तीनों लोकों में यह घोषणा हो गई कि आज *लक्ष्मण* द्वारा मेघनाद का वध हो जाएगा क्योंकि आज श्री राम ने मेघनाद के वध का आदेश *लक्ष्मण* को दे दिया है , और श्रीराम *"अनृतं नोक्तं पूर्वम्"* कभी झूठ नहीं बोलते | अपने भैया श्री राम का आदेश एवं आशीर्वाद पाकर *लक्ष्मण* का शरीर रोमांचित हो गया और *लक्ष्मण जी* कहने लगे :---


*आज वधउँ दसकन्धर पूत को ,*

*प्रभु साक्षी मानि के शपथ उठावौं !*

*जौ न हतउँ तेहि रन महँ आज ,*

*तो रघुपति सेवक मैं न कहावौं !!*

*एक नहीं सौ सौ शंकर यदि ,*

*इंद्रजीत कहँ आइ बचावौं !*

*"अर्जुन" आज बचे न निसाचर ,*

*बचे तो मैं फेरि के मुंह न दिखावौं !!*


*लक्ष्मण जी* की प्रतिज्ञा एवं क्रोध देख कर आज चार और प्रसन्नता व्याप्त हो गई | जो दिकपाल , लोकपाल , देवता एवं पृथ्वी जनकपुर तथा पंचवटी में (भरत के प्रति लक्ष्मण का क्रोध) देखकर भयभीत हो गए थे और अपना स्थान छोड़कर भाग जाना चाहते थे वही आज *लक्ष्मण* का क्रोध देखकर भयभीत न होकरके प्रसन्न हो रहे हैं | आज *लक्ष्मण* का क्रोध देखकर यदि सभी देवता एवं दिक्पाल प्रसन्न हो रहे हैं तो उसका कारण यह है कि आज *लक्ष्मण* का क्रोध सकारात्मक है |


*भगवत्प्रेमी सज्जनों !* क्रोध के भी दो स्वरूप होते हैं :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | जहां नकारात्मक क्रोध को मनोविकार कहा गया है वहीं सकारात्मक क्रोध को परम आवश्यक बताया गया है | जीवन में क्रोध का होना भी आवश्यक है क्योंकि यदि समाजविरोधी , नीतिविरोधी लोगों का विरोध न किया जाय तो वे समाज का कोढ़ बन जाते है इसलिए किसी भी प्रकार की कुरीति एवं समाज का अहित करने वालों पर क्रोध अवश्य करना चाहिए | यदि ऐसे समय में भी क्रोध नहीं आता है तो आततायी पूरे समाज को डरपोक मानकर मनमाने कृत्य करने लगता है | हिरणाकश्यप के प्रति भगवान नरसिंह ने क्रोध न किया होता तो वह संपूर्ण सृष्टि के लिए घातक बन गया था | इसीलिए क्रोध का सकारात्मक रूप विध्वंसक नहीं बल्कि सृजनात्मक होता है | आज *लक्ष्मण जी* का क्रोध एक निशाचर का वध उसके भय से तीनों लोकों को छुटकारा दिलाने के लिए है | इसीलिए आज ना तो दिगपाल थरथराये और ना ही धरती कांपी , बल्कि आज *लक्ष्मण* के क्रोध पर देवता गगन से पुष्प वर्षा कर उनका अभिनंदन कर रहे हैं | मेघनाद साधारण योद्धा नहीं है , इसलिए श्री राम को *लक्ष्मण* की सुरक्षा की भी चिंता है , क्योंकि श्रीराम जानते हैं कि जीवन में किसी भी क्षण तनिक भी असावधानी किसी बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकती है | इसीलिए श्रीराम नें जामवंत सुग्रीव एवं विभीषण को बुलाकर कहा :---


*जामवंत सुग्रीव विभीषन !*

*सेन समेत रहेउ तीनिउ जन !!*


श्री राम कहते हैं कि :- हे जामवन्त जी आप सुग्रीव एवं विभीषण जी सेना लेकर हमारे अनुज *लक्ष्मण* के आस-पास ही रहना क्योंकि मेघनाद ने देवताओं को भी परास्त करने में सफलता प्राप्त की है | अतः आप सभी सजग रहते हुए *लक्ष्मण* की सुरक्षा करना | इस प्रकार सब को दिशा निर्देश देते हुए श्री राम ने विदा किया |


*रघुपति चरन नाइ सिरु , चलेउ अनंत तुरंत !*

*अंगद नील मयंद नल , संग सुभट हनुमंत !!*


श्री राम के चरणों में प्रणाम करके हनुमान , अंगद एवं मयंद आदिक वीरों को साथ में लेकर पृथ्वी को धारण करने वाले *श्री लक्ष्मण जी* पृथ्वी का भार हल्का करने के लिए चल पड़े |


*अंगद नील मयंद चले ,*

*सुग्रीव चले कपिदल सब गाजे !*

*रीछराज लंकापति मध्य ,*

*सुमित्रा के लालन वीर विराजे !!*

*आइ गये सोइ गुप्त गुफा ,*

*घननाद जहाँ कुलदेविहिं याजे !*

*"अर्जुन" देखिके कपिदल भीर ,*

*निसाचर सैनिक इत उत भाजे !!*


*लक्ष्मण जी* उस गुफा के बाहर अपनी सेना लेकर पहुंच गए जहां एकांत में मेघनाद कुलदेवी निकुंभला की यज्ञ करके सिद्धियां प्राप्त करना चाहता था | बंदर - भालू की सेना देखकर निशाचर सैनिक (जो गुफा की सुरक्षा में लगे थे)वह भाग खड़े हुए | वानरों की सेना उस तामसिक यज्ञ को विध्वंस करने के लिए गुफा में प्रवेश कर गयी |


*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण चरित्र भाग २८ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य का जीवन कैसा होगा ? उसके क्रियाकलाप कैसे होंगे ? यह उसकी विचारधारा पर आधारित होता है | साहित्य जगत में दो प्रकार की विचारधारा कहीं गई है | प्रथम उत्कृष्ट विचारधारा एवं द
22 मई 2020
22 मई 2020
*इस सम्पूर्ण सृष्टि में ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है मनुष्य | सर्वश्रेष्ठ रचना होने के बाद भी मनुष्य सुखी नहीं है , दुखों का पहाड़ उठाये मनुष्य जीवन जीता रहता है | मनुष्य के दुख का कारण उसकी सुखी रहने की असीमित कामना ही मुख्य है | मानवीय सत्ता की सदा सुखी रहने की कामना नैसर्गिक होती है और यही कामनाय
22 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगव
13 मई 2020
22 मई 2020
*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल
22 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
22 मई 2020
*मानव जीवन में अनेक प्रकार के क्रियाकलाप ऐसे होते हैं जिसके कारण मनुष्य के चारों ओर उसके जाने अनजाने अनेकों समर्थक एवं विरोधी तथा पैदा हो जाते हैं | कभी-कभी तो मनुष्य जान भी नहीं पाता है कि आखिर मेरा विरोध क्यों हो रहा है , और वह व्यक्ति अनजाने में विरोधियों के कुचक्र का शिकार हो जाता है | मनुष्य का
22 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में दुर्लभ ज्ञान सरिता प्रवाहित करते हुए भगवान श्रीराम *लक्ष्मण जी* को माया के विषय में बताने के बाद *ज्ञान* के विषय म
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*अद्भुत एवं अलौकिक ज्ञानगंगा में स्नान करके *लक्ष्मण जी* प्रेम मगन हो गये | अपलक भगवान श्रीराम को निहारते हुए *लक्ष्मण जी* भगव
13 मई 2020
13 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य विवेकवान प्राणी है कोई भी क्रिया कलाप सम्पादित करने के पहले मनुष्य को विवेक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए | आज की आधुनिकता की अंधी दौड़ में प्रतिक्षण सावधान रहने की आवश्यकत
13 मई 2020
13 मई 2020
*धरती पर मनुष्य ने जहाँ एक ओर विकास की गंगा बहाई है वहीं दूसरी ओर विनाश का तांडव भी किया है | आदिकाल से ही समय समय पर अपनी प्रभुता सिद्ध करने के लिए यहाँ युद्ध भी होते रहे हैं | हमारे देश भारत के इतिहास में वैसे तो अनेक युद्ध हुए हैं परंतु "महाभारत" (प्रथम विश्व युद्ध) जैसा दूसरा युद्ध न तो हुआ है औ
13 मई 2020
13 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २४* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पंचवटी में भगवान श्रीराम ने *लक्ष्मण जी* को जो दिव्य उपदेश दिया उसे *अध्यात्म रामायण* में *रामगीता* कहा गया है | *लक्ष्मण जी*
13 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*श्री राम जी *लक्ष्मण* को गोद में लेकर विलाप कर रहे हैं ! नर लीला करते हुए श्री राम कहते हैं हे *भैया लक्ष्मण !* उठ जाओ क्यों
22 मई 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* सुषेण वैद्य के उपचार से स्वस्थ हो गये , यह खबर जब लंका में पहुंची तो :--*यह वृत्तांत दशानन सुनेऊ !**अति विषाद पु
28 मई 2020
14 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३०* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* जैसे ही सीता जी के पास से हटे अवसर देखकर रावण आया और सीता का हरण हो गया | सीता का हरण तभी हुआ जब सीता जी ने *लक्
14 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* मेघनाथ के सम्मुख जाकर अपने धनुष की टंकार से युद्ध की घोषणा करते हैं | मेघनाथ ने कहा :- *लक्ष्मण !* मैं तुम्हारी
22 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३५* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*समुद्र के बताए मार्ग का अनुसरण करते हुए नल नील को अगुवा बनाकर समुद्र पर विशाल एवं अकल्पनीय सेतु का निर्माण करके वानर सेना के
22 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x