सदा सुहागन

02 जून 2020   |  शिल्पा रोंघे   (326 बार पढ़ा जा चुका है)

सदा सुहागन

मनीषा और विकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहीं थी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कर रहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में पढ़ाने लगी जिसका उद्देश्य पैसा कमाना नहीं सिर्फ अपनी ज़िंदगी में आए खालीपन को भरना था, जो उसे छोटे बच्चों के बीच रहकर उसे बिल्कुल नहीं सताता था।

मनीषा के माता पिता का बचपन में ही तलाक हो चुका था, उसकी परवरिश अंदर से टूट चुकी औरत ने की थी, हालांकि उसके पिता उससे हर महीने मिलने आया करते थे और उन्हें उनकी ज़रुरत के मुताबिक पैसे देकर चलते बनते थे। मनीषा को अब शादी के नाम से चिढ़ होने लगी थी, उसकी मां हमेशा उसे समझाती रहती कि सबकी शादी असफल हो ये ज़रुरी नहीं।

एक दिन मनीषा के पिता उसके लिए बहुत अच्छे घर का रिश्ता लेकर आए और कहने लगे कि मैं और तुम्हारी मां अब बूढ़े हो चुके है, हमारी ज़िंदगी का अब कोई भरोसा नहीं तुम प्लीज़ हां कह दो लड़का अच्छा है.”

इससे पहले भी वो मनीषा के लिए वो कई रिश्ते ला चुके थे लेकिन वो हर बार कोई ना कोई बहाना बना देती, लेकिन इस बार उसके पिता ऐसा लड़का लेकर आए कि वो कोई भी बहाना ना बना पाए।विकास एक आकर्षक, पढ़ा लिखा,अच्छा ख़ासा कमाने वाला लड़का था।

मनीषा ने टालने के लिए कहा कि उसे लगता है कि शायद उन दोनों के स्वभाव अलग है तो वो दोनों साथ खुश नहीं रह पाए, तब उसके पिता ने कहा कि सारी दुनिया में सबके स्वभाव एक से हो ये ज़रुरी तो नहीं और इस तरह विकास और मनीषा की शादी हो गई दोनों में कभी लड़ाई झ़गड़ा नहीं होता था।

मनीषा को लगा शायद यही उसका सच्चा प्यार है हर शादी का अंजाम तलाक हो ये ज़रुरी तो नहीं। कुछ दिनों बाद मनीषा ने विकास से कहा कि वो सिर्फ काम में ही लगता रहता क्यों ना वो दोनों कही घूमने चले तो विकास हमेशा व्यस्त रहने का बहाना बनाने लगा। एक दिन उसने मनीषा के साथ फ़िल्म देखने जाने का प्लॉन बनाया, मनीषा अपने स्कूल में क्लॉस ख़त्म होने के बाद जल्दी ही घर आ गई उसने काफी देर विकास का इंतज़ार किया थोड़ी देर बाद उसका फ़ोन आया और वो कहने लगा सॉरी डियर आज ऑफिस में बहुत काम है नहीं आ पाउंगा तुम्हें तो पता है आजकल नौकरी करना कितना मुश्किल काम हो गया है

मनीषा ने कहा कोई बात नहीं कभी और चलेंगे.”

इस बात को कई दिन बीत गए और एक दिन मनीषा को पता चला कि उस दिन विकास अपने ऑफिस के दोस्त करण के साथ डिनर पर चला गया, फिर भी वो चुप रही उसे पता था कि बहस करने से रिश्तों में कड़वाहट और भी ज्यादा बढ़ जाती है, विकास उसकी भावनाओं का बिल्कुल भी सम्मान नहीं करता ये बात उसे अच्छी तरह समझ में आ चुकी थी। उसके बाद मनीषा ने उसे कभी बाहर चलने को नहीं कहा। एक दिन उसने अखबार में एक विज्ञापन पढ़ा जिसमें लिखा था सुजाता की कैलीग्राफी क्लॉसेस। उस नंबर पर कॉल किया तो पता चला कि वो तो उसके पास के मुहल्ले की ही क्लॉस थी। मनीषा का पहला दिन था, वहां करीब 50 लड़कियां कैलीग्राफी सीख रही थी, तभी मनीषा ने क्लॉस के अंदर प्रवेश किया और बोली क्या मैं अंदर आ सकती हूं?”

तब सुजाता बोली हां बैठो.

सुजाता की उम्र करीब 60 साल थी, वो कॉटन की साड़ी पहने हुए माथे पर बड़ी सी लाल बिंदी और मांग में सिंदूर और मंगलसूत्र पहने हुए थी।वो काफी मितभाषी लग रही थी, बस अपने काम से काम रखने वाली महिला, इसी तरह मनीषा को कई दिन हो गए कैलीग्राफी सीखते हुए, वहां उसकी दो तीन लड़कियों से दोस्ती भी हो गई।

एक दिन मनीषा क्लॉस में आधा घंटा पहले ही पहुंच गई तभी उसने देखा सुजाता बहुत सुरीला गाना गा रही हैबिल्कुल वैसे जैसे कोयल वसंत ऋतु में गाती हो। तभी अचानक वो मनीषा को देखकर रुक गई बोली "अरे आज तुम जल्दी आ गई."

हां आज मेरे स्कूल की छुट्टी है तो मुझे लगा थोड़ा पहले निकल लूं." मनीषा ने जवाब दिया।

तभी सुजाता ने मनीषा को अपने किचन में बुलाया और कहा "ये लो मठरियां खाओ मैंने बनाई है.

मनीषा भी ख़ुशी ख़ुशी वो मठरियां खाने लगी तभी उसकी नज़र दीवार पर टंगी तस्वीर पर गई, एक बुजुर्ग की तस्वीर दीवार पर लगी थी जिस पर फूलों की माला लगी थी। तब उसे लगा कि ये तस्वीर उनके पति की तो नहीं हो सकती है क्योंकि वो तो सुहागन की तरह रहती है। तभी उसने सकुचाते हुए कहा आंटी ये किसकी तस्वीर है?”

ये मेरे पति की तस्वीर है जो 5 साल पहले इस दुनिया से जा चुके है.” सुजाता ने कहा।

तो आप यहां अकेले रहती हो.” मनीषा ने कहा।

सुजाता ने जवाब दिया हां मेरी बेटी की शादी इसी शहर में हुई तो वो मुझे हर रविवार मिलने आती जाती रहती है.”

मनीषा ने कहा आप इस उम्र में अकेले क्यों रहती हो?

मेरी बेटी मुझे अपने पास बुलाती है लेकिन मुझे अपने स्टूडेंट्स को कैलीग्राफी सिखाकर ही सुकून मिलता है।ये काम मैंने तब शुरू किया था जब मेरे पति को लकवा मार गया था और उनकी नौकरी चली गई थी। मेरी बेटी उस वक्त कॉलेज में ही पढ़ रही थी। घर का खर्च चलाने के लिए मैंने ये क्लॉसेस शुरु की और धीरे- धीरे मुझे ये काम अच्छा लगने लगा और मैं इसे छोड़ ही नहीं पाई. शाम के वक्त मैं दो लड़कियों को गाना गाना भी सिखाती हूं। तुम शायद मेरा सुहागन वाला रुप देखकर हैरान हो ना ? भले ही वो इस दुनिया से चले गए हो लेकिन अभी भी मेरी स्मृतियों में जीवित है। हम दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ा करते थे वहीं से शुरु हुई दोस्ती का सिलसिला शादी में बदल गया, साथ छूट गया लेकिन यादों की परछाई अभी भी मेरे मन में उमड़ती रहती है.

थोड़ी ही देर में और भी लड़कियां वहां आ गई और मनीषा सोचने लगी उसके और विकास के बीच भले ही वो मानसिक लगाव ना हो जो सुजाता का अपने पति के प्रति था, लेकिन दुनिया में शायद निस्वार्थ प्रेम जैसी बात झूठ नहीं है ये उसे आज पता चली, कमाल कि बात है इस दुनिया में दो लोग दिन रात साथ रहकर भी साथ नहीं रहते और कुछ लोग अलग रहकर भी ज़ुदा नहीं होते हैं।

तभी सुजाता ने अपने उस कमरे की तरफ मनीषा को चलने को कहा जहां कैलीग्राफी की क्लॉस लगती थी। पता नहीं क्यों आज उसका ध्यान कैलीग्राफी सीखने में कम लग रहा था बल्की सुजाता की तरफ़ ज्यादा जा रहा था जो उसके घर के आंगन में लगे सदा सुहागन के फूल की तरह लग रही थी।

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।


इस कहानी को आप नीचे दी गई लिंक पर जाकर भी पढ़ सकते हैं।

सदा सुहागन

सदा सुहागन

अगला लेख: मायानगरी के सपनें



बहुत प्रशंसनीय |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
22 मई 2020
सुरेश की उम्र करीब तीस साल और कद 5 फीट 4 इंचथा, सामने से सिर पर बाल थोड़े कम हो रखे थे, एक लंबा कुर्ता और खादी का झोला,हमेशा यही लुक था उसका। ज्यादातर उन विषयों पर लिखना पसंद करता था जिस पर लोगध्यान ही नहीं द
22 मई 2020
22 मई 2020
सुरेश की उम्र करीब तीस साल और कद 5 फीट 4 इंचथा, सामने से सिर पर बाल थोड़े कम हो रखे थे, एक लंबा कुर्ता और खादी का झोला,हमेशा यही लुक था उसका। ज्यादातर उन विषयों पर लिखना पसंद करता था जिस पर लोगध्यान ही नहीं द
22 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
22 मई 2020
सुरेश की उम्र करीब तीस साल और कद 5 फीट 4 इंचथा, सामने से सिर पर बाल थोड़े कम हो रखे थे, एक लंबा कुर्ता और खादी का झोला,हमेशा यही लुक था उसका। ज्यादातर उन विषयों पर लिखना पसंद करता था जिस पर लोगध्यान ही नहीं द
22 मई 2020
10 जून 2020
नरूला साब मैनेजर बने तो मिसेज़ नरूला का जनरल मैनेजर बनना स्वाभाविक ही था. भई मैनेजर की कुर्सी पर बिठाने में धक्का तो मिसेज़ नरूला ने भी लगाया था! शायद इसीलिए उन्हें ज्यादा बधाइयां मिल रही थीं. उन्हीं के दबाव में साब और मेमसाब दोनों बाज़ार गए. मेमसाब ने कुछ नई शर्ट पैन्ट दिलव
10 जून 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
21 मई 2020
“कम्मो...अरी क्या हुआ...? कुछ बोल तो सही... कम्मो... देख हमारेपिरान निकले जा रहे हैं... बोल कुछ... का कहत रहे साम...? महेसकब लौं आ जावेगा...? कुछ बता ना...” कम्मो का हाल देख घुटनोंके दर्द की मारी बूढ़ी सास ने पास में रखा चश्मा चढ़ाया, लट्ठीउठाई और चारपाई से उतरकर लट्ठी टेकती कम्मो तक पहुँच उसे झकझोरने
21 मई 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
11 जून 2020
हि
सबसे पहले हम एक भ्रांति का निवारण जरूरी समझते हैं, लोगों का यह कहना है देवनागरी भाषा को कंप्यूटर की भाषा के रूप में स्वीकार किया गया है। पहले तो हमयह जान ले किमानवीय भाषा और मशीन की भाषा में कोई तादात्म्य नहींहोता।दूसरे यहभी समझ लें कि कंप्यूटर की भाषा में क्या है, केवल देवनागरी के फार्मूला
11 जून 2020
09 जून 2020
पक्षियों की एक बड़ी दुकान के बाहर लगे बोर्ड पे लिखा था- “100 रूपये में 100 देसी पक्षी खरीदने का सुनहरा अवसर।”लेकिन जब रोहन ने ऐसा सुनहरा अवसर देखा तब उसने पक्षियों को खरीदने का फैसला किया। जब उसने दुक
09 जून 2020
15 जून 2020
“चलो यार ज़रा कैंची लाना मैं इसके सामने के थोड़े से बालकाट दूं.”“रेडीहो ना ? पीछे के बाल लंबे ही रहेंगे बस सामने से थोड़ा स्टाइलिशलुक आ जाएगा। क्या है आपका फ़ेस थोड़ा पतला है तो भरा भरा लगेगा.”“बहुत ज्यादा नहीं लेकिन थोड़ा बहुत ज़रुरी है मेक-अप भी,काजल की पतली धार, हल्क
15 जून 2020
19 मई 2020
35 साल की वोऔरत माथे पर बड़ा सा तिलक, आंखों में गहरा काजल लगाकर अपने लंबे केश लहराने लगी।“ हां मुझेमहसूस हो रही है, हां मेरे शरीर में उसका प्रवेश हो चुका है....हां उसकी उपस्थितीमुझे महसूस हो रही है...जय मां...जय मां...” मनोरमा ऐसाकहने लगी।अपने मिट्टीसे बने कमरें में लकड़ी
19 मई 2020
26 मई 2020
उसने उसके भिगोए हुएदो बादाम खा लिए, ये अब उसकी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। वो हमेशाअस्वस्थ रहती थी, वो भी सिर्फ 23 साल की उम्र में जब उसका यौवन और सौंदर्य किसी कोभी प्रभावित कर सकता था लेकिन चांद में दाग की तरह कमजोरी के निशान उसके चेहरे परभी दिखाई देने लगे।उसके
26 मई 2020
20 मई 2020
मा
सचिन को सुबह-सुबह उसके दोस्त का फ़ोन आया वोकहने लगा “अरे वाह तूने तो सच में शहर का नाम रोशन कर दिया”सचिन ने कहा“ अरेक्या हुआ ऐसा”नवनीत ने कहा “तेरा इंटरव्यू छपा था जबलपुर केएक अखबार में”सचिन ने कहा “ओह उसकी बात कररहा है तू”हेडलाईन छपी “शहर
20 मई 2020
23 मई 2020
भो
ठीक 30 बरस की उम्रमें हैजे से उसकी मौत हो गई, गांव से शहर ले जाया गया उसे। इससे पहले कि उसेअस्पताल ले जाया जाता, यमराज ने उसकी जीवन यात्रा को स्वर्ग तक मोड़ दिया, शायदवहीं गया
23 मई 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
21 मई 2020
सुरेखा की शहर के बीचों-बीच कपड़े कीबहुत बड़ी दुकान थी। हर तरह की महंगी साड़ियां और सलवार कमीज के कपड़े वहां मिलतेथे। अच्छी ख़ासी आमदानी होती थी उसकी। क्योंकि अकेले दुकान संभालना मुश्किल था तोउसने कांता को अपनी दुकान पर काम करने के लिए रख लि
21 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x