ऑनलाइन लव – प्यार या धोखा ?

19 जून 2020   |  शिल्पा रोंघे   (348 बार पढ़ा जा चुका है)

 ऑनलाइन लव – प्यार या धोखा ?

अचानक विजय के पास स्मृति का फोन आया कहने लगी मुझे तुम एयरपोर्ट तक छोड़ दो ना।

तब विजय चौंककर बोला आज अचानक मुझे क्यों कॉल कर रही हो क्या तुम्हारे माता पिता नहीं छोड़ सकते है तुम्हें?”

तभी स्मृति ने कहा तुम मेरे दोस्त हो ना? तो बहस मत करो मुझसे.”

स्मृति उसे अपने कॉलोनी के गार्डन के पास मिली तभी विजय की बाईक वहां रुकी उसने पूछा कहां जा रही हो?”

21 साल की स्मृति बीकॉम तृतीय वर्ष की छात्रा थी।

विजय ने कहा मुंबई में क्या काम पड़ गया तुम्हें ?”

नौकरी लगी है.” स्मृति ने जवाब दिया।

इतने जल्दी अभी तो तुम्हारा थर्ड ईयर भी कम्पलीट नहीं हुआ है.” विजय ने कहा.

अपने हाथ में मध्यम आकार का नीला बैग रखे हुए स्मृति की भाव भंगिमाएं थोड़ी बदल गई।

सच बताओं माजरा क्या है ?” विजय ने कहा।

अरे देर हो जाएगी

चलो तो सही.” कहकर स्मृति उसकी बाईक पर सवार हो गई.

आधे घंटे बाद एयरपोर्ट आ गया।

अभी फ्लाइट में दो घंटे की देरी थी।

तभी विजय को शक हुआ मैं तुम्हें यहां छोड़ने आया हूं तो मेरी ये जिम्मेदारी बनती है सच जानने की बताओ मुझे वरना तुम्हारे माता- पिता को कॉल कर दूंगा.”

पता नहीं तुमने उन्हें बताया की नहीं.”

स्मृति के माता और पिता नौकरी करते थे इसलिए उसे घर से जाते हुए कोई नहीं देख पाया।अपना एकाकीपन मिटाने के लिए उसने डेटिंग एप्स डाउलोड कर ली। जहां उसकी 27 साल के युवक रतन से दोस्ती हो गई, रतन देखने में काफी खूबसूरत था और उसकी खुद की एक एडवरटाइजिंग एजेंसी है और वो एमबीए का टॉपर है, ऐसा उसने स्मृति को बताया था।

ये बात स्मृति ने विजय को बता दी कि वो उससे ही मिलने जा रही है।

ओह दिखाना ज़रा कौन है ये लड़का, अरे ये तो मेरे बड़े भाई की क्लॉस में पढ़ता था अपने ही शहर का है, ये तो 12 वी फेल है, हां ये काफी रईस घर का है लेकिन कई लड़कियों को अपने प्रेमजाल में फंसा चुका है जब तक पिता पैसे भेजते रहे इसकी मौज होती रही एक दिन उन्हें इसकी करतूतों के बारे में पता चला तो उन्होंने उससे नाता तोड़ लिया। वो अपने काम को लेकर बिल्कुल सीरियस नहीं है मुश्किल से उसका खर्चा चलता है और उल्टे उसने कई जगह उधारी कर रखी है, लेकिन उसकी मीठी मीठी बातों और खूबसूरती के जाल में फंसकर कई अच्छा खासा कमाने वाली लड़कियां भी अपना पैसा गंवा चुकी है जब भी वो उसे आईना दिखाने की कोशिश करती है तो वो अपनी उनके साथ खींची गई तस्वीरें दिखाकर ब्लैकमेल करने लगता है इसलिए उसकी पोल आज तक नहीं खुल पाई। इसे महज़ इत्तेफ़ाक ही कह लो कि मैं उसे जानता हूं और तुम्हारी किस्मत अच्छी थी.विजय ने कहा।

विजय ने फिर कहा अच्छा उसने तुमसे क्या कहा ये बताओ?”

यही कि वो मुझसे प्यार करता है और शादी करना चाहता है इसलिए अपने सारे कपड़े और अपनी मां के सोने के गहने लेकर आ जाओ.” स्मृति ने कहा।

विजय ने कहा क्या तुम उससे कभी मिली हो.?”

स्मृति ने जवाब दिया नहीं”.

विजय ने कहा कितनी बेवकूफ हो तुम जिसका रहने, खाने-पीने और भविष्य का कोई ठिकाना नहीं और तुम खुद भी आत्मनिर्भर नहीं हो तो इस रिश्ते का क्या भविष्य होगा ये सोचना चाहिए था तुम्हे, खैर अभी तुम्हारी उम्र ही कम है इस बात को समझने के लिए, तो दोष देना भी सही नहीं.”

विजय स्मृति से 5 साल बड़ा था और वो उसे भी राखी बांधती थी क्योंकि उसका कोई भाई नहीं था, सगा भाई ना होकर भी उसने स्मृति को बड़ी मुसीबत से बचा लिया।

स्मृति ने फ्लाइट की टिकिट के ढेर सारे टुकड़े करके डस्टबिन में डाल दिये।

उसे भी समझ में आ चुका था कि कभी कभी सफ़र में एकदम पीछे खींचकर ही आगे बढ़ा जा सकता है और विजय के साथ वापस अपने घर की तरफ चल पड़ी।

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।

ऑनलाइन लव – प्यार या धोखा ?



http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/06/blog-post_14.html



 ऑनलाइन लव – प्यार या धोखा ?

अगला लेख: ज़िंदगी कुछ ऐसे सिखाती है।



बहोत बढ़िया कहानी . आजकल लोग किसी के भी भरोसे आ जाते हैं .

धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जून 2020
मे
पुराने समय की बात हैनगर में सेठ ध्यानचंद रहते थे। वो अपने एक बेटे और पत्नी के साथ सुखमय जीवन व्यतीतकर रहे थे। उनकी दो बेटियां भी थी जिनका विवाह हो चुका था। उनके पुत्र का विवाह भीपड़ोसी शहर में रहने वाले कुलीन घर की कन्या से हुआ था। उनकी बेटे के भी दो छोटे –छोटे पुत्र थे।
08 जून 2020
08 जून 2020
मे
पुराने समय की बात हैनगर में सेठ ध्यानचंद रहते थे। वो अपने एक बेटे और पत्नी के साथ सुखमय जीवन व्यतीतकर रहे थे। उनकी दो बेटियां भी थी जिनका विवाह हो चुका था। उनके पुत्र का विवाह भीपड़ोसी शहर में रहने वाले कुलीन घर की कन्या से हुआ था। उनकी बेटे के भी दो छोटे –छोटे पुत्र थे।
08 जून 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
30 जून 2020
दो
आज का प्रेरक प्रसंगदो सांपों की कहानी*एक बार एक राजा था जिसका नाम था देवशक्ति वह अपने बेटे से बहुत निराश था, जो बहुत कमजोर था। वह दिन व दिन दुबला और कमजोर होता जा रहा था। दूर के स्थानों से प्रसिद्ध चिकित्सक भी उसे ठीक नहीं कर पा रहे थे। क्योंकि उसके पेट में साँप था। उन्होंने सभी तरह के उपचारों की को
30 जून 2020
21 जून 2020
ज़
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
21 जून 2020
09 जून 2020
श्याम गहरे सांवले रंग का लड़का था जिसका कद 5फीट 8 इंच था और उसकी काठी मध्यम थी, शायद उसके सांवले सलौने और मनोहर रुप के चलते ही उसके माता-पिताने उसका ये नाम रखा था। वो अपने पड़ोस में रहने वाली लड़की की तरफ काफी आकर्षित था,जो कि एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स थी। मध्यम कद का
09 जून 2020
29 जून 2020
ये कौन ? फिरंगी! हाय राम... जिन्होंने हमारे देश को गुलाम बनाया था। सतीश की 80साली दादी बोली।सतीश “अरे अंग्रेजों को भारत छोड़े हुए कई साल बीत चुके है वो तो बस घुमने फिरनेआते है हमारे देश में, जैसे कि हम उनके देशों की सैर करने जाते हैं." ये हमारेगांव में क्या कर रहा है ? "
29 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x