माँ मैं फिर

19 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (282 बार पढ़ा जा चुका है)

माँ मैं फिर

*माँ मैं फिर*


*माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर*

*माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,*


*माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर*

*माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,*


*माँ मैं फिर अपनी भूख मिटाना चाहता हूँ, तुम्हारे हाथों की बनी सूखी रोटी खाकर*

*माँ मैं फिर चलना चाहता हूँ, तुम्हारी ऊँगली पकड़ कर,*


*माँ मैं फिर जगना चाहता* *हूँ, तुम्हारे कदमों की आहट पाकर*

*माँ मैं फिर निर्भीक होना चाहता हूँ, तुम्हारा साथ पाकर,*


*माँ मैं फिर सुखी होना चाहता हूँ, तुम्हारी दुआएँ पाकर*

*माँ मैं फिर अपनी गलतियाँ सुधारना चाहता हूँ, तुम्हारी चपत पाकर,*


*माँ मैं फिर संवरना चाहता हूँ, तुम्हारा स्नेह पाकर*

*क्योंकि माँ मैंने तुम्हारे बिना खुद को अधूरा पाया है. मैंने तुम्हारी कमी महसूस की है!*


अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जुलाई 2020
★☆तुम मिलना मुझे☆★ ★☆★☆★☆★☆★☆★आँखों में जब भी डूबना चाहाझट पलकें झुका ली आपनेछूना लबों को जब भी चाहाहाथ आगे कर दिया आपनेसरगोशी कर रुझाना चाहाअनसुना कर दिया आपनेगुफ़्तगू की ख़्वाहिश जगी पुरजोरतन्हा
11 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
अं
एक बार एक धनी व्यापारी विश्व भ्रमण के लिए निकला. घुमते हुए वह नीदरलैंड के शहर एम्सटर्दम पंहुचा. यह शहर पर्यटकों को बहुत प्रिय है. वहां उसने एक बहुत ही भव्य एवं सुन्दर महल देखा. उस महल को देखकर उसे अपना वि
18 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
https://vishwamohanuwaach.blogspot.com/2020/06/blog-post_26.html वचनामृतक्यों न उलझूँ बेवजह भला!तुम्हारी डाँट से ,तृप्ति जो मिलती है मुझे।पता है, क्यों?माँ दिखती है,तुममें।फटकारती पिताजी को।और बुदबुदाने लगता हैमेरा बचपन,धीरे से मेरे कानों में।"ठीक ही तो कह रही है!आखिर कितना कुछसह रही है।पल पल ढह र
21 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
नी
आज का प्रेरक प्रसंग*🌿नीम के पत्ते🌿*एक बार की बात है जमूरा नामक गाँव से थोड़ी दूर पर एक महात्मा जी की कुटिया थी उस कुटिया में महात्मा जी के साथ उनका एक शिष्य भी रहता था जो दोनों आँखों से अंधा था। महात्मा जी एक महान विद्वान थे| अपने पास आए हुए हर व्यक्ति की समस्याओं का समाधान वो बहुत ही प्रसन्नता के
07 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
आज का विज्ञान*कटे हुए सेब का रंग क्यों बदल जाता है - Why the Color of Chopped Apple Turns**_दरअसल सेब में विशेष प्रकार के कैटेचिन, पॉलीफेनोल, कैफीटेनिन अम्ल पाये जाते हैं और साथ ही सेब में फिनोल, पॉलीफेनोल, और आक्सीडेज जैसे प्रमुख एन्जाइम्स भी पाये जाते हैं जब सेब को काटा जाता है तो उसमें उपस्थित फि
17 जुलाई 2020
27 जुलाई 2020
नया सवेरा *************************** लॉकडाउन ने क्षितिज को गृहस्वामी होने के अहंकार भरे " मुखौटे" से मुक्त कर दिया था, तो शुभी भी इस घर की नौकरानी नहीं रही। प्रेमविहृल पति-पत्नी को आलिंगनबद्ध देख मिठ्ठू पिंजरे में पँख फड़फड़ाते हुये..*************************** क्षितिज कभी मोबाइल तो कभी टीवी
27 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
*एयर कंडीशनर से पानी क्यों निकलता है - *_दसअसल एयर कंडीशनर से पानी निकालने की क्रिया को आप ऐसे समझ सकते हैं कि जब हम किसी ग्लास में ठंडा पानी भर कर रख देते हैं तो ग्लास के ऊपर पानी की बूंदें जम जाती है और कुछ समय के बाद यह बूंदें पानी के रूप में ग्लास के नीचे इकठ्ठा हो जाती है ऐसे ही जब एयर कंडीशनर
07 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
घा
आज का प्रेरक प्रसंगघास, बकरी और भेड़िया *एक बार की बात है एक मल्लाह के पास घास का ढेर, एक बकरी और एक भेड़िया होता है। उसे इन तीनो को नदी के उस पार लेकर जाना होता है।पर नाव छोटी होने के कारण वह एक बार में किसी एक चीज को ही अपने साथ ले जा सकता है।अब अगर वह अपने साथ भेड़िया को ले जाता तो बकरी घास खा जाती।
07 जुलाई 2020
05 जुलाई 2020
कि
!! *किसान और चट्टान* !!------------------------------------------------एक किसान था. वह एक बड़े से खेत में खेती किया करता था. उस खेत के बीचों-बीच पत्थर का एक हिस्सा ज़मीन से ऊपर निकला हुआ था जिससे ठोकर खाकर वह कई बार गिर चुका था और ना जाने कितनी ही बार उससे टकराकर खेती के औजार भी टूट चुके थे. रोजाना
05 जुलाई 2020
05 जुलाई 2020
कं
आज का प्रेरक प्रसंग            कंजूस की इंसानियतएक नगर के बहुत बड़े सेठ का देहांत हो गया..उसका एक बेटा था, जो सोचने लगा, कौन आयेगा मेरे पिताजी के अंतिम संस्कार में..जीवन भर तो इन्होनें कोई पुण्य, कोई दान धर्म नही किया.. बस पैसे के पीछे भागते रहें..सब लोग कहते है ये तो कंजूसों के भी कंजूस थे, फिर कौन
05 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
💮🌍🌎🌎धरा विचलित🌏🌎🌍💮धरती माँ की पीड़ा- अकथनीय- अतिरेक,दिवनिशि धरती माँ रे! अश्रुपूरित रहती है,मन हुआ क्लांत - म्लान - अतिविक्षिप्त है।व्यथा-वेदना सर्प फणदंश सम- असह्य है।।जागृति की एषणा प्रचण्ड- अति तीव्र है।शंख-प्रत्यंचा सुषुप्त- रणभूमि रिक्त है।।पौरुषत्व व्यस्त स्वप्नलोक में-चिर निंद्रा में
08 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
बि
आज का विज्ञान बिजली का बल्ब टूटने पर आवाज क्यों करता है - Why Does the Sound of the Electric Bulb Breaks_**दरअसल जब बल्ब को बनाया जाता है तो उसके अन्दर की सारी वायु निकालकर शून्य कर दिया जाता है और जब बल्ब टूटता है तो वाहर की वायु उस शून्य स्थान को भरने के लिए तेजी से अन्दर प्रवेश करती है यही कारण
07 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
ट्
आज का विज्ञान _ट्रेन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डाले जाते_ ट्रेन बहुत तेजी से चलती है और जब ट्रेन चलती है तो पटरीयों में बहुत तेजी से कंपन होता है इसी कंपन के कारण पटरीयां इधर-उधर न हिलें इसीलिए रेल की पटरीयों के आस पास कंकड डाले जाते हैं ये कंकड पटरीयों पर स्प्रिग का कार्य करते हैं जब पटरीयों
04 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x