सफलता प्राप्ति के लिए क्या करें

19 जुलाई 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (268 बार पढ़ा जा चुका है)

सफलता प्राप्ति के लिए क्या करें

सफलताप्राप्ति के लिए क्या करें

अक्सर लोग इस बात पर मार्गदर्शन के लिए आते हैं कि उन्हें अपने कार्यों में सफलता प्राप्त नहीं होती, क्या करें इसके लिए ? कई बार लोग कहते हैं कि हमारी जन्मपत्री देखकर कोई उपाय बताइये | हम उन सबसे यही कहते हैं कि भाई जन्मपत्री अपनी जगह है, प्रयास तो आपको स्वयं ही करना होगा | अन्धविश्वास पालने से अच्छा होगा कि कर्म करो | ग्रहों का प्रभाव पड़ता है इस बात को सभी जानते हैं, लेकिन यदि मनुष्य चाहे तो प्रयास पूर्वक कर्म करके ग्रहों के अशुभ फल को भी शुभ बना सकता है | ज्योतिषीय फल कथन का लाभ यही है कि यदि आपको पता चल जाए कि अच्छा समय चल रहा है तो आप उस फलकथन को यथार्थ में बदलने के लिए प्रयास आरम्भ कर दें, और यदि पता चल जाए कि समय उतना अनुकूल नहीं है – तो निराश होने की अपेक्षा अपने कर्म में मन लगाएँ और पूर्ण निष्ठा तथा कर्तव्यपरायणता के साथ कर्म में प्रवृत्त हों – अनुकूल दिशा में कठोर श्रम करें – ऐसा करके आप प्रतिकूल समय को भी अनुकूल बना पाने में समर्थ हो सकेंगे | आपके सामने भोजन का थाल भरा हुआ रखा हो तब भी भोजन अपने आप आपके मुँह में नहीं जाएगा, आपको उसे ग्रहण करने के लिए प्रयास तो करना ही पड़ेगा | विश्वास कीजिए, कर्म के समक्ष समस्त ग्रह नक्षत्र नतमस्तक हो जाते हैं |

कार्य में सफलता के लिए सबसे प्रमुख आवश्यकता है कि कार्य समय पर पूर्ण किया जाए | यदि कार्य समय पर पूर्ण नहीं होगा तो धीरे धीरे कार्य का एक पहाड़ सा खड़ा हो जाएगा जो निश्चित रूप से मानसिक तनाव का कारण बनेगा, खीझ होगी, कार्य में मन नहीं लगेगा और असफलता का कारण बनेगा | इसलिए व्यवस्थित तथा अनुशासित होने की आवश्यकता है | एक सीधी सादी सरल सी दिनचर्या का पालन करें – एक ऐसी दिनचर्या जो जीवन के प्रत्येक पक्ष में सहायक हो |

ऐसा सोचना कि अभी तो समय है इस कार्य को करने में – कुछ समय बाद भी करेंगे तो समय पर पूर्ण हो जाएगा – उचित नहीं होता | ऐसा करके हम अपने लक्ष्य की प्राप्ति के मार्ग में बाधा ही उत्पन्न करते हैं | इस स्वभाव को यानी Last minute rush के स्वभाव को बदलने की आवश्यकता है | इसको ऐसे समझें कि कहीं यदि सुबह दस बजे पहुँचना है तो प्रयास करें कि साढ़े नौ पर ही पहुँचा जाए | ऐसा करके आप मार्ग में अचानक व्यवधान के कारण उत्पन्न देरी से बच जाएँगे | भली भाँति योजनाबद्ध रीति से कार्य करेंगे तो इस Last minute rush से बच सकेंगे |

एक बार में एक ही कार्य पर ध्यान दें | अनेक कार्यों को एक साथ करने के प्रयास में – जिसे Multitasking कहा जाता है – आपको आरम्भ में तो प्रशंसा प्राप्त हो सकती है, लेकिन कोई भी कार्य समय पर पूर्ण न हो सकने के कारण बाद में पछताना भी पड़ सकता है | आज के कड़ी प्रतियोगिता के युग में Multitasking होने में कोई समस्या नहीं है, बल्कि ऐसा करके आप प्रतियोगिताओं में आगे बढ़ सकते हैं, लेकिन ऐसा करने से पूर्व अपनी कुशलताओं और क्षमताओं का आकलन अवश्य कर लीजिये |

दूसरों की चिन्ता करना छोड़ दें | जितना सम्भव हो दूसरों की सहायता करें – लेकिन अपने कार्य की क़ीमत पर नहीं | यदि आपको लगता है दूसरों की सहायता करने के प्रयास में आपका कार्य पीछे छूट रहा है तो आप पहले अपना कार्य पूर्ण करने का प्रयास करें | और ऐसा करना इस बात का प्रतीक नहीं बन जाता कि आप स्वार्थी हैं – इसलिए दूसरे क्या सोचेंगे इस बात की चिन्ता मत कीजिए और अपने काम पर ध्यान दीजिये | ध्यान रहे, हर किसी में अपने कार्य को पूर्ण करने की – अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की सामर्थ्य होती है – केवल उस सामर्थ्य को समझकर उसका उपयोग करना आना चाहिए |

कार्य से अवकाश निकाल कर या ख़ाली समय में अपने व्यक्तिगत सम्बन्धों को प्रगाढ़ करने पर ध्यान दीजिये | क्योंकि आपके वे व्यक्तिगत सम्बन्ध आपकी हर परिस्थिति को समझते हैं और उनके कारण न केवल आप अकेलेपन की ऊब का शिकार होने से बचे रह सकते हैं, बल्कि ये सम्बन्ध आपको आपकी परिस्थितियों के अनुसार दिशा निर्देश दे सकते हैं | साथ ही खाली समय में अपनी रूचि के कार्य कीजिए – जैसे संगीत सुनना, कुछ पढ़ना या लिखना, ड्राइंग पेंटिंग में रूचि है या किसी स्पोर्ट में रूचि है तो उधर ध्यान देना इत्यादि इत्यादि... ताकि आप स्वयं को मानसिक और शारीरिक स्तर पर तारो ताज़ा अनुभव करते रहें... किसी प्रकार की भागमभाग से बचने का प्रयास कीजिए और जो आप हैं – जैसे आप हैं – उसके लिए ईश्वर को धन्यवाद दीजिये... क्योंकि आप “आप” ही हो सकते हैं, आपको किसी “अन्य” के जैसा बनने की आवश्यकता नहीं है...

उन लोगों को पहचान कर उनसे दूरी बनाने की आवश्यकता है जो आपकी परिस्थिति को समझे बिना आपको परामर्श देते हैं, या इसलिए परामर्श देते हैं कि उन्हें ऐसा करना अच्छा लगता है | ऐसे लोगों से बात करके आपके आत्मविश्वास में कमी आ सकती है और आपकी ऐसी मनःस्थिति आपकी सफलता के मार्ग में बाधा उत्पन्न कर सकती है |

साथ ही, प्रातःकाल या जब भी समय मिले – थोड़ा सा योगाभ्यास तथा ध्यान और प्राणायाम का अभ्यास अवश्य करें मन की शान्ति के लिए | शान्तचित्त होकर कर्म में प्रवृत्त होंगे तो सफलता अवश्य प्राप्त होगी |

अन्त में, हम सभी किसी भी अन्धविश्वास में फँसे बिना अपने समस्त प्रयासों में सफल होते रहें यही कामना है...


अगला लेख: पावस



Dr Narendra Kumar Patel
19 जुलाई 2020

बहुत ही अच्छा ज्ञान वर्धक लेख 👌👌👌👌👌

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जुलाई 2020
🔴संजय चाणक्य " कलम सत्य की शक्तिपीठ है बोलेगी सच बोलेगी। वर्तमान के अपराधो को समय तुला पर तोलेगी।। पांचाली के चीरहरण पर जो चुप पाये जायेगे। इतिहास के पन्नों पर वो सब कायर कहलायेगे।।"देश के सबसे बडे सूबे मे कानपुर के डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारा व पांच लाख का इनामी गैगेस्टर
13 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
सावन के झूले कल हरियाली तीज – जिसे मधुश्रवा तीज भी कहा जाताहै – का उमंगपूर्ण त्यौहार है, जिसे उत्तर भारत में सभी महिलाएँ बड़े उत्साह सेमनाती हैं और आम या नीम की डालियों पर पड़े झूलों में पेंग बढ़ाती अपनीमहत्त्वकांक्षाओं की ऊँचाईयों का स्पर्श करने का प्रयास करती हैं |सर्वप्रथम, सभीको सावन की मस्ती में
22 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
आत्माराम उसके घर का रास्ता बनारस की जिस प्रमुख मंडी से होकर गुजरता था। वहाँ यदि जेब में पैसे हों तो गल्ला-दूध , घी-तेल, फल-सब्जी, मेवा-मिष्ठान सभी खाद्य सामग्रियाँ उपलब्ध थीं।लेकिन, इन्हीं बड़ी-बड़ी दुकानों के मध्य यदि उसकी निगाहें किसी ओर उठती,तो वह सड़क के नुक्कड़ पर स्थित विश्वनाथ साव की कचौड़
01 अगस्त 2020
13 जुलाई 2020
अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षालेंहमारे पास किसी समस्या से त्रस्त होकर कंसल्टेशन के लिए जो लोग आते हैं तोकई बार वे प्रश्न कर बैठते हैं कि डॉ पूर्णिमा, हमने तो जीवन में कभी कोईभूल नहीं की – कभी कोई अपराध नहीं किया – फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? कलभी कुछ ऐसा ही हुआ | किन्हीं सज्जन से फोन
13 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
कमलपत्र पर गिरी हुई जल की कुछ बूँदें...गर्मी के बाद आरम्भिक वर्षा में जल की अमृत बूँदें धरा सोख लेती है... परिणामतःचारों ओर हरीतिमा फैल जाती है... लेकिन धरा को देखिये, मेघों से अमृतजल का दान लेती है... साराउपवन हरा भरा हो जाता है... पर पतझड़ के आते ही धरा उसकी ओर झुक जाती है और उपवन कीहरियाली सूख जात
18 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षालेंहमारे पास किसी समस्या से त्रस्त होकर कंसल्टेशन के लिए जो लोग आते हैं तोकई बार वे प्रश्न कर बैठते हैं कि डॉ पूर्णिमा, हमने तो जीवन में कभी कोईभूल नहीं की – कभी कोई अपराध नहीं किया – फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? कलभी कुछ ऐसा ही हुआ | किन्हीं सज्जन से फोन
13 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
04 जुलाई 2020
मित्रों, आजअपने जन्मदिन के अवसर पर अत्यन्त स्नेहशील और पूरी तरह से केयर करने वाले पति डॉ.दिनेश शर्मा, प्यारी बिटिया स्वस्ति श्री और उसके पति जीत के साथ साथ ढेर सारेमित्रों ने भी हार्दिक शुभकामनाएँ दीं | सभी का बहुत बहुत धन्यवाद | पर इतने लोगोंका प्यार और साथ मिलने के बाद भी न जाने क्यों पिताजी का अभ
04 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
26 जुलाई 2020
तुम्हारी याद यों आए... यादों के कितने हीरूप हो सकते हैं – कितने ही रंग हो सकते हैं... और आवश्यक नहीं कि हर पल किसीव्यक्ति या वस्तु या जीव की याद ही व्यक्ति को आती रहती हो... व्यक्ति का मन इतनाचंचल होता है कि सभी अपनों के मध्य रहते हुए भी न जाने किस अनजान अदेखे की याद उसेउद्वेलित कर जाती है... इन्हीं
26 जुलाई 2020
05 जुलाई 2020
अज्ञान्तिमिरान्धस्य ज्ञानांजनशलाकयाचक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमःआजगुरु पूर्णिमा का पावन पर्व है | कल प्रातः 11:35 के लगभग पूर्णिमा तिथि का आगमन हुआथा | जो आज सवा दस बजे तक रहेगी | उदया तिथि होने के कारण गुरु पूजा का पर्व आज हीमनाया जाएगा | पूर्णिमा काव्रत क
05 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x