हनुमान चालीसा (तात्त्विक अनुशीलन) भाग - २ आचार्य अर्जुन तिवारी

27 जून 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (391 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान चालीसा (तात्त्विक अनुशीलन) भाग - २ आचार्य अर्जुन तिवारी

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *भाग - द्वितीय* 🩸



🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


गोस्वामी तुलसीदास जी ने *दोहे* का प्रारंभ *"श्री गुरु"* से किया है तो एक-एक शब्द का तात्विक अनुशीलन करने का प्रयास करते हैं | सर्वप्रथम:--


*श्री*


*श्री* मंगल सूचक है | अतः प्रारंभ इसी से करके हनुमान चालीसा को मांगलिक सूचित किया है | *श्री* शब्द गुरु शब्द के पूर्व में लगा कर के गुरु की महत्ता सिद्धकी तुलसीदास जी ने | *श्री* ऐश्वर्य का सूचक है जिसके सहित गुरु पद का संबोधन अति सम्मान सूचक है | श्रीमद्भागवत महापुराण में *"श्री शुक उवाच""* कहकर शुकदेव जी के प्रति , श्रीमद्भगवतगीता में *"श्रीभगवान उवाच"* कहकर भगवान कृष्ण के प्रति जो भाव ग्राह्य है वही भाव यहाँ गुरु के साथ *"श्री"* लगाकर व्यक्त किया गया है |


भगवद्बुद्धि से ही *श्री* की युति एक शिष्टाचार है | भगवान और गुरु में ऐक्य के भाव को बताने के लिए यहां *श्री गुरु* पद दिया गया है | भगवान भक्त भक्ति एवं गुरु को केवल नाम भेद में ही चार व तत्त्वरूप में एक कहा गया है | यथा :---


*भक्ति भक्त भगवंत गुरु , चतुर नाम वपु एक !*


*श्री* लक्ष्मी का , ऐश्वर्य का , शुभप्रदायिका , ओजस्व का प्रतीक है | यहां इस *चालीसा* स्तोत्र की प्रकृति इन्हीं भावों में *श्री परक* कहते हुए ही इस दिव्य *चालीसा* का *श्री* पद से प्रारंभ किया गया |


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*गुरु*


*गुरु* शब्द का आभिप्राय प्रसंगानुसार जिन अर्थों में लिया जाता है वे इस प्रकार है | कुलपूर्वज , बड़े , भारी , शिक्षक , मन्त्रोपदेशक (दीक्षक) एवं आध्यात्म मार्गदर्शक आदि |


यहाँ भगवान श्री रघुवर के विमल यश - गुणगण - वर्णन के लिए स्मरण किया गया अत: आध्यात्मिक दृष्ट्कोण से *गुरु* का स्मरण किया गया है | *भगवत्प्रेमी सज्जनों* मनुष्य जीवन का एकमात्र और अन्तिम उद्देश्य होता है भगवत्प्राप्ति | भगवत्प्राप्ति में जो *गुरु* (व्यक्ति) सहायक है वही *आध्यात्मिक गुरु* होता है | इस *गुरु* से बड़ा और कोई *गुरु* नहीं होता इसलिए ऐसे *गुरु* के लिए ही यहाँ *गुरु* पद को *श्री* से युक्त किया गया है |


विचार कीजिए कि शिक्षा तो कहीं से भी ग्रहण की जा सकती है किन्तु दीक्षा के लिए कुछ शास्त्रीय नियम व विधान हैं | शिक्षा का नैमित्तिक कारण व्यक्ति भी *गुरु* कहला सकता है किन्तु कई बार स्वयं ऐसे *गुरु* को शिष्य का ज्ञान भी नहीं हो सकता है | शिक्षा के निमित्त में जड़ पदार्थ भी हो सकता है व प्राकृतिक सृष्टि के क्रियाकलाप भी , किन्तु ये इस भाव में *गुरु* अर्थ में प्रयोग नहीं किये जा सकते हैं | यद्यपि इस संसार में बहुधा लोग आये दिन नित नये *गुरु* बनाते रहते हैं , दीक्षा भी मनमाने ढंग से लेते व देते रहते हैं तथा इसकी वैधानिकता की पुष्टि में *भगवान दत्तात्रेय* का उदाहरण भी देते हैं , किन्तु उन्होंने चौबीस *गुरुओं* के सन्दर्भ में शिक्षा की नैमित्तिक घटनाओं का ही उल्लेख किया है | वह शिक्षा के चौबीस वर्गीकरण एक अलग व गूढ़ विषय है यदि इस पर चर्चा करने लगेंगे तो विषयान्तर हो जायेगा | किन्तु अविधि की दीक्षा के बाढ़ या *गुरुओं* की अनियमित वृद्धियों को इस (दत्तात्रेय जी के) उदाहरण से पुष्ट करना भी उचित नहीं है | यदि कोई जड़ पदार्थ किसी ज्ञान का निमित्त बन गया हो तो उसे आध्यात्म मार्ग में *गुरु* न तो ग्रहण किया जा सकता है और न ही ऐसा *गुरु* श्रीयुक्त पद का अधिकारी ही हो सकता है | इसलिए यहाँ *गुरु* पद को *श्री* से युक्त किया गया है |


*श्री* का अर्थ लक्ष्मी होता है | यह केवल भगवान विष्णु के साथ रहने से *"विष्णु"* तत्वार्थ बोधक भाव के साथ ही *श्री* पर शोभित होता है | यथा :- सीताराम , राधेश्याम , लक्ष्मी नारायण आदि | यहाँ *गुरु* एवं भगवान विष्णु में अभेद भाव को प्रकट करने हेतु *श्रीगुरु* पद कहा गया है | यथा :--


*गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वर: !*

*गुरु: साक्षात परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नम: !!*


एक विशेष बात ध्यान देने की है कि *गुरु* तो कोई मनुष्य ही हो सकता है अन्य प्राणी नहीं | हनुमान जी की कृपा भी मांगी गयी तो - *कृपा करहुं गुरुदेव की नाईं* कहकर माँगी गयी | अर्थात दैवीय कृपा भी गुरु के माध्यम से ही प्राप्त की जा सकती है |


*शेष अगले भाग में :-----*


🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡

अगला लेख: अर्जुन के तीर



जय श्री राम

शशि भूषण
28 जून 2020

जय श्री राम

जय श्री सीताराम

शशि भूषण
27 जून 2020

जय श्री राम
जय हनुमान जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2020
*सनातन धर्म में मंत्रों का बड़ा महत्व है , प्रत्येक कार्य के लिए अलग-अलग मंत्रों का विवरण हमारे धर्म ग्रंथों में प्राप्त होता है | वैदिक मंत्र , पौराणिक मंत्र , तांत्रिक मंत्र , शाबर मंत्र आदि अनेक प्रकार के मंत्र सृष्टि में मानव जाति का सहयोग करते हैं | किसी मंत्र का प्रयोग करने के पहले उसके विषय
28 जून 2020
28 जून 2020
*मानव जीवन में कुछ भी करने या लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि मनुष्य संकल्पित हो | बिना दृढ़ संकल्प के कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है | सनातन धर्म ने आदिकाल से संकल्प के महत्व को समझते हुए किसी भी धार्मिक कृत्य के प्रारम्भ करने के पहले संकल्प का विधान रखा है | बिना संकल्प लिए की गयी पूज
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *आदिकाल से ही मनुष्य सतत् विकासशील रहा है नित्य नये आविष्कार करके समस्त मानव जाति को उसका लाभ आविष्कारकों ने दिया | इसी क्रम में दर्पण (शीशा) का आविष्कार हुआ जिसमें मनुष्य स्व
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दिव्य कहा गया है परंतु इस जीवन का उपभोग बहुत ही सावधानी पूर्वक करना चाहिए | क्योंकि तनिक सी भी असावधानी से सकारात्मक परिणाम नकारात्मक हो जाते हैं | सावधानी
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - तृतीय* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*द्वितीय भाग में आपने पढ़ा :--**श्री
28 जून 2020
03 जुलाई 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - चतुर्थ* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तृतीय भाग* तक आपने पढ़ा :---*"श्री गुरु चरण"* की व्याख्या ! अब आगे
03 जुलाई 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही संघर्षमय कहा गया है | यहां प्रत्येक मनुष्य को अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है | लक्ष्य को प्राप्त करने में अनेकों बार ऐसा भी समय आता
28 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x