ज्ञानी और अहंकारी व्यक्ति में भेद

16 जून 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (275 बार पढ़ा जा चुका है)

ज्ञानी और अहंकारी व्यक्ति में भेद

ज्ञानी और अहंकारी व्यक्ति में भेद

विहाय कामान्यः सर्वान्पुमांश्चलति निःस्पृहः |

निर्ममो निरहङ्कारः स शान्तिमधिगच्छति || श्रीमद्भगवद्गीता 2/71

जो व्यक्ति सभी इच्छाओं और कामनाओं के परित्याग कर निस्पृह भाव से कर्म करता है तथा जिसमें ममत्व और अहंकार नहीं होता वही शान्ति को प्राप्त होता है |

दम्भो दर्पोऽभिमानश्च क्रोधः पारुष्यमेव च |

अज्ञानं चाभिजातस्य पार्थ सम्पदमासुरीम् || श्रीमद्भगवद्गीता 16/4

हे पृथानन्दन ! दम्भ करना, घमण्ड करना, अभिमान करना, क्रोध करना, कठोरता रखना और अविवेक का होना ये सभी आसुरी सम्पदा को प्राप्त हुए मनुष्य के लक्षण हैं |

वास्तव में यही भेद है वास्तविक ज्ञानी व्यक्ति में और ज्ञान के मद में चूर एक अहंकारी व्यक्ति में | ज्ञानी व्यक्ति कभी अपना विवेक नहीं खोता | उसे कभी अपने ज्ञान का अभिमान नहीं होता | यदि उसमें ज्ञान का अभिमान आ गया तो समझना चाहिए कि अब उसके पतन का समय आ गया है और उनकी समस्त उपलब्धियाँ, समस्त सिद्धियाँ और सारी मान प्रतिष्ठा का अब पराभव होने जा रहा है |

व्यक्ति चाहे कितना भी ज्ञानी हो, लेकिन दूसरे के ज्ञान को तुच्छ और अपने ज्ञान को ही श्रेष्ठ नहीं जानना चाहिए, क्योंकि ज्ञान कभी बड़ा या छोटा नहीं होता | यदि हमें किसी तथ्य का – किसी विषय का ज्ञान है तो किसी अन्य को किसी अन्य विषय का ज्ञान हो सकता है | यदि हम किसी कार्य में सिद्धहस्त हैं तो दूसरा किसी अन्य कार्य में कुशल हो सकता है | और इस स्थिति में हम दोनों ही एक स्तर पर होते हैं और एक दूसरे से कुछ न कुछ सीख सकते हैं |

हम जब तक सोचते हैं कि हम अमुक कार्य को करने में सक्षम हैं इसलिए कर रहे हैं तब तक वह ज्ञान कहलाता है | लेकिन जिस पल हमने सोचना आरम्भ कर दिया कि अमुक कार्य को केवल हम ही कर सकते हैं – कोई दूसरा उस कार्य को करने के लिए न तो सक्षम है न उसमें इतनी योग्यता ही है – समझिये उसी दिन से हमारे मन में अहंकार ने जन्म ले लिया | और अहंकार पतन का सबसे बड़ा कारण होता है | ज्ञानी व्यक्ति कभी भी अहंकारी नहीं होता | अहंकारी वही व्यक्ति होता जिसका ज्ञान या तो सतही है – अधूरा है – अथवा जिसने पुस्तकें पढ़कर और गुणीजनों के सान्निध्य में ज्ञानार्जन तो कर लिया और दूसरों को वह ज्ञान बाँटना भी आरम्भ कर दिया, किन्तु उस ज्ञान को स्वयं आत्मसात नहीं किया | ऐसे व्यक्तियों में बहुत शीघ्र "गुरु" कहलाए जाने की भावना भी प्रबल हो जाती है क्योंकि वे स्वयं को सर्वोत्कृष्ट मानने लग जाते हैं और दूसरों को अपने समक्ष हीन अथवा अज्ञानी मानने लगते हैं |

इसे इस प्रकार समझा जा सकता है कि हमें कहीं किसी सभा में किसी कार्यक्रम में आमन्त्रित किया जाए एक विशिष्ट अतिथि के रूप में और मंच पर आसीन हम मान बैठें कि सामने दर्शक दीर्घा में बैठे लोग कुछ नहीं जानते, केवल हम ही सर्वज्ञ हैं - तो इसका अर्थ है कि हम केवलमात्र अहंकारी हैं - ज्ञानवान नहीं | क्योंकि हमें इस बात को समझ लेना चाहिये कि उस सभा में ऐसे ज्ञानवान लोग उपस्थित हैं जो हमारे ही समान अपने अपने क्षेत्रों में अपने अपने विषयों में – और कई बार अनेक विषयों में - पूरा ज्ञान रखते हैं इसीलिए हमारी बात को समझ सकते हैं और इसीलिए उन्होंने हमें अपने मध्य एक अतिथि के रूप में आमन्त्रित किया है |

अहंकार का नाश नहीं किया गया तो वह व्यक्ति का और उसके ज्ञान का नाश कर देता है क्योंकि वह व्यक्ति की विनम्रता समाप्त करके उसे पथभ्रष्ट कर देता है | ऐसा व्यक्ति किसी का भी अपमान कर सकता है, अकारण ही क्रोध और ईर्ष्या की भावना उसके मन में आ सकती हैं और वह स्वयं अपने ही पैरों में कुल्हाड़ी मार सकता है |

इसलिए ज्ञानी व्यक्ति को स्वाभिमानी तो होना चाहिए लेकिन अहंकारी नहीं |

हम सन ज्ञानार्जन करके स्वाभिमानी बनें और अहंकार के मद से दूर रहें यही कामना है...

अगला लेख: मानसिक शान्ति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जून 2020
Birds can't shop – Dr.Dinesh SharmaI wrote these lines seven years ago when I observedhundreds of parrots descending on my Litchi trees and destroying most of thefruits. This continues even today and I barely get a few fruits to taste andeat...Thisparrot I have named RampageSteals my Litchi with bra
03 जून 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
24 जून 2020
प्रकृति के समस्त कार्य नियमों में बंधेहोते हैं – एक लय में बंधे होते हैं | लेकिन इसके साथ ही प्रकृति का हर अंग अपनेशर्तों पर प्रवाहमान रहता है | इनका प्रवाह तभी बाधित होता है जब ये अपने चरम सेजा मिलते हैं | कुछ ऐसा ही भाव आज की रचना में है... “नियम प्रकृति का”...https://youtu.be/KshyF0oP6ic
24 जून 2020
18 जून 2020
सूर्य ग्रहणरविवार आषाढ़कृष्ण अमावस्या को प्रातः दस बजकर बीस मिनट के लगभग सूर्य ग्रहण का आरम्भ होगा जो भारतके कुछ भागों में कंकणाकृति अर्थात वलयाकार दिखाई देगा तथा कुछ भागों में आंशिकरूप से दिखाई देगा और दिन में 1:49 के लगभग समाप्त हो जाएगा | बारह बजकर दो मिनट केलगभग ग्रहण का मध्यकाल होगा | ग्रहण की क
18 जून 2020
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
18 जून 2020
मानसिक शान्तिमानसिक शान्ति - जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है - चाहे वह किसी भीव्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो -विद्यार्थी हो - कोई भी हो - हर किसी का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास केव्यक्तियों पर - समाज पर - मढ़
18 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों के असंवेदनशील और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ ये लेख,मेरा स्वघोषित विद्रोह है।इनलोगों ज़िम्मेदारी कही ज्यादा होती है इसलिए बगैर सोचे समझे कुछ भी बोलने से बचना चाहिए।
13 जून 2020
15 जून 2020
आत्महत्या ही क्यों, समाधानक्यों नहीं कल एक बहुत ही टैलेंटेड कलाकार सुशान्त सिंह राजपूत के असमय निधन के विषयमें ज्ञात हुआ | आज भी एक समाचार ऐसा ही कुछ मिला कि द्वारका में किन्हीं IRS Officer नेअपनी कार में एसिड जैसा कुछ पीकर आत्महत्या कर ली इस भय से कि उनके कारण कहीं उनकेपरिवार को कोरोना का इन्फेक्शन
15 जून 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
29 जून 2020
देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी,पद्मनाभा एकादशी हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है| प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमेंसे आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़
29 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों की असंवेदनशीलता,अहंकार और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ यह लेख मेरा स्वघोषित विद्रोह है।
13 जून 2020
18 जून 2020
मानसिक शान्तिमानसिक शान्ति - जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है - चाहे वह किसी भीव्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो -विद्यार्थी हो - कोई भी हो - हर किसी का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास केव्यक्तियों पर - समाज पर - मढ़
18 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x