एक था बचपन भाग 4(संस्मरण)

11 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (434 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरी कार धीरे धीरे सुनसगांव में प्रवेश करती है और मंदिर के सामने पत्थर वाले रोड से गुजरती है।सामने बाबू सोन जी मामा का मकान दिखता है हमेशा मुस्कराने वाला मामा और पतली आवाज में जोर से बोलने वाली जयवंता मामी आज इस दुनिया में नहीं है।सामने ही मुंछ वाले होम गार्ड की पैंट पहने रमेश मामा भी इस दुनिया में नहीं रहे।मनु मामा का मकान भी अभी गुजरा ।मैंने चावड़ी के सामने चौक में गाड़ी पार्क की।अनायास ही बलवंत मांगो मामा,पुंडलिक नेहते याद आ गए।सब कुछ सुना सुना सा लग रहा है।नई पीढ़ी के लोग मोबाइल और टी वी के कारण घरों में कैद हो गए है।मेरे कदम हवेली की और बढ़ चले।अब ये हवेली शायद अरविंद मामा के हिस्से में आयी है। आधा हिस्सा स्वर्गीय यशवंत मामा के हिस्से में आया।अंदर प्रवेश कर मै ओटले पर बैठ ध्यान से चारों तरफ देखते देखते फिर अतीत की दुनियां में चला गया।अरविंद मामा अक्सर बाइक से ही औरंगाबाद से आ जाते थे। पी डब्ल्यू डी में इंजीनियर रहे मामा बहुत ही चुस्ती फुर्ती के साथ आते ही पूरे मुहल्ले का चक्कर लगा सबसे मिल आते।सामान्य व्यक्ति की तरह नीचे ही बैठ लोगों से

बातचीत करते थे।कोई घमंड नहीं है उन्हें।

मुझे जहां तक याद आता है कि किसी एक दिन हवेली के सारे बच्चों के बाल छोटे छोटे हो जाते।ये सब रामा हज्जाम (नाई) की देन रहती थी।एक छोटी सी पेटी में सारे औजार भर कर वो घर घर जाकर दुकान लगा देते थे। चंद्रा मामी हमेशा आजी के लिए मददगार रही है।

नानी अक्सर खुद जाकर मावा बनवाकर लाती थी और फिर शुद्ध मावे के पेडे मुंह का स्वाद दोगुना मीठा कर देते। गांव में अक्का ताई और पेमा मामा की बेटी वंदू दोनों कम उम्र में ही स्वादिष्ट खाना बना लेती थी।जगु मामा (जगत राव)सबसे सीधे सादे और प्रेमल स्वभाव वाले मामा थे।कमल मामी बहुत बातूनी थी, जबकि मामा कम ही बोलते थे।उनके बेटे रघु व रामा दादा पढ़ने में लगे रहते।भागवत भाई हमारे साथ खेलने आ जाते थे। शकु ताई व छाया ताई भी हंसमुख और मिलनसार रही। अलीराजपुर से भुसावल आते ही सबसे पहले हम यशवंत मामा के यहां मिलने जाते थे।यशवंत मामा से मुझे डर लगता था ,उनकी आवाज से,लेकिन थे वे पूरे दिलदार। शांता मामी की बात तो निराली थी हंसते बोलते फटाफट रसोई निपटा लेती। शालिनी ताई(बड़ी अक्कl) पढ़ने में होशियार, सिधीसादी,काम में पारंगत रही है,वो और अवि ,अनिल,दीपू, पमु तथा छोटु भाई सभी की मेहमानवाजी काबिले तारीफ रहती थी।सभी तुरंत मदद के लिए तैयार रहते थे।

तभी "अरुण अरुण कब आया" की आवाजे कानों में गूंजी, मै अचानक से चौंक गया पुन: वर्तमान में पहुंचा तो पता चला ये तो शांताराम गुरुजी के लड़के विलास की आवाज थी।वो आज कल इस हवेली में रहता है और देखभाल भी हो जाती है।उसके यहां उसी जगह बैठ कर खाना खाया ,जहां मै कला मामी के हाथ से बने स्वादिष्ट भोजन का रसास्वादन करता।वैसे पाक कला में लता मामी ,रेखा मामी, हमारी आई,राजश्री,संगीता,सुनीता, माई और कविता इन सभी का कोई हाथ नहीं रोक सकता।हमारे परिवार की एक खासियत रही है और वह है पढ़ाई।चार पांच डॉक्टर्स,तीन आईआईटीयंस,तीन सी.ए. व सी .एस.,एक साइंटिस्ट,बहुत सारे इंजीनियरओं , लेक्चरर्स से भरा पूरा ये परिवार है। सबसे मिलने के बाद मेरी कार बड़े भारी दिल से वापस राऊ (इंदौर) की और चल दी।

दिल करता है जल्द ही कोरोना की वैक्सीन निकल जाए और फिर से हम सभी सुरक्षित हो जाएं।तो एक बार पूरे ननिहाल परिवार का गेट टुगेदर हो । सुनसगांव पहुंच फिर से उन यादों के झरोखे से अपने बहुमूल्य अतीत को जी लें।इसी आशा के साथ मैं विराम लेता हूं।धन्यवाद।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2020
तीन मंजिला हवेली को मैं आते ही चंद मिनटों में नाप देता था।पीछे गली में झांक कर उधर रहने वालों को भी बता देता कि हम आ गए है। नाना जी काफी पहले ही
09 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
वि
विश्वास की चादर फैला, उस पे ईमानदारी को बैठा, इतिहास बदल दिया उसने भारत का है।वर्षों से विश्वभर में जो स्थिति हमारी थी,आज पूरे विश्व में वो साख देश ने कमाई है।स्वच्छता का संदेश फैला जनमानस में,गांव गांव गली गली आज साफ सुथरी है।भ्रष्टाचार ,काली कमाई ,बेईमानी,कामचोरी,नह
15 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
नियति ने रचा यह चक्र है,प्रकृति से छेड़छाड़ करने पर,उसकी दृष्टि हम पे वक्र है ,नियति का रचा यह चक्र है।उसको करने चले थे खामोश, परिणाम उसी का है ये किआज हम भी है खामोश।
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x