लधु कथा: "माँ"

19 जून 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (291 बार पढ़ा जा चुका है)

लधु कथा: "माँ"

🏵️🏵️🏵️लधुकथा: "माँ"🏵️🏵️🏵️


यह एक ममतामयी बेबस माँ की
दर्दनाक लधुकथा का एक अंशमात्र है


माँ कोई न कोई बहाना खोजती रहती है कि कैसे भी हो, अपना पेट काट कर बच्चे को दो निवाला अधिक खिला दे बस? दो कौर अधिक खाले, एतदर्थ आँचल में छुपा लेती है एक-आध रोटी और-अतिरिक्त फुसला-उसला कर, इधर-उधर बच्चे का ध्यान बंटा कर सामने रखी उसकी चिरपरिचित खुराक से ज्यादा खिला कर वह माँ परम तुष्टि पाती है।

कम रहता है तो झूठ-मूठ डकार-
उकार ले उसे आस्वस्त करती है कि
मैं भर पेट खा चुकी हूँ, तूं भी खाले
भर पेट; ज्यादा सोंच मत।


एक आधुनिक अमीर औरत जब माँ
बन जाती है तब अपने सौन्दर्य और
यौवन का ख्याल कर नवजात शिशु को स्तन पान करवाने में पुरज़ोर हिचकाती है, जल्द से जल्द उसके होठों को निप्पल, फिडिंग बोतल थमाने के चक्कर में परेशान रहती है।
जब की, एक निर्बल वा दरिद्र माँ भी
उसे उस समय तक छाती से चिपकाए
अपना रक्त पिलाती रहती है जब तक
दूध रिसता रहे स्तनों से और उन क्षणों
वह परम आनंद का अनुभव कर अपने
ममत्व से हरहाल में वंचित नहीं करती,
आखिर माँ है न वह!


हमसे अच्छे तो पशु पँक्षि हैं जो कोई
कोताही नहीं करते बच्चों को सुपोषित
करने में--कोई समय नहीं, आजाद
रहता है जैसे एक गाय का बछड़ा
अपनी माँ के लिए पर उसे भी
गायवाला या ग्वाला नियमों में
बाँध देता है दूहन हेतु।


💕💕💕💕💕💕💕
डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: ऋतु गायन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2020
लधुकथा लिखने बैठा पर विहंगम विषय एक मन में आ गहराया।सोचा कुछ हल्का- फुल्का लिख डालूँ,पर हटात् गहन विचार मन में आया।।🤔 🤔🤔🤔🤔🤔🤔 🤔"मन हीं कर्म का कारण है"-मन की चर्चा करते हैं।मन की गति की शुभफलाफलकारी दिशा वरते हैं।। 🏵️मन का स्वभाव और गति🏵️मृत्यु के समय जब तीनों वायु तन से निकलती हैं तब मन सं
12 जून 2020
18 जून 2020
गी
🎵🎶🎤गी🎧🎷🎸🎹🎺🎻त🥁🎵🎼सुरीले गीत बना दो- चारसुना तुझे रिझा पातापैंजनिया की झंकार सेअपनी ओर खींच पाताकण्ठ वैसा नहीं सधा हुआ और,न हीं गीतकार,मीठी चासनी में छान-जलेबियाँ खिला मैं पातालकिरें उकेर कुछेक-पढ़ सुना भर देता रे आज,जैसे भी हो- हृदयांचल मेंगुद्गुदी तो लगा पातासुरीले गीत बना दो- चारसुना तुझ
18 जून 2020
08 जून 2020
⚔️🏹⚔️🏹⚔️🏹⚔️🏹⚔️कुरुक्षेत्र में एक मेधावी तरुण अश्व पर आयामहाभारत के प्रथम दिवस का छाया सायाबालक वह भीम- हिडम्बा पुत्र,धटोत्कच पुत्र थाबरबरिक बालक की परिक्षा लेना पुर्वनिश्चित थावृक्ष तले खड़े हो कर कृष्ण बालक से बोलेबाण से वृक्ष के पत्ते बींधदो योद्धा हम बोलेंछलिया कृष्ण टूटे पत्ते को पैरों तले द
08 जून 2020
25 जून 2020
🌿🌿🌿ऋतु गान🌿🌿🌿🌾🌱🌲🌳🌴🌳🌲🌱🌾उमस भरी ग्रीष्मकालिन-उष्णतावातानुकूलित का आमंत्रण लाती है🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀बर्षा की टगर होठों पर टपकती बुँदों मेंमानो सावन के गीत सजनी गाती है🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺गीत शदर ऋतु की चाँदनी रात मेंअत्यंत प्रिय-आह्लादित कर देते हैं🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷शिशिर ऋतु अगन को आम
25 जून 2020
09 जून 2020
को
कोरोना की राजनीतियह सोसल डिस्टेंसिंग महज़अगले चुनाव का एक बुलंद नारा हैसड़क जाम, सट कर चलना- ई. भी. एम. ने हीं देश को तारा हैसाठ साल के उपर नेता-डॉक्टर रहें घरों में सुरक्षितसविनय निवेदन हमारा हैनोक - झोक से रहे परहेज़, आत्म निर्भर हो देश, लिखना नायाब फ़साना हैकब्र खुदीं चार लाख पार,अंकुश अब पुरजोर हरओ
09 जून 2020
13 जून 2020
स्थापित लोगों की असंवेदनशीलता,अहंकार और गैर जिम्मेदाराना रैवये के खिलाफ यह लेख मेरा स्वघोषित विद्रोह है।
13 जून 2020
06 जून 2020
Today WOW India had a session withMrs. Pramila Malik on Acupressure. Mrs. Malik is as trained practitioner andtherapist of Acupressure. She taught us acupressure for knee pain, blood pressure,back pain and to improve our eyesight. Mrs. Pramila Malik’s video and audiowere disturbed due to some Intern
06 जून 2020
19 जून 2020
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳जय भारत 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 देवाधिदेव का कैलाश मानसरोवरभी खो कर भी हम चुप बैठे थे।शांति प्रतीक कबुतर उड़ाया बहुत,आशान्वित हो हम बैठे थे।।बाजू के सागर में जंगी पोत उतारअपना रंग सबको दिखलाया।पड़ोसी नेपाल को तोड़ मनमानानक्
19 जून 2020
14 जून 2020
💮💮💮धरा विचलित💮💮💮धरती माँ की पीड़ा-अकथनीय- अतिरेक,दिवनिशि धरती माँ रे! अश्रुपूरित है,मन क्लांत म्लान- अतिविक्षिप्त है।व्यथा-वेदना फण दंश सम-असह्य है।।जागृति की एषणा प्रचण्ड,अति तीव्र है।शंख-प्रत्यंचा सुषुप्त-रणभूमि रिक्त है।।पौरुषत्व व्यस्त स्वप्नलोक में-चिर निंद्रा में मानो लिप्त है।नारी में द
14 जून 2020
13 जून 2020
मैंने भूत देखामैंने एक बार देखा है भूत...वह छाया थी, या सच-मुच!एक दिन गोधुली के समय बेतिया रेलवे स्टेशन के करीब घटित हुई एक घटना की स्मृति ताजी हो गई।संभवतः अप्रैल 1969 की बात है, याने आज से लगभग 52 साल पहले की बात।उधर, शहर से बाहर, उन दिनों प्रायः सन्नाटा रहता था पर आज वह चकाचक फोर लेन कनेक्टिंग हा
13 जून 2020
17 जून 2020
💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓कृष्ण💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓महाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रजभूमि का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आवेशित-आह्लादित अंतरंग मित्रों का-सुखद चिरकालीन साथ,चिर- परिचित लोकप्रियलय, धुन और ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है आजतक कभी।अतिशिध्र अंत युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।
17 जून 2020
13 जून 2020
मैंने भूत देखामैंने एक बार देखा है भूत...वह छाया थी, या सच-मुच!एक दिन गोधुली के समय बेतिया रेलवे स्टेशन के करीब घटित हुई एक घटना की स्मृति ताजी हो गई।संभवतः अप्रैल 1969 की बात है, याने आज से लगभग 52 साल पहले की बात।उधर, शहर से बाहर, उन दिनों प्रायः सन्नाटा रहता था पर आज वह चकाचक फोर लेन कनेक्टिंग हा
13 जून 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
29 जून 2020
देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी,पद्मनाभा एकादशी हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है| प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमेंसे आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़
29 जून 2020
01 जुलाई 2020
💐💐राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस💐💐भारत का डॉक्टर हार रहा-हुआ हताशकवि अश्रु बहा थकित-हो रहा निराश''कोभिड'' फटेहाल देख डॉक्टर कोआगोश में समेट कहीं छुप जाता हैघर में बने 'मास्क' पहन क्या (?) कोईकोभिड संक्रमण से क्या बच पाता हैपैदल चल कर आखीर कैसे डॉक्टर५लाख पार खाने वाले को-मार भगा पाएगापहुँच रहा आँकड़
01 जुलाई 2020
24 जून 2020
🌺🌷अथ पत्नी सोपानम्🌷🌺 किसी भी श्रेष्ट कवि की लुगाई मसलन, शायर की हो वो मोहतरमाखासमखास को भलिभांति वह पहचानती है हर हर्फ- ओ'- लब्ज में, किसके लिए? कह कर पारा सौ पार उछालती है 😄🙂🙂बेचारा कवि🙂🙂😄मगन देख एन्ड्रॉयड में पतिदेव को!अनसुनी कर टीपते व्यस्त पतिदेव को!!जासुसी करने का अब फाइनल
24 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x