सफल व्यक्ति

19 जून 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (311 बार पढ़ा जा चुका है)

सफल व्यक्ति

जीवन में वास्तविक रूप से सफल व्यक्ति की पहचान

जीवन संघर्षों का नाम है | संघर्षों से लड़ते हुए जो व्यक्ति बिना धैर्य खोए आगे बढ़ता रहता है वही व्यक्ति जीवन में सफल होता है - अपने लक्ष्य को प्राप्त करता है | जो व्यक्ति संकटों और संघर्षों से घबराता नहीं, बाधाओं के उपस्थित होने पर अपना धैर्य नहीं खोने देता उसी व्यक्ति की सफलता की कहानियों को लोग युगों युगों तक याद करते रहते हैं |

"भय बाधा से हार मानकर आगे पीछे क़दम बढ़ाना
यह इस पथ की रीत नहीं, ना कर्मयोगी का है यह बाना |"

लेकिन सफलता किसी को भी यों ही प्राप्त नहीं हो जाती | सफलता प्राप्ति के लिए तथा उस सफलता के अहंकार से बचने के लिए और विनम्र भाव से हर किसी की सहायता करते रहने के लिए व्यक्ति में कुछ विशेष गुणों का होना भी आवश्यक है |

सबसे पहली आवश्यकता है सकारात्मक सोच | व्यक्ति की सोच सकारात्मक होगी तो वह कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी साहस के साथ मार्ग बनाकर आगे बढ़ सकता है | साथ ही जो व्यक्ति जीवन में सफल हो जाता है – जिसे कुछ उपलब्धि हो जाती है - ऐसे व्यक्ति का दृष्टिकोण पूर्ण रूप से सकारात्मक हो जाता है | किसी प्रकार की नकारात्मकता के लिए वहाँ कोई स्थान नहीं रहता न ही किसी दूसरे व्यक्ति की आलोचना की सोच उसके मन में आने पाती है | अपितु अन्य व्यक्तियों के समक्ष वह अपने प्रतिद्वन्द्वियों की भी हृदय से प्रशंसा ही करता है | क्योंकि उस व्यक्ति के मन में समभाव – समत्व बुद्धि – आ जाती है |

व्यक्ति को बड़े से बड़े अवॉर्ड क्यों न मिल जाएँ उसकी योग्यताओं के कारण, कितनी भी सम्पन्नता क्यों न प्राप्त हो जाए उसकी समझदारी और परिश्रम के बल पर, किन्तु यदि उसकी सोच में तनिक भी नकारात्मकता है - अहंकार है - दूसरों की अस्वस्थ आलोचना (स्वस्थ भाव से की गई आलोचना व्यक्ति को भूल सुधार का अवसर प्रदान करती है) करने का स्वभाव है - वह व्यक्ति बाहर से सफल होते हुए भी भीतर से बिल्कुल रीता है - अपूर्ण है - असन्तुष्ट है |

इसके साथ ही आवश्यकता है कि व्यक्ति को समाधान बनने का प्रयास करना चाहिए न की यह कि वह स्वयं ही समस्या बन जाए – समस्या का कारण बन जाए | जो व्यक्ति हर बात में – हर परिस्थिति में केवल समस्याएँ ही देखता है उसे कोई भी बड़ा उत्तरदायित्व सौंपने से बचता है | उसकी बातों को भी लोग गम्भीरता से नहीं लेते | जो लोग समस्या में भी समाधान खोज लेते हैं वही प्रगति के मार्ग पर अग्रसर होकर अपना लक्ष्य प्राप्त करते हैं और सफल होते हैं तथा दूसरों के लिए उदाहरण प्रस्तुत करते हैं | ऐसे व्यक्ति दूसरों की समस्याओं का भी समाधान कर सकने में सक्षम होते हैं |

सफल व्यक्तियों का स्वभाव होता है कि वे सदा अपने कार्य का सम्मान करते हैं तथा दूसरों के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करते | क्योंकि जो व्यक्ति अपने कार्य का सम्मान करता है कार्य भी उसका सम्मान करता है | साथ ही जो व्यक्ति दूसरों के कार्यों में बिना कहे हस्तक्षेप नहीं करते दूसरे व्यक्ति भी उनका सम्मान करते हैं और इस प्रकार उन्हें अपना लक्ष्य प्राप्त करने में भी सहायता प्राप्त होती है | साथ ही, सफल व्यक्ति कभी भी किसी दूसरे व्यक्ति के कार्य में व्यवधान उत्पन्न करने का प्रयास नहीं करते अपितु जितना सम्भव हो उस व्यक्ति को आगे बढ़ाने में उसकी सहायता ही करते हैं |

और सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है कि – जैसा आरम्भ में ही लिखा है - सफलता की कामना करने वाला व्यक्ति धैर्य और उत्साह से परिपूर्ण होता है | अपनी स्वयं की भूलों से सीख लेकर साहस के साथ आगे बढ़ता है और सफलता का आनन्द उठता है | ऐसे सफल व्यक्ति अपने कथनों और कार्यों के माध्यम से बिना किसी स्वार्थ के दूसरों का भी धैर्य और साहस बढ़ाने में सहयोग देते हैं |

अगला लेख: नियम प्रकृति का



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 जून 2020
मानसिक असन्तुष्टि और अशान्तिहमारा मन वास्तव में स्वयं को किसी न किसी रूप में अपूर्ण - अधूरा -असन्तुष्ट मानने के लिए स्वतन्त्र है । लेकिन क्या डिप्रेस होकर - स्वयं से अथवासमाज या व्यवस्था की ओर से निराश होकर आत्महत्या कर लेना ही इस समस्या का समाधानहै ? संसारतो पहले से ही नाशवान है, स्वयं उस दिशा में
20 जून 2020
25 जून 2020
Y
कितना कमा सकते हैं योवो पर जीत कर
25 जून 2020
18 जून 2020
सूर्य ग्रहणरविवार आषाढ़कृष्ण अमावस्या को प्रातः दस बजकर बीस मिनट के लगभग सूर्य ग्रहण का आरम्भ होगा जो भारतके कुछ भागों में कंकणाकृति अर्थात वलयाकार दिखाई देगा तथा कुछ भागों में आंशिकरूप से दिखाई देगा और दिन में 1:49 के लगभग समाप्त हो जाएगा | बारह बजकर दो मिनट केलगभग ग्रहण का मध्यकाल होगा | ग्रहण की क
18 जून 2020
18 जून 2020
मानसिक शान्तिमानसिक शान्ति - जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है - चाहे वह किसी भीव्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो -विद्यार्थी हो - कोई भी हो - हर किसी का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास केव्यक्तियों पर - समाज पर - मढ़
18 जून 2020
18 जून 2020
मानसिक शान्तिमानसिक शान्ति - जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है - चाहे वह किसी भीव्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो -विद्यार्थी हो - कोई भी हो - हर किसी का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास केव्यक्तियों पर - समाज पर - मढ़
18 जून 2020
11 जून 2020
मैं तोहर पल / मस्ती में भर / बस गाए जा रही हूँ मीठे गान न पतामुझे किसी छन्द का / रच जाते हैं गीत बस यों हीन हीयाद कोई सरगम है / बन जाती है कोई धुन बस यों हीशायदयही है नियति मेरी / बन जाऊँ ऐसी धुन गुनगुनातीरहे जो सदियों तक / हर किसी की यादों में…(पूरी रचना सुनने के लिए क्लिक करें...)https://youtu.be/
11 जून 2020
06 जून 2020
Today WOW India had a session withMrs. Pramila Malik on Acupressure. Mrs. Malik is as trained practitioner andtherapist of Acupressure. She taught us acupressure for knee pain, blood pressure,back pain and to improve our eyesight. Mrs. Pramila Malik’s video and audiowere disturbed due to some Intern
06 जून 2020
29 जून 2020
देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी,पद्मनाभा एकादशी हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है| प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमेंसे आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़
29 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों की असंवेदनशीलता,अहंकार और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ यह लेख मेरा स्वघोषित विद्रोह है।
13 जून 2020
16 जून 2020
ज्ञानीऔर अहंकारी व्यक्ति में भेदविहायकामान्यः सर्वान्पुमांश्चलति निःस्पृहः |निर्ममोनिरहङ्कारः स शान्तिमधिगच्छति || श्रीमद्भगवद्गीता2/71जो व्यक्ति सभीइच्छाओं और कामनाओं के परित्याग कर निस्पृह भाव से कर्म करता है तथा जिसमें ममत्वऔर अहंकार नहीं होता वही शान्ति को प्राप्त होता है |दम्भो दर्पोऽभिमानश्च क
16 जून 2020
16 जून 2020
परांठे पर टैक्स? वो भी 18%? ये तो सरासर अन्याय हो गया. सुबह नाश्ते में परांठा ना हो तो सारा दिन ऐसा महसूस होता है कि नाश्ता ही नहीं किया. कई बार तो परांठे का नाश्ता करने मूरथल भी हो आये. मूरथल ढाबों की तो शान है परांठा. पर जब अखबार पढ़ी तो पता लगा की खबर सही है. 'तैयार' या
16 जून 2020
23 जून 2020
स्वयं प्रकाशस्वरूप एवं स्वयं प्रकाशित तथा नित्य शुद्ध बुद्ध चैतन्य स्वरूप हमारी अपनी आत्माको किसी अन्य स्रोत से चेतना अथवा प्रकाश पाने की आवश्यकता ही नहीं - और यही हैपरमात्मतत्व - परमात्मा - इसे पाने के लिए कहीं औरजाने की आवश्यकता ही नहीं - आवश्यकता हैतो अपने भीतर झाँकने की - पैठने की अपने भीतर - और
23 जून 2020
01 जुलाई 2020
जीवन मेंअनगिनती पल ऐसे आते हैं जब माता पिता की याद अनायास ही मुस्कुराने को विवश कर देतीहै | ऐसा ही कुछ कभी कभी हमारे साथ भी होता है | माँ क्या होती है – इसके लिए तोवास्तव में शब्द ही नहीं मिल पाते | माँ की जब याद आती है तो बस इतना ही मन करताहै: माँ तेरी गोदीमें सर रख सो जाऊँ मैं पल भर को, तो लोरी तू
01 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x