कोरोना का सच भाग 2

14 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (301 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत में इतना करोना का जोर नहीं था।लेकिन कुनिका कपूर के टी वी पे आने के बाद यह अचानक से पूरे देश में फेल गया।रही सही कसर तबलिक जमात के टी वी पे आने से पूरी हो गई।फिर तो कोरोना ने जो रफ्तार पकड़ी कि उसे थामना मुश्किल हो गया। जगह जगह धर पकड़

चल गई।लोग भ्रम में पड़ गए , सामान्य सर्दी जुकाम वाले भी फँस गए। लोकडाउन के दौरान अधिक दिन

होने के कारण लोग त्रस्त हो गए। बार बार घर से बाहर निकलने के कारण ढूंढ़ने लगे।रिश्तेदारों,मित्रों को फोन खड़खड़ाने लगे। बिल्डिंगों के चौकीदार, गार्ड डॉक्टर बन सभी का टेंप्रेचर लेने लगे।गलियों में बैरिकेड्स लगने लगे।हर गली मुहल्ले में कई कई कर्फ्यू पास वाले समाजसेवी पैदा हो गए।कुछ समाज सेवा कम कर्फ्यू पास का घूमने में उपयोग ज्यादा करने लगे। पुरा घर राशन से भरने के बावजूद कई लोग सरकार को कोंसते दिखे। डर के मारे बहुत से लोगों ने खांसना और छींकना बंद कर दिया। टी वी न्यूज़ कोरोना से शुरू और कोरोना पे खत्म होने लगी।

आंकड़े दिखाएं जाने लगे कि कौनसा शहर नंबर 1 और कौनसा नंबर2 पे है।दिल्ली और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री लगातार टी वी पे केवल संदेश प्रसारित करने में लगे रहे और उधर कोरना चुपचाप पैर पसारता रहा।वो तो जमीन पैरों के नीचे से खिसक गई,तब उनका ये शौकीन दौर बंद हुआ।प्रधान मंत्री जी ने उद्योगपतियों,ठेकेदारों को अपने मजदूरों का ख्याल रखने दाने पानी की व्यवस्था करने का कहा,मकानमालिक को किराया माफ करने का कहा ।पर ये सभी बेचारों के लिए तो ऐसा रहा जैसे पेड़ की जिस शाखा पे बैठे उसी को काटो।

उधर ममता दीदी का वोट बैंक खिसक रहा इस कोरोना के मारे।तेलंगाना ,तमिलनाडु और आंध्र सभी जगह कोरोना बाय बस या बाय एयर या फिर बाय ट्रेन पहुंच गया और अट्टहास करने लगा। ट्रंप का भी दिमाग भी उल्टा पुल्टा ही गया।अच्छे अच्छे महारथी भी इसके आगे नतमस्तक हो गए।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जुलाई 2020
मजा तब शुरू होता जब सबसे छोटे बापू मामा गर्मी की छुट्टियों में गांव आते साथ में देवगांव के प्रसिद्ध पेडे जरूर लाते ।उनके आते ही हवेली कि रौनक बढ़ जाती ,क्योंकि मामा भले ही
10 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
मेरी कार भुसावल शहर से सुनसगांव के रास्ते पे तेजी से दौड़ रही थी,और मेरे दृष्टिपटल पर अतीत के सारे दृश्य एक एक कर फिल्म की भांति लगातार अंकित होते जा रहे थे।आसपास के चलते मकानों और पेड़ों को देख पुरानी या
09 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
खु
खुशियां खरीदना चाहता है पैसों से ,लेकिन जानता नहीं किखुशियां टिकती नहीं,जो खरीदी जाए पैसों से।खुशियां वफ़ा नहीं होती है,पैसों की ।वह तो मुराद होती है,प्रेम की।गर खुशियों की दुकान जो होती,तो शायद खुशियां उधार न मिलती।फिर खुशियां हर किसी
17 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
को
वाह! क्या हाल और समाचार है? सावन की बौछार है। कोरोना की मार है। बनती बिगड़ती सरकार है, चुनाव कराने के लिए आयोग हर हाल में तैयार है। बाहरवी में बहुत से बच्चे 90% से पार है। वही दसवीं कक्षा का रिजल्ट पिछली बार से बेकार है। चीन, पाकिस्तान सीमा पर कर रहा वार है। इधर नेपाल भी कर रहा तकरार है। यूपी में
16 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
तीन मंजिला हवेली को मैं आते ही चंद मिनटों में नाप देता था।पीछे गली में झांक कर उधर रहने वालों को भी बता देता कि हम आ गए है। नाना जी काफी पहले ही
09 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
वि
विश्वास की चादर फैला, उस पे ईमानदारी को बैठा, इतिहास बदल दिया उसने भारत का है।वर्षों से विश्वभर में जो स्थिति हमारी थी,आज पूरे विश्व में वो साख देश ने कमाई है।स्वच्छता का संदेश फैला जनमानस में,गांव गांव गली गली आज साफ सुथरी है।भ्रष्टाचा
15 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
मैं आर्थिक मामलों की विशेषज्ञ नहीं हूं केवलवर्तमान स्थिती पर अपना मत रख रही हूं। कोरोना ने कुछ दिनों लोगों को काफी डरायालेकिन ये डर कुछ ही दिन लोगों के मन में रहा, अब लोग सावधानी बरत रहे है लेकिनउन्हें संक्रमित होने से ज्यादा डर अपनी आजीविका खत्म होने का सता है। कई कं
17 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x