मानसिक शान्ति

18 जून 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (285 बार पढ़ा जा चुका है)

मानसिक शान्ति

मानसिक शान्ति

मानसिक शान्ति - जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है - चाहे वह किसी भी व्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो - विद्यार्थी हो - कोई भी हो - हर किसी का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास के व्यक्तियों पर - समाज पर - मढ़ देते हैं | कितना भी ब्रह्म मुहूर्त में प्राणायाम, योग और ध्यान का अभ्यास कर लिया जाए, कितना भी चक्रों को जागृत कर लिया जाए - मन की अशान्ति, क्रोध, चिड़चिड़ापन और कई बार उदासी यानी डिप्रेशन भी - जाता ही नहीं | किन्तु समस्या यह है कि जब तक व्यक्ति का मन शान्त नहीं होगा तब तक वह अपने कर्तव्य कर्म भी सुचारु रूप से नहीं कर पाएगा, क्योंकि मन एक स्थान पर - एक लक्ष्य पर स्थिर ही नहीं रह पाएगा | हमने ऐसे लोग देखें हैं जो नियमित ध्यान का अभ्यास करते हैं, प्राणायाम, ध्यान और योग सिखाते भी हैं - लेकिन उनके भीतर का क्रोध, घृणा, लालच, दूसरों को नीचा दिखाने की उनकी प्रवृत्ति में कहीं किसी प्रकार की कमी नहीं दिखाई देती |

अस्तु, मन को शान्त करने के क्रम में सबसे पहला अभ्यास है मन को - अपने ध्यान को - उन बातों से हटाना जिनके कारण व्यवधान उत्पन्न होते हैं या मन के घोड़े इधर उधर भागते हैं | जब तक इस प्रकार की बातें मन में रहेंगी - मन का शान्त और स्थिर होना कठिन ही नहीं असम्भव भी है | इसीलिए पतंजलि ने मनःप्रसादन की व्याख्या दी है |

महर्षि पतंजलि ने ऐसे कुछ भावों के विषय में बताया है जो इस प्रकार की बाधाओं को दूर करने में सहायक होते हैं | ये हैं - मित्रता, करुणा या संवेदना और धैर्य तथा समभाव | निश्चित रूप से यदि मनुष्य इन प्रवृत्तियों को अपने दिन प्रतिदिन के व्यवहार में अपना लेता है तो नकारात्मक विचार मन में आने ही नहीं पाएँगे | किसी भी व्यक्ति के किसी विषय में व्यक्तिगत विचार हो सकते हैं | यदि उसके उन विचारों से किसी को कोई हानि नहीं पहुँच रही है तो हमें इसकी आलोचना करने का या उसे टोकने का कोई अधिकार नहीं | ऐसा करके हम अपना मन ही अशान्त नहीं करते, वरन अपनी साधना के मार्ग में व्यवधान उत्पन्न करके लक्ष्य से बहुत दूर होते चले जाते हैं |

अतः जब भी और जहाँ भी कुछ अच्छा - कुछ आनन्ददायक - कुछ सकारात्मक ऊर्जा से युक्त दीख पड़े - हमें सहज आनन्द के भाव से उसकी सराहना करनी चाहिए और यदि सम्भव हो तो उसे आत्मसात करने का प्रयास भी करना चाहिए, ताकि हमारे मन में वह आनन्द का अनुभव दीर्घ समय तक बना रहे - न कि अपनी व्यक्तिगत ईर्ष्या, दम्भ, अहंकार आदि के कारण उस आनन्ददायक क्षण से विरत होकर उदासी अथवा क्रोध की चादर ओढ़कर एक ओर बैठ जाया जाए | ऐसा करके आप न केवल उस आनन्द के क्षण को व्यर्थ गँवा देंगे, बल्कि चिन्ताग्रस्त होकर अपनी समस्त सम्भावनाओं को भी नष्ट कर देंगे | आनन्द के क्षणों में कुछ इतर मत सोचिए - बस उन कुछ पलों को जी लीजिये | इसी प्रकार जब कभी कोई प्राणी कष्ट में दीख पड़े हमें उसके प्रति दया, करुणा, सहानुभूति और अपनापन दिखाने में तनिक देर नहीं करनी चाहिए | आगे बढ़कर स्नेहपूर्वक उसे भावनात्मक अवलम्ब प्रदान चाहिए |

इस प्रकार चित्त प्रसादन के उपायों का पालन करके कोई भी व्यक्ति मानसिक स्तर पर एकाग्र तथा प्रसन्न अवस्था में रह सकता है | यदि हमारा व्यवहार ऐसा होगा - यदि इन दोनों बातों का अभ्यास हम अपने नित्य प्रति के जीवन में करेंगे – तो हमारा चित्त प्रसन्न रहेगा – और विश्वास कीजिये - इससे बड़ा ध्यान का अभ्यास कुछ और नहीं हो सकता | इस अभ्यास को यदि हम दोहराते रहते हैं तो कोई भी विषम परिस्थिति हमारा चित्त अशान्त नहीं कर पाएगी - किसी भी प्रकार का नकारात्मक विचार हमारे मन में नहीं उत्पन्न होने पाएगा और हमारा मन आनन्दमिश्रित शान्ति का अनुभव करेगा |

अगला लेख: Birds can't shop – Dr. Dinesh Sharma



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जून 2020
स्थापित लोगों के असंवेदनशील और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ ये लेख,मेरा स्वघोषित विद्रोह है।इनलोगों ज़िम्मेदारी कही ज्यादा होती है इसलिए बगैर सोचे समझे कुछ भी बोलने से बचना चाहिए।
13 जून 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
29 जून 2020
देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी,पद्मनाभा एकादशी हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है| प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमेंसे आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़
29 जून 2020
19 जून 2020
जीवन में वास्तविक रूप से सफल व्यक्ति कीपहचानजीवन संघर्षों का नाम है | संघर्षों से लड़ते हुए जो व्यक्ति बिना धैर्य खोएआगे बढ़ता रहता है वही व्यक्ति जीवन में सफल होता है - अपने लक्ष्य को प्राप्त करताहै | जो व्यक्ति संकटों और संघर्षों से घबराता नहीं, बाधाओं के उपस्थित होने पर अपना धैर्य नहीं खोने देता उस
19 जून 2020
15 जून 2020
आत्महत्या ही क्यों, समाधानक्यों नहीं कल एक बहुत ही टैलेंटेड कलाकार सुशान्त सिंह राजपूत के असमय निधन के विषयमें ज्ञात हुआ | आज भी एक समाचार ऐसा ही कुछ मिला कि द्वारका में किन्हीं IRS Officer नेअपनी कार में एसिड जैसा कुछ पीकर आत्महत्या कर ली इस भय से कि उनके कारण कहीं उनकेपरिवार को कोरोना का इन्फेक्शन
15 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों की असंवेदनशीलता,अहंकार और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ यह लेख मेरा स्वघोषित विद्रोह है।
13 जून 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
11 जून 2020
मैं तोहर पल / मस्ती में भर / बस गाए जा रही हूँ मीठे गान न पतामुझे किसी छन्द का / रच जाते हैं गीत बस यों हीन हीयाद कोई सरगम है / बन जाती है कोई धुन बस यों हीशायदयही है नियति मेरी / बन जाऊँ ऐसी धुन गुनगुनातीरहे जो सदियों तक / हर किसी की यादों में…(पूरी रचना सुनने के लिए क्लिक करें...)https://youtu.be/
11 जून 2020
23 जून 2020
स्वयं प्रकाशस्वरूप एवं स्वयं प्रकाशित तथा नित्य शुद्ध बुद्ध चैतन्य स्वरूप हमारी अपनी आत्माको किसी अन्य स्रोत से चेतना अथवा प्रकाश पाने की आवश्यकता ही नहीं - और यही हैपरमात्मतत्व - परमात्मा - इसे पाने के लिए कहीं औरजाने की आवश्यकता ही नहीं - आवश्यकता हैतो अपने भीतर झाँकने की - पैठने की अपने भीतर - और
23 जून 2020
06 जून 2020
Today WOW India had a session withMrs. Pramila Malik on Acupressure. Mrs. Malik is as trained practitioner andtherapist of Acupressure. She taught us acupressure for knee pain, blood pressure,back pain and to improve our eyesight. Mrs. Pramila Malik’s video and audiowere disturbed due to some Intern
06 जून 2020
16 जून 2020
परांठे पर टैक्स? वो भी 18%? ये तो सरासर अन्याय हो गया. सुबह नाश्ते में परांठा ना हो तो सारा दिन ऐसा महसूस होता है कि नाश्ता ही नहीं किया. कई बार तो परांठे का नाश्ता करने मूरथल भी हो आये. मूरथल ढाबों की तो शान है परांठा. पर जब अखबार पढ़ी तो पता लगा की खबर सही है. 'तैयार' या
16 जून 2020
03 जून 2020
Birds can't shop – Dr.Dinesh SharmaI wrote these lines seven years ago when I observedhundreds of parrots descending on my Litchi trees and destroying most of thefruits. This continues even today and I barely get a few fruits to taste andeat...Thisparrot I have named RampageSteals my Litchi with bra
03 जून 2020
16 जून 2020
ज्ञानीऔर अहंकारी व्यक्ति में भेदविहायकामान्यः सर्वान्पुमांश्चलति निःस्पृहः |निर्ममोनिरहङ्कारः स शान्तिमधिगच्छति || श्रीमद्भगवद्गीता2/71जो व्यक्ति सभीइच्छाओं और कामनाओं के परित्याग कर निस्पृह भाव से कर्म करता है तथा जिसमें ममत्वऔर अहंकार नहीं होता वही शान्ति को प्राप्त होता है |दम्भो दर्पोऽभिमानश्च क
16 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x