धैर्य की परीक्षा

19 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (307 बार पढ़ा जा चुका है)

धैर्य की परीक्षा

धैर्य की परीक्षा


संत एकनाथ को अपने उत्तराधिकारी की तलाश थी वे किसी योग्य शिष्य को यह दायित्व सौंपना चाहते थे। उन्होने शिष्यों की परीक्षा लेनी चाही ।एक दिन उन्होंने सभी शिष्यों को बुलाया ओर एक दीवार बनाने का निर्देश दिया ।शिष्य इस काम में जुट गए ।दीवार बन कर तैयार भी हो गई ।लेकिन तभी एकनाथ ने उसे तोड़ने का आदेश दे दिया ।दीवार टूटते ही फिर से उसे बनाने को कहा ।दीवार फिर बनी तो एकनाथ ने उसे फिर तुड़वा दिया। दीवार ज्योंही तैयार होती ,एकनाथ उसे तोड़ने को कहते ।यह सिलसिला चलता रहा। धीरे -धीरे उनके अनेक शिष्य उकता गए और इस काम से किनारा करने लगे ।लेकिन चित्रभानु पूरी लगन के साथ अपने काम में जुटा रहा। बार -बार तोड़े जाने के बावजूद दीवार बनाने के काम से वह नहीं हटा और न ही जरा भी झुंझलाया।

एक दिन एकनाथ उसके पास गए और बोले , 'तुम्हारे सभी मित्र काम छोड़कर भाग गए ,पर तुम अब तक डटे क्यों हो?' चित्रभानु बोला ,'गुरु की आज्ञा से पीछे कैसे हट सकता हूं। तब तक यह कार्य करता रहूंगा, जब तक आप मना न कर दें ।' एकनाथ बड़े प्रसन्न हुए। उन्होंने चित्रभानु को अपना उत्तराधिकारी घोषित करते हुए सभी शिष्यों से कहा, 'सर्वोच्च पद पर पहुंचने के लिए पात्रता भी जरुरी है।जो पात्रता पाने का प्रयास नहीँ करते या पीछे हट जाते है, वे पीछे ही रहते हैं।धैर्य ही सबसे बडी परीक्षा है।'

*सदैव प्रसन्न रहिये।*

*जो प्राप्त है-पर्याप्त है।*

अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2020
12-15 अप्रैल 2018 ‘सालज़बर्ग का “हेलब्रुन्न पैलेस यानी जादुई क़िला”अच्छी गहरी नींद के बाद अगली सुबह 12 अप्रेल को उठ कर खटाखट तैयार होकर होटल के रेस्तरां में मुफ्त का नाश्ता करने के बाद रिसेप्शन पर तहकीकात की तो अल्टास्टड होफव्रट होटल की खूबसूरत और समझदार रिसेप्शनिस्
23 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
ट्
आज का विज्ञान _ट्रेन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डाले जाते_ ट्रेन बहुत तेजी से चलती है और जब ट्रेन चलती है तो पटरीयों में बहुत तेजी से कंपन होता है इसी कंपन के कारण पटरीयां इधर-उधर न हिलें इसीलिए रेल की पटरीयों के आस पास कंकड डाले जाते हैं ये कंकड पटरीयों पर स्प्रिग का कार्य करते हैं जब पटरीयों
04 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
*आज का विज्ञान**पहाड़ गर्मियों में भी ठंडा क्यों रहता है?*_Ans: पहाड़ो पर वायु विरल होती है अतः धुल के कण कम होते है जिससे ऊष्मा-विकिरण का अवशोषण कम होता है। साथ ही साथ पहाड़ पर सूर्य की किरणे तिरछी पड़ती है। कई स्थानों पर ये किरणे पहुँच भी नहीं पाती इसलिए गर्मियों में भी पहाड़ ठंडा रहता है।_
07 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
मा
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
17 जुलाई 2020
25 जुलाई 2020
ही
हर व्यक्ति अपनी जीवन का हीरो स्वयं होता है जीवन में कठिनाइयां न हो तो इंसान कि परख नहीं हो सकती अगर हम मुश्किलों से डर जाए और घबरा कर भाग्य को दोष देने लगें तो इससे उत्थान कैसे संभव है रावण के बिना राम राम न होते बिना कंस के आतंक के कृष्ण कृष्ण न होते
25 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
वि
प्रेरणादायक कहानी विजेता मेंढकबहुत समय पहले की बात है एक सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे| सरोवर के बीचों -बीच एक बहुत पुराना धातु का खम्भा भी लगा हुआ था| जिसे उस सरोवर को बनवाने वाले राजा ने लगवाया था| खम्भा काफी ऊँचा था और उसकी सतह भी बिलकुल चिकनी थी|एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों
04 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
टू
आज का प्रेरक प्रसंग टूटा हुआ फूलदान*प्राचीन जापान में एक सम्राट बहुत सनकी था। वह छोटी- छोटी गलती के लिए बड़ा दंड दे देता था। इसलिए प्रजा उससे बहुत भयभीत रहती थी। सम्राट के पास बीस फूलदानियों का एक अतिसुन्दर संग्रह था। जिस पर उसे बड़ा गर्व था। वह अपने महल में आने वाले अतिथियों को यह संग्रह अवश
07 जुलाई 2020
10 जुलाई 2020
पावस की सुषमा है छाई ||सजे कसुम्भी साड़ी सर पर, इन्द्रधनुष पर शर साधे थिरक रही है घटा साँवरी बिजली की पायल बाँधे |घन का मन्द्र मृदंग गरजता, रिमझिम रिमझिम की शहनाई ||पूरा सुनने के लिए क्लिककरें...https://youtu.be/zRVx57amQzs
10 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
दिनेश शर्मा की सुबह सुबह की राम राम सब दोस्तो , बुजुर्गों बच्चों को । जो लोग वक़्त बेवक़्त हर रोज़ यहाँ वहाँ पूरे देश में जब चाहे मनमर्जी से लॉक डाउन लगाने और बढ़ाने की प्रस्तावना देते हैं वो सब सरकारी अमले के लोग है जिनकी पूरी पूरी तनख्वाहें हर महीने की एक तारीख को उनके खाते में पहुंच जाती है । जिन लोग
15 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक द्वारा,आज की गांव की चौपाल जिला प्रयागराज की बारा विधानसभा क्षेत्र के कौंधियारा ब्लॉक की पिपरहट्टा गांव में संपन्न हुई।गांव में मजदूरों की समस्या पर विचार रखते हुए "पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक"! के प्रदेश अध्यक्ष माननीय आर के व
08 जुलाई 2020
27 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में मोज़ार्ट का घर अप्रैल 12-18 , 2018केबल कार सुबह साढ़े सात बजे चलनी शुरू होती थी । नाश्ता सुबह साढ़े छह बजे ही लग जाता था । जल्दी जल्दी नाश्ता कर वापस पच्चीस नम्बर बस के स्टैंड पर पहुंच गया । बस भी जल्दी ही मिल गयी और साढ़े आ
27 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
बि
आज का विज्ञान बिजली का बल्ब टूटने पर आवाज क्यों करता है - Why Does the Sound of the Electric Bulb Breaks_**दरअसल जब बल्ब को बनाया जाता है तो उसके अन्दर की सारी वायु निकालकर शून्य कर दिया जाता है और जब बल्ब टूटता है तो वाहर की वायु उस शून्य स्थान को भरने के लिए तेजी से अन्दर प्रवेश करती है यही कारण
07 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
सालज़्बर्ग में आख़िरी दिन - अप्रैल 12-18, 2018साल्ज़ाश नदी के किनारे बसे इसी पुराने शहर के दूसरे छोर पर एक भव्य और खूबसूरत प्राचीन केथेड्रेल था । कुछ प्रार्थना जैसी हो रही थी । मैँ भी बन्द आंखों से शांत होकर बैठ गया । थोड़ी देर बाद वहां से निकल कर लव लॉक ब्रिज के पास से
28 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x