अर्जुन के तीर :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 जून 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (278 बार पढ़ा जा चुका है)

अर्जुन के तीर :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹


🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹


*समाज में एक सूक्ति प्रसिद्ध है "विनाशकाले विपरीत बुद्धि:" यह अकाट्य तथा सार्वभौमिक सत्य है | मनुष्य जिसका सहारा लेकर किसी प्रतिष्ठित स्थान पर स्थापित हो जाता जब उसी की निन्दा करने लगे तो यह समझ जाना चाहिए कि अब उसका पतन प्रारम्भ हो गया है | ऐसे लोग समाज के एक वर्ग का विरोध भी सहन करते हुए स्वयं को प्रतिष्ठित करते रहते हैं परंतु सत्य यह है कि उनका वह सम्मान कदापि नहीं रह जाता | मनुष्य के पतन का अर्थ नहीं हुआ कि उसकी मृत्यु ही हो जाय | वास्तविक पतन तो वही है कि किसी सम्मानित व्यक्ति को लोग अपनी नजरों से गिरा दें | जिसका सामाजिक पतन हो जाता है वह जिन्दा रहते हुए भी मृतप्राय ही रहता है |*


🌼🌳🌼🌳🌼🌳🌼🌳🌼🌳🌼


*शुभम् करोति कल्याणम्*


🍀🎈🍀🎈🍀🎈🍀🎈🍀🎈🍀

अर्जुन के तीर :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: अर्जुन के तीर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन को उत्कृष्ट बनाने के लिए क्या करना चाहिए क्या नहीं ? यह सारा वर्णन सनातन धर्म के सत्साहित्यों में पढ़ने को मिलता है | जीवन के प्रत्येक अंग - उपांगों एवं कृत्यों का
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मनुष्य की पहचान उसके आचरण से होती है ! आचरण का पाठ सर्वप्रथम बालक को माता के द्वारा सिखाया जाता है फिर विद्यालय में गुरु के द्वारा वह आचरण का पाठ सीखता है | मानव समाज को उनके
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *प्रत्येक मनुष्य अपने लिए सदैव सबकुछ अच्छा ही सोंचता है , अच्छा ही करता है और अच्छा ही चाहता है परंतु सबकुछ अपने सोंचने एवं चाहने से नहीं होता है | हम सदैव किसी भी प्रतियोगिता
28 जून 2020
28 जून 2020
*मानव जीवन में कुछ भी करने या लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि मनुष्य संकल्पित हो | बिना दृढ़ संकल्प के कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है | सनातन धर्म ने आदिकाल से संकल्प के महत्व को समझते हुए किसी भी धार्मिक कृत्य के प्रारम्भ करने के पहले संकल्प का विधान रखा है | बिना संकल्प लिए की गयी पूज
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *भारत कृषि प्रधान देश है , कृषिकार्य के लिए जल की आवश्यकता होती है | जल भी उचित समय पर मिलना चाहिए | खेती सूख जाने के बाद जल का न तो कोई मबत्व रह जाता है और न ही आवश्यकता | ठी
28 जून 2020
13 जून 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को रथ में विलाप करते देखकर मंत्री सुमंत ने कहा :- महाभाग *लक्ष्मण !* तुम भक्ति , ज्ञान , वैराग्य एवं कर्मयोग के
13 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन में सबसे महत्वपूर्ण है मनुष्य की वाणी एवं व्यवहार | प्राय: मनुष्य अपने शत्रु एवं मित्रों की गिनती किया करता है | शत्रु एवं मित्र का निर्धारण या प्राकट़्य मनुष्य के
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *प्रत्येक मनुष्य अपने लिए सदैव सबकुछ अच्छा ही सोंचता है , अच्छा ही करता है और अच्छा ही चाहता है परंतु सबकुछ अपने सोंचने एवं चाहने से नहीं होता है | हम सदैव किसी भी प्रतियोगिता
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *भारत कृषि प्रधान देश है , कृषिकार्य के लिए जल की आवश्यकता होती है | जल भी उचित समय पर मिलना चाहिए | खेती सूख जाने के बाद जल का न तो कोई मबत्व रह जाता है और न ही आवश्यकता | ठी
28 जून 2020
28 जून 2020
*सनातन धर्म में मंत्रों का बड़ा महत्व है , प्रत्येक कार्य के लिए अलग-अलग मंत्रों का विवरण हमारे धर्म ग्रंथों में प्राप्त होता है | वैदिक मंत्र , पौराणिक मंत्र , तांत्रिक मंत्र , शाबर मंत्र आदि अनेक प्रकार के मंत्र सृष्टि में मानव जाति का सहयोग करते हैं | किसी मंत्र का प्रयोग करने के पहले उसके विषय
28 जून 2020
24 जून 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४८* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖*भगवान श्रीराम ने गुरुदेव वशिष्ठ के कहने पर अश्वमेध यज्ञ की तैयारी की | इस यज्ञ में विजयी अश्व
24 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन में सबसे महत्वपूर्ण है मनुष्य की वाणी एवं व्यवहार | प्राय: मनुष्य अपने शत्रु एवं मित्रों की गिनती किया करता है | शत्रु एवं मित्र का निर्धारण या प्राकट़्य मनुष्य के
28 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन को उत्कृष्ट बनाने के लिए क्या करना चाहिए क्या नहीं ? यह सारा वर्णन सनातन धर्म के सत्साहित्यों में पढ़ने को मिलता है | जीवन के प्रत्येक अंग - उपांगों एवं कृत्यों का
28 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x