माँ मैं फिर

19 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (290 बार पढ़ा जा चुका है)

माँ मैं फिर

*माँ मैं फिर*


*माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर*

*माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,*


*माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर*

*माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,*


*माँ मैं फिर अपनी भूख मिटाना चाहता हूँ, तुम्हारे हाथों की बनी सूखी रोटी खाकर*

*माँ मैं फिर चलना चाहता हूँ, तुम्हारी ऊँगली पकड़ कर,*


*माँ मैं फिर जगना चाहता* *हूँ, तुम्हारे कदमों की आहट पाकर*

*माँ मैं फिर निर्भीक होना चाहता हूँ, तुम्हारा साथ पाकर,*


*माँ मैं फिर सुखी होना चाहता हूँ, तुम्हारी दुआएँ पाकर*

*माँ मैं फिर अपनी गलतियाँ सुधारना चाहता हूँ, तुम्हारी चपत पाकर,*


*माँ मैं फिर संवरना चाहता हूँ, तुम्हारा स्नेह पाकर*

*क्योंकि माँ मैंने तुम्हारे बिना खुद को अधूरा पाया है. मैंने तुम्हारी कमी महसूस की है!*


अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2020
कि
!! *किसान और चट्टान* !!------------------------------------------------एक किसान था. वह एक बड़े से खेत में खेती किया करता था. उस खेत के बीचों-बीच पत्थर का एक हिस्सा ज़मीन से ऊपर निकला हुआ था जिससे ठोकर खाकर वह कई बार गिर चुका था और ना जाने कितनी ही बार उससे टकराकर खेती के औजार भी टूट चुके थे. रोजाना
05 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
अं
एक बार एक धनी व्यापारी विश्व भ्रमण के लिए निकला. घुमते हुए वह नीदरलैंड के शहर एम्सटर्दम पंहुचा. यह शहर पर्यटकों को बहुत प्रिय है. वहां उसने एक बहुत ही भव्य एवं सुन्दर महल देखा. उस महल को देखकर उसे अपना वि
18 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
प्रेरणादायक कहानीआज ही क्यों नहीं ?एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था | सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश करता तथा आज के काम को कल के लिए छोड़ दिया
04 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
कृ
आरोहण- अवरोहण अति दूभर,जल-थल-नभ है ओत-प्रोत,समय की यह विहंगम,दहकती ज्वाला हैअंध- कूप सेखींचनिकालोहे प्रभु शीध्र,अकिंचन मित्र आया है!कृष्ण! तेरा बालसखा आया हैधटा-टोप अंधेरा, सन्नाटा छाया हैअन्धकार चहुदिस, मन में तम् छाया हैगोधुली बेला की रुन- झुन रुन- झुन,मनोहर रंगोली, दीपों की माला हैदीर्ध रात्रि का
15 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
सबसे कीमती चीज------//---- -------- //--------------//-----------//-------------एक जाने-माने स्पीकर ने हाथ में पांच सौ का नोट लहराते हुए अपनी सेमीनार शुरू की| हाल में बैठे सैकड़ों लोगों से उसने पूछा , ”ये पांच सौ का नोट कौन लेना चाहता है?” हाथ उठना शुरू हो गए|---------/-----------------------------/
08 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
वि
प्रेरणादायक कहानी विजेता मेंढकबहुत समय पहले की बात है एक सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे| सरोवर के बीचों -बीच एक बहुत पुराना धातु का खम्भा भी लगा हुआ था| जिसे उस सरोवर को बनवाने वाले राजा ने लगवाया था| खम्भा काफी ऊँचा था और उसकी सतह भी बिलकुल चिकनी थी|एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों
04 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
घा
आज का प्रेरक प्रसंगघास, बकरी और भेड़िया *एक बार की बात है एक मल्लाह के पास घास का ढेर, एक बकरी और एक भेड़िया होता है। उसे इन तीनो को नदी के उस पार लेकर जाना होता है।पर नाव छोटी होने के कारण वह एक बार में किसी एक चीज को ही अपने साथ ले जा सकता है।अब अगर वह अपने साथ भेड़िया को ले जाता तो बकरी घास खा जाती।
07 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
नं
कहानीनंदा मैं आ रही हूं.......! रामकिशोर पंवार रोंढवाला उस रात अचानक नींद से जाग कर वह बिस्तर पर बैठ गया। उसने लगता है कि कोई बुरा सपना देख लिया हो, उसका पूरा बदन पसीने से लथपथ और मँुह से आवाज तक नहीं निकल रही थी। कुछ देर बाद पत्नि ने जैसे ही कमरे में झांका तो वह दंग रह गई! उसे लगा आज फिर इनको नींद
07 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
मा
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
आज का विज्ञान*कटे हुए सेब का रंग क्यों बदल जाता है - Why the Color of Chopped Apple Turns**_दरअसल सेब में विशेष प्रकार के कैटेचिन, पॉलीफेनोल, कैफीटेनिन अम्ल पाये जाते हैं और साथ ही सेब में फिनोल, पॉलीफेनोल, और आक्सीडेज जैसे प्रमुख एन्जाइम्स भी पाये जाते हैं जब सेब को काटा जाता है तो उसमें उपस्थित फि
17 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
टू
आज का प्रेरक प्रसंग टूटा हुआ फूलदान*प्राचीन जापान में एक सम्राट बहुत सनकी था। वह छोटी- छोटी गलती के लिए बड़ा दंड दे देता था। इसलिए प्रजा उससे बहुत भयभीत रहती थी। सम्राट के पास बीस फूलदानियों का एक अतिसुन्दर संग्रह था। जिस पर उसे बड़ा गर्व था। वह अपने महल में आने वाले अतिथियों को यह संग्रह अवश
07 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
सु
चाहे लुट जाए धन-धरती,मिट जाए विभव- स्वप्न सारा।चहुँओर जलें अंगार तप्त,या बहे शीत जल की धारा।जग प्रेम करे या घृणा करे,मन दोनों में सुख पाता है।सुखसिंधु यहाँ लहराता है।भवसागर में नित उठती हैं,द्वंद्वों की बहु भ्रामक लहरें।कुछ हर्षित करती हैं मन को,कुछ घाव बनाती हैं गहरे।ये हैं क्षणभंगुर- नाशवान,इनसे झ
21 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
*एयर कंडीशनर से पानी क्यों निकलता है - *_दसअसल एयर कंडीशनर से पानी निकालने की क्रिया को आप ऐसे समझ सकते हैं कि जब हम किसी ग्लास में ठंडा पानी भर कर रख देते हैं तो ग्लास के ऊपर पानी की बूंदें जम जाती है और कुछ समय के बाद यह बूंदें पानी के रूप में ग्लास के नीचे इकठ्ठा हो जाती है ऐसे ही जब एयर कंडीशनर
07 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x