सुनो जैसी हो वैसी ही रहना।

15 जून 2020   |  शिल्पा रोंघे   (285 बार पढ़ा जा चुका है)

सुनो जैसी हो वैसी ही रहना।

चलो यार ज़रा कैंची लाना मैं इसके सामने के थोड़े से बाल काट दूं.”

रेडीहो ना ? पीछे के बाल लंबे ही रहेंगे बस सामने से थोड़ा स्टाइलिश लुक आ जाएगा। क्या है आपका फ़ेस थोड़ा पतला है तो भरा भरा लगेगा.”

बहुत ज्यादा नहीं लेकिन थोड़ा बहुत ज़रुरी है मेक-अप भी,काजल की पतली धार, हल्के रंग की लिस्टिक लगाओ ना.”

ज्यादा बहन जी बनकर मत रहो, हां तुम वेस्टर्न ड्रेस ज्यादा अच्छी लगती हो.

स्माइल हां ये लो आ गई तुम्हारी तस्वीर हमेशा ऐसी ही रहा करो मोबाइल पर तस्वीर लेते हुए एक लड़की बोली.

तुम कह रही थी कि हम कितने लकी है कि हमारे बॉयफ्रेंड है अब तुम्हारा भी बन जाएगाबस जैसे हमने कहा है वैसे व्यवहार करना और वैसे ही रहना.”

क्या हुआ तो नर्वस हो गई आप.”

सब लड़कियों की बात स्मिता ने ध्यान से सुन ली।

स्मिता इंदौर के एक प्राइवेट होस्टल में रहती थी जहां रहकर वो फाइन आर्ट्स में पोस्ट ग्रेजुएशन कर रही थी।

वहां ज्यादातर लड़कियां वर्किंग थी, कुछ पढ़ाई भी कर रही थी।

उसकी कस्बाई संवेदनाओं को वो समझ चुकी थी तो सोचा कि उसकी झिझक थोड़ी कम कर दे।

इस बात को एक दिन बीत चुका था अगले दिन स्मिता कॉलेज नहीं गई क्योंकि एक्जाम पास आने की वजह से उसकी छुट्टियां शुरु हो चुकी थी। तभी उसकी एक और सहेली टीना जो कि उम्र में उससे 2-3 साल छोटी थी और एक प्राइवेट फर्म में काम करती थी ने, उसे अपने कमरे में अपने कमरे में बुलाया।

स्मिता ने पूछा ऑफिस नहीं गई आज

टीना ने कहा नहीं सिर में दर्द हो रहा था तो नहीं गई.”

कल की सारी बातें वो सुन चुकी थी वो स्मिता से बोली सुनों सभी लड़कियों की तरह मेरा भी बॉयफ्रेंड है इसलिए नहीं कि सबने बनाया है क्योंकि मुझे उससे और उसे मुझसे प्यार हो गया वो भी जब हमने सोचा नहीं था। प्यार जितना सुहाना दिखता है वो हमेशा हो ऐसा ज़रुरी नहीं रिलेशनशिप में ब्रेकअप भी हो सकता है और पैच-अप भी।

ये ज़रुरी नहीं कि हम किसी की देखा देखी उसी राह पर चल पड़े। अपने आप से ये सवाल पूछना बहुत ज़रुरी है कि हम क्या किसी को सचमुच पसंद करते है और दूसरा इंसान भी हमें और रिश्तें में आए उतार चढ़ाव के लिए क्या हम सचमुच तैयार है। तुम्हारा अकेलापन देखकर सबने तुम्हे सलाह दे डाली अब तुम ये तुम पर है कि तुम रिश्तें में रहकर अकेली महसूस करना चाहती हो या अकेले रहकर ख़ुश रहना चाहती हो? क्योंकि प्यार किया नहीं जाता हैं हो जाता है।

स्मिता ने कहा सच तो है तुम उम्र में मुझसे छोटी हो लेकिन ज्यादा समझदार हो.”

टीना ने कहा सुनो मेरा तो यही कहना है तुमसे जैसी हो वैसी ही रहना क्यों किसी के लिए खुद को बदलना. सबसे ज्यादा ज़रुरी है खुद में ख़ुश रहना तभी हम किसी दूसरे के साथ ख़ुश रह पाएंगे.”

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।

इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर जाकर भी पढ़ सकते हैं....



http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/06/blog-post_14.html

सुनो जैसी हो वैसी ही रहना।

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/06/blog-post_14.html

सुनो जैसी हो वैसी ही रहना।

अगला लेख: ज़िंदगी कुछ ऐसे सिखाती है।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
29 जून 2020
ये कौन ? फिरंगी! हाय राम... जिन्होंने हमारे देश को गुलाम बनाया था। सतीश की 80साली दादी बोली।सतीश “अरे अंग्रेजों को भारत छोड़े हुए कई साल बीत चुके है वो तो बस घुमने फिरनेआते है हमारे देश में, जैसे कि हम उनके देशों की सैर करने जाते हैं." ये हमारेगांव में क्या कर रहा है ? "
29 जून 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
17 जून 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
17 जून 2020
31 मई 2020
“ओह कहां रह गई होगी आखिर वो? सारे कमरे में ढूंढनेके बाद सुधीर ने फिर कहा“अरे सुनती होतुमने कोशिश की ढूंढने की”?“हां बहुत ढूंढ ली नहीं मिली.” रमा ने कहा.थोड़ी देर बाद 17वर्षीय मनोहर जो कि उनका छोटा पुत्र था वो भी आ गया और कहने लगा “पिताजी धर्मशाला के आसपास की जिनती भी दु
31 मई 2020
10 जून 2020
नरूला साब मैनेजर बने तो मिसेज़ नरूला का जनरल मैनेजर बनना स्वाभाविक ही था. भई मैनेजर की कुर्सी पर बिठाने में धक्का तो मिसेज़ नरूला ने भी लगाया था! शायद इसीलिए उन्हें ज्यादा बधाइयां मिल रही थीं. उन्हीं के दबाव में साब और मेमसाब दोनों बाज़ार गए. मेमसाब ने कुछ नई शर्ट पैन्ट दिलव
10 जून 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
08 जून 2020
मे
पुराने समय की बात हैनगर में सेठ ध्यानचंद रहते थे। वो अपने एक बेटे और पत्नी के साथ सुखमय जीवन व्यतीतकर रहे थे। उनकी दो बेटियां भी थी जिनका विवाह हो चुका था। उनके पुत्र का विवाह भीपड़ोसी शहर में रहने वाले कुलीन घर की कन्या से हुआ था। उनकी बेटे के भी दो छोटे –छोटे पुत्र थे।
08 जून 2020
02 जून 2020
मनीषा औरविकास की ज़िंदगी यूं तो बहुत अच्छे से चल रही थी, घर में किसी सुविधा की कमी नहींथी। फिर भी मनीषा को एक अकेलापन हमेशा खाए जाता, विकास भी हाई सैलरी वाली जॉब कररहा था तो वहीं मनीषा एक प्राइमरी स्कूल में प
02 जून 2020
19 जून 2020
अचानक विजय के पास स्मृति का फोन आयाकहने लगी मुझे तुम एयरपोर्ट तक छोड़ दो ना।तब विजय चौंककर बोला “आजअचानक मुझे क्यों कॉल कर रही हो क्या तुम्हारे माता पिता नहीं छोड़ सकते हैतुम्ह
19 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x