सदाचरण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 जून 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (284 बार पढ़ा जा चुका है)

सदाचरण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में व्रत , पूजन आदि करते रहने के विधान बताए गए हैं | उन सब का फल प्राप्त करने के लिए लोग तरह - तरह के अनुष्ठान करते हैं | इन अनुष्ठानों का एक ही उद्देश्य होता है -- परमात्मा की उपासना या परमात्मा को प्राप्त करने का उपाय कहा जा सकता है | यह सारे व्रत , सारे अनुष्ठान करने पर भी उसका फल मात्र सदाचारी को ही प्राप्त होता है | आचारहीन को कदापि नहीं | नारायणावतार महर्षि वेदव्यास जी ने भविष्यपुराण के उत्तरपर्व में लिखा है ----- "आचारहीनं न पुनन्ति वेदा यद्यप्यधीता: सह षड्भिरंगै: | छन्दास्येनं मृत्युकाले त्यजन्ति नीडं शकुन्ता इव जातपक्षा: || अर्थात आचारहीन व्यक्ति को छ: अंगोॉ के साथ अधीत वेद भी पवित्र नहीं कर सकते | जैसे पंछी पंख निकलने के बाद अपने घोसले को छोड़ देता है वैसे ही ये वेद आचारहीन को मृत्यु के समय परित्याग कर देते हैं | जैसे कपाल में रखा हुआ जल , कुत्ते की चर्मपात्र (मशक) में रखा दूध स्थान दोष से अशुद्ध हो जाता है उसी प्रकार आचारहीन व्यक्ति भी अशुद्ध ही है | इसलिए अपने आचार की यत्नपूर्वक रक्षा करनी चाहिए | आपके आचार से ही समाज में आपका स्थान निर्धारित होता है | धन तो आता जाता रहता है | जो धन से हीन है वह दीन नहीं कहा जा सकता परंतु जो अपने आचरण से गिरा हुआ है वह गिरा ही रहता है | वह मरे हुए के समान है | क्योंकि आचार ही धर्म और कुल का मूल है | आचार से च्युत व्यक्ति न तो कुलीन हो सकता है और न ही धार्मिक |*


*आज समाज का कायाकल्प हो रहा है | सदाचार एवं आचरण का पाठ पढाने वाले गुरुकुल नहीं रह गये हैं | आज प्रत्येक विद्यालय में अंग्रेजी शिक्षा पद्धति का बोलबाला है | यह ऐसी शिक्षापद्धति है जिसका भारतीय संस्कृति एवं संस्कार से कोई मतलब नहीं है अपितु इस पद्धति से हमारी संस्कृति का ह्रास ही हुआ है | आज विद्यालयों में गुरु एवं शिष्य के बीच जिस प्रकार का बर्ताव देखा जा रहा वह कौन सा सदाचार का निर्माण करेगा ??? समाज में आज भी वृहदस्तर पर धार्मिक आयोजन हो रहे हैं जिससे आयोजक की ख्याति तो हो रही है परंतु उनके द्वारा यदि सदाचार का पालन नहीं किया जा रहा है तो इन अनुष्ठानों को करने से क्या लाभ प्राप्त होगा यह तो परमात्मा ही जाने | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि -- मनुष्य के उत्थान एवं पतन में मनुष्य का आचरण मुख्य भूमिका निभाता है | जहाँ अपने आचार - विचार से ही मनुष्य उन्नति के शिखर प्राप्त कर लेता है वहीं आचारहीन मनुष्य पतनोन्मुखी होकर नष्ट हो जाता है | उत्थान का आधार है- सही दिशा निर्धारण और सज्जनता भरा आचरण | पतन का कारण है - अनुपयुक्त चिन्तन और उसके नशे में कुमार्ग का अनुसरण | उठने और गिरने के दोनों मार्ग हर किसी के लिए खुले पड़े हैं | इनमें से कोई किसी का भी स्वेच्छापूर्वक वरण कर सकता है | मनुष्य अपने भाग्य का निर्माता आप है, इस तथ्य की यथार्थता अपने उदाहरण से सर्वथा सत्य एवं सार्थक सिद्ध कर सकता है |*


*मानवी सत्ता का सृजन उत्कृष्टता की ओर अग्रसर हो सकने वाली सामर्थ्य के साथ हुआ है | यह उसका अपना चुनाव एवं रुझान है कि चाहे वह उत्थान के राजमार्ग को छोड़कर पतन की राह पर चले और दुर्भाग्य जैसी दुर्गति को भोगे |*

अगला लेख: अर्जुन के तीर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जून 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - ४७* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण जी* को रथ में विलाप करते देखकर मंत्री सुमंत ने कहा :- महाभाग *लक्ष्मण !* तुम भक्ति , ज्ञान , वैराग्य एवं कर्मयोग के
13 जून 2020
28 जून 2020
*मानव जीवन में कुछ भी करने या लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि मनुष्य संकल्पित हो | बिना दृढ़ संकल्प के कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है | सनातन धर्म ने आदिकाल से संकल्प के महत्व को समझते हुए किसी भी धार्मिक कृत्य के प्रारम्भ करने के पहले संकल्प का विधान रखा है | बिना संकल्प लिए की गयी पूज
28 जून 2020
22 जून 2020
दस्तकफिर वही शोर .....बाहर भी और अंदर भी ....!अंतः करण में गूँजते शब्द दस्तक देने लगे ।विद्यालय में नए सत्र के कार्यों के लिए सबके नाम घोषित किए जा रहे थे ।अध्यापकों की भीड़ में बैठी …..कान अपने नाम को सुनने को आतुर थे ,मगर..... नाम, कहीं नहीं.....!क्यों...? बहुत से सवाल मन में आ रहे थे । आस -पास बह
22 जून 2020
28 जून 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *मानव जीवन बहुत ही संघर्षमय कहा गया है | यहां प्रत्येक मनुष्य को अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है | लक्ष्य को प्राप्त करने में अनेकों बार ऐसा भी समय आता
28 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x