आत्महत्या ही क्यों, समाधान क्यों नहीं

15 जून 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (288 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्महत्या ही क्यों,  समाधान क्यों नहीं

आत्महत्या ही क्यों, समाधान क्यों नहीं

कल एक बहुत ही टैलेंटेड कलाकार सुशान्त सिंह राजपूत के असमय निधन के विषय में ज्ञात हुआ | आज भी एक समाचार ऐसा ही कुछ मिला कि द्वारका में किन्हीं IRS Officer ने अपनी कार में एसिड जैसा कुछ पीकर आत्महत्या कर ली इस भय से कि उनके कारण कहीं उनके परिवार को कोरोना का इन्फेक्शन न हो जाए | इस तरह के समाचार सुनते हैं तो सोचने को विवश हो जाते हैं कि लोग ऐसा क्यों करते हैं ? जहाँ तक डिप्रेशन का प्रश्न है तो आजकल की परिस्थितियों में बहुत से लोगों के साथ समस्याएँ हैं | बहुत से लोग अपनी नौकरियों को लेकर चिन्तित हैं कि ऐसा न हो जाए कि उनकी नौकरी चली जाए | जिन लोगों का अपना व्यवसाय है वे उसे लेकर चिन्तित हैं | साथ में कोरोना के इंफेक्शन का भी डर बना हुआ है | लेकिन क्या आत्महत्या ही इसका इलाज़ है ? इसका तो अर्थ ये हुआ कि आप बेहद स्वार्थी हैं क्योंकि आप केवल अपने विषय में ही सोचते हैं | आपके पीछे छूटे आपके परिवार और मित्रों का क्या हाल होगा इस विषय में सोचते हैं कभी ? यदि सोचते तो आत्महत्या जैसा कायराना क़दम कभी नहीं उठाते | सम्भव है आत्महत्या की वक़ालत करने वाले लोग सुशान्त सिंह राजपूत अथवा उब आई आर एस अधिकारी के इस कृत्य को उचित ठहराएँ और इसे बहादुरी का कार्य कहें - क्योंकि ऐसा करने के लिए वास्तव में बहुत साहस की आवश्यकता है | लेकिन क्या ही अच्छा हो यदि इस साहस का उपयोग समस्याओं से मुक्ति के प्रयास में किया जाए | किसी को समस्याओं से मुक्ति सहज ही प्राप्त हो जाती है तो किसी को देर में | लेकिन ईश्वर द्वारा हमारे माता पिता के माध्यम से प्राप्त इस अनमोल मनुष्य जीवन का स्वयं ही इस प्रकार अन्त कर देना हमारी दृष्टि में वास्तव में साहस का नही बल्कि कायरता और स्वार्थ की निशानी है | हम क्यों भावनात्मक रूप से इतने कमज़ोर हो चुके हैं कि समस्याओं की आँधी का हल्का सा झोंका भी हमें ढहा देता है ?

हमें लगता है इसका सबसे बड़ा कारण अकेलापन है | आज अधिकाँश लोग बड़े शहरों में काम के लिए आते हैं और उनमें से भी बहुत से लोग परिवार से दूर अकेले जीवन व्यतीत करते हैं | या फिर पति पत्नी और उनके एक या दो बच्चे | पहले संयुक्त परिवार होते थे तो जो भी समस्या होती थी सबके साथ शेयर की जाती थी और आपसी बातचीत से समस्या का निदान खोज लिया जाता था | धीरे धीरे संयुक्त परिवार एकल परिवारों में बदलते चले गए | उनमें भी आरम्भ में माता पिता उनकी सन्तान और उसके बच्चे एक साथ रहते थे तो वहाँ भी कुछ सहारा मिल जाता था | बेटे के साथ कोई समस्या है किसी भी प्रकार की तो पत्नी और बच्चों के साथ माता पिता से भी उस विषय में बात की जाती थी और माता पिता के अनुभव तथा बेटे या बेटी के आधुनिक समाज और सोच के बीच से कोई रास्ता निकल आता था और समस्या का समाधान बहुत सीमा तक हो जाया करता था | साथ ही भावनात्मक सहारा तो होता ही था |

अभी कुछ लगभग दो दशकों से परिवार बहुत ही सिकुड़ गए हैं | पति पत्नी और उनके एक या दो बच्चे – अधिकाँश में तो एक ही | कई बार तो नौकरी या व्यवसाय के सिलसिले में अकेले ही रहना पड़ जाता है | ऐसे में यदि कार्य से सम्बन्धित अथवा किसी प्रकार की आर्थिक समस्या हो तो उसका अकेले ही सामना करना पड़ता है | माता पिता, पति या पत्नी या बच्चे कोई भी साथ नहीं होता | और इस कोरोना काल में तो ऐसा ही हो रहा है | परिवार के बीच रहते हुए भी जो लोग आजकल “वर्क फ्रॉम होम” कर रहे हैं उन पर कार्य का इतना अधिक बोझ आ गया है कि वे स्वयं अपने आप पर ही ध्यान नहीं दे पा रहे हैं | इस कारण भी आज का युवा वर्ग डिप्रेशन का शिकार होता जा रहा है | इस कारण से पारिवारिक तनावों में भी वृद्धि हुई है और उसके कारण भी लोग अवसाद के शिकार होते जा रहे हैं | ऐसे में जब समस्याएँ उत्पन्न होती हैं तो व्यक्ति अपने आपको बहुत अकेला अनुभव करता है और भावनात्मक रूप से दुर्बल होता चला जाता है |

किन्तु इस सबसे घबराने की आवश्यकता नहीं है | क्योंकि व्यक्ति का जीवन तो उसी प्रकार से चलना है जिस प्रकार की रूपरेखा उस समाज की है जिस समाज के मध्य वो रहता है | उस अकेलेपन की समस्या को तो दूर करना हो सकता है बहुतों के लिए सम्भव न हो | किन्तु ऐसे में यदि कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो आत्महत्या जैसी भावना मन में नहीं आने पाएगी |

जब कभी भी आप स्वयं को अकेला और Depressed अनुभव करें तब उस पल में स्वयं को खो देने और विचारों के घोड़े दौड़ाते रहने अथवा “हमसे कहाँ चूक हो गई जो हमारे साथ ऐसा हुआ” ऐसा सोचते रहने की अपेक्षा ऐसा कुछ करना आरम्भ कर दें जो आपको बहुत अधिक पसन्द है और जिसे करने से आपको ख़ुशी प्राप्त होती है |

अकेलेपन और डिप्रेशन की स्थिति में आप अपनी भावनाओं को सुलझाने के साथ साथ अपने घर को भी करीने से सहेजने का कार्य आरम्भ कर सकते हैं | क्योंकि जब तक आप अपने अकेलेपन और अपनी समस्याओं के कारणों पर विचार करते रहेंगे आप इतने अधिक डिप्रेशन के शिकार हो जाएँगे कि आपको किसी मनोचिकित्सक की शरण में जाने की आवश्यकता पड़ जाएगी |

घर से बाहर खुली हवा में कुछ देर के लिए घूमने निकल जाएँ और मार्ग में जो लोग भी मिलें उनसे सम्पर्क साधकर उनके विषय में जानने का प्रयास करें |

जब भी कभी डिप्रेशन का अनुभव हो तो अपने परिवारजनों और मित्रों से अथवा उन लोगों से सम्पर्क करें जिन्हें आप अपने बहुत निकट समझते हैं और जिन पर आप विश्वास कर सकते हैं | मिलने नहीं जा सकते तो फोन पर ही बात कर सकते हैं | अपनी समस्या से उन्हें अवगत कराएँ – ऐसा करने में किसी प्रकार का संकोच अथवा किसी प्रकार की शर्म का अनुभव न करें | बहुत सम्भव है उनसे किसी प्रकार की सहायता आपको प्राप्त हो जाए | यदि सहायता नहीं भी मिली तो कम से कम वे लोग आपको समझा सकते हैं – आपके मन को शान्त कर सकते है | एक बात और, ध्यान रहे जिस प्रकार ये संसार स्थाई नहीं है उसी प्रकार कोई समस्या भी स्थाई नहीं है |

और सबसे महत्त्वपूर्ण बात, अध्यात्म के मार्ग का अनुसरण आरम्भ कर दें | मन में किसी प्रकार के नकारात्मक विचार न आ सकें इसके लिए कुछ योग, प्राणायाम और ध्यान का अभ्यास आरम्भ कर दें | धीरे धीरे आपका मन स्वतः ही शान्त होना आरम्भ हो जाएगा और आप समस्या के निदान का कोई कारगर उपाय खोजने में समर्थ हो सकेंगे |

तो, कोरोना संकट के इस समय में सकारात्मक सोच अपनाइए, स्वयं को किसी क्रियात्मक कार्य में व्यस्त रखने तथा प्रसन्नचित्त रहने का प्रयास कीजिये ताकि अपने अनमोल जीवन की आप स्वयं रक्षा कर सकें... मानव जीवन बार बार नहीं प्राप्त होता है, उसे यों ही समाप्त कर देना अच्छी बात नहीं है...

अगला लेख: मानसिक शान्ति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
29 जून 2020
देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी,पद्मनाभा एकादशी हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है| प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमेंसे आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़
29 जून 2020
05 जून 2020
हरे भरे पेड़ों पर ही तो पंछी गाते गान सुरीला जी हाँ,मिल जुलकर यदि वृक्षारोपण करते रहे तो पर्यावरण प्रदूषण की समस्या कोई समस्या नहींरह जाएगी... आइये मिलकर संकल्प लें कि हर वर्ष कम से कम एक वृक्ष अवश्य आरोपितकरेंगे और अकारण ही वृक्षों की कटाई न स्वयं करेंगे न किसी को करने देंगे... पर्यावरणदिवस सभी को व
05 जून 2020
24 जून 2020
प्रकृति के समस्त कार्य नियमों में बंधेहोते हैं – एक लय में बंधे होते हैं | लेकिन इसके साथ ही प्रकृति का हर अंग अपनेशर्तों पर प्रवाहमान रहता है | इनका प्रवाह तभी बाधित होता है जब ये अपने चरम सेजा मिलते हैं | कुछ ऐसा ही भाव आज की रचना में है... “नियम प्रकृति का”...https://youtu.be/KshyF0oP6ic
24 जून 2020
19 जून 2020
जीवन में वास्तविक रूप से सफल व्यक्ति कीपहचानजीवन संघर्षों का नाम है | संघर्षों से लड़ते हुए जो व्यक्ति बिना धैर्य खोएआगे बढ़ता रहता है वही व्यक्ति जीवन में सफल होता है - अपने लक्ष्य को प्राप्त करताहै | जो व्यक्ति संकटों और संघर्षों से घबराता नहीं, बाधाओं के उपस्थित होने पर अपना धैर्य नहीं खोने देता उस
19 जून 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
20 जून 2020
मानसिक असन्तुष्टि और अशान्तिहमारा मन वास्तव में स्वयं को किसी न किसी रूप में अपूर्ण - अधूरा -असन्तुष्ट मानने के लिए स्वतन्त्र है । लेकिन क्या डिप्रेस होकर - स्वयं से अथवासमाज या व्यवस्था की ओर से निराश होकर आत्महत्या कर लेना ही इस समस्या का समाधानहै ? संसारतो पहले से ही नाशवान है, स्वयं उस दिशा में
20 जून 2020
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
06 जून 2020
Today WOW India had a session withMrs. Pramila Malik on Acupressure. Mrs. Malik is as trained practitioner andtherapist of Acupressure. She taught us acupressure for knee pain, blood pressure,back pain and to improve our eyesight. Mrs. Pramila Malik’s video and audiowere disturbed due to some Intern
06 जून 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों की असंवेदनशीलता,अहंकार और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ यह लेख मेरा स्वघोषित विद्रोह है।
13 जून 2020
19 जून 2020
जीवन में वास्तविक रूप से सफल व्यक्ति कीपहचानजीवन संघर्षों का नाम है | संघर्षों से लड़ते हुए जो व्यक्ति बिना धैर्य खोएआगे बढ़ता रहता है वही व्यक्ति जीवन में सफल होता है - अपने लक्ष्य को प्राप्त करताहै | जो व्यक्ति संकटों और संघर्षों से घबराता नहीं, बाधाओं के उपस्थित होने पर अपना धैर्य नहीं खोने देता उस
19 जून 2020
23 जून 2020
स्वयं प्रकाशस्वरूप एवं स्वयं प्रकाशित तथा नित्य शुद्ध बुद्ध चैतन्य स्वरूप हमारी अपनी आत्माको किसी अन्य स्रोत से चेतना अथवा प्रकाश पाने की आवश्यकता ही नहीं - और यही हैपरमात्मतत्व - परमात्मा - इसे पाने के लिए कहीं औरजाने की आवश्यकता ही नहीं - आवश्यकता हैतो अपने भीतर झाँकने की - पैठने की अपने भीतर - और
23 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x