एक था बचपन भाग 3 (संस्मरण)

10 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

मजा तब शुरू होता जब सबसे छोटे बापू मामा गर्मी की छुट्टियों में गांव आते साथ में देवगांव के प्रसिद्ध पेडे जरूर लाते ।उनके आते ही हवेली कि रौनक बढ़ जाती ,क्योंकि मामा भले ही मैथ्स के लेक्चरर रहे हो, बचपना नहीं छोड़ते थे।चलते फिरते किसी भी बच्चे को परेशान करना उनका शगल था।सभी लोग बोलते रहते थे,"नको न रे बापू काय पोरांचे नांव घेत राहतों।"मामा आए कि सारे बच्चे दिनु दादा,प्रमोद दादा, विजु दादा,विनोद ,केश्या,गलू मामा और आनंदा कोली, सभी बापू मामा के साथ दूसरी मंजिल पे नाना की तस्वीर के नीचे बैठ कर ताश की महफिल जमा लेते।हालांकि वो पैसे दांव पे नहीं लगाते थे,लेकिन उसकी जगह आम की गुठलियों तथा चिब्बियों (कोल्ड्रिंक्स की बॉटल्स के ढक्कन) से काम चलाते।क्या जोर जोर से आवाजें करते थे पुछों मत। बापू मामा जब भी हारने लगते सारे पत्ते घुटमित कर विजु या दिनू की पीठ पे धौल जमाते हुए नीचे चल देते। और जब जितने का दौर होता तो इतने रम जाते कि खाने के लिए नानी को आवाज देनी पड़ती। नानी का बुलाने का तरीका पहले राजा बापू,फिर बापू रे बापू और आखिर में बाप्या रे बाप्या और तुरंत गेम खत्म बापू मामा सीधे थाली पे।मझले बालू मामा से बच्चे डरते थे,उनके आते ही शोर थोड़ा कम हो जाता।मामा की कॉलर पे हमेशा एक रुमाल होता था,जो उसे गंदा होने व फटने से बचाता था।आते ही उनका सफाई अभियान चालू हो जाता ।बाद में अंदर बैठ कर नानी के साथ खेती का हिसाब बतियाते। शांत प्रवृत्ति के हमारे बालू मामा सभी बच्चों से सिर पे हाथ फेरते हुए पढ़ाई की जानकारी लेते रहते। वाघुर नदी के किनारे काफी ऊंचाई पर ये गांव बसा है,फिर भी बारिश में बाढ़ का पानी गांव में घुस जाता था। अब तो ये हाल है कि बारिश में भी नदी तंदुरुस्त नहीं दिखती ,उफान पर आने की तो बात ही नहीं होती।

हां तो मैं बता रहा था कि ऐसी बाढ़ में भी बापू मामा तैर कर तरबूज ले आते थे।उनका ये बचपना आज भी कभी कभी नजर आता है।पेमा मामा (प्रेमचंद) की बात ही अलग थी ।पूरे गांव के लोग सलाह लेने आते थे आखिर लीडर जो ठहरे।लेकिन मेरी नानी याने उनकी काकी और उनकी कभी पटरी नहीं बैठती थी।मेरी मम्मी (आई),जिन्हें लोग माई कहते थे,पेमा मामा से अक्सर सलाह लेती रहती।वो हमेशा हमारी मदद के लिए तैयार रहते थे।

शाम को चुपचाप चंद्रा मामी की खरी खरी बातों को सुनते हुए भोजन का आनंद ले सीधे बाहर बिछी अपनी खाट पे दस्तक दे देते।सुबह बोलने वाला व्यक्ति शाम को इतना शांत रहता ,इस बात का रहस्य मुझे बड़े होने के बाद पता चला।

कभी कभी एक साथ बालू मामा के तीनों बच्चे राजश्री,मिलिंद् व संगीता तथा बड़े अरविंद मामा के बच्चे सुनीता,विनोद व कविता भी गांव पहुंच जाते। उधर बापू मामा के बच्चे हेमंत (चिमु) व सीमा(माई) सारे के सारे एक साथ इकट्ठे जो जाते।मै बीच वाले कैडर में रहता,बड़े मुझे खिलाते नहीं थे । मैं अपने हम उम्र तथा छोटे भाई बहनों को लेकर मनोरंजन के झंडे फहराते रहता था।

ऊपर रात को सारे बच्चे धाबे (छत) पर मस्ती करते ,किस्से कहानी सुनते सुनाते ठंडी हवा के झोंके आते ही गहरी नींद में एक एक कर विकेट गिरा देते।

कभी कपास के ढेर पे कूदना,कभी प्याज एक दूसरे पर फेंकना,कभी केले या आम कच्चे पक्के निकाल के खाना।इतना स्वर्णिम आनंद अब नई पीढ़ी को शायद ही मिले।खेत में कभी पैदल तो कभी बैलगाड़ी पर जाते ।वहां पहुंचते ही सारी थकान मिट जाती थी।केले के बगीचे में घुस कर आवाज देना,कपास के पौधों में छिप जाना, कच्चे आम तोड़ना,पड़ोस वाले खेत से ककड़ी (खीरा) ले आना,इन सब कामों में अथाह आनंद की अनुभूति होती थी।दोपहर में सारे नानी के आसपास इकठ्ठा हो जाते और खाने की व्यवस्था जमाते ।मिर्च, लहसुन ,मूंगफली के दानों की चटनी और कलने की भाकरी ,प्याज , ककड़ी,टमाटर, कैरी (कच्चे आम)के साथ खाने का वो मजा मिलता जो किसी फाइव स्टर होटल के खाने में न मिलता।(कलने की भाकरी::ज्वार,मेथीदाना,तिल्ली,खड़े उड़द के मिश्रित आटे से बनी मोटी रोटी,एक बार खा लो तो बार बार खाने की इच्छा होगी।)

आगे जारी है भाग 4 में।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2020
वि
विश्वास की चादर फैला, उस पे ईमानदारी को बैठा, इतिहास बदल दिया उसने भारत का है।वर्षों से विश्वभर में जो स्थिति हमारी थी,आज पूरे विश्व में वो साख देश ने कमाई है।स्वच्छता का संदेश फैला जनमानस में,गांव गांव गली गली आज साफ सुथरी है।भ्रष्टाचा
15 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए, जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।
14 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
पहली पहली बारिश , करती है आप से गुजारिश,जरा भीग के तो देख,पूरी हो जाएगी सारी ख्वाहिश।मै तो तुझे कर दूंगी सरोबार,गर सर्दी खांसी हो गई तो हो जाएगा क्वारेंटाइन,दूर हो जाएगा घर बार।
17 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x