कोरोना का सच भाग 2

14 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (294 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत में इतना करोना का जोर नहीं था।लेकिन कुनिका कपूर के टी वी पे आने के बाद यह अचानक से पूरे देश में फेल गया।रही सही कसर तबलिक जमात के टी वी पे आने से पूरी हो गई।फिर तो कोरोना ने जो रफ्तार पकड़ी कि उसे थामना मुश्किल हो गया। जगह जगह धर पकड़

चल गई।लोग भ्रम में पड़ गए , सामान्य सर्दी जुकाम वाले भी फँस गए। लोकडाउन के दौरान अधिक दिन

होने के कारण लोग त्रस्त हो गए। बार बार घर से बाहर निकलने के कारण ढूंढ़ने लगे।रिश्तेदारों,मित्रों को फोन खड़खड़ाने लगे। बिल्डिंगों के चौकीदार, गार्ड डॉक्टर बन सभी का टेंप्रेचर लेने लगे।गलियों में बैरिकेड्स लगने लगे।हर गली मुहल्ले में कई कई कर्फ्यू पास वाले समाजसेवी पैदा हो गए।कुछ समाज सेवा कम कर्फ्यू पास का घूमने में उपयोग ज्यादा करने लगे। पुरा घर राशन से भरने के बावजूद कई लोग सरकार को कोंसते दिखे। डर के मारे बहुत से लोगों ने खांसना और छींकना बंद कर दिया। टी वी न्यूज़ कोरोना से शुरू और कोरोना पे खत्म होने लगी।

आंकड़े दिखाएं जाने लगे कि कौनसा शहर नंबर 1 और कौनसा नंबर2 पे है।दिल्ली और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री लगातार टी वी पे केवल संदेश प्रसारित करने में लगे रहे और उधर कोरना चुपचाप पैर पसारता रहा।वो तो जमीन पैरों के नीचे से खिसक गई,तब उनका ये शौकीन दौर बंद हुआ।प्रधान मंत्री जी ने उद्योगपतियों,ठेकेदारों को अपने मजदूरों का ख्याल रखने दाने पानी की व्यवस्था करने का कहा,मकानमालिक को किराया माफ करने का कहा ।पर ये सभी बेचारों के लिए तो ऐसा रहा जैसे पेड़ की जिस शाखा पे बैठे उसी को काटो।

उधर ममता दीदी का वोट बैंक खिसक रहा इस कोरोना के मारे।तेलंगाना ,तमिलनाडु और आंध्र सभी जगह कोरोना बाय बस या बाय एयर या फिर बाय ट्रेन पहुंच गया और अट्टहास करने लगा। ट्रंप का भी दिमाग भी उल्टा पुल्टा ही गया।अच्छे अच्छे महारथी भी इसके आगे नतमस्तक हो गए।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2020
रोज इंतेज़ार करते है, तुम्हारे इन अलफाजों का,शोर मच जाता है,इस खामोशी के आलम में,जब आगाज़ होता है, इन अलफाजों का।
17 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
मैं आर्थिक मामलों की विशेषज्ञ नहीं हूं केवलवर्तमान स्थिती पर अपना मत रख रही हूं। कोरोना ने कुछ दिनों लोगों को काफी डरायालेकिन ये डर कुछ ही दिन लोगों के मन में रहा, अब लोग सावधानी बरत रहे है लेकिनउन्हें संक्रमित होने से ज्यादा डर अपनी आजीविका खत्म होने का सता है। कई कं
17 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए, जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।
14 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
सभ्यता की विकास यात्रा जारी है अनवरत अनवरत, पृथ्वी के जन्म से चल रहा है परिवर्तन अब तक।कई प्रजातियां पौधों की और जीवों की बदल रही अविरत,बड़े बड़े पेड़ों में और जानवरों में हो रह
28 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
पहली पहली बारिश , करती है आप से गुजारिश,जरा भीग के तो देख,पूरी हो जाएगी सारी ख्वाहिश।मै तो तुझे कर दूंगी सरोबार,गर सर्दी खांसी हो गई तो हो जाएगा क्वारेंटाइन,दूर हो जाएगा घर बार।
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
खु
खुशियां खरीदना चाहता है पैसों से ,लेकिन जानता नहीं किखुशियां टिकती नहीं,जो खरीदी जाए पैसों से।खुशियां वफ़ा नहीं होती है,पैसों की ।वह तो मुराद होती है,प्रेम की।गर खुशियों की दुकान जो होती,तो शायद खुशियां उधार न मिलती।फिर खुशियां हर किसी
17 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x