कोरोना का सच भाग 1

03 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (528 बार पढ़ा जा चुका है)

कोरोना का नाम बहुत सुना था। लेकिन 25 मार्च के बाद हमें समझ में आया क्या चीज है आखिर वह। लॉक डाउन के बाद हम सभी एक दूसरे को शक की निगाह से देखने लगे। वॉट्सएप पर मैसेज डराने के लिए आने लगे।पुरानी फिल्मों के सीन दिखाकर बहुत डराया लोगों ने वॉट्सएप पर।मुंह पर मास्क लगा झोला टांग सुबह सुबह सब्जी वाले को कहां कहां नहीं ढूंढा।क्योंकि पुलिस फोर्स सुबह अपनी दैनिक क्रिया निपटाते और इस दौरान हम फल तथा सब्जी आपूर्ति पूरी करते।नाश्ते के बाद टी वी पर न्यूज़ बाद में मोंबाइल पे मैसेज का लेन देन करने लगते। दोपहर को डट कर लंच लेने के बाद एक लम्बी झपकी लगा लेते।बीच बीच में सायरन की आवाज आए कि दौड़ कर वरांडे में पहुंच जाते।एक जासूस की तरह आसपास निगाह डाल कर बता देते की कोरोना का पेशेंट किस मोहल्ले में पकड़ाया।हवा में लट्ठ चला देते कभी कभी सही जगह लग जाता,जब दूसरे दिन समाचार में पता चलता की फलाने मोहल्ले का फलाना आदमी चपेट में आ गया ।और उसकी रिपोर्ट आए तब तक पूरा परिवार एम्बुलेंस में क्वारेंटाइन में ,पूरी गली बंद ।कोई अगर खांसते हुए बाहर बालकनी में खड़ा भी हो जाए तो पड़ोसी तुरंत पड़ोसी धर्म का पालन करते हुए पुलिस को सूचना दे देता।किसी का बेटा या बेटी बाहर से अपने शहर लौटे वैसे ही पड़ोसी की तेज निगाहें उस पर और थोड़ी देर बाद सायरन की आवाज ।ऐसा पड़ोसी धर्म पहले कभी महानगरों में नहीं पाया गया।मोदी जी के कहने पर हमने भी बालकनी में खड़े होकर थाली, ताली और घंटी बजाई।कुछ एबले रोड शो करने गए।और कुछ सिटी सेंटर पर माहौल देखने चले।दूसरे दिन कर्फ्यू में सख्ती का बोला गया,चप्पे चप्पे पे पुलिस फोर्स लग गया।,तो लोग वो कर्फ्यू भी देखने मार्केट पहुंच गए।हालांकि मास्क लगा कर गए,पर उन्हें ये नहीं पता था कि ठुकाई मास्क वाली जगह पर नहीं होगी।उसकी जगह तो नियत है, पुलिस बराबर जगह ढूंढ़ लेती है । आते आते बहुत सी जगह सुजा कर गृह प्रवेश किया उन्होंने। व्हाट्सएप पर सभी अपने शहरों की तारीफ करने लगे और कर्फ्यू उल्लंघन की न्यूज़ भेजने लगे।एक ही वीडियो पोस्ट पे अलग अलग शहरों के नाम पूरे विश्व में फेल गए।ना जाने कौन कौन से लोग इटली, चाइना,अमेरिका,फ्रांस आदि जगहों से डराने वाले मैसेज वायरल करने लगे।बहुत से कथित अकथित डॉक्टर्स राय देने लगे।काढ़े के नुस्खे तो इतने वायरल हो गए कि हर वेराइटी का काढ़ा बना लो तो जिंदगी भर का कोरोना निपट जाए।






अगला लेख: विश्वास की चादर



barkha solanki
04 जुलाई 2020

👌👌

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2020
इंदौर के पास एक कस्बा राऊ नगर, रंगवासा रोड पे स्थित उमिया पैलेस बिल्डिंग के फर्स्ट फ्लोर पर रोजाना की तरह महिलाओं,बच्चों और पुरुषों की हलचल।अचानक से राऊ नगर के जननायक भाई राजेश मंडले का आगमन।दोपहर के करीब साढ़े बारह बजे थे।संजय सर,अरुण
16 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
वि
विश्वास की चादर फैला, उस पे ईमानदारी को बैठा, इतिहास बदल दिया उसने भारत का है।वर्षों से विश्वभर में जो स्थिति हमारी थी,आज पूरे विश्व में वो साख देश ने कमाई है।स्वच्छता का संदेश फैला जनमानस में,गांव गांव गली गली आज साफ सुथरी है।भ्रष्टाचार ,काली कमाई ,बेईमानी,कामचोरी,नह
15 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए, जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।
14 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x