श्रीहनुमान चालीसा (तात्त्विक अनुशीलन) भाग - ३ - आचार्य अर्जुन तिवारी

28 जून 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (283 बार पढ़ा जा चुका है)

श्रीहनुमान चालीसा (तात्त्विक अनुशीलन) भाग - ३ -  आचार्य अर्जुन तिवारी

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥


‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️


🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣

*!! तात्त्विक अनुशीलन !!*


🩸 *भाग - तृतीय* 🩸



🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️


*गतांक से आगे :--*


➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖


*द्वितीय भाग में आपने पढ़ा :--*


*श्री एवं गुरु* की व्याख्या ! अब प्रस्तुत है :---


*चरण*


*"चरण"* अर्थात पद ! पूज्यनीयों के चरणों की ही पूजा होती है | अत: पूज्य भाव से स्मर्ण में गोस्वामी जी ने *"श्री गुरु चरण"* ही लिखा | सभाओं में विराजमान पूज्य व्यक्तियों को वक्ता लोग सम्मान से पूज्य भाव बनाने के लिए पद (उपाधि) नाम के साथ चरण शब्द से युक्त ही सम्बोधन करते हैं | यथा :- "पूज्य आचार्य चरण" या श्री गुरु चरण आदि | चरण क्या है ?


*"चरति अनेन् इति चरण:"*


अर्थात :- जिससे चला जाता है वह है *चरण* ! गमनागमन की क्रिया जिस अंग से होती है उसे *चरण* कहा जाता है | *"चर"* व्यवहार के अर्थ में भी प्रयोग किया जाता है | किसी भी आकाश , अवकाश या परिस्थितियों में जब कोई व्यवहार सहज ही होता है तो उस व्यवहार करने वाले व्यक्ति को उसका गुणवाचक नाम उसी आधार पर दिया जाता है | यथा :-- आकाश में चलने फिरने या व्यवहार करने वाले को *"खेचर"* , रात्रि में विचरण करने वाले को *"निशाचर"* , दिन में चलने फिरने व व्यवहार करने वाले को *"दिनचर"* , जिससे कोई व्यवहार न हो वह *"अचर"* और जो चल फर कर व्यवहार कर सके उसे *"सचर"* कहा जाता है | इस प्रकार व्यवहार करने की क्रिया को चरन् *(चरण)* कहा जाता है ! जैसे :- *विचरण* |


यहाँ तुलसीदास जी ने *"श्री गुरु चरण"* से गुरु के स्वरूप का वर्णन भी किया है जो कि निरन्तर आध्यात्म या परमात्म में ही लीन रहते हैं | यथा :- *श्री* (लक्ष्मी) *गुरु* (लक्ष्मी जी के गुरु /पति) अर्थात श्री विष्णु जी जो कि परमात्म तत्त्व हैं उसी में निरन्तर विचरण करते हैं | अथवा वह मार्ग या सिद्धान्त जिसमें *श्री गुरु* चलते हैं अर्थात सनातन धर्म श्रुति सिद्धान्त आदि | इस मार्ग (सिद्धान्त) पर चलकर ही जीव का कल्याण हो सकता है अत: यही मार्ग - चरण (चलने योग्य पथ) है | यथा :- *"महाजनो येन गत: सपन्था:"* यत: जो भगवान विष्णु शिवादि का धर्म है वह *"श्री गुरु चरण"* से (श्रुति सिद्धान्त पर चलने से) ही प्राप्त हो सकता है | यथा :--


*एहि कर फल पुनि विषय विरागा !*

*तब मम धर्म उपज अनुरागा !!*


रघुनाथ जी का यश कहना है *वरणौं रघुवर विमल यश* अत: वह *श्री गुरु चरण* ही तो है फिर उसका ध्यान - स्मरण तो करना ही होगा | किसी भी पदार्थ का वर्णन करते समय उसका ध्यान - स्मरण तो होता ही है | भगवान श्री राम के चरित कथा जब भगवान शंकर माता पार्वती से कहने लगे तो पहले चरित्रों का स्मरण किया ! तभी वे कथा सुना पाये | यथा :-


*सुमिरत राम चरित हिय आये !*


अतएव यहाँ भी तुलसी बाबा की *"वरणौं रघुवर विमल यश"* की प्रतिज्ञा है जिनका ध्यान करना परम आवश्यक है | कहने का भाव यह है कि *"श्री गुरु चरण"* स्मरण से ही भगवान की लीलायें जानी जा सकती हैं क्योंकि दोनों एक ही हैं | जैसे :-


*सोइ जानइ जेहि देहुँ जनाई !*

*जानत तुम्हहिं तुमहिं होइ जाई !!*


*"श्री गुरु"* का भाव यदि भगवान विष्णु (श्री लक्ष्मी जी के गुरु) से लिया जाय तो भी किसी भी पावन कर्त्तव्य के पूर्व मन को शुद्ध करने के लिए *" अपवित्र: पवित्रो वा सर्वावस्थांगतोपि वा ! य: स्मरेत् पुण्डरीकांक्ष स: वाह्याभ्यान्तर: शुचि: !!* कहकर भगवान विष्णु का ही स्मरण किया जाता है | गुरु को भगवान विष्णु के सदृश मानकर यहाँ *श्री गुरु चरण* की प्रार्थना की गयी है |




*शेष अगले भाग में :-----*


🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻🌷🌻


आचार्य अर्जुन तिवारी

पुराण प्रवक्ता/यज्ञकर्म विशेषज्ञ

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्या जी

9935328830


🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡🟥🟡

अगला लेख: अर्जुन के तीर



आदरणीय आचार्य जी सादर प्रणाम जय जय सियाराम 🌹🙏

अद्भुत व्याख्यान, एक एक शब्द का इतना विस्तृत विवरण अति ज्ञानवर्धक रचना 👌👌👌

प्रणाम आचार्य श्री
जय सियाराम जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जून 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को रथ में विलाप करते देखकर मंत्री सुमंत ने कहा :- महाभाग *लक्ष्मण !* तुम भक्ति , ज्ञान , वैराग्य एवं कर्मयोग के
13 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही दिव्य कहा गया है परंतु इस जीवन का उपभोग बहुत ही सावधानी पूर्वक करना चाहिए | क्योंकि तनिक सी भी असावधानी से सकारात्मक परिणाम नकारात्मक हो जाते हैं | सावधानी
28 जून 2020
28 जून 2020
*सनातन धर्म की मान्यतायें एवं परम्परायें आदिकाल से दिव्य रही हैं | हमारे पूर्वजों ने जो नियम बनाए थे उसमें मानव का हित समाहित था | मानव जीवन में अनेक प्रकार की पुण्य धर्म करने का वर्णन मिलता है इन्हीं में दान को बहुत बड़ा महत्व दिया गया है | दान करके मनुष्य अपनी जाने अनजाने कर्मों से छुटकारा तो पाता
28 जून 2020
28 जून 2020
*मानव जीवन में कुछ भी करने या लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि मनुष्य संकल्पित हो | बिना दृढ़ संकल्प के कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है | सनातन धर्म ने आदिकाल से संकल्प के महत्व को समझते हुए किसी भी धार्मिक कृत्य के प्रारम्भ करने के पहले संकल्प का विधान रखा है | बिना संकल्प लिए की गयी पूज
28 जून 2020
03 जुलाई 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *छठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पाँचवें भाग* में आपने पढ़ा :---*श्री गुरु चरण सरोज रज ,**निज मन मुक
03 जुलाई 2020
27 जून 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - द्वितीय* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖गोस्वामी तुलसीदास जी ने *दोहे* का प्रारंभ *"श्री गुरु"* से किया ह
27 जून 2020
28 जून 2020
*सनातन धर्म में मंत्रों का बड़ा महत्व है , प्रत्येक कार्य के लिए अलग-अलग मंत्रों का विवरण हमारे धर्म ग्रंथों में प्राप्त होता है | वैदिक मंत्र , पौराणिक मंत्र , तांत्रिक मंत्र , शाबर मंत्र आदि अनेक प्रकार के मंत्र सृष्टि में मानव जाति का सहयोग करते हैं | किसी मंत्र का प्रयोग करने के पहले उसके विषय
28 जून 2020
03 जुलाई 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - चतुर्थ* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तृतीय भाग* तक आपने पढ़ा :---*"श्री गुरु चरण"* की व्याख्या ! अब आगे
03 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x