एक था बचपन (संस्मरण)भाग 2

09 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (443 बार पढ़ा जा चुका है)

तीन मंजिला हवेली को मैं आते ही चंद मिनटों में नाप देता था।पीछे गली में झांक कर उधर रहने वालों को भी बता देता कि हम आ गए है।

नाना जी काफी पहले ही कैंसर से लड़ते हुए स्वर्ग सिधार चुके थे।नानी जी ने अकेले के दम पर पूरी खेती बाडी सम्हाली हुई थी।क्योंकि तीनों मामा क्रमश: औरंगाबाद,बुलढाणा और इगतपुरी में अपनी नौकरियों में व्यस्त थे।

नानी जी एक छोटे कद की महिला थी,लेकिन आत्मविश्वास ऊंचा था,स्वाभिमानी,दबंग ,स्पष्टवादी,पढ़ी लिखी विदुषी महिला थी। गांव में रहने के बावजूद मैंने कभी उन्हें ठेठ खानदेशी बोली बोलते नहीं देखा।वो हमेशा शुद्ध मराठी बोलती थी।हिसाब किताब की पक्की और मजदूरों से भी हिसाब से पुरा काम करा लेती थी।उस जमाने में आज की औरतों वाली पर्स नहीं होती थी। नानी शहर भी जाती तो एक छोटी सी बटुए नुमा थैली अपने नौवारी साड़ी में कमर पे खोंस लेती।बहुत चतुर और सतर्क महिला थी।दैनिक क्रिया से निवृत्त होकर चाय पीने के बाद ढोर कोठे की तरफ निकल जाता। नानी के यहां दो भैंसें और दो गाएं थी।एक सफेद गाय के सींग नीचे की तरफ होने से उसका नाम होंडी रखा था। मैं हमारे साल - दार एकनाथ दादा के साथ जाकर गाय भैंसों को चारा भी देता था।रास्ते में मुरलीधर आजोबा (नाना) ,गंगाधर आजोबा,नीलकंठ दादा,तुकाराम बुआ,माधव मामा आदि से दुआ सलाम करते हुए फिर घर पहुंच जाता।(सालदार : एक ऐसा नौकरदार जो साल भर के लिए निर्धारित कर दिया जाता है)।

बचपन में मैंने जो गांव का माहौल देखा,आज भी आंखों में बसा है।हम सभी ममेरे फुफेरे भाई बहन मोहल्ले के किसी भी घर खाना खा लेते थे। रात होते ही गली में खाटों की कतार बिछ जाती,गर्मी में बाहर सोने का आनंद ही कुछ और होता था। लेटे लेटे बातें करते करते एक एक कर थके मांदे सभी नींद के आगोश में चले जाते।नींद तभी खुलती जब सुबह खेत की ओर बैलगाड़ियां जाने के लिए तैयार हो जाती।

मैं तो अक्सर थाली ले कर पेमा मामा के घर मेरे भाई मुकुंद के साथ खाना खाता था।आसपास के कुछ बच्चों को इकठ्ठा कर मैं और मुकुंद अलग अलग खेल आयोजित करते रहते। गांव के वातावरण में कोई छल कपट नहीं,कोई दिखावा नहीं,बस प्रेम ही प्रेम दिखता था।

हमारी ममेरी बहन अक्का अपनी सहेलियों के साथ अपने अपने घरों से लाए अचार का जब तब रसास्वादन करती रहती।घर के भीतर से एक दरवाजे को ठोककर जगु मामा और कमल मामी से चाय नाश्ते के लिए आने की बात हो जाती।कभी भी उस दरवाजे से उस पार मैसेज का आदान प्रदान हो जाता।बड़ी नानी तुलसा आजी और वना बोय आज भी याद आती है। मैं तो पूरे मोहल्ले का प्रिय था क्योंकि बातें बनाना मुझे बहुत आता था।पड़ोस की कमल आजी, वच्छा आजी, शकु वाहिनी सभी की यादें आज भी धूमिल नहीं हुई है।

आगे जारी हैं।भाग 3 में।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जुलाई 2020
या
कुछ मीठी,कुछ खट्टी,कुछ कड़वी,कुछ रंगीन,कुछ बचपन की,कुछ जवानी की,कुछ संगीन।ये ही तो हैं वो यादें,जो भूले ना भुलायी जा सकी;कुछ यादें पूरी याद रही,याद रह गयी अधूरी बाकी।कुछ यादें तड़पाती है,कुछ प्रफुल्लित कर जाती है;यादें तो यादें हैं ,जो
24 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए, जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।
14 जुलाई 2020
25 जून 2020
कल कल बहती,किनारों से मिलकर, बहुत कुछ समेटे,अपने साथ लेकर,बारिश के आते ही,दौड़ती हूं खिलखिलाकर।कभी मै रौद्र बन, किनारों को काटकर,विनाश की ओर
25 जून 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x