लक्ष्मण चरित्र भाग ४१ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 मई 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (388 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मण चरित्र भाग ४१ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍


🌹 *भाग - ४१* 🌹


🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸


*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*


मेघनाद जब रावण से विदा लेकर युद्ध भूमि की ओर चला तो मार्ग में माता मंदोदरी का महल मिला | मेघनाद में माता को प्रणाम किया | मंदोदरी ने कहा पुत्र ! जब तू जान गया है कि वे भगवान है तो तू ही उनकी शरण में जाकर धर्म का पालन कर ले | मेघनाद की आंखों में अश्रु आ गये | उसने अपनी माता से कहा :- हे माता !:---


*धर्म सिखावत मोंहिं माता ,*

*मैं मानत हौं सब बात तुम्हारी !*

*पर पुत्र का धर्म कठिन जग में ,*

*तजि के आपन सुख संपति सारी !!*

*जो विमुख होय अपने पितु से ,*

*नहिं क्षमा करइं तेहि कहँ असुरारी !*

*"अर्जुन" कर्तव्य यही सुत कै ,*

*पितु चरनन महँ जाऊं बलिहारी !!*


इस प्रकार माता को समझाकर मेघनाद आगे को बढ़ा तो पत्नी *सुलोचना* मिली | *सुलोचना* जो दैत्य कुलवधू होने के बाद भी बहुत सम्माननीय है | *सुलोचना* का सम्मान संसार में इसलिए है क्योंकि उसने अपने पति को पति न मानकर अपना भगवान माना था | *सुलोचना* को यह ज्ञान था कि पत्नी पति की परछाई होती है | पति के अनुकूल ही पत्नी को रहना चाहिए | पत्नी का वैसे तो कई धर्म होता है परंतु यदि मुख्य धर्म देखा जाए तो तुलसीदास जी बताते हैं :----


*एकहि धर्म एक व्रत नेमा !*

*कायँ वचन मन पति पद प्रेमा !!*


पत्नी का एक ही धर्म , एक ही व्रत एवं एक ही नियम होता है कि शरीर , वचन एवं मन से पति के अनुकूल रहते हुए उनके चरणों में प्रेम करना | यदि दुर्भाग्य से किसी भी स्त्री को वृद्ध , रोगी , मूर्ख , निर्धन , अंधा , बहरा क्रोधी एवं अत्यंत दीन पति भी मिल गया हो तो स्त्री को कभी भी जाने - अनजाने अपने पति का अपमान नहीं करना चाहिए | यदि ऐसा होता है तो :---


*ऐसेहुँ पति कर किये अपमाना !*

*नारि पाव जमपुर दुख नाना !!*


यदि पत्नी के द्वारा ऐसे भी पति का अपमान होता है तो पत्नी यमपुरी में अनेक प्रकार के कष्ट पाती है | इन सभी नियमों का पालन करने वाली *सुलोचना* को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है | मेघनाद ने कहा:- *प्रिये सुलोचना !* हमें ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आज हमारा अंतिम मिलन है | इस समय तुम्हारा यही कर्तव्य है कि तुम एक वीर योद्धा की पत्नी की भाँति हमें हंस कर विदा करो | सुलोचना ने कहा :- स्वामी ! मेरा कर्तव्य है पति की प्रत्येक इच्छा के अनुसार अपनी इच्छा रखना , क्योंकि विवाह मिले सात वचनों के बदले आपने भी हमसे पांच बचन लिए थे | उन्हीं वचनों में एक है :---


*तव चित्तं मम् चित्तं वाचा वाच्यं न लोपयेत् !*

*व्रते में सर्वदा देयं हृदयं स्वं वरानने !!*


अर्थात हे स्वामी ! आप ने वचन लिया था कि :- हे वरानने ! तुम आज और इसी समय से अपना चित्त मेरे चित्त के अनुसार रखना , हमारी सम्मति में ही तुम्हारी सम्मति रहे | मेरी आज्ञा का कभी उल्लंघन मत करना तथा मैं जो कुछ भी कहूं , जो भी करूं उसी में सहमति प्रदान करते हुए जीवन यापन करना ही तुम्हारा परम कर्तव्य है | *सुलोचना* ने कहा :- स्वामी ! हमें वह वचन याद है मैं आपके कर्तव्य पथ पर रुकावट कैसे बन सकती हूं ? जाइए स्वामी यह *सुलोचना* आपको आपके कर्तव्य पथ पर हंसते हुए विदा कर रही है | इस प्रकार मेघनाद की पत्नी *सुलोचना* ने अपने पति को विदा किया | मेघ की भाँति गर्जना करके देवताओं को भी भयभीत कर देने वाला मेघनाद , युद्ध जिसके लिए खेल की भांति था आज वही मेघनाद भारी मन से अपनी मृत्यु को निश्चित मानकर युद्ध की ओर जा रहा है |


*भगवत्प्रेमी सज्जनों !* इस संसार में यदि कुछ सत्य है वह है मृत्यु | बड़े से बड़े बलवान भी मृत्यु को सामने देखकर भयभीत हो जाते हैं | आज मेघनाद को भी *लक्ष्मण* के रूप में अपनी मृत्यु दिखाई पड़ने लगी | मेघनाद एक वीर योद्धा था मृत्यु को सामने पाकर भी वह अपने राष्ट्र एवं पिता के लिए उससे *(लक्ष्मण)* युद्ध करने के लिए पहुंच गया | *लक्ष्मण* ने देखा कि मेघनाद युद्धभूमि में आ गया है तो वे भी सावधान हो गये | अपने धनुष पर बाण चढ़ाकर मेघनाद को ललकार करके *लक्ष्मण जी* ने कहा :---


*लाज न आवत तोंहिं निसाचर ,*

*पीठ देखावत है रन माहीं |*

*बीच माँ छाँड़ि के युद्ध भजेउ ,*

*घननाद ई वीर के लच्छन नाहीं !!*

*वीर लड़इं अपने पन पर ,*

*नहिं तनिकउ प्रान कै मोह कराहीं !*

*"अर्जुन" हम आज बधब तुंहका ,*

*तोंहिं ब्रह्मा और रुद्र बचाइ न पाहीं !!*


*लक्ष्मण जी* ने मेघनाद से कहा :- सावधान हेकर युद्ध कर , आज तू चाहे जितना भाग ले परंतु तू बच नहीं पाएगा | मेघनाद ने कहा :- *लक्ष्मण !* मैं कायर नहीं हूं | यदि तुझे अपने भैया की आन है तो हमें अपने देश की आन है | सच्चा देशभक्त वही होता है जो अपने जीते जी अपने शत्रु को अपने देश की सीमा में न घुसने दे | *लक्ष्मण !* अपने देश की सुरक्षा एवं सम्मान के लिए मेरे प्राण भी चले जाएंगे तो मुझे चिंता नहीं है , परंतु तुम मेरे जीवित रहते लंका में प्रवेश नहीं कर सकते | ऐसा कहकर मेघनाद *लक्ष्मण* से युद्ध करने लगा | और युद्ध साधारण नहीं था |


*विविध वेष धरि करइ लराई !*

*कबहुँक प्रगट कबहुँ दुरि जाई !!*


भाँति - भाँति के रूप धारण करके मेघनाद युद्ध करने लगा | कभी वह छुपकर लड़ता है तो कभी सामने आकर | उसके इस विकराल युद्ध को देखकर देवता भयभीत हो गये और *लक्ष्मण जी* से प्रार्थना करने लगे !:----


*बहुत खेलायहु नाथ निशाचर ,*

*अब जनि नाथ लगावहुँ देरी !*

*तीनहुँ लोक भयो भयभीत ,*

*सुनहुँ धरनीधर इन कर टेरी !!*

*शत्रु विनाशक शेष महीधर ,*

*अब हम आए शरण में तेरी !*

*"अर्जुन" नासहुँ रावण पूत को ,*

*बचि नहिं पावइ यह पुनि फेरी !!*


देवता कहने लगे कि *लक्ष्मण जी !* आप की महिमा अनंत है ! हे नाथ इस दुर्दांत निशाचर को मारने में विलंब न कीजिए कहीं यह फिर ना बच जाय | देवताओं की विनती सुनकर *लक्ष्मण जी* को बहुत क्रोध आया और *लक्ष्मण जी* ने :--


*सुमिरि कोसलाधीस प्रतापा !*

*सर सन्धान कीन्ह करि दापा !!*


भगवान श्री राम के प्रताप स्मरण करके *लक्ष्मण जी* ने वीरोचित दर्प करके सर का सन्धान कर दिया | वह बाण जाकर मेघनाद के सिर एवं भुजा को काटकर वापस उनके तरकश में आ गया | मेघनाद का सिरविहीन धड़ रथ में गिर पड़ा | देवता *लक्ष्मण जी* की जय जयकार करते हुए पुष्प वर्षा करने लगे |


*शेष अगले भाग में :----*


🔥♻️🔥♻️🔥♻️🔥♻🔥️♻️🔥


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: लक्ष्मण चरित्र भाग २८ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य विवेकवान प्राणी है कोई भी क्रिया कलाप सम्पादित करने के पहले मनुष्य को विवेक का प्रयोग अवश्य करना चाहिए | आज की आधुनिकता की अंधी दौड़ में प्रतिक्षण सावधान रहने की आवश्यकत
13 मई 2020
15 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३१* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*दुर्वासा के श्राप से श्रापित कबंध राक्षस का वध करके श्री राम एवं *लक्ष्मण जी* मतंग ऋषि के आश्रम पहुंचे जहां परम भक्ता शबरी जी
15 मई 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४३* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*पुत्र मेघनाद एवं पुत्रवधू सुलोचना की सद्गति के बाद रावण स्वयं युद्ध क्षेत्र में आ गया और श्रीराम से उसका घनघोर युद्ध हुआ | अ
28 मई 2020
22 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३६* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* मेघनाथ के सम्मुख जाकर अपने धनुष की टंकार से युद्ध की घोषणा करते हैं | मेघनाथ ने कहा :- *लक्ष्मण !* मैं तुम्हारी
22 मई 2020
22 मई 2020
*इस सम्पूर्ण सृष्टि में ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है मनुष्य | सर्वश्रेष्ठ रचना होने के बाद भी मनुष्य सुखी नहीं है , दुखों का पहाड़ उठाये मनुष्य जीवन जीता रहता है | मनुष्य के दुख का कारण उसकी सुखी रहने की असीमित कामना ही मुख्य है | मानवीय सत्ता की सदा सुखी रहने की कामना नैसर्गिक होती है और यही कामनाय
22 मई 2020
22 मई 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य का जीवन कैसा होगा ? उसके क्रियाकलाप कैसे होंगे ? यह उसकी विचारधारा पर आधारित होता है | साहित्य जगत में दो प्रकार की विचारधारा कहीं गई है | प्रथम उत्कृष्ट विचारधारा एवं द
22 मई 2020
22 मई 2020
*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल
22 मई 2020
17 मई 2020
*मानव जीवन में स्वाध्याय का बहुत बड़ा महत्व है | स्वाध्याय अर्थात स्वयं का अध्ययन करना | हम कौन हैं ?;कहां से आये ?? हमको क्या करना चाहिए ? और हम क्या कर रहे हैं ?? इसका ज्ञान हो जाना ही स्वाध्याय है | सनातन धर्म में स्वाध्याय एक वृहद संकल्पना है | जहां स्वाध्याय का अर्थ स्वयं का अध्ययन करना बताया
17 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x