मेरे अपने ?

08 जून 2020   |  शिल्पा रोंघे   (281 बार पढ़ा जा चुका है)

पुराने समय की बात है नगर में सेठ ध्यानचंद रहते थे। वो अपने एक बेटे और पत्नी के साथ सुखमय जीवन व्यतीत कर रहे थे। उनकी दो बेटियां भी थी जिनका विवाह हो चुका था। उनके पुत्र का विवाह भी पड़ोसी शहर में रहने वाले कुलीन घर की कन्या से हुआ था। उनकी बेटे के भी दो छोटे – छोटे पुत्र थे। सब कुछ अच्छा चल रहा था, लेकिन सेठ को धीरे -धीरे महसूस होने लगा कि उसके बेटे बहू और पत्नी उसकी सेवा तो बहुत करते है लेकिन ऐसा बहुत कम होता था कि वो खाली वक्त में उनसे बात करने को आए हो, ना वो उनसे कभी अपने सुख की बात कहते ना कभी दुख की बात कहते, अपने ही घर में वो पराया सा महसूस करने लगे।

सेठ को एकांत में तपस्या करना बहुत अच्छा लगता था उन्होंने सोचा क्यों ना जंगल में जाकर एक कुटिया बनाई जाए और कुछ दिन तपस्या की जाए, भूखे प्यासे रहकर कुछ दिन तपस्या की तो स्वंय भगवान प्रसन्न होकर प्रकट हुए और उन्होंने पूछा बोलो वत्स तुम मुझसे क्या चाहते हो?”

तभी ध्यानचंद बोले मुझे ऐसी शक्ति दे दो कि मैं सामने वाले का मन पढ़ लूं.”

भगवान ने कहा ठीक है मैं तुम्हें ये वरदान एक वर्ष के लिए देता हूं, याद रखना उससे पहले ना ये शक्ति खत्म होगी और ये अवधी खत्म होने के बाद ना ये शक्ति तुम्हारे पास रहेगी.”

ध्यानचंद बोलो जो आपकी इच्छा प्रभू

कुछ ही देर में भगवान उसकी दृष्टि से ओझल हो गए।

घर जाकर सेठ बहुत खुश थे लेकिन उन्होंने इस वरदान वाली बात किसी को नहीं बताई।

एक दिन उन्होंने उनकी पत्नी को आवाज दी अरे सुनती हो मेरे लिए एक गिलास पानी लाना.”

तभी उनकी पत्नी ने उनके हाथ में पानी लाकर दिया।

सेठ ने कहा कब से आवाज लगा रहा हूं सुनाई नहीं देता है क्या तुमको?”

मैं रसोईघर में थी ये कहकर उनकी पत्नी वहां से चली गई।

वो सोचने लगी कितना क्रोधी है ये इंसान, ज़रा देर क्या हुई तुरंत प्रतिक्रिया दे देते है। बीवी ना हुई कोई नौकरानी ही हो गई। मेरे माता -पिता ने मुझे कैसे इंसान के पल्ले बांध दिया.”

सेठ ने उसके मन की बात जान ली और सोचा कि अब वो उसे किसी काम के लिए परेशान नहीं करेंगे।

अगले दिन उनका पुत्र उनके पास आया कहने लगा पिताजी आपने अभी तक अपनी जमीन मेरे नाम नहीं की है जल्दी ही वसीयत बना दीजिए आपकी उम्र का भी कोई भरोसा नहीं है.”

सेठ ने पलटकर जवाब दिया बना दूंगा थोड़ा वक्त दो.”

तभी उनकाबेटा बिना कुछ बोले चला गया।

तभी सेठ ने उसके मन की बात पढ़ ली, “ओह सब कुछ दबाकर बैठे हुए हैं इन्हें तो हमारी खुशियों से मतलब ही नहीं है ये पिता है या जल्लाद.”

तभी सेठ ने सोचा कि वो कुछ हिस्सा अपने पास रखकर अपने बेटे को दे देंगे।

एक दिन उन्होंने अपनी बहू से कहा कि वो अपनी संपत्ती का कुछ हिस्सा अपनी बहनों को भी देना चाहते है।

तभी बहू ने कहा आपकी जो इच्छा पिताजी.” उसके मन में आया विचार वो पढ़ चुके थे सेवा करे हम मेवा खाएं बहनें, पता नहीं ये इस दुनिया और कितना लंबा जीवित रहेंगे और हमें अपनी उंगलियों पर नचाएंगे.

सेठ का परोपकारी स्वभाव का था लेकिन उसके कंजूस और हमेशा आदेश देने वाले स्वभाव के कारण उनके घर के लोग उनसे थोड़े नाराज़ रहने लगे थे लेकिन ये बात जताते नहीं थे।

सबके विचार जानने के बाद सेठ का मन दुख से भर गया, ओह मैंने ये कैसा वरदान मांग लिया अब तक तो सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन अचानक ही मन कड़वाहट से भर गया है, ये वरदान तो एक साल तक यूं ही चलने वाला है तब तक तो बात और भी ज्यादा बिगड़जाएगी, जाने कितनी अनकही बातें मेरे सामने आ जाएंगी नहीं जानना चाहता मैं और ज्यादा सच.

तभी शाम को उन्होंने अपने बेटे, पत्नी और बहू को बुलाकर कहासुनो मैं एक साल के लिए बनारस जाना चाहता हूं शांति की तलाश में, फिर लौट आउंगा.”

सब ने उनके फ़ैसले को स्वीकार कर लिया ये सोचते हुए कि चलो वो अब कम से कम अपनी इच्छा का जीवन तो जी सकेंगे।

अगले दिन सेठ अपने घर से बनारस की तरफ जाने के लिए निकले सभी ने उनको हंसते हंसते अलविदा कहा।

तभी सेठ ने सोचा सच है कभी अपनों को परखना नहीं चाहिए अगर ऐसा कर लो तो रिश्तों के बीच अपनापन नहीं रह पाता है।

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।

आप मेरी इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर जाकर पढ़ सकते है।

मेरे अपने ?

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/06/blog-post_7.html

अगला लेख: ज़िंदगी कुछ ऐसे सिखाती है।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४२* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*जब शेषावतार बीरवर *लक्ष्मण* ने मेघनाद का सर काटा तो उसे हनुमान जी ने पृथ्वी पर नहीं गिरने दिया क्योंकि भगवान श्रीराम ने कहा थ
28 मई 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३९* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*मेघनाद ने जब सुना कि राम *लक्ष्मण* नागपाश से मुक्त हो गये तो उसे क्रोध के साथ-साथ आश्चर्य भी हुआ | उसने मन में दृढ़ निश्चय कि
28 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
27 मई 2020
इं
कुछ वर्षों पहले कीबात है सज्जनपुर में एक सेठ था जो करोड़ों कमाता था। उसने अपनी सहायता के लिए दीपकनाम के एक सचिव को नियुक्त किया था, क्योंकि सेठ की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने सोचा क्यों नासारी संपत्ति दीपक के नाम कर दी जाए। दीपक उनके बहीखातों का हिसाब तो अच्छी तरहर
27 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
28 मई 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ३८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* सुषेण वैद्य के उपचार से स्वस्थ हो गये , यह खबर जब लंका में पहुंची तो :--*यह वृत्तांत दशानन सुनेऊ !**अति विषाद पु
28 मई 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
27 मई 2020
नर्तकी a अम्बुज जब तीन दिन के बादविभावरी के घर पंहुचा तो वह उससे बिलकुल नहीं बोली और मुँह फुलाये बैठी मेजपोशकाढती रही | वह पास ही कुर्सी पर बैठ गया और मेजपोशखींचते हुए बोला -`` पता है , मैं कल सुबह ही पूरे एक साल के लिए बनारस जारहा हूँ और तुम हो कि काढने से ह
27 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x