वीरान हवेली का राज

13 जुलाई 2020   |  शिल्पा रोंघे   (342 बार पढ़ा जा चुका है)

वीरान हवेली का राज

रात के 10 बजे थे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेत से गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कर रहा था, बोला अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डर है कि नहीं तुझे, औरत जात है ज़रा संभालकर रहा कर।"

रज्जो ने कहा नहीं वो स्कूल से आते वक्त मेरा बैग गिर गया था, वो ढूंढने जा रही हूं.”

सुबह ढूंढ लेती ऐसी भी क्या जल्दी ?” धनिया ने कहा।

मैं आती हूं जल्दी ही.”

रज्जो के मां बाप सुबह उठकर खेत में काम करने के लिए उठते थे इसलिए वो नौ बजे ही सो जाते थे।तो रज्जो ने रात का वक्त ही चुना।

आगे रास्ते में काले काले कुत्ते भौंक रहे थे, वो कुछ देर रज्जो की साइकिल के पीछे दौड़े लेकिन जल्दी ही दूसरी दिशा में मुड़ गए।

दअरसल गांव के कुछ लड़कों ने अफवाह उड़ा रखी थी कि पुरानी हवेली में भूतों का वास है तो वहां जाना नहीं चाहिए। पुरानी हवेली को माणिकराम के पूर्वजों ने 150 साल पहले बनाया था जहां माणिकराम अपने बच्चों के साथ ही रहा करता था उसके 2 बेटों की शहर में नौकरी लग गई तो वो वहीं बस गए लेकिन माणिकराम अपनी पत्नी के साथ अपने जीवन के अंत तक वहीं रहा क्योंकि वो गांव छोड़ना नहीं चाहता था। उसकी मौत के 5 साल बाद भी उसके बेटे गांव आए लेकिन उन्होंने 8 कमरों की हवेली को बेचने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई क्योंकि वो शहर में काफी संपत्ती जमा कर चुके थे। हवेली भी काफी ज़र्जर हो चुकी थी गांव में अब कोई मकान खरीदना भी नहीं चाहता था क्योंकि वहां रोजगार के मौके ही नहीं होते है कुल मिलकार 50 परिवार ही बचे थे उस गांव में जो खेती बाड़ी से जुड़े हुए थे।

रज्जों ने सोचा वो आज सच पता लगाकर ही रहेगी। पुरानी हवेली के आस-पास भी एक दो टूटे फूटे मकान ही थे जिनमें कोई नहीं रहता था। रज्जों ने कुछ दूर अपनी साइकिल खड़ी की और धीमे कदमों से हवेली की तरफ बढ़ी और दरवाजे पर जा खड़ी हुई।

दरवाजा पुराना था, इस वजह से उसमें मोटी मोटी दरारें थी। जब रज्जों ने झांककर देखा तो गांव के ही कुछ लड़के शराब पी रहे थे और जुआ खेल रहे थे। ज़ोर जोर से खीं-खीं करके हंसने की आवाज आ रही थी। फिर रज्जों ने थोड़ी हिम्मत की और खिड़की से झांककर देखा तो वो दंग ही रह गई।

ये तो वही टीवी देख रहे है जो कुछ महीने पहले उसके घर से चोरी हो चुका था, उस पर वो लड़के मिडनाईट मूवी देख रहे थे। तभी उसका सिर अचानक से खिड़की पर लग गया तब हल्की सी आवाज हुई। चार लड़कों में से एक को कुछ हलचल महसूस हुई।

एक लड़का बोला लगता है कि बाहर कोई खड़ा है

अरे तेरा वहम होगा तुझे भी भूत-प्रेत दिखाई देने लगे है क्या?” दूसरे लड़के ने कहा।

नहीं मैं जाकर देखता हूं.” जिसे हलचल महसूस हुई वो लड़का बोला।

रज्जो ने हवेली के बाहर रखी अपनी साइकिल उठाई और वहां से निकल पड़ी, हवेली के बाहर घनघोर अंधेरा था तो कोई रज्जों को देख ना सका लेकिन लड़के को थोड़ी दूर से जाती हूं साइकिल दिखी लेकिन वो रज्जो को पहचान नहीं पाया।

उसने अंदर जाकर अपने दोस्तों से कहा मुझे लगता है कि कोई यहां आया ज़रुर था.”

अरे शहर से गांव की तरफ जाने वाला रास्ता यहीं से गुजरता है तो कोई शहर से वापस लौट रहा होगा। रोज ही ऐसा होता है लेकिन हमने जो लोगों के दिमाग में भ्रम भरा है तो कोई यहां आने की हिम्मत तक नहीं करेगा तू चुपचाप बैठ यहां.”

साइकिल पर सवार रज्जो ने आधा रास्ता तय कर लिया था, वो घबरा गई थी और सोचने लगी सचमुच उसे धनिया की चेतावनी सुन लेनी चाहिए थी अगर कोई उसे देख लेता तो उसकी तो जान पर ही बन आती।

कुछ ही देर में उसका घर भी आ गया उसने धीरे से कुंडी खोली और अपनी मां के बाजू में जाकर सो गई और सोचने लगी खामखां क्यों लोग भूत और प्रेतों को बदनाम करते रहते है मृत से ज्यादा ख़तरनाक तो जिंदा इंसान ही होता है। ये राज उसने अपने दिल में ही दफ़न रखा क्योंकि उसके गांव और परिवार वाले उसकी हिम्मत की दाद देने के बजाए उसे ही खरी खोटी सुनाने लगते।

शिल्पा रोंघे

© सर्वाधिकार सुरक्षित, कहानी के सभी पात्र काल्पनिक है जिसका जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है।

वीरान हवेली का राज

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/07/blog-post.html

वीरान हवेली का राज

अगला लेख: कोरोना संकट के वक्त हिलती आर्थिक स्थिती चिंताजनक।



आलोक सिन्हा
14 जुलाई 2020

वास्तव मैं एक बहुत अच्छी , रोचक व प्रशंसनीय कहानी |

thanks

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - तृतीय* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*द्वितीय भाग में आपने पढ़ा :--**श्री
28 जून 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
तु
कोई भी व्यक्तिप्रतिभावान हो सकता है चाहे वो किसी भी परिवेश या समाज से संबंध रखता हो। ये बातअलग है कि कहीं कहीं लोग अपने जान- पहचान वालों को ही मौका देना पसंद करते हैलेकिन इसका अर्थ ये नहीं कि आपको दूसरे इंसान को अपने से कमतर आंकने का अधिकार मिलगया है। कुछ इंसानों की बहुत बुरी आदत होती है कि वो हमेशा
15 जुलाई 2020
28 जून 2020
भारत चीन संबंध श्री जिनपिंग घात से विश्व शक्ति बनना चाहते हैंडॉ शोभा भारद्वाजमाओत्सेतुंग चीनी क्रान्ति के जनक की मृत्यू के बाद 1978 में चीनी जनवादी गणराज्य में सुधारों की जरूरत महसूस की गयी विकास के लिए कई क्षेत्रों में ढील दी गयी सत्ता
28 जून 2020
11 जुलाई 2020
- सुनो नाश्ता लगा दिया.- आया. - अचार लोगे ?- नहीं.- कल की खबर सुनी?- क्या?- वो जो कोने वाला मकान है दो मंजिला?- हाँ गोयल पेट्रोल पंप वाले का?- वही वही. कल बड़ा तमाशा हुआ. कल शाम को एक औरत गाड़ी चला कर एक बच्चे के साथ आई. गोयल के मकान के सामने गाड़ी खड़ी करके अंदर चली गई. जा क
11 जुलाई 2020
30 जून 2020
दो
आज का प्रेरक प्रसंगदो सांपों की कहानी*एक बार एक राजा था जिसका नाम था देवशक्ति वह अपने बेटे से बहुत निराश था, जो बहुत कमजोर था। वह दिन व दिन दुबला और कमजोर होता जा रहा था। दूर के स्थानों से प्रसिद्ध चिकित्सक भी उसे ठीक नहीं कर पा रहे थे। क्योंकि उसके पेट में साँप था। उन्होंने सभी तरह के उपचारों की को
30 जून 2020
05 जुलाई 2020
खैर समय गुजरा मन्नू जी चीफ मैनेजर बन गए और उन्हें मुम्बई भेज दिया गया. एक साल रह गया था रिटायर होने में और ऐसे में तो दिल्ली ही रखना चाहिए था पर मुम्बई भेज दिया. कमबख्त एच आर डी का दिमाग उलटा ही चलता है. खैर हो सकता है इसी बहाने करीना से मुलाकात हो जाए! मनोहर नरूला जी
05 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
क्
कुछ दिनों से क्रीम्स में जुड़े फेयरनेस शब्दको लेकर लोगों में एक नाराजगी देख रही हूं और कंपनी ने भी अपनी इस क्रीम से इस तरह के शब्द को हटाने काफैसला किया है, लेकिन कई क्रीम में सीधे सीधेफेयर शब्द नहीं जुड़ा है ग्लो या शाइन देने वाली बात कहकर भी अप्रत्यक्ष रुप सेगोरेपन को ही तव्वजोह दी जाती रही है।रह
09 जुलाई 2020
25 जुलाई 2020
बैंक से बाहर निकलते ही तंग सी सड़क आ जाती है. बाएँ चलें तो सड़क के दोनों तरफ मकान दुकानें हैं. यहाँ अगर दो कारें आमने सामने आ जाएं तो आसानी से क्रॉस नहीं कर पाती है. अगर दाहिनी ओर चलें तो खुली जगह आ जाती है. सड़क से मकान पचास पचास फुट दूर हैं और सड़क के दोनों तरफ काफी खाली जग
25 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
ए जिंदगी तू है तो रहस्य... तुझे तरस कहूं ,तुझे ओस कहूं तुझे पारस कहूं, तुझे नूर कहूं तुझे धारा कहूं, तुझे किनारा कहूं तुझे धानी चुनर कहूं , तुझे काली ओढ़नी कहूं तुझे आस कहूं, तुझे विश्वास कहूं तुझे रंग कहूं, तुझे जंग कहूं तुझे पतंग कहूं, तुझे बहता नीर कहूं तुझे उपहार कहूं, तुझे अभिशाप कहूं तुझे कर्म
21 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x