आज ही क्यों नहीं - हिंदी और अंग्रेजी में

04 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (304 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेरणादायक कहानी

आज ही क्यों नहीं ?


एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था | सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश करता तथा आज के काम को कल के लिए छोड़ दिया करता था | अब गुरूजी कुछ चिंतित रहने लगे कि कहीं उनका यह शिष्य जीवन-संग्राम में पराजित न हो जाये| आलस्य में व्यक्ति को अकर्मण्य बनाने की पूरी सामर्थ्य होती है | ऐसा व्यक्ति बिना परिश्रम के ही फलोपभोग की कामना करता है| वह शीघ्र निर्णय नहीं ले सकता और यदि ले भी लेता है, तो उसे कार्यान्वित नहीं कर पाता| यहाँ तक कि अपने पर्यावरण के प्रति भी सजग नहीं रहता है और न भाग्य द्वारा प्रदत्त सुअवसरों का लाभ उठाने की कला में ही प्रवीण हो पता है | उन्होंने मन ही मन अपने शिष्य के कल्याण के लिए एक योजना बना ली |

एक दिन एक काले पत्थर का एक टुकड़ा उसके हाथ में देते हुए गुरु जी ने कहा –‘मैं तुम्हें यह जादुई पत्थर का टुकड़ा, दो दिन के लिए दे कर, कहीं दूसरे गाँव जा रहा हूँ| जिस भी लोहे की वस्तु को तुम इससे स्पर्श करोगे| वह स्वर्ण में परिवर्तित हो जायेगी| पर याद रहे कि दूसरे दिन सूर्यास्त के पश्चात मैं इसे तुमसे वापस ले लूँगा|’

शिष्य इस सुअवसर को पाकर बड़ा प्रसन्न हुआ लेकिन आलसी होने के कारण उसने अपना पहला दिन यह कल्पना करते-करते बिता दिया कि जब उसके पास बहुत सारा स्वर्ण होगा तब वह कितना प्रसन्न, सुखी,समृद्ध और संतुष्ट रहेगा| इतने नौकर-चाकर होंगे कि उसे पानी पीने के लिए भी नहीं उठाना पड़ेगा | फिर दूसरे दिन जब वह प्रातःकाल जागा, उसे अच्छी तरह से स्मरण था कि आज स्वर्ण पाने का दूसरा और अंतिम दिन है | उसने मन में पक्का विचार किया कि आज वह गुरूजी द्वारा दिए गये काले पत्थर का लाभ ज़रूर उठाएगा | उसने निश्चय किया कि वो बाज़ार से लोहे के बड़े-बड़े सामान खरीद कर लायेगा और उन्हें स्वर्ण में परिवर्तित कर देगा| दिन बीतता गया, पर वह इसी सोच में बैठा रहा की अभी तो बहुत समय है, कभी भी बाज़ार जाकर सामान लेता आएगा|

उसने सोचा कि अब तो दोपहर का भोजन करने के पश्चात ही सामान लेने निकलूंगा. पर भोजन करने के बाद उसे विश्राम करने की आदत थी , और उसने बजाये उठ के मेहनत करने के थोड़ी देर आराम करना उचित समझा, पर आलस्य से परिपूर्ण उसका शरीर नीद की गहराइयों में खो गया, और जब वो उठा तो सूर्यास्त होने को था| अब वह जल्दी-जल्दी बाज़ार की तरफ भागने लगा, पर रास्ते में ही उसे गुरूजी मिल गए उनको देखते ही वह उनके चरणों पर गिरकर, उस जादुई पत्थर को एक दिन और अपने पास रखने के लिए याचना करने लगा लेकिन गुरूजी नहीं माने और उस शिष्य का धनी होने का सपना चूर-चूर हो गया | पर इस घटना की वजह से शिष्य को एक बहुत बड़ी सीख मिल गयी| उसे अपने आलस्य पर पछतावा होने लगा, वह समझ गया कि आलस्य उसके जीवन के लिए एक अभिशाप है और उसने प्रण किया कि अब वो कभी भी काम से जी नहीं चुराएगा और एक कर्मठ, सजग और सक्रिय व्यक्ति बन कर दिखायेगा|

मित्रों, जीवन में हर किसी को एक से बढ़कर एक अवसर मिलते हैं , पर कई लोग इन्हें बस अपने आलस्य के कारण गवां देते हैं| इसलिए मैं यही कहना चाहता हूँ कि यदि आप सफल, सुखी, भाग्यशाली, धनी अथवा महान बनना चाहते हैं तो आलस्य और दीर्घसूत्रता को त्यागकर, अपने अंदर विवेक, कष्टसाध्य श्रम,और सतत् जागरूकता जैसे गुणों को विकसित कीजिये और जब कभी आपके मन में किसी आवश्यक काम को टालने का विचार आये तो स्वयं से एक प्रश्न कीजिये – “आज ही क्यों नहीं ?”


----------^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^-----------------------
--------------------------------------------------------------------
Inspirational story

Why not today?


Once upon a time, a disciple used to respect his Guru very much. The Guru also loved his disciple very much, but that disciple was lazy and tempered by his studies. Always tried to run away from self-study and left today's work for tomorrow. Now Guruji started getting worried that his disciple should not be defeated in the war of life. Laziness has the potential to make a person inactive. Such a person wishes for prosperity without diligence. He cannot take a quick decision and even if he takes it, he cannot implement it. Even one is not aware of his environment and neither is he proficient in the art of taking advantage of the opportunities provided by luck. He made a plan for the welfare of his disciple in his mind.

One day while giving a piece of a black stone in his hand, Guru Ji said - 'I am giving you this piece of magical stone for two days, I am going to another village somewhere. Whatever iron item you will touch with it. It will turn into gold. But remember that the next day after sunset I will take it back from you. '

The disciple was very happy to get this opportunity but due to being lazy, he spent his first day imagining how happy, happy, prosperous and satisfied he would be when he had a lot of gold. There will be so many servants that he does not even have to bear to drink water. Then the next day when he woke up in the morning, he remembered very well that today is the second and last day to get gold. He firmly thought in his mind that today he will definitely take advantage of the black stone given by Guruji. He decided that he would buy big items of iron from the market and bring them into gold. The day passed, but he sat in the same thinking that there is still a lot of time, he will go to the market anytime and get the goods.

He thought that now after taking lunch, he would go out to get the goods. But after eating, he had a habit of resting, and he thought it appropriate to rest for a while after working hard, but his body full of laziness was lost in the depths of sleep, and it was about to sunset. Now he quickly ran towards the market, but on the way, he found Guruji, after seeing him, he fell on his feet, pleading to keep that magical stone one more day but Guruji did not agree and that disciple Dream of being rich was crushed. But because of this incident, the disciple got a very big lesson. He regrets his laziness, he realizes that laziness is a curse for his life and vows that he will never steal from work and will show himself to be a diligent, alert and active person.

Friends, everyone gets more than one opportunity in life, but many people lose them simply because of their laziness. That is why I want to say that if you want to be successful, happy, lucky, rich or great, then by abandoning laziness and longevity, develop qualities like prudence, painstaking labor, and continuous awareness and whenever someone in your mind If you think of avoiding important work, then ask yourself a question - "Why not today?"

अगला लेख: उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण सभी छात्रों को मैं बधाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जून 2020
*यक़ीन करना सीखो..**शक तो सारी दुनिया**करती है...!* . *जिन्दगी जब देती है,* *तो एहसान नहीं करती* *और जब लेती है तो,* *लिहाज नहीं करती* *दुनिया में दो ‘पौधे’ ऐसे हैं* *जो कभी मुरझाते नहीं* *और* *अगर जो मुरझा गए तो* *उसक
30 जून 2020
28 जून 2020
फू
*प्रेरणादायक कहानी _फूटा_घड़ा बहुत समय पहले की बात है , किसी गाँव में एक किसान रहता था . वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था . इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था , जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे पर
28 जून 2020
30 जून 2020
कल दिनांक 29 जून को "पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया डेमोक्रेटिक"(पीपीआई डी) के कार्यकर्ताओं की टीम,पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष आर के विद्यार्थी के नेतृत्व में ग्राम सभा भीटा ब्लॉक जसरा जिला प्रयागराज मे जनसंपर्क किया! जनसंपर्क के दौरान यह बात निकल कर के आई कि गांव के मनरेगा के मजदूरों को उनकी मेहनत का आधा पै
30 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
नौ
28 जून 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x