हाचड़ (फुरसतिया मनोरंजन)

30 जून 2020   |  महातम मिश्रा   (322 बार पढ़ा जा चुका है)


"हाचड़" (फुरसतिया मनोरंजन)


कौवा अपनी राग अलाप रहा था और कोयल अपनी। मजे की बात, दोनों के श्रोता आँख मूँदकर आत्मविभोर हो रहे थे।अंधी दौड़ थी फिर भी लोग जी जान लगाकर दौड़ रहे थे। न ठंड की चिंता थी न महंगाई के मार की, न राष्ट्र हित की और न राष्ट्र विकास की। अगर कुछ था तो बस नाम कमाने की ललक और बड़ी कुर्सी की लपक । इस ललक/लपक में न जाने कितने लोग मर मुरा गए, कितनी बसें जल गई, कितने राहगीर जख्मी हो गए। इसकी किसी को परवाह नहीं है। मीडिया वाले चिल्ला चिल्ला कर नजारा दिखाने के लिए परेशान हैं तो नेता बिरादरी प्रदर्शन के लिए धरना दे रहे थे सत्याग्रह का इससे बढ़िया नमूना शायद ही कोई हो। जानबूझ कर लोग अपने पैर दलदल में फंसा रहे है और उलाहना दे रहे हैं कि सरकार कुछ कर नहीं रही है। अगर यही सब करने के लिए आप भी सरकार बनाना चाहते हैं तो बना लीजिए और दिखा दीजिये विश्व बिरादरी को कि हमारा तंत्र सबसे बढ़िया है।


अरे मेरे भाई, तनिक सोचिए तो सही, आप कहाँ से चलकर कहाँ आये हैं और आगे अब कहाँ जाना है। पूर्वजों ने समयानुरूप अपना पसीना बहाया है जो आज परिलक्षित हो रहा है। नमन कीजिये उन लोगों को जिन्होंने कम साधन में भारत माँ को गर्वित किया है। उनकी बात क्यों करना जिन्होंने ने केवल और केवल अपना जीवन जीया है और अन्य को दर्दित छाले दिया है। विश्व तीसरे युद्ध के लिए घिरता जा रहा है और हम आपस में ही लड़ रहे है। समय की मांग है कि हाथ से हाथ और कंधे से कंधा मिलाकर चलें न कि उनके लिए परेशान रहे जो कभी हमारे हुए ही नहीं और न होने की संभावना है।


संविधान संशोधन गर लाजिमी है तो होना ही चाहिए पर मानवता किसी भी कीमत पर घायल न हो इसका ध्यान भी रखना चाहिए। हाँ एक बात का विशेष ध्यान ज़रूरी है कहीं म्लेच्छ न हमपर हावी हो जाएं और घिनौना अत्यचार पुनः शुरू कर दें। महाभारत की प्रतीति से बचना होगा। भाई, भाई का सम्मान करना ही सुंदर संस्कारित विकास है। एक कहावत यहाँ जरूरी है अपने ही अपने होते हैं गैरों का क्या भरोसा?। ॐ जा माँ भारती!


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: दोहा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जुलाई 2020
गी
"गीतिका" नदियों में वो धार कहाँ से लाऊँराधा जैसा प्यार कहाँ से लाऊँकैसे कैसे मिलती मन की मंजिलआँगन में परिवार कहाँ से लाऊँ।।सबका घर है मंदिर कहते सारेमंदिर में करतार कहाँ से लाऊँ।।छूना है आकाश सभी को पल मेंचेतक सी रफ्तार कहाँ से लाऊँ।।सपने सुंदर आँखों में आ जातेसचमुच का दीदार कहाँ से लाऊँ।।संकेतों क
07 जुलाई 2020
30 जून 2020
कु
"कुंडलिया"बदरी अब छँटने लगी, आसमान है साफधूप सुहाना लग रहा, राहत देती हाँफराहत देती हाँफ, काँख कुछ फुरसत पाईझुरमुट गाए गीत, रीत ने ली अंगड़ाईकह गौतम कविराय, उतारो तन से गुदरीकरो प्रयाग नहान, भूल जाओ प्रिय बदरी।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 जून 2020
03 जुलाई 2020
मु
"मुक्तक" बहुत दिनों के बाद मिला है बच्चों ऐसा मौका।होली में हुडदंग नहीं है नहीं सचिन का चौका।मोबाइल में मस्त हैं सारे राग फाग फगुहारे-ढोलक और मंजीरा तरसे तरसे पायल झुमका।।पिचकारी में रंग नहीं है नहीं अबीर गुलाला।मलो न मुख पर रोग करोना दूर करो विष प्याला।चीन हीन का नया खिलौना है मानव का वैरी-बंदकरो ज
03 जुलाई 2020
23 जून 2020
इंडिया में टिकटोक से बेहतर एप्प कोनसा है?
23 जून 2020
30 जून 2020
कु
"कुंडलिया"मेरे बगिया में खिला, सुंदर एक गुलाबगेंदा भी है संग में, मीठा नलका आबमीठा नलका आब, पी रही है गौरैयारंभाती है रोज, देखकर मेरी गैयाकह गौतम कविराय, द्वार पर बछिया घेरेसुंदर भारत भूमि, मित्र आना घर मेरे।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x