हाचड़ (फुरसतिया मनोरंजन)

30 जून 2020   |  महातम मिश्रा   (340 बार पढ़ा जा चुका है)


"हाचड़" (फुरसतिया मनोरंजन)


कौवा अपनी राग अलाप रहा था और कोयल अपनी। मजे की बात, दोनों के श्रोता आँख मूँदकर आत्मविभोर हो रहे थे।अंधी दौड़ थी फिर भी लोग जी जान लगाकर दौड़ रहे थे। न ठंड की चिंता थी न महंगाई के मार की, न राष्ट्र हित की और न राष्ट्र विकास की। अगर कुछ था तो बस नाम कमाने की ललक और बड़ी कुर्सी की लपक । इस ललक/लपक में न जाने कितने लोग मर मुरा गए, कितनी बसें जल गई, कितने राहगीर जख्मी हो गए। इसकी किसी को परवाह नहीं है। मीडिया वाले चिल्ला चिल्ला कर नजारा दिखाने के लिए परेशान हैं तो नेता बिरादरी प्रदर्शन के लिए धरना दे रहे थे सत्याग्रह का इससे बढ़िया नमूना शायद ही कोई हो। जानबूझ कर लोग अपने पैर दलदल में फंसा रहे है और उलाहना दे रहे हैं कि सरकार कुछ कर नहीं रही है। अगर यही सब करने के लिए आप भी सरकार बनाना चाहते हैं तो बना लीजिए और दिखा दीजिये विश्व बिरादरी को कि हमारा तंत्र सबसे बढ़िया है।


अरे मेरे भाई, तनिक सोचिए तो सही, आप कहाँ से चलकर कहाँ आये हैं और आगे अब कहाँ जाना है। पूर्वजों ने समयानुरूप अपना पसीना बहाया है जो आज परिलक्षित हो रहा है। नमन कीजिये उन लोगों को जिन्होंने कम साधन में भारत माँ को गर्वित किया है। उनकी बात क्यों करना जिन्होंने ने केवल और केवल अपना जीवन जीया है और अन्य को दर्दित छाले दिया है। विश्व तीसरे युद्ध के लिए घिरता जा रहा है और हम आपस में ही लड़ रहे है। समय की मांग है कि हाथ से हाथ और कंधे से कंधा मिलाकर चलें न कि उनके लिए परेशान रहे जो कभी हमारे हुए ही नहीं और न होने की संभावना है।


संविधान संशोधन गर लाजिमी है तो होना ही चाहिए पर मानवता किसी भी कीमत पर घायल न हो इसका ध्यान भी रखना चाहिए। हाँ एक बात का विशेष ध्यान ज़रूरी है कहीं म्लेच्छ न हमपर हावी हो जाएं और घिनौना अत्यचार पुनः शुरू कर दें। महाभारत की प्रतीति से बचना होगा। भाई, भाई का सम्मान करना ही सुंदर संस्कारित विकास है। एक कहावत यहाँ जरूरी है अपने ही अपने होते हैं गैरों का क्या भरोसा?। ॐ जा माँ भारती!


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: दोहा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जून 2020
कु
"कुंडलिया"बदरी अब छँटने लगी, आसमान है साफधूप सुहाना लग रहा, राहत देती हाँफराहत देती हाँफ, काँख कुछ फुरसत पाईझुरमुट गाए गीत, रीत ने ली अंगड़ाईकह गौतम कविराय, उतारो तन से गुदरीकरो प्रयाग नहान, भूल जाओ प्रिय बदरी।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 जून 2020
03 जुलाई 2020
भो
"होली गीत" होरी खेलन हम जईबे हो मैया गाँव की गलियाँसरसों के खेतवा फुलईबे हो मैया गाँव की गलियाँ।।रंग लगईबें, गुलाल उड़ेईबें, सखियन संग चुनर लहरैबेंभौजी के चोलिया भिगेईबें हो मैया गाँव की गलियाँ.....होरी खेलन.....पूवा अरु पकवान बनेईबें, नईहर ढंग हुनर दिखलईबेंबाबुल के महिमा बढ़ेईबें हो मैया गाँव की गलिय
03 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
कु
"कुंडलिया"बचपन में पकड़े बहुत, सबने तोतारामकिये हवाले पिंजरे, बंद किए खग आमबंद किए खग आम, चपल मन खुशी मिली थी कैसी थी वह शाम, चाँदनी रात खिली थीकह गौतम कविराय, न कर नादानी पचपनहो जा घर में बंद, बहुरि कब आए बचपन।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
07 जुलाई 2020
23 जून 2020
इंडिया में टिकटोक से बेहतर एप्प कोनसा है?
23 जून 2020
03 जुलाई 2020
कु
"कुंडलिया"बंसी मेरे बीच में, क्यों आती है बोलकान्हा की परछाइयाँ, घूम रही मैं गोलघूम रही मैं गोल, राधिका बरसाने कीमत कर री बेहाल, उमर है हरषाने कीकह गौतम कविराय, मधुर बन पनघट जैसीछोड़ अधर रसपान, कृष्ण की प्यारी बंसी।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
03 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x